भविष्य जानने के तरीके बताये?...


play
user

J.P. Y👌g i

Psychologist

8:30

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भविष्य जानने के लिए तरीके दोएस प्यार करते हैं यह तो कैलकुलेशन होता है जो मेथड बनता है और उसके सूक्ष्म दशा में सही उसकी बारीकी से अध्ययन करी जाए और जो काल की सूक्ष्म गति है और उसमें जो परिवर्तन की तीज झलक होती है अगर उसको सही रूप से विश्लेषण में के तौर पर लाएं और उसकी गति की ओर जो वर्तमान इक्रु से जो तथ्य उजागर हो रहे हैं और भूत में काल में भी जो जो चीजें जिस दशा में प्रवर्तन आ रहा है और वर्तमान और भूत किस-किस सहयोग से हम भविष्य के प्रति निर्धारित कुछ सहयोग उपलब्ध कर सकते हैं कि आगे प्रणामी शुरू से होगा तो और दूसरी बातें भविष्य में जानना क्या चाहते भविष्य के जो रूपरेखा हैं मान लीजिए एक व्यक्तिगत तौर पर व्यक्ति के अंतर्गत या उसके भविष्य में क्या होगा क्या होने वाला है एक राष्ट्रमंडल पर है कि देश की क्या स्थिति होगी इत्यादि बहुत सारी चीजों के विषय अलग अलग हो जाते हैं और उसमें अलग भविष्य की नवीन योजनाएं बनती हैं तो यह क्या पता रेट में रखना पड़ेगा कि आप किस सब्जेक्ट पर भविष्य की घोषणा करने के लिए वेतन होते हैं और सुना भी रुचि रखने बहुत जरूरी होती है अगर आप किसी भी पॉइंट पर अगर आप उस को विश निर्धारित देखना चाहते हैं तो यह एक परिषद परिकल्पना के बीच पर आप जरूर निर्धारित कर सकते हैं और काल का अपना-अपना अनुभव महत्व होता है जो लोग इस केसर को समझ चुके हैं या अपने ढंग से समझते हैं कि इस स्तर पर ऐसा हो जाता है और बड़े कुशलता के साथ डिक्लेअर करते हैं और वैसे संभावित हो भी जाता है तो भविष्य कैलकुलेशन क्योंकि कोई बहुत सारी चीज आते हैं माली से बरसा है धूप है तूफान है याद राष्ट्र के प्रति आगे क्या आने वाली रणनीति आया किसी भी विश्लेषण पर आप उसका साइकिल किशन कर सकते हैं और निर्धारित कर सकते हैं कि भविष्य का इतना सारा जा सकता है तो उसमें तीन रूप से अक्सर करते हैं कि अगर ऐसा होता है तो इतना परिणाम होगा यह बीच में नहीं होता तो ऐसा हो सकता है और यह संभावित जो भी है तो यह सारी कन्फ्यूजन में भी भविष्यवाणी करते हैं कि कुमार के साथ पर एक सही सिद्ध होता है तो कई विवेचना ही विकल्प बाहर आती है उस पर हनुमा परिणामों के स्वरूप में तो उसमें एक निश्चय आत्मक और उसके आकांक्षा बनती है क्या होना चाहिए इत्यादि बात है लेकिन अब इसकी जो साधना करम है इसमें हम अभी से कैसे जाने तो यह आपको ऐसा निष्ठा और विश्वास के साथ आप इस बारे में जरूर सकारात्मक सोच के द्वारा अंतरण की गहराई में अगर वोट डालकर क्या आप कोई भी विकल्प देश मिलता है जैसे मंत्र है यह कोई आध्यात्मिक क्षेत्र है क्योंकि यह परिकल्पना व्की वस्तुतः है और कभी-कभी जब यह परिषद भाषा में जो सही प्रदर्शन होता अंत करण में और एहसान बहुत में आता है और वह बात हम कहते हैं तो सफर सो जाता लेकिन उसमें भी अगर हम कारण खोजते हैं तो उसकी विवेचना भी अलग हो जाती है क्योंकि स फर्स्ट आधार पर भविष्य घोषणा करना एक है इस तरह का है कि जो अपने आप में साक्षात्कार कर लेता है उसका अलका तो जो शिक्षक आल है यानी अभी आने वाला नहीं है आएगा तो उसके प्रति हमें एक रूपरेखा अन्ना आएगी उसमें अकेली आकाश है वह सिर्फ स्पीच देता है उसमें क्या प्रकट होता है और क्या