डिप्रेशन के लक्षण बताये और उसका इलाज कैसे करे विस्तार से बताये?...


play
user

J.P. Y👌g i

Psychologist

6:22

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

प्रश्न है डिप्रेशन के लक्षण बताएं और उसका इलाज कैसे करें विस्तार से बताएं डिप्रेशन में हो चुके हो तो यह तत्कालिक इसका उपचार होना चाहिए क्या आपको उस से शांति मिलने चाहिए मोक्ष होना चाहिए तो डिप्रेशन के अंदर जो मानसिक तनाव का कारण होता है वह हम अपने जेहन में कहीं ना कहीं इसको ले लेते हैं और वह बात हमें अपनों से ज्यादा लगती है तो डिप्रेशन का अर्थ यह है कि किसी न किसी रूप से हम मोहब्बत से जुड़ाव रखते हैं और उसकी सीधी बातों का असर हमारे दिलों दिमाग में चाहता है और दूसरी बात और भी चीजें हैं जो हम किसी कर्म के द्वारा फस जाते हैं और बाद में एहसास होता है कि यह हो फस गए हैं उसमें भी डिप्रेशन बड़ा रहता है बहुत सारे कारण हो सकते जिसमें डिप्रेशन बना रहता है लेकिन फिलहाल आपको इससे करना चाहिए और वह भरने के लिए किस चीज की जरूरत है आपको तो कभी-कभी हम प्रतिक्रिया में ललित रहते हैं और सोचते कि कुछ ना कुछ परिवर्तन तत्कालिक हो जाए और व्यवस्था के लिए चिंता में अनुरक्त रहते हैं तो यह सारी चीजें हैं अगर इससे अगर आप सहित होने की चेष्टा करेंगे ऐसे विचार धाराओं में अपने दिल को दिमाग खोल एक पाएंगे और अलग विकल्प संभावनाओं के प्रति आप कुछ उत्कर्ष की ओर बढ़ेंगे चाहेंगे अपनी कुछ प्रक्रम का प्रयोग करना पड़ता है सुबह तो आपको बल का ज्ञान का किसी ना किसी तरह से आप कोई मजबूती बनाने पड़ेगी डिप्रेशन से निकलने के बाद दूसरी बात यह पर गैर लापरवाही नहीं बल्कि लापरवाह हो जाना चाहिए अर्थात गैर जिम्मेदाराना पर भी अगर आप निवृत्ति करेंगे तो उस टेंशन मुक्त हो जाएंगे तो कभी-कभी घर की स्थिति में हमें उस समय का इंतजार करना पड़ता है शांति पूर्वक अपने आप को संभाल के स्थल रखने की कोशिश की जाती है और फिर उसके बाद जब थोड़ी विराम जाएगी फिर आपने सोच को अपने विश्वास को अपने आस्था की और थोड़ा ध्यान रखना चाहिए और इस जीवन में बनाना चाहिए उच्च आदर्श गुणों के प्रति ललक रहनी चाहिए तो आत्मविश्वास बढ़ता है और आपको दूसरा दूसरी दिशा में प्रवाहित होगी जो आपको इस चीज से हटाकर रखेगी तो ऐसे विषयों के प्रति आप एक अलग इन्वायरमेंट के लिए थोड़ी चेष्टा करें किस जहां से कुछ हो इन्वायरमेंट टूटे और दूसरी बात भरोसा करें और भगवान के पल प्रार्थना के लिए आप एकाग्रता से उसको समझने की कोशिश करें क्योंकि उत्तेजना का बहुत