छायावाद की विशेषता क्या है बताये?...


user

Sunil

Teacher

0:12
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

चाय मत करना मुकुटधर पांडे को जाता है कृति प्रेम नारी प्रेम मानविका ने तैयारी इस छायावाद काव्य की प्रमुख विशेषता है

chai mat karna mukutadhar pandey ko jata hai kriti prem nari prem manvika ne taiyari is chaayavaad kavya ki pramukh visheshata hai

चाय मत करना मुकुटधर पांडे को जाता है कृति प्रेम नारी प्रेम मानविका ने तैयारी इस छायावाद का

Romanized Version
Likes  40  Dislikes    views  623
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user
0:29

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपने पूछा है कि छायावाद की विशेषता क्या है तो दोस्तों छायावाद के व्यापक अर्थ में उन्होंने रहस्यवाद को भी समाविष्ट किया है इधर प्रसाद जी ने छायावाद की अनुभूति की गति पर बल दिया छायावाद में शैली गत विशेषताओं के साथ साथ रेम सौंदर्य आदि भावनाओं को भी स्वीकार किया जाता है जबकि अव्यक्त निराकार प्रिय के प्रति अपने निवेदन को रहस्यवाद की मूल विशेषता भरा जाता है

aapne poocha hai ki chaayavaad ki visheshata kya hai toh doston chaayavaad ke vyapak arth me unhone rahasyavad ko bhi samavisht kiya hai idhar prasad ji ne chaayavaad ki anubhuti ki gati par bal diya chaayavaad me shaili gat visheshtaon ke saath saath rem saundarya aadi bhavnao ko bhi sweekar kiya jata hai jabki avyakt nirakaar priya ke prati apne nivedan ko rahasyavad ki mul visheshata bhara jata hai

आपने पूछा है कि छायावाद की विशेषता क्या है तो दोस्तों छायावाद के व्यापक अर्थ में उन्होंने

Romanized Version
Likes  43  Dislikes    views  1090
WhatsApp_icon
user
0:32
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

छायावाद की सबसे बड़ी विशेषता यह है कि यह बिल्कुल प्रकृति केंद्रित कविताएं होती थी इसमें प्रकृति का वर्णन इसकी प्रथम प्राथमिकता थी दूसरी बात कभी बिल्कुल फ्री थे वह अपने अस्तर से कविताओं की रचना कर सकते थे कोई नियम और बंधन में बंधना उनके लिए जरूरत नहीं थी तीसरी बात से कभी कि व्यक्ति अनुभूति भी उन कविताओं में प्रदर्शित होता है

chaayavaad ki sabse badi visheshata yah hai ki yah bilkul prakriti kendrit kavitayen hoti thi isme prakriti ka varnan iski pratham prathamikta thi dusri baat kabhi bilkul free the vaah apne aster se kavitao ki rachna kar sakte the koi niyam aur bandhan me bandhana unke liye zarurat nahi thi teesri baat se kabhi ki vyakti anubhuti bhi un kavitao me pradarshit hota hai

छायावाद की सबसे बड़ी विशेषता यह है कि यह बिल्कुल प्रकृति केंद्रित कविताएं होती थी इसमें प्

Romanized Version
Likes  29  Dislikes    views  847
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!