छायावाद की विशेषता इन हिंदी बताये?...


user

Amit Kumar

Teacher

0:20
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

छायावाद की विशेषताएं इन हिंदी बताएं फैजाबाद से ममता व्यक्तिवाद कविता है

chaayavaad ki visheshtayen in hindi bataye faizabad se mamata vyaktivaad kavita hai

छायावाद की विशेषताएं इन हिंदी बताएं फैजाबाद से ममता व्यक्तिवाद कविता है

Romanized Version
Likes  42  Dislikes    views  947
WhatsApp_icon
5 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
0:29
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दोस्तों छायावाद के व्यापक अर्थ में उन्होंने रहस्यवाद को भी समाविष्ट किया है इधर प्रसाद जी ने छायावाद को सहानुभूति की वृद्धि पर बल दिया है बाद में सहेली गत विशेषताओं के साथ साथ प्रेम सौंदर्य आदि भावनाओं को भी स्वीकार किया जाता है जबकि अव्यक्त निराकर प्रिय के प्रति पटना निवेदन को रहस्यवाद की मूल विशेषता माना जाता है

doston chaayavaad ke vyapak arth me unhone rahasyavad ko bhi samavisht kiya hai idhar prasad ji ne chaayavaad ko sahanubhuti ki vriddhi par bal diya hai baad me saheli gat visheshtaon ke saath saath prem saundarya aadi bhavnao ko bhi sweekar kiya jata hai jabki avyakt nirakar priya ke prati patna nivedan ko rahasyavad ki mul visheshata mana jata hai

दोस्तों छायावाद के व्यापक अर्थ में उन्होंने रहस्यवाद को भी समाविष्ट किया है इधर प्रसाद जी

Romanized Version
Likes  43  Dislikes    views  1134
WhatsApp_icon
play
user
0:41

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

छायावाद युग की शुरुआत भारत में विदेशी लिटरेरी मूवमेंट रोमांटिसिजम के बाद हुआ था रोमांटिक मोमेंट के बाद हुआ था छायावाद के प्रमुख कवियों में सूर्यकांत त्रिपाठी निराला सुमित्रानंदन पंत जयशंकर प्रसाद एवं महादेवी वर्मा है इन सब की कविताओं में प्रकृति का स्थान सबसे अधिक ऊपर दिया गया प्रकृति को मानव सभ्यता के विकास में महत्वपूर्ण कारक माना गया था

chaayavaad yug ki shuruat bharat me videshi literary movement romantisijam ke baad hua tha romantic moment ke baad hua tha chaayavaad ke pramukh kaviyon me suryakant tripathi niraala sumitranandan pant jaishankar prasad evam mahadevi verma hai in sab ki kavitao me prakriti ka sthan sabse adhik upar diya gaya prakriti ko manav sabhyata ke vikas me mahatvapurna kaarak mana gaya tha

छायावाद युग की शुरुआत भारत में विदेशी लिटरेरी मूवमेंट रोमांटिसिजम के बाद हुआ था रोमांटिक म

Romanized Version
Likes  24  Dislikes    views  932
WhatsApp_icon
user

MD MUSHTAK

Teacher

0:23
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

छायावाद का नामकरण का श्रेय मुकुटधर पांडे को ज्यादा है मुकुटधर पांडे ने श्री शारदा पत्रिका में एक निबंध प्रकाशित किया जिस निबंध में उन्होंने छायावाद शब्द का प्रथम प्रयोग किया कृति प्रेम नारी प्रेम मानवीकरण सांस्कृतिक जागरण कल्पना की प्रधानता आदि छायावादी काव्य की प्रमुख विशेषताएं हैं

chaayavaad ka namakaran ka shrey mukutadhar pandey ko zyada hai mukutadhar pandey ne shri sharda patrika me ek nibandh prakashit kiya jis nibandh me unhone chaayavaad shabd ka pratham prayog kiya kriti prem nari prem manavikaran sanskritik jagran kalpana ki pradhanta aadi chhayavadi kavya ki pramukh visheshtayen hain

छायावाद का नामकरण का श्रेय मुकुटधर पांडे को ज्यादा है मुकुटधर पांडे ने श्री शारदा पत्रिका

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  153
WhatsApp_icon
user
0:29
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

के द्वारा पूछे गए प्रश्न का उत्तर है छायावाद के व्यापक अर्थ में उन्होंने रहस्यवाद को भी सम्मिलित किया है इधर प्रसाद जी ने छायावाद से स्वामी भूति की मूर्ति पर बल दिया छायावाद में चली गत विशेषताओं के साथ-साथ प्रेमचंद्र आधी भावनाओं को भी स्वीकार किया जाता है जबकि वह निराकार प्रिय के प्रति प्रणय निवेदन को रहस्यवाद की मूल स्थान माना जाता है

ke dwara pooche gaye prashna ka uttar hai chaayavaad ke vyapak arth me unhone rahasyavad ko bhi sammilit kiya hai idhar prasad ji ne chaayavaad se swami bhuti ki murti par bal diya chaayavaad me chali gat visheshtaon ke saath saath premchandra aadhi bhavnao ko bhi sweekar kiya jata hai jabki vaah nirakaar priya ke prati pranaya nivedan ko rahasyavad ki mul sthan mana jata hai

के द्वारा पूछे गए प्रश्न का उत्तर है छायावाद के व्यापक अर्थ में उन्होंने रहस्यवाद को भी सम

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  165
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!