बाबा गोरखनाथ का जन्म कब और कहा हुआ था?...


user

Shivendra Pratap Singh

Engineer , Assistant Professor

0:12
Play

Likes  142  Dislikes    views  1666
WhatsApp_icon
5 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Pushpanjali

Teacher & Carrier Cunsultancy

1:08
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो दोस्तों आपने मुझसे पूछा बाबा गोरखनाथ का जन्म कब और कहां हुआ था तुमको बताना सोनी दोस्तों बाबा गोरखनाथ जी ने पूरे भारत का भ्रमण किया था और यह माना जाता है कि आप राजा विक्रमादित्य चाहिए और गोरखनाथ जो यूपी में गोरखनाथ गोरखपुर यूपी में और गोरखनाथ के नाम पर भी गोरखनाथ के नाम पर इन गोरखपुर पड़ा है ऐसा माना जाता है कि गोरखपुर गोरखनाथ का सबसे पहले नेपाल में देखा गया था वहां एक गोरखा जिला है तो यह बाबा गोरखनाथ के नाम चाहिए वहां नेपाल में वहां पर खाली लगाम पढ़ा जाता है कि वहां उनके पंछी अभी भी है और वहां पर खड़ा में इनकी मंदिर स्थापना हुई और रोटी महोत्सव महोत्सव के रूप से या उनका यह मौसम जाता है बाबा गोरखनाथ का और मेला भी लगता है गोरखा जिला में जो कि नेपाल में है धन्यवाद

hello doston aapne mujhse poocha baba gorakhnath ka janam kab aur kaha hua tha tumko batana sony doston baba gorakhnath ji ne poore bharat ka bhraman kiya tha aur yah mana jata hai ki aap raja vikramaditya chahiye aur gorakhnath jo up me gorakhnath gorakhpur up me aur gorakhnath ke naam par bhi gorakhnath ke naam par in gorakhpur pada hai aisa mana jata hai ki gorakhpur gorakhnath ka sabse pehle nepal me dekha gaya tha wahan ek gorkha jila hai toh yah baba gorakhnath ke naam chahiye wahan nepal me wahan par khaali lagaam padha jata hai ki wahan unke panchhi abhi bhi hai aur wahan par khada me inki mandir sthapna hui aur roti mahotsav mahotsav ke roop se ya unka yah mausam jata hai baba gorakhnath ka aur mela bhi lagta hai gorkha jila me jo ki nepal me hai dhanyavad

हेलो दोस्तों आपने मुझसे पूछा बाबा गोरखनाथ का जन्म कब और कहां हुआ था तुमको बताना सोनी दोस्त

Romanized Version
Likes  25  Dislikes    views  1106
WhatsApp_icon
play
user
0:27

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपने पूछा है कि बाबा गोरखनाथ का जन्म कब और कहां हुआ था तो दोस्तों आपके प्रश्न का उत्तर है कि गोरखनाथ या गोरक्षनाथ जी महाराज प्रथम शताब्दी के पूर्व नाथ योगी के गुरु गोरखनाथ जी ने पूरे भारत का भ्रमण किया और अनेकों ग्रंथ की रचना की गोरखनाथ जी का मंदिर उत्तर प्रदेश के गोरखपुर नगर में स्थित है गोरखनाथ के नाम से जिले का नाम गोरखपुर पड़ा है

aapne poocha hai ki baba gorakhnath ka janam kab aur kaha hua tha toh doston aapke prashna ka uttar hai ki gorakhnath ya gorakshnath ji maharaj pratham shatabdi ke purv nath yogi ke guru gorakhnath ji ne poore bharat ka bhraman kiya aur anekon granth ki rachna ki gorakhnath ji ka mandir uttar pradesh ke gorakhpur nagar me sthit hai gorakhnath ke naam se jile ka naam gorakhpur pada hai

आपने पूछा है कि बाबा गोरखनाथ का जन्म कब और कहां हुआ था तो दोस्तों आपके प्रश्न का उत्तर है