दृष्टिकोण जाता है तो वह चीज बातचीत होती है तो उसे समग्रता के साथ व्यष्टि ब्रह्मांड के अंदर अपने आप को स्थापित करता है वह काल की परिधि को समझता है तो यह है कि अंतर जगत के अंदर उसके अंदर स्टेप लिस्ट जो माइंड बना हुआ होता है चाहे किसी आधार पर किसी साधना की सिद्धि के आधार पर ही आ अंतरण के को उसके अंदर ऐसी जागृति आ जाती है और उसके भरोसा होने लगता है जब पर रखते हैं तो कुछ ना कुछ 1920 का जो मामला आता है तो कहीं ना कहीं हमें भविष्य के साथ आगे बढ़ना पड़ता पड़ता है और अपनी पुष्टिकरण होने पर हम निकले करते हैं कि यह निश्चित ही ऐसा हो जाएगा तो भविष्य जानने के लिए आपकी इच्छा शक्ति ही बहुत जरूरी है कि मुझे जानना है और यह मैं जाऊंगा और वैसे ही सचिन रूप से कई तौर तरीके जो एक दूसरी औरतों के संग में देखा जाता है जैसे सपनों की व्यवस्था में सोचते कि कुछ ऐसा सरलता से प्रकाशित हो जाए तब हमें झलक में आ जाए कि जिससे कि फ्यूचर का पता चल सके और कई घटनाएं ऐसे कई लोगों के हृदय में जीवन में जिसका हमें अभी प्रकाशित नहीं हुआ है लेकिन उनके साथ सतत रूप से घटित हो जाती है वह बता देते हैं कि ऐसा हो रहा था मुझसे पूर्वाभास में सपना आया तो सपने के द्वारा चेक आकाश में ध्यान के द्वारा यह देवी के स्वरूप से ज्ञान होता है और एहसान वह हमारे अंदर भी आया हुआ है क्योंकि यह हमने कभी इस विषय में ध्यान लगाया था तो और उसकी सुमंत प्रणालियां हैं और जो इसकी साधन की भूमिका है उसकी विन्यास की तौर पर जब-जब प्रण हुआ तो सीधा काश मैं उस धारा में जुड़ा और वह 111 रेखा के अंदर ही 24 घंटे का पूरा ब्यौरा अनुभूत में आ गया था और वास्तव में वह पूरा दिन उसी पर तराव में बर्ताव में गुजरा तो यह है कि काल को संकुचित करके पिक्चराइज जिस तरह होता है उस तरह कि अगर चित पट किसी का सुधीर हो चुका है उसकी दा काश के अंदर विश्लेषण कर रहा है उसमें स्पीडो के समाधि स्तोत्र है तो वह उस व्यू को स्पष्ट कर देता है क्योंकि यहां परिकल्पना ए जाते और वह कुछ ना कुछ उद्गार किस रूप में प्रकाशित करते हैं तो कुंडली शक्ति जिसके अंदर जागृत हो गई है वह इच्छाशक्ति से जुड़ते और इच्छा का कारण क्या होता है कहां से युद्ध भाव हो रहा है और वहां परिपूर्णता हुआ है तो जब इच्छा शक्ति रही है तो उसका सकारात्मक स्वरूप कहां जाएगा तो यही इच्छा शक्ति की प्रबलता परम और अपनी एकाग्रता पर दृढ़ विश्वास की निष्ठा पर हम जब प्रेरित होते हैं तो कुछ न कुछ हमें उसका रिजल्ट मिलता है और दूसरा बच्चा रोता रे एनवायरमेंट दिमाग दिल इसी चीज के लिए ललित होता है यही चीज के लेकिन जो हमारे अंदर विन्यास की क्षमता होती है कि मुझे यह रिजल्ट पाना है और परिशुद्ध पाना है इसमें कोई भूल नहीं होनी चाहिए तैयारी एक मानसिक प्रेरणा होती है तो उसमें ही सीधा का सपने आपसे रिलाइज तौर पर प्रदर्शित करता है और वह आपके अनुकरण के अंदर बात है कि आप उसको किस तरह से अभ्यास में सही सिद्ध रूप से ला पा रहा है कि नहीं और जब आप उस तत्वों को बरकरार देखते हैं तो सिद्ध हो जाता है तो यह सारी बातें हैं यह कहने का तात्पर्य है कि आप किसी के बारे में अगर ध्यान पूर्वक अंतरण गहराई में चिंतन में लाएंगे तो भविष्य आपको जरूर से जरूर संकेतिक रूप से या किसी भी रूप से आपको उसका प्रस्ताव का हल मिलेगा धन्यवाद मैं जेपी योगी वोकल प्लेटफार्म से

