दिल्ली में हो रहे दंगों के बारे में बताएं?...


user

FIROZ ANAND

Career Counsellor

8:02
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दिल्ली में जो दंगे हो रहे हैं इसके बारे में मैं अपना ब्लू बताना चाहता हूं वह एक परी प्लांट्स की में यानी जो मुस्लिम कम्युनिटी है उसका लिंक अरब कंट्री अरब कंट्रीज है वहां पर जो रेडिकल मुस्लिम है जो रेडिकल इस्लाम है कट्टरपंथी जो इस्लाम में वह इस्लाम यह चाहता है कि उसकी पूरी दुनिया पर हुकूमत हो जाए यानी बाहर कंट्री को इस्लामिक स्टेट बनाना चाहते हैं प्लानिंग कर रहे हैं प्लानिंग में जो चीज है वह है एजुकेशन इ रेडिकल इस्लाम के जो लोग हैं सबसे ऊंचे पदों पर बैठे हुए हैं जैसे कि संगम विहार में जो लोग हैं वर्कबोर्ड उसके अंदर भी डाला लोग उसी तरीके से जो मुस्लिम यूनिवर्सिटी अलीगढ़ यूनिवर्सिटी है दिल्ली के अंदर भी कुछ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के अंदर जो बच्चे पढ़ रहे हैं जो इस्लामिक फैमिली से कनेक्ट है उनको इसका शिकार बनाया जा रहा है इनके साथ नमाज और दूसरे तरीकों से क्योंकि इस्लाम में बिल्कुल कंपनी है तो कट्टरता का प्रचार और कट्टरता की एकता करना यह दंगों का मुख्य कारण में से एक है क्योंकि कट्टरता अगर हम यह इस्लाम के जो लोग हैं या किसी भी धर्म के लोग हैं हिंदू धर्म है कोई भी धर्म हो अगर कट्टरता का प्रचार करता है तो वह दूसरी संस्कृति के साथ ऑनलाइन नहीं हो पाता दूसरी संस्कृति का सम्मान नहीं कर पाता अपनी संस्कृति का सम्मान करते हैं और दूसरी संस्कृति को नीचा दिखाने का काम करते हैं कट्टर लोग तो सबसे मुख्य कारणों में से एक बड़ा कारण हुए कट्टरता का प्रचार दूसरे नंबर पर आता है जीवन के प्रति नकारात्मक नजरिया यानी जिन धर्मों में जीवन का सम्मान नहीं है यानी जीवन में क्या होता है जैसे कि पेड़ पौधे होते हैं मौसम होता है धरती आकाश सूर्य चंद्र ग्रह मनुष्य जीवन तो हम जीवन को नष्ट करेंगे सीधी सी बात है जैसे आजकल नदिया भी है हम जीवन का सम्मान नहीं कर रहे इसलिए अंधाधुंध उसमें कचरा फेंक रहे हैं अंधाधुंध उसे मिला कर रहे हैं नदिया सुख पेड़-पौधे नहीं लगाने रहे हैं जो पुराने उनको काट देते हैं अभी होली आने वाली है होली पर कितने पहले काट देंगे उनको सुखाने के लिए क्यों क्योंकि हमें त्यौहार मनाना तो त्योहार के नाम पर धर्म के नाम पर इतना हम जीवन का अपमान करते हैं यह भी एक मुख्य कारणों में से है कि कोई संस्कृति जीवन का अपमान कर रही है तो दूसरे कुछ लोग उसे रोकने की भी कोशिश करेंगे यही दंगे का कारण या नहीं कुछ अच्छे लोग कुछ अवेयरनेस वाले जागरूक लोग जो जीवन का सम्मान करते हैं जो जीवन को बनाए रखना चाहते हैं धरती पर उनको यह कट्टर लोक मारने की कोशिश करेंगे उनको परेशान करने की कोशिश करते हैं इसके कारण है उनमें है नारी का दर्जा दो नंबर का होना यह बहुत सारे बहुत सारे संस्कृति है क्या वह हिंदू संस्कृति हो चाहे मुस्लिम संस्कृति हो या कुछ और धन की स्वीकृति और संस्कृति में नारी का सम्मान एक नंबर पर नहीं है नारी को दूसरे नंबर पर रखा गया था जिसे कहते हैं कि पुरुष प्रधान समाज हमारे देश में हमारे दुनिया में अगर पुरुष के प्रधान तक हम