भारतेन्दु युगीन काव्य की विशेषता क्या है बताये?...


user

Shivendra Pratap Singh

Engineer , Assistant Professor

0:20
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार प्रश्न भारतेंदु युगीन काव्य की विशेषता क्या है बताइए तो मैं आपको बताना चाहता हूं भारतेंदु युग आधुनिक हिंदी काव्य के प्रथम चरण को कहा जाता है भारतेंदु युग हिंदी साहित्य के आधुनिक काल के संक्रांति काल के दो पक्ष में उनकी रचनाएं होती हैं भारतेंदु हरिश्चंद्र प्रेम मलिक प्रेम सरोवर गीत आदि प्रमुख

namaskar prashna bharatendu yugin kavya ki visheshata kya hai bataiye toh main aapko batana chahta hoon bharatendu yug aadhunik hindi kavya ke pratham charan ko kaha jata hai bharatendu yug hindi sahitya ke aadhunik kaal ke sankranti kaal ke do paksh me unki rachnaye hoti hain bharatendu harishchandra prem malik prem sarovar geet aadi pramukh

नमस्कार प्रश्न भारतेंदु युगीन काव्य की विशेषता क्या है बताइए तो मैं आपको बताना चाहता हूं भ

Romanized Version
Likes  137  Dislikes    views  1460
WhatsApp_icon
7 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
1:07
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारतेंदु युग में हिंदी कविता को रीतिकाल के श्रृंगार पूर्ण और राजा सलेश के वातावरण से निकालकर राष्ट्रप्रेम समाज सुधार आदि की स्वस्थ भावनाओं से ओतप्रोत तरह से सामान्य जन से जोड़ दिया इसकी कुछ विशेषताएं देशभक्ति और राष्ट्रीय भावना इस काल की कविता में मुख्य प्रवृत्ति देशभक्ति की है जनवरी विचारधारा दूसरी प्रमुख विशेषताएं जनवादी विचारधारा इस युग का साहित्य भारतीय समाज के पुराने ढांचे से संतुष्ट न होकर उसमें सुधार चाहता था प्राचीन परिपाटी की कविता कलात्मकता का अभाव न व योग्य की अभिव्यक्ति करने वाली यह कविता कलात्मक ना हो सकी काव्य में ब्रज भाषा का प्रयोग इस साल की भाषा प्रमुख रूप से ब्रज ही रही इस युग के अंतिम दिनों खड़ी बोली में कविता करने का आंदोलन प्रारंभ हो गया हास्य व्यंग और समस्या पूर्ति इस युग में हास्य कविता भी काफी मात्रा में लिखी गई और अंतिम विशेषता प्राचीन छंद योजना

bharatendu yug me hindi kavita ko ritikal ke shringar purn aur raja salesh ke vatavaran se nikalakar rashtraprem samaj sudhaar aadi ki swasth bhavnao se otaprot tarah se samanya jan se jod diya iski kuch visheshtayen deshbhakti aur rashtriya bhavna is kaal ki kavita me mukhya pravritti deshbhakti ki hai january vichardhara dusri pramukh visheshtayen janvadi vichardhara is yug ka sahitya bharatiya samaj ke purane dhanche se santusht na hokar usme sudhaar chahta tha prachin paripati ki kavita kalatmakata ka abhaav na va yogya ki abhivyakti karne wali yah kavita kalaatmak na ho saki kavya me braj bhasha ka prayog is saal ki bhasha pramukh roop se braj hi rahi is yug ke antim dino khadi boli me kavita karne ka andolan prarambh ho gaya hasya vyang aur samasya purti is yug me hasya kavita bhi kaafi matra me likhi gayi aur antim visheshata prachin chhand yojana

भारतेंदु युग में हिंदी कविता को रीतिकाल के श्रृंगार पूर्ण और राजा सलेश के वातावरण से निकाल

Romanized Version
Likes  11  Dislikes    views  227
WhatsApp_icon
user
0:29
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका सवाल है भारतेंदु युगीन काव्य की विशेषता क्या है बताएं भारतेंदु युगीन कविता में शाम प्रणब समाज की दशा का विदेशी सभ्यता के संकट का पुरानी रोजगार के बहिष्कार का स्वर दिखाई देता है भारतेंदु ने सामाजिक दोषों वीडियो कृतियों का घोर विरोध किया है उन्होंने धर्म के नाम पर होने वाले ढोल की पोल खोल दीजिए छुआछूत के प्रचार के प्रति छूट के स्वर में कवि है

aapka sawaal hai bharatendu yugin kavya ki visheshata kya hai bataye bharatendu yugin kavita me shaam pranab samaj ki dasha ka videshi sabhyata ke sankat ka purani rojgar ke bahishkar ka swar dikhai deta hai bharatendu ne samajik doshon video kritiyon ka ghor virodh kiya hai unhone dharm ke naam par hone waale dhol ki pole khol dijiye chuachut ke prachar ke prati chhut ke swar me kavi hai