bhavishya jaanne ke liye tarike does pyar karte hain yah toh calculation hota hai jo method baata hai aur uske sukshm dasha mein sahi uski baareekee se adhyayan kari jaaye aur jo kaal ki sukshm gati hai aur usme jo parivartan ki teej jhalak hoti hai agar usko sahi roop se vishleshan mein ke taur par laye aur uski gati ki aur jo vartaman ikru se jo tathya ujagar ho rahe hain aur bhoot mein kaal mein bhi jo jo cheezen jis dasha mein pravartan aa raha hai aur vartaman aur bhoot kis kis sahyog se hum bhavishya ke prati nirdharit kuch sahyog uplabdh kar sakte hain ki aage pranami shuru se hoga toh aur dusri batein bhavishya mein janana kya chahte bhavishya ke jo rooprekha hain maan lijiye ek vyaktigat taur par vyakti ke antargat ya uske bhavishya mein kya hoga kya hone vala hai ek rashtramandal par hai ki desh ki kya sthiti hogi ityadi bahut saari chijon ke vishay alag alag ho jaate hain aur usme alag bhavishya ki naveen yojanaye banti hain toh yah kya pata rate mein rakhna padega ki aap kis subject par bhavishya ki ghoshana karne ke liye vetan hote hain aur suna bhi ruchi rakhne bahut zaroori hoti hai agar aap kisi bhi point par agar aap us ko wish nirdharit dekhna chahte hain toh yah ek parishad parikalpana ke beech par aap zaroor nirdharit kar sakte hain aur kaal ka apna apna anubhav mahatva hota hai jo log is kesar ko samajh chuke hain ya apne dhang se samajhte hain ki is sthar par aisa ho jata hai aur bade kushalata ke saath declare karte hain aur waise sambhavit ho bhi jata hai toh bhavishya calculation kyonki koi bahut saari cheez aate hain maali se barsa hai dhoop hai toofan hai yaad rashtra ke prati aage kya aane wali rananiti aaya kisi bhi vishleshan par aap uska cycle kishan kar sakte hain aur nirdharit kar sakte hain ki bhavishya ka itna saara ja sakta hai toh usme teen roop se aksar karte hain ki agar aisa hota hai toh itna parinam hoga yah beech mein nahi hota toh aisa ho sakta hai aur yah sambhavit jo bhi hai toh yah saari confusion mein bhi bhavishyavani karte hain ki kumar ke saath par ek sahi siddh hota hai toh kai vivechna hi vikalp bahar aati hai us par hanuma parinamon ke swaroop mein toh usme ek nishchay aatmkatha aur uske aakansha banti hai kya hona chahiye ityadi baat hai lekin ab iski jo sadhna karam hai isme hum abhi se kaise jaane toh yah aapko aisa nishtha aur vishwas ke saath aap is bare mein zaroor sakaratmak soch ke dwara antran ki gehrai mein agar vote dalkar kya aap koi bhi vikalp desh milta hai jaise mantra hai yah koi aadhyatmik kshetra hai kyonki yah parikalpana vki vastutah hai aur kabhi kabhi jab yah parishad bhasha mein jo sahi pradarshan hota ant karan mein aur ehsaan bahut mein aata hai aur vaah baat hum kehte hain toh safar so jata lekin usme bhi agar hum karan khojate hain toh uski vivechna bhi alag ho jaati hai kyonki s first aadhar par bhavishya ghoshana karna ek hai is tarah ka hai ki jo apne aap mein sakshatkar kar leta hai uska alka toh jo shikshak all hai yani abhi aane vala nahi hai aayega toh uske prati hamein ek rooprekha anna aayegi usme akeli akash hai vaah sirf speech deta hai usme kya prakat hota hai aur kya drishtikon jata hai toh vaah cheez batchit hoti hai toh use samagrata