योग क्या है इन हिंदी विस्तार में बताये?...


play
user

Bk Ashok Pandit

आध्यात्मिक गुरु

3:04

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

गुड मॉर्निंग आपका सवाल है जो क्या है इन हिंदी विस्तार में बताएं जोकर सिंपल परिभाषा है जोर योग का पता है जोर जैसे बच्चा कोमा याद आता है वह भी एक योग है मात्र योग से कोई ऐसे कर्म करता है कर्म कम संसद करता है शुभ कर्म योग का गया है तो भिन्न प्रकार का योग होता है सारे शारीरिक मानसिक एवं अन्य प्रकार की अभिक्रिया करता था क्यों गुस्सा आ जाता है वह परमात्मा को याद करना जो गीता में कहा गया है सर्वश्रेष्ठ योग कर्म योग मन कर्म करते परमात्मा की याद जिससे हमारी मन की एकाग्रता आती है बुद्धि पर बनती है करण कुशलता आती है संस्कार में सरलता आता है विभाग में सभ्यता आता है ऐसा ही हो जो हमें परमात्मा सिखाते हैं जिसको राज्यों का जाता है जो हमारे प्राचीन ऋषि-मुनियों ने भी कहा कि ऐसा योग राजयोग जिससे जिस योग के माध्यम से हम राजाओं के भी राजा बन सकते हैं कि बहुत ही अच्छा सवाल है आपका योग को समझना जरूरी है जिससे हमारा मन एकाग्र हो जाए वह देश फिर हो जाए और योग के दूसरे शब्दों में हम कहे तो एक अकेली प्रति कनेक्शन माने कि यहां बैठे की जन्म किस को याद हम करते हैं उसको योग का जातक जैसे एक प्रचलित बातें जैसे एक राजा को भगवान से प्यार हो गया भगवान की प्यार में उसने मंदिर का स्थापना किया जिसको सोमनाथ के मंदिर से सब जानते हैं किसी एक व्यक्ति को दूसरे से प्यार हो गया तो उसकी याद में उसकी प्यार में ताजमहल बनाया और भगवान के प्यारे से मनुष्य आत्माओं से हो जाता है उस प्यार में परमात्मा जो है स्वर्ग बहिष्ट बनाता है योग अनेक जब होता है लेकिन उन सब में जो सर्व श्रेष्ठ योग है जो हमको उसे तक ले आता है ऐसी योग पद्धति हमको सीखना चाहिए जिससे हमारा जीवन स्वस्थ बने गुणवान बने सृतिवानी बने

good morning aapka sawaal hai jo kya hai in hindi vistaar mein bataye joker simple paribhasha hai jor yog ka pata hai jor jaise baccha coma yaad aata hai vaah bhi ek yog hai matra yog se koi aise karm karta hai karm kam sansad karta hai shubha karm yog ka gaya hai toh bhinn prakar ka yog hota hai saare sharirik mansik evam anya prakar ki abhikriya karta tha kyon gussa aa jata hai vaah paramatma ko yaad karna jo geeta mein kaha gaya hai sarvashreshtha yog karm yog man karm karte paramatma ki yaad jisse hamari man ki ekagrata aati hai buddhi par banti hai karan kushalata aati hai sanskar mein saralata aata hai vibhag mein sabhyata aata hai aisa hi ho jo hamein paramatma sikhaate hain jisko rajyo ka jata hai jo hamare prachin rishi muniyon ne bhi kaha ki aisa yog rajyog jisse jis yog ke madhyam se hum rajaon ke bhi raja ban sakte hain ki bahut hi accha sawaal hai aapka yog ko samajhna zaroori hai jisse hamara man ekagra ho jaaye vaah desh phir ho jaaye aur yog ke dusre shabdon mein hum kahe toh ek akeli prati connection maane ki yahan baithe ki janam kis ko yaad hum karte hain usko yog ka jatak jaise ek prachalit batein jaise ek raja ko bhagwan se pyar ho gaya bhagwan ki pyar mein usne mandir ka sthapna kiya jisko somnath ke mandir se sab jante hain kisi ek vyakti ko dusre se pyar ho gaya toh uski yaad mein uski pyar mein tajmahal banaya aur bhagwan ke pyare se manushya atmaon se ho jata hai us pyar mein paramatma jo hai swarg bahisht banata hai yog anek jab hota hai lekin un sab mein jo surv shreshtha yog hai jo hamko use tak le aata hai aisi yog paddhatee hamko sikhna chahiye jisse hamara jeevan swasthya bane gunvaan bane sritivani bane