सेकंड पर कर दें और एक नंबर पर हम नारी के सम्मान को लेकर आ जाते हैं तो अभी दंगा नहीं हुआ क्योंकि नारी बुद्धि से नहीं बल्कि देर से जीती है उसका जीवन केंद्र दिल है नारी एक इसमें कहावत भी प्रचलित है कि अगर हम एक पुरुष को पढ़ाते हैं शिक्षित करते हैं तो वह सिर्फ एक पुरुष को शिक्षित हमने किया लेकिन अगर हमारी कोई लड़की को एक महिला को अगर शिक्षित करते हैं तो वह पूरे परिवार को शिक्षित हमने कर दिया पूरे समाज को शिक्षित कर दिया क्योंकि एक नारी एक मां भी है एक बहन भी है एक बेटी भी है एक पत्नी भी है तो एक अच्छी दोस्त भी है वह बहुत कुछ है डॉक्टर वकील किसी भी क्षेत्र में अब देख लीजिए नारी अपने आप को शादी कर रही है कि वह कुछ कर सकती है यानी गोपुर से कम नहीं है तो दंगों में यह भी एक मुख्य कारण है कि जो संस्कृती आणि मुस्लिम संस्कृति हो या हिंदू संस्कृति हो जो नारी का सम्मान नहीं करते वह भी दंगों में शामिल हो जाते हैं क्योंकि वह मां की नहीं सुनेंगे पत्नी के लिए सुनेंगे क्योंकि मां और पत्नी कोई मां नहीं चाहती कि मेरा बेटा गोली मारे किसी बेगुनाह को कोई नहीं चाहती कोई बात है कोई पत्नी नहीं चाहती कि उसका पति दंगों में जाओ किसी के सीने पर गोली मारे जीवन हमारा देश होना चाहिए सुंदरता मरा देखना चाहिए हमारे जीवन पर लगी होनी चाहिए लेकिन हमारा जो लक्ष्य है वह दूसरों का लक्ष्य बन कर आया नहीं कट्टरपंथियों का लक्ष्य अपने लक्ष्य में यानी अपनी ड्रीम अपने सपनों के लिए आपको शामिल कर नया हम को शामिल कर रहे क्योंकि हमारे जीवन का नक्शा खुद का नहीं है जब तक हमारा जीवन का लक्ष्य नहीं होगा कोई जैसे शेयर होना चाहिए पॉजिटिव होना चाहिए सकारात्मक हमारा सपना होना चाहिए हमारा लक्ष्य नकारात्मक पूरी दुनिया को जो हेल्प करें पूरी दुनिया को जो जीवन के प्रति सुंदर बनाए इस तरह के लक्ष्य हमारी होनी चाहिए लेकिन हमारी नहीं है हमें सेटिंग नहीं ले रहे हम अपने सपनों को खुद ही बना रहे हम अपने लक्ष्य को खुद नहीं बना रहे हैं यह बताइए बड़प्पन ही दूसरों के लिए काम करता है यानी जो कट्टर लोग हैं उनको तो पक्का पता है कि दुनिया नष्ट करनी है कयामत लेकर आनी है क्या मत लेकर आनी है दुनिया को नष्ट करना दुनिया को गुलाम बनाना है नारी को गुलाम बनाना उसे बुर्के में रखना उसके घुंघट में रखना उसको दबा कुचला के उसके शरीर काम करना है बस नारी को सिर्फ भोग की वस्तु जो संस्कृति आदि रही है वह संस्कृति ही मेंस के मुख्य कारण हैं दंगों का तो इससे ज्यादा आप खुद ही सच करिए कि आप और हम क्या सीख रहे हैं और समाज को हम किस दिशा में ले जा रहे हैं तो आपके लिए बस इतना ही कट्टरता की मुख्य कारण है मैंने पहला कारण बताया कट्टरता का प्रचार हो गया इसका दूसरा कारण बताया जीवन के प्रति नकारात्मक नजरिया कि हम अपने पेड़ पौधों की रक्षा करना चाहिए हमको नदियों की साफ सफाई रखनी चाहिए और दूसरों का सम्मान करना चाहिए उसी तरह नारी का दर्जा हमें एक नंबर लाना पड़ेगा हमारे मुख्यमंत्री जो है वह हमारे प्रधानमंत्री हैं नरेंद्र श्री नरेंद्र मोदी जी उन्होंने नारी को एक नंबर पर लाने की पूरी कोशिश करी है राशन कार्ड में मुखिया को मुखिया के रूप में उन्होंने नारी को रखा है