करारी है तो इसका मतलब यह है कि उसको सकारात्मक शक्ति की जरूरत है और वह जो बहुत रही है डिप्रेशन सिर्फ वही आपको अंतर्गत में एक नई दिशा और एक पीस निकालेगी क्योंकि प्रतिरक्षा क्षमता है हमारे अंदर वह मानसिक रूप में भी होती है और शारीरिक रूप में भी होती है भाकरी मटका जोड़ने कारण हो रहा है वह ऊर्जा आपको अपने चिंतन मनन से आपको जरूर मिलेगा आप भरोसे और विश्वास आस्था के साथ प्रार्थना कीजिए तो आपको एक तसल्ली की उम्मीद है जाहिर होंगी जो चीज जिंदगी में आस्थावान मनुष्य होते हैं वह सहारे की वजह से ऐसे वक्त को निकाल लेते हैं और अपने अंदर कहीं ना कहीं से ही तलाश करनी चाहिए कि मैं निर्दोष हूं और मेरे अंदर कोई अपराधी सुमित नहीं है और मैं अपने आपसे स्वयं में ही एक सुध बुध हूं तो हमें डिप्रेशन में जाने की जरूरत नहीं है और थोड़ा सा उनके प्रति प्यार करने की भावना रखनी चाहिए जिनके कारण से ऐसा हो रहा है और प्रकृति अपने बर्ताव में खुद बरसती है हम जब खुद करता पन के साथ में होते हैं तो हमें इसके परिणामों के प्रति रुझान रहता है कि हमारे द्वारा और हम ही से इसमें फंसे हुए हैं तो एक सोच का दायरा होता अगर आप उसको हटा देंगे तो बाहर जाएगी तो जैसा कि महामृत्युंजय में भी कहा गया है नंबर कम यजामहे सुगंधिम पुष्टिवर्धनम उर्वारुकमिव वंदना मृत्योर्मुक्षीय मामृतात् अर्थात जो मृत्यु का कारण है जो जो हमारे को उसको बात कर रही है वह चीज बताइए जैसे पत्ते और फल पकने के बाद हर सताई डाल से अलग हो जाते हैं ऐसे ही अंतरण के अंदर है यह सारी चीजें जो हमारे को पुष्टि जो मिलने थी वो हम उस पुष्टि से अपने आप को प्रवीण भी कर रहे हैं और उसकी पुष्टि के कारण ही हम उन तत्वों में ही हमारा स्वरूप झलक विरार वही हमारा महत्व है तो अपने उस निर्गुण निराकार निरा लंब निर्गुण इत्यादि जो वर्ग है जो भी सद्गुणों की विवेचना है उसमें ही अपना चिंतन मिलन को व्याख्या कीजिए तो इस स्तर पर तुम्हें आत्म संतोष होगा यही है कि अपने आपको ऐसी जगह तीर्थ स्थलों में जाएं यह पवित्र जगह जाए कोई ऐसी लोगों से मेल मिलाप करे वार्तालाप करें जिससे आपको सकारात्मक ऊर्जा प्राप्त हो सके तो यही बेहतर होगा कि अच्छी जगह जाने की कोशिश करें तो आप की संगत में आए संस्कारवान बने जो साथी तो कि किसी ना किसी आस्था के भरोसे से आप अपना चिंतन मनन करें तो वह भावनाएं आपके अंदर उजागर होंगे और आपको निस्संदेह एक नई दिशा धारा मिलेगी जिससे आप रिमिक्स होंगे और वह डिप्रेशन खत्म हो जाएगा धन्यवाद मैं जेपी होगी वह कल आप की तरफ से