ke saath vyashti brahmaand ke andar apne aap ko sthapit karta hai vaah kaal ki paridhi ko samajhata hai toh yah hai ki antar jagat ke andar uske andar step list jo mind bana hua hota hai chahen kisi aadhar par kisi sadhna ki siddhi ke aadhar par hi aa antran ke ko uske andar aisi jagriti aa jaati hai aur uske bharosa hone lagta hai jab par rakhte hain toh kuch na kuch 1920 ka jo maamla aata hai toh kahin na kahin hamein bhavishya ke saath aage badhana padta padta hai aur apni pushtikaran hone par hum nikle karte hain ki yah nishchit hi aisa ho jaega toh bhavishya jaanne ke liye aapki iccha shakti hi bahut zaroori hai ki mujhe janana hai aur yah main jaunga aur waise hi sachin roop se kai taur tarike jo ek dusri auraton ke sang mein dekha jata hai jaise sapno ki vyavastha mein sochte ki kuch aisa saralata se prakashit ho jaaye tab hamein jhalak mein aa jaaye ki jisse ki future ka pata chal sake aur kai ghatnaye aise kai logo ke hriday mein jeevan mein jiska hamein abhi prakashit nahi hua hai lekin unke saath satat roop se ghatit ho jaati hai vaah bata dete hain ki aisa ho raha tha mujhse purvabhas mein sapna aaya toh sapne ke dwara check akash mein dhyan ke dwara yah devi ke swaroop se gyaan hota hai aur ehsaan vaah hamare andar bhi aaya hua hai kyonki yah humne kabhi is vishay mein dhyan lagaya tha toh aur uski sumant pranaliyan hain aur jo iski sadhan ki bhumika hai uski vinyas ki taur par jab jab pran hua toh seedha kash main us dhara mein jinko aur vaah 111 rekha ke andar hi 24 ghante ka pura byaura anubhut mein aa gaya tha aur vaastav mein vaah pura din usi par tarao mein bartaav mein gujara toh yah hai ki kaal ko sankuchit karke picturize jis tarah hota hai us tarah ki agar chit pat kisi ka sudheer ho chuka hai uski the kash ke andar vishleshan kar raha hai usme speedo ke samadhi stotra hai toh vaah us view ko spasht kar deta hai kyonki yahan parikalpana a jaate aur vaah kuch na kuch ugdar kis roop mein prakashit karte hain toh kundali shakti jiske andar jagrit ho gayi hai vaah ichchhaashakti se judte aur iccha ka karan kya hota hai kaha se yudh bhav ho raha hai aur wahan paripurnata hua hai toh jab iccha shakti rahi hai toh uska sakaratmak swaroop kaha jaega toh yahi iccha shakti ki prabalta param aur apni ekagrata par dridh vishwas ki nishtha par hum jab prerit hote hain toh kuch na kuch hamein uska result milta hai aur doosra baccha rota ray environment dimag dil isi cheez ke liye lalit hota hai yahi cheez ke lekin jo hamare andar vinyas ki kshamta hoti hai ki mujhe yah result paana hai aur parishuddh paana hai isme koi bhool nahi honi chahiye taiyari ek mansik prerna hoti hai toh usme hi seedha ka sapne aapse rilaij taur par pradarshit karta hai aur vaah aapke anukaran ke andar baat hai ki aap usko kis tarah se abhyas mein sahi siddh roop se la paa raha hai ki nahi aur jab aap us tatvon ko barkaraar dekhte hain toh siddh ho jata hai toh yah saari batein hain yah kehne ka tatparya hai ki aap kisi ke bare mein agar dhyan purvak antran gehrai mein chintan mein layenge toh bhavishya aapko zaroor se zaroor saanketik roop se ya kisi bhi roop se aapko uska prastaav ka hal milega dhanyavad main jp yogi vocal platform se

