भारतीय संस्कृति का अर्थ समझाइए?...


play
user

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपने पूछा है भारतीय संस्कृति का अर्थ समझाइए तो देखें मैं आपको बता दूं भारतीय संस्कृति एक बहुआयामी संस्कृति है जिसके अंतर्गत भारत का इतिहास विलक्षण भूगोल और सिंधु घाटी सभ्यता के दौरान बनी आगे चलकर भारतीय संस्कृति वैदिक युग में विकसित हुई धन्यवाद

aapne poocha hai bharatiya sanskriti ka arth samjhaiye toh dekhen main aapko bata doon bharatiya sanskriti ek bahuayami sanskriti hai jiske antargat bharat ka itihas vilakshan bhugol aur sindhu ghati sabhyata ke dauran bani aage chalkar bharatiya sanskriti vaidik yug mein viksit hui dhanyavad

आपने पूछा है भारतीय संस्कृति का अर्थ समझाइए तो देखें मैं आपको बता दूं भारतीय संस्कृति एक ब

Romanized Version
Likes  45  Dislikes    views  1346
WhatsApp_icon
2 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

S Bajpay

Yoga Expert | Beautician & Gharelu Nuskhe Expert

1:27
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

तू किसी भी संस्कृत का अर्थ होता है उस देश का इतिहास पुस्तक भूगोल उस देश के रीति रिवाज उस देश का खानपान उस देश का धर्म उस देश की राजनीति उस देश की शिक्षा व्यवस्था इन सबको मिलाकर संस्कृति भारतीय संस्कृति विश्व की सबसे पुरानी संस्कृति है इसमें इतिहास भी है इसमें भारत की भूगोल की मानी बताई गई है इसमें भारत की रीति रिवाज है जो अनेकता में एकता प्रदर्शित करते हैं इसमें धर्म भी है इसमें राजनीतिक भी है राजनीति ज्ञान भी दिया गया है इसमें प्राचीन भारत में शिक्षा व्यवस्था कैसी थी इसका वर्णन भी है राजनीतिक व्यवस्था के ऊपर विदुर नीति चाणक्य नीति है इसमें राजनीति को बताया गया है इसमें यह भी बताया गया है कि राजा को कैसा होना चाहिए और गांव की प्रति उसका कैसा व्यवहार होना चाहिए राजा को प्रजा ओं के साथ जैसे एक पिता अपने पुत्र के साथ विभाग तथा व्यवहार करना चाहिए भारतीय संस्कृति विश्व की सबसे पुरानी संस्कृति

tu kisi bhi sanskrit ka arth hota hai us desh ka itihas pustak bhugol us desh ke riti rivaaj us desh ka khanpan us desh ka dharm us desh ki raajneeti us desh ki shiksha vyavastha in sabko milakar sanskriti bharatiya sanskriti vishwa ki sabse purani sanskriti hai isme itihas bhi hai isme bharat ki bhugol ki maani batai gayi hai isme bharat ki riti rivaaj hai jo anekata me ekta pradarshit karte hain isme dharm bhi hai isme raajnitik bhi hai raajneeti gyaan bhi diya gaya hai isme prachin bharat me shiksha vyavastha kaisi thi iska varnan bhi hai raajnitik vyavastha ke upar vidur niti chanakya niti hai isme raajneeti ko bataya gaya hai isme yah bhi bataya gaya hai ki raja ko kaisa hona chahiye aur gaon ki prati uska kaisa vyavhar hona chahiye raja ko praja on ke saath jaise ek pita apne putra ke saath vibhag tatha vyavhar karna chahiye bharatiya sanskriti vishwa ki sabse purani sanskriti

तू किसी भी संस्कृत का अर्थ होता है उस देश का इतिहास पुस्तक भूगोल उस देश के रीति रिवाज उस द

Romanized Version
Likes  488  Dislikes    views  3477
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!