prashna hai depression ke lakshan bataye aur uska ilaj kaise kare vistaar se bataye depression mein ho chuke ho toh yah tatkalik iska upchaar hona chahiye kya aapko us se shanti milne chahiye moksha hona chahiye toh depression ke andar jo mansik tanaav ka karan hota hai vaah hum apne jehan mein kahin na kahin isko le lete hain aur vaah baat hamein apnon se zyada lagti hai toh depression ka arth yah hai ki kisi na kisi roop se hum mohabbat se judav rakhte hain aur uski seedhi baaton ka asar hamare dilon dimag mein chahta hai aur dusri baat aur bhi cheezen hain jo hum kisi karm ke dwara fas jaate hain aur baad mein ehsaas hota hai ki yah ho fas gaye hain usme bhi depression bada rehta hai bahut saare karan ho sakte jisme depression bana rehta hai lekin filhal aapko isse karna chahiye aur vaah bharne ke liye kis cheez ki zarurat hai aapko toh kabhi kabhi hum pratikriya mein lalit rehte hain aur sochte ki kuch na kuch parivartan tatkalik ho jaaye aur vyavastha ke liye chinta mein anurakt rehte hain toh yah saari cheezen hain agar isse agar aap sahit hone ki cheshta karenge aise vichar dharaon mein apne dil ko dimag khol ek payenge aur alag vikalp sambhavanaon ke prati aap kuch utkarsh ki aur badhenge chahenge apni kuch prakram ka prayog karna padta hai subah toh aapko bal ka gyaan ka kisi na kisi tarah se aap koi majbuti banane padegi depression se nikalne ke baad dusri baat yah par gair laparwahi nahi balki laaparavaah ho jana chahiye arthat gair jimmedarana par bhi agar aap nivritti karenge toh us tension mukt ho jaenge toh kabhi kabhi ghar ki sthiti mein hamein us samay ka intejar karna padta hai shanti purvak apne aap ko sambhaal ke sthal rakhne ki koshish ki jaati hai aur phir uske baad jab thodi viraam jayegi phir aapne soch ko apne vishwas ko apne astha ki aur thoda dhyan rakhna chahiye aur is jeevan mein banana chahiye ucch adarsh gunon ke prati lalak rehni chahiye toh aatmvishvaas badhta hai aur aapko doosra dusri disha mein pravahit hogi jo aapko is cheez se hatakar rakhegi toh aise vishyon ke prati aap ek alag environment ke liye thodi cheshta kare kis jaha se kuch ho environment tute aur dusri baat bharosa kare aur bhagwan ke pal prarthna ke liye aap ekagrata se usko samjhne ki koshish kare kyonki uttejna ka bahut karari hai toh iska matlab yah hai ki usko sakaratmak shakti ki zarurat hai aur vaah jo bahut rahi hai depression sirf wahi aapko antargat mein ek nayi disha aur ek peace nikalegi kyonki pratiraksha kshamta hai hamare andar vaah mansik roop mein bhi hoti hai aur sharirik roop mein bhi hoti hai bhakri matka jodne karan ho raha hai vaah urja aapko apne chintan manan se aapko zaroor milega aap bharose aur vishwas astha ke saath prarthna kijiye toh aapko ek tasalli ki ummid hai jaahir hongi jo cheez zindagi mein asthawan manushya hote hain vaah sahare ki wajah se aise waqt ko nikaal lete hain aur apne andar kahin na kahin se hi talash karni chahiye ki main nirdosh hoon aur mere andar koi apradhi sumit nahi hai aur main apne aapse swayam mein hi ek sudh buddha hoon toh hamein depression mein jaane ki zarurat nahi hai aur thoda sa unke prati pyar karne ki bhavna rakhni chahiye jinke karan se aisa ho raha hai aur prakriti apne bartaav mein khud barsati hai hum jab khud karta pan ke saath mein hote hain toh hamein iske parinamon ke prati rujhan rehta hai ki hamare dwara aur hum hi se isme fanse hue hain toh ek soch ka dayara hota agar aap usko hata denge toh bahar jayegi toh jaisa ki mahamrityunjay mein bhi kaha gaya hai number kam yajamahe sugandhim pushtivardhanam urvarukmiv vandana mrityormukshiya mamritat arthat jo mrityu ka karan hai jo jo hamare ko usko baat kar rahi hai vaah cheez bataye jaise patte aur fal pakne ke baad har sataee daal se alag ho jaate hain aise hi antran ke andar hai yah saari cheezen jo hamare ko pushti jo milne thi vo hum us pushti se apne aap ko praveen bhi kar rahe hain aur uski pushti ke karan hi hum un tatvon mein hi hamara swaroop jhalak virar wahi hamara mahatva hai toh apne us nirgun nirakaar nira lamb nirgun ityadi jo varg hai jo bhi sadgunon ki vivechna hai usme hi apna chintan milan ko vyakhya kijiye toh is sthar par tumhe aatm santosh hoga yahi hai ki apne aapko aisi jagah tirth sthalon mein jaye yah pavitra jagah jaaye koi aisi logo se male milap kare vartalaap kare jisse aapko sakaratmak urja prapt ho sake toh yahi behtar hoga ki achi jagah jaane ki koshish kare toh aap ki sangat mein aaye sanskarvan bane jo sathi toh ki kisi na kisi astha ke bharose se aap apna chintan manan kare toh vaah bhaavnaye aapke andar ujagar honge aur aapko nissandeh ek nayi disha dhara milegi jisse aap remix honge aur vaah depression khatam ho jaega dhanyavad main jp hogi vaah kal aap ki taraf se

प्रश्न है डिप्रेशन के लक्षण बताएं और उसका इलाज कैसे करें विस्तार से बताएं डिप्रेशन में हो

Romanized Version
Likes  156  Dislikes    views  2150
KooApp_icon
WhatsApp_icon
3 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!