आपका सवाल है भारतेंदु युगीन काव्य की विशेषता क्या है बताएं भारतेंदु युगीन कविता में शाम प्

Romanized Version
Likes  36  Dislikes    views  362
WhatsApp_icon
user
0:24
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका सवाल है भारतेंदु युगीन काव्य की विशेषता क्या है अभी तो दोस्तों भारतेंदु युगीन काम काम पर बहुत ही काम पर संपदा का धनी था इनकी स्कॉर्पियो में देश प्रेम और प्रकृति प्रेम महिलाओं की सुंदरता और समाज की समस्या बहुत सारी चीजों का चित्रण किया गया है थैंक यू

aapka sawaal hai bharatendu yugin kavya ki visheshata kya hai abhi toh doston bharatendu yugin kaam kaam par bahut hi kaam par sampada ka dhani tha inki scorpio me desh prem aur prakriti prem mahilaon ki sundarta aur samaj ki samasya bahut saari chijon ka chitran kiya gaya hai thank you

आपका सवाल है भारतेंदु युगीन काव्य की विशेषता क्या है अभी तो दोस्तों भारतेंदु युगीन काम काम

Romanized Version
Likes  25  Dislikes    views  767
WhatsApp_icon
play
user
0:29

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारतेंदु युगीन काव्य में हिंदी बोली के आधुनिक रूप की शुरुआत को देखा जा सकता है यह पहली विशेषता थी दूसरी विशेषता भारती भारतेंदु युगीन काव्य में वीर रस की प्रधानता देखी जा सकती है क्योंकि उस समय देश स्वतंत्र नहीं था अंग्रेजों के विरुद्ध कभी बगावत की भाषा का प्रयोग कर रहे थे

bharatendu yugin kavya me hindi boli ke aadhunik roop ki shuruat ko dekha ja sakta hai yah pehli visheshata thi dusri visheshata bharati bharatendu yugin kavya me veer ras ki pradhanta dekhi ja sakti hai kyonki us samay desh swatantra nahi tha angrejo ke viruddh kabhi bagavat ki bhasha ka prayog kar rahe the

भारतेंदु युगीन काव्य में हिंदी बोली के आधुनिक रूप की शुरुआत को देखा जा सकता है यह पहली विश

Romanized Version
Likes  26  Dislikes    views  811
WhatsApp_icon
user

Dhiraj Kumar

Teacher & Advisor

0:32
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हक्का पूछा गया प्रश्न है कि भारतेंदु युगीन काव्य की विशेषता क्या है तो दोस्तों मैं बताना चाहूंगा इसलिए इस यू को भारतेंदु युग की कहते हैं कि भारतेंदु के पहले ब्रजभाषा में भक्ति और सिंगल प्रकृति रचना होती थी और लक्ष्मण लक्षण ग्रंथ भी लिखे जाते थे भारतेंदु के समय का काव्य को विशेष चयन में व्यापकता और विविधता राष्ट्रप्रेम भाषा प्रेम और स्वदेशी वस्तुओं के प्रति प्रेम का युग के मन में भी पैदा होने लगा है

hakka poocha gaya prashna hai ki bharatendu yugin kavya ki visheshata kya hai toh doston main batana chahunga isliye is you ko bharatendu yug ki kehte hain ki bharatendu ke pehle brajabhasha me bhakti aur singles prakriti rachna hoti thi aur lakshman lakshan granth bhi likhe jaate the bharatendu ke samay ka kavya ko vishesh chayan me vyapakata aur vividhata rashtraprem bhasha prem aur swadeshi vastuon ke prati prem ka yug ke man me bhi paida hone laga hai

हक्का पूछा गया प्रश्न है कि भारतेंदु युगीन काव्य की विशेषता क्या है तो दोस्तों मैं बताना च

Romanized Version
Likes  50  Dislikes    views  353
WhatsApp_icon
user

Teacher

Teacher

0:24
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका जो प्रश्न है भारतेंदु युगीन काव्य की विशेषताएं क्या है बताएं तो आपकी जानकारी के लिए बता दें कि भारतेंदु युगीन काव्य की प्रमुख विशेषता हिंदी के प्रारंभिक काल को देखा जा सकता है इसके अलावा भारतेंदु युगीन काव्य की प्रमुख विशेषता जो है वह वीर रस की प्रधानता हुआ करती थी

aapka jo prashna hai bharatendu yugin kavya ki visheshtayen kya hai bataye toh aapki jaankari ke liye bata de ki bharatendu yugin kavya ki pramukh visheshata hindi ke prarambhik kaal ko dekha ja sakta hai iske alava bharatendu yugin kavya ki pramukh visheshata jo hai vaah veer ras ki pradhanta hua karti thi

आपका जो प्रश्न है भारतेंदु युगीन काव्य की विशेषताएं क्या है बताएं तो आपकी जानकारी के लिए ब

Romanized Version
Likes  29  Dislikes    views  653
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!