delhi mein jo dange ho rahe hain iske bare mein main apna blue batana chahta hoon vaah ek pari plants ki mein yani jo muslim community hai uska link arab country arab countries hai wahan par jo redikal muslim hai jo redikal islam hai kattarapanthi jo islam mein vaah islam yah chahta hai ki uski puri duniya par hukumat ho jaaye yani bahar country ko islamic state banana chahte hain planning kar rahe hain planning mein jo cheez hai vaah hai education e redikal islam ke jo log hain sabse unche padon par baithe hue hain jaise ki sangam vihar mein jo log hain varkabord uske andar bhi dala log usi tarike se jo muslim university aligarh university hai delhi ke andar bhi kuch muslim university ke andar jo bacche padh rahe hain jo islamic family se connect hai unko iska shikaar banaya ja raha hai inke saath namaz aur dusre trikon se kyonki islam mein bilkul company hai toh kattartaa ka prachar aur kattartaa ki ekta karna yah dango ka mukhya karan mein se ek hai kyonki kattartaa agar hum yah islam ke jo log hain ya kisi bhi dharm ke log hain hindu dharm hai koi bhi dharm ho agar kattartaa ka prachar karta hai toh vaah dusri sanskriti ke saath online nahi ho pata dusri sanskriti ka sammaan nahi kar pata apni sanskriti ka sammaan karte hain aur dusri sanskriti ko nicha dikhane ka kaam karte hain kattar log toh sabse mukhya karanon mein se ek bada karan hue kattartaa ka prachar dusre number par aata hai jeevan ke prati nakaratmak najariya yani jin dharmon mein jeevan ka sammaan nahi hai yani jeevan mein kya hota hai jaise ki ped paudhe hote hain mausam hota hai dharti akash surya chandra grah manushya jeevan toh hum jeevan ko nasht karenge seedhi si baat hai jaise aajkal nadiya bhi hai hum jeevan ka sammaan nahi kar rahe isliye andhadhundh usme kachra fenk rahe hain andhadhundh use mila kar rahe hain nadiya sukh ped paudhe nahi lagane rahe hain jo purane unko kaat dete hain abhi holi aane wali hai holi par kitne pehle kaat denge unko sukhane ke liye kyon kyonki hamein tyohar manana toh tyohar ke naam par dharm ke naam par itna hum jeevan ka apman karte hain yah bhi ek mukhya karanon mein se hai ki koi sanskriti jeevan ka apman kar rahi hai toh dusre kuch log use rokne ki bhi koshish karenge yahi dange ka karan ya nahi kuch acche log kuch awareness waale jagruk log jo jeevan ka sammaan karte hain jo jeevan ko banaye rakhna chahte hain dharti par unko yah kattar lok maarne ki koshish karenge unko pareshan karne ki koshish karte hain iske karan hai unmen hai nari ka darja do number ka hona yah bahut saare bahut saare sanskriti hai kya vaah hindu sanskriti ho chahen muslim sanskriti ho ya kuch aur dhan ki swikriti aur sanskriti mein nari ka sammaan ek number par nahi hai nari ko dusre number par rakha gaya tha jise kehte hain ki purush pradhan samaj hamare desh mein hamare duniya mein agar purush ke pradhan tak hum second par kar de aur ek number par hum nari ke sammaan ko lekar aa jaate hain toh abhi danga nahi hua kyonki nari buddhi se nahi balki der se jeeti hai uska jeevan kendra dil hai