Romanized Version
Likes  47  Dislikes    views  1209
WhatsApp_icon
user
1:24
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बाबा गोरखनाथ का जन्म कब और कहां हुआ था तो मैं आपको गोरखनाथ गोरख नाथ जी महाराज प्रथम शताब्दी के पूर्ण नाथ योगी के प्रमाण है राजा विक्रमादित्य के द्वारा बनाया गया पंचांग जिन्होंने विक्रम संवत की शुरुआत प्रथम शताब्दी से की थी जबकि गुरु गोरक्षनाथ जी राजा हरि उनके छोटे भाई राजा विक्रमाजीत के समय में गुरु गोरखनाथ जी पूरे भारत का भ्रमण किया और अनेकों ग्रंथों की रचना की गोरखनाथ जी का मंदिर उत्तर प्रदेश गोरखपुर नगर में स्थित है गोरखनाथ के नाम पर जिले का नाम गोरखपुर पर गुरु गोरख जी के नाम से ही नेपाल के गोरख आओ ने नाम पाया नेपाल में जिला गोरखपुर जिले का नाम लोगों का भी इन्हीं के नाम से पड़ा माना जाता है गुरु गोरखनाथ सबसे पहले ही दिखे थे गोरखा जिले में एक गुफा है जहां गोरखनाथ का पक्ष इन है और उनकी एक मूर्ति भी यहां हर साल भैसा कुंड में को एक उत्सव मनाया जाता है जिसे रोड महोत्सव कहते हैं यहां मेला भी लगता है गुरु गोरखनाथ जी का 1 स्थान उच्च पीला गोगामेडी राजस्थान हनुमानगढ़ जिले में भी है इनकी बड़ी सोमनाथ ज्योतिर्लिंग के नजदीक वेरावल में इनके 12:30 पंथ होते हैं धन्यवाद

baba gorakhnath ka janam kab aur kaha hua tha toh main aapko gorakhnath gorakh nath ji maharaj pratham shatabdi ke purn nath yogi ke pramaan hai raja vikramaditya ke dwara banaya gaya panchang jinhone vikram sanvat ki shuruat pratham shatabdi se ki thi jabki guru gorakshnath ji raja hari unke chote bhai raja vikramajit ke samay me guru gorakhnath ji poore bharat ka bhraman kiya aur anekon granthon ki rachna ki gorakhnath ji ka mandir uttar pradesh gorakhpur nagar me sthit hai gorakhnath ke naam par jile ka naam gorakhpur par guru gorakh ji ke naam se hi nepal ke gorakh aao ne naam paya nepal me jila gorakhpur jile ka naam logo ka bhi inhin ke naam se pada mana jata hai guru gorakhnath sabse pehle hi dikhe the gorkha jile me ek gufa hai jaha gorakhnath ka paksh in hai aur unki ek murti bhi yahan har saal bhaisa kund me ko ek utsav manaya jata hai jise road mahotsav kehte hain yahan mela bhi lagta hai guru gorakhnath ji ka 1 sthan ucch peela gogamedi rajasthan Hanumangarh jile me bhi hai inki badi somnath jyotirling ke nazdeek verawal me inke 12 30 panth hote hain dhanyavad

बाबा गोरखनाथ का जन्म कब और कहां हुआ था तो मैं आपको गोरखनाथ गोरख नाथ जी महाराज प्रथम शताब्द

Romanized Version
Likes  26  Dislikes    views  830
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बाबा गोरखनाथ का जन्म कब और कहां हुआ था उसका उत्तर होगा प्रसिद्ध पुस्तकों के अनुसार गोरक्षा पीस के साथ आपा गुरु गोरखनाथ का जन्म अवध की माटी में हुआ था अमेठी जिले थे जिसको सूफी संत मलिक मोहम्मद जायसी के नाम से ख्याति मिली उसी चाय पी में गुरु गोरखनाथ का भी जन्म हुआ था

baba gorakhnath ka janam kab aur kaha hua tha uska uttar hoga prasiddh pustakon ke anusaar goraksha peace ke saath aapa guru gorakhnath ka janam awadh ki mati me hua tha amethi jile the jisko sufi sant malik muhammad jayasi ke naam se khyati mili usi chai p me guru gorakhnath ka bhi janam hua tha

बाबा गोरखनाथ का जन्म कब और कहां हुआ था उसका उत्तर होगा प्रसिद्ध पुस्तकों के अनुसार गोरक्षा

Romanized Version
Likes  17  Dislikes    views  614
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!