भविष्य जानने के लिए तरीके दोएस प्यार करते हैं यह तो कैलकुलेशन होता है जो मेथड बनता है और उ

Romanized Version
Likes  150  Dislikes    views  1794
WhatsApp_icon
6 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Suman Saurav

Government Teacher & Carrear Counsultent

0:20
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपके प्रश्न का उत्तर होगा कि आप किसी भी अच्छे पंडित या ज्योतिष से मिलकर अपने जन्म के समय और तिथि के हिसाब से उनसे अपनी कुंडली बनवा एवं उसी कुंडली के आधार पर भी आपके आगामी आने वाले समय के विषय में पूर्वानुमान या आपका भविष्य बता पाएंगे

aapke prashna ka uttar hoga ki aap kisi bhi acche pandit ya jyotish se milkar apne janam ke samay aur tithi ke hisab se unse apni kundali banwa evam usi kundali ke aadhar par bhi aapke aagaami aane waale samay ke vishay me purvaanuman ya aapka bhavishya bata payenge

आपके प्रश्न का उत्तर होगा कि आप किसी भी अच्छे पंडित या ज्योतिष से मिलकर अपने जन्म के समय औ

Romanized Version
Likes  125  Dislikes    views  1751
WhatsApp_icon
user

Ashwani Thakur

👤Teacher & Advisor🙏

0:18
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार गुड मॉर्निंग अपनी प्रश्न क्या है आपका जरा पूछा गया प्रश्न इस प्रकार है भविष्य जानने के तरीके लेकिन भविष्य जानने के लिए आप अपनी कुंडली और जूते क्या पंडित जी आपको भविष्य के बारे में जानकारी बताओ

namaskar good morning apni prashna kya hai aapka zara poocha gaya prashna is prakar hai bhavishya jaanne ke tarike lekin bhavishya jaanne ke liye aap apni kundali aur joote kya pandit ji aapko bhavishya ke bare me jaankari batao

नमस्कार गुड मॉर्निंग अपनी प्रश्न क्या है आपका जरा पूछा गया प्रश्न इस प्रकार है भविष्य जानन

Romanized Version
Likes  50  Dislikes    views  1132
WhatsApp_icon
user
0:22
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

प्रश्न की भविष्य जानने के तरीके बताएं तो बता दो कि आप अपना भविष्य जानना चाहते हैं तो कोई भी एक ऐसे आदमी के पास आ जा सकते हैं जिन्हें हम ज्योतिष कहते हैं और ज्योतिष के पास अगर आप अपना डेट ऑफ बर्थ प्लेस ऑफ बर्थ और टाइम ऑफर यह तीनों चीज लेकर जाते हैं तो वह आपकी एक जन्मकुंडली बनाते हैं जिसमें आपके भविष्य के बारे में सारी चीजें इसके अंतर्गत लिखी होती है

prashna ki bhavishya jaanne ke tarike bataye toh bata do ki aap apna bhavishya janana chahte hain toh koi bhi ek aise aadmi ke paas aa ja sakte hain jinhen hum jyotish kehte hain aur jyotish ke paas agar aap apna date of birth place of birth aur time offer yah tatvo cheez lekar jaate hain toh vaah aapki ek janmakundali banate hain jisme aapke bhavishya ke bare me saari cheezen iske antargat likhi hoti hai

प्रश्न की भविष्य जानने के तरीके बताएं तो बता दो कि आप अपना भविष्य जानना चाहते हैं तो कोई भ

Romanized Version
Likes  68  Dislikes    views  2199
WhatsApp_icon
user
0:23
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भविष्य जानने के लिए सबसे पहले आपका जन्म तिथि राशि इन चीजों की जानकारी लेकर आपको कुंडली बनवानी होगी फिर कौन सी ग्रह दशा नक्षत्र किस किस अवधि में आपके जीवन में आएगी इसका पता चलेगा भविष्य जानने का सबसे अच्छा जरिया कुंडली निर्माण ही है

bhavishya jaanne ke liye sabse pehle aapka janam tithi rashi in chijon ki jaankari lekar aapko kundali banvani hogi phir kaun si grah dasha nakshtra kis kis awadhi me aapke jeevan me aayegi iska pata chalega bhavishya jaanne ka sabse accha zariya kundali nirmaan hi hai

भविष्य जानने के लिए सबसे पहले आपका जन्म तिथि राशि इन चीजों की जानकारी लेकर आपको कुंडली बनव

Romanized Version
Likes  29  Dislikes    views  1291
WhatsApp_icon
user
0:27
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

फ्रेंड आफ्टर क्वेश्चन है कि भविष्य जानने के तरीके बताएं तो फ्रेंड मैं आपको यह बताना चाहूंगा यहां पर किए जो भविष्य है वह कोई नहीं जान सकता कोई एक डेट हंड्रेड परसेंट पर नहीं बता सकता है कि यह कल क्या होगा बस एक अनुमान है जो कि लगाया जाता है और कुछ परसेंट उसको सही होते हैं और कुछ नहीं होते हैं और कभी-कभी हंड्रेड परसेंट सही निकलते लेकिन भविष्य नहीं जाना जा सकता है धन्यवाद

friend after question hai ki bhavishya jaanne ke tarike bataye toh friend main aapko yah batana chahunga yahan par kiye jo bhavishya hai vaah koi nahi jaan sakta koi ek date hundred percent par nahi bata sakta hai ki yah kal kya hoga bus ek anumaan hai jo ki lagaya jata hai aur kuch percent usko sahi hote hain aur kuch nahi hote hain aur kabhi kabhi hundred percent sahi nikalte lekin bhavishya nahi jana ja sakta hai dhanyavad

फ्रेंड आफ्टर क्वेश्चन है कि भविष्य जानने के तरीके बताएं तो फ्रेंड मैं आपको यह बताना चाहूंग

Romanized Version
Likes  11  Dislikes    views  573
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!