गुड मॉर्निंग आपका सवाल है जो क्या है इन हिंदी विस्तार में बताएं जोकर सिंपल परिभाषा है जोर

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  102
WhatsApp_icon
4 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

AMAN KUMAR

TEACHER | UPSC ASPIRANT | UNACADEMY

0:27
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न आयोग क्या है इन हिंदी में विस्तार से बताएं देखें ईश्वर की दी हुई है कैसे कलाइयां से ऐसा धन है जिसके द्वारा हम ईश्वर का परिचय पा सकते हैं तथा इसका ज्यादातर उपयोग हम स्वास्थ्य की दृष्टि से करते हैं परंतु योग का अर्थ सिर्फ शरीर को स्वस्थ रखना नहीं होता यह ईश्वर की प्राप्ति का भी एक मार्ग हो सकता है धन्यवाद

aapka prashna aayog kya hai in hindi me vistaar se bataye dekhen ishwar ki di hui hai kaise kalaiyan se aisa dhan hai jiske dwara hum ishwar ka parichay paa sakte hain tatha iska jyadatar upyog hum swasthya ki drishti se karte hain parantu yog ka arth sirf sharir ko swasth rakhna nahi hota yah ishwar ki prapti ka bhi ek marg ho sakta hai dhanyavad

आपका प्रश्न आयोग क्या है इन हिंदी में विस्तार से बताएं देखें ईश्वर की दी हुई है कैसे कलाइय

Romanized Version
Likes  23  Dislikes    views  560
WhatsApp_icon
user

Prem

Teacher

0:22
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है कि योग क्या है देखकर मैं आपको बता दूं योग भारत और नेपाल में प्रचलित एक आध्यात्मिक प्रक्रिया को कहते हैं जिसमें शरीर मन और आत्मा को एक साथ लाने का काम होता है यह शब्द प्रक्रिया और धारणा के हिंदू धर्म जैन धर्म और बौद्ध धर्म में ध्यान प्रक्रिया से संबंधित है धन्यवाद

aapka prashna hai ki yog kya hai dekhkar main aapko bata doon yog bharat aur nepal me prachalit ek aadhyatmik prakriya ko kehte hain jisme sharir man aur aatma ko ek saath lane ka kaam hota hai yah shabd prakriya aur dharana ke hindu dharm jain dharm aur Baudh dharm me dhyan prakriya se sambandhit hai dhanyavad

आपका प्रश्न है कि योग क्या है देखकर मैं आपको बता दूं योग भारत और नेपाल में प्रचलित एक आध्य

Romanized Version
Likes  48  Dislikes    views  969
WhatsApp_icon
user
0:42
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका सवाल है योग क्या है इन हिंदी बिस्तर में बताइए तो दिखी सवाल का जवाब है लोग योग में बैठते हैं पेट के उनके जो भगवान रहते भगवान को याद करते हैं और वह क्या कर चुके हो या करते हैं और मतलब भगवान को कैसे खुश कर सकते हो आप उसके आराधना कैसे कर सके तो युग में बैठकर वह सब करते हैं तो योग का जो प्रचलन था वो पहले रुकमणी लोग ज्यादा से ज्यादा करते थे लेकिन अभी लोग इतना नहीं करते हैं तो भी योग करते हैं थोड़ा टाइम के लिए ज्यादा टाइम के लिए नहीं करते हैं पहले तो ऋषि-मुनियों ने चार-पांच दिन एक महीना तक भी योग करके बैठे रहते थे लेकिन अभी ऐसा कोई नहीं करता है धन्यवाद

aapka sawaal hai yog kya hai in hindi bistar me bataiye toh dikhi sawaal ka jawab hai log yog me baithate hain pet ke unke jo bhagwan rehte bhagwan ko yaad karte hain aur vaah kya kar chuke ho ya karte hain aur matlab bhagwan ko kaise khush kar sakte ho aap uske aradhana kaise kar sake toh yug me baithkar vaah sab karte hain toh yog ka jo prachalan tha vo pehle rukamani log zyada se zyada karte the lekin abhi log itna nahi karte hain toh bhi yog karte hain thoda time ke liye zyada time ke liye nahi karte hain pehle toh rishi muniyon ne char paanch din ek mahina tak bhi yog karke baithe rehte the lekin abhi aisa koi nahi karta hai dhanyavad

आपका सवाल है योग क्या है इन हिंदी बिस्तर में बताइए तो दिखी सवाल का जवाब है लोग योग में बैठ

Romanized Version
Likes  79  Dislikes    views  1449
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!