nari ek isme kahaavat bhi prachalit hai ki agar hum ek purush ko padhate hain shikshit karte hain toh vaah sirf ek purush ko shikshit humne kiya lekin agar hamari koi ladki ko ek mahila ko agar shikshit karte hain toh vaah poore parivar ko shikshit humne kar diya poore samaj ko shikshit kar diya kyonki ek nari ek maa bhi hai ek behen bhi hai ek beti bhi hai ek patni bhi hai toh ek achi dost bhi hai vaah bahut kuch hai doctor vakil kisi bhi kshetra mein ab dekh lijiye nari apne aap ko shadi kar rahi hai ki vaah kuch kar sakti hai yani gopur se kam nahi hai toh dango mein yah bhi ek mukhya karan hai ki jo sanskriti aani muslim sanskriti ho ya hindu sanskriti ho jo nari ka sammaan nahi karte vaah bhi dango mein shaamil ho jaate hain kyonki vaah maa ki nahi sunenge patni ke liye sunenge kyonki maa aur patni koi maa nahi chahti ki mera beta goli maare kisi begunah ko koi nahi chahti koi baat hai koi patni nahi chahti ki uska pati dango mein jao kisi ke seene par goli maare jeevan hamara desh hona chahiye sundarta mara dekhna chahiye hamare jeevan par lagi honi chahiye lekin hamara jo lakshya hai vaah dusro ka lakshya ban kar aaya nahi kattarapanthiyon ka lakshya apne lakshya mein yani apni dream apne sapno ke liye aapko shaamil kar naya hum ko shaamil kar rahe kyonki hamare jeevan ka naksha khud ka nahi hai jab tak hamara jeevan ka lakshya nahi hoga koi jaise share hona chahiye positive hona chahiye sakaratmak hamara sapna hona chahiye hamara lakshya nakaratmak puri duniya ko jo help kare puri duniya ko jo jeevan ke prati sundar banaye is tarah ke lakshya hamari honi chahiye lekin hamari nahi hai hamein setting nahi le rahe hum apne sapno ko khud hi bana rahe hum apne lakshya ko khud nahi bana rahe hain yah bataye badappan hi dusro ke liye kaam karta hai yani jo kattar log hain unko toh pakka pata hai ki duniya nasht karni hai qayaamat lekar aani hai kya mat lekar aani hai duniya ko nasht karna duniya ko gulam banana hai nari ko gulam banana use Burke mein rakhna uske ghunghat mein rakhna usko daba kuchala ke uske sharir kaam karna hai bus nari ko sirf bhog ki vastu jo sanskriti aadi rahi hai vaah sanskriti hi mens ke mukhya karan hain dango ka toh isse zyada aap khud hi sach kariye ki aap aur hum kya seekh rahe hain aur samaj ko hum kis disha mein le ja rahe hain toh aapke liye bus itna hi kattartaa ki mukhya karan hai maine pehla karan bataya kattartaa ka prachar ho gaya iska doosra karan bataya jeevan ke prati nakaratmak najariya ki hum apne ped paudho ki raksha karna chahiye hamko nadiyon ki saaf safaai rakhni chahiye aur dusro ka sammaan karna chahiye usi tarah nari ka darja hamein ek number lana padega hamare mukhyamantri jo hai vaah hamare pradhanmantri hain narendra shri narendra modi ji unhone nari ko ek number par lane ki puri koshish kari hai raashan card mein mukhiya ko mukhiya ke roop mein unhone nari ko rakha hai

दिल्ली में जो दंगे हो रहे हैं इसके बारे में मैं अपना ब्लू बताना चाहता हूं वह एक परी प्लांट

Romanized Version
Likes  84  Dislikes    views  1044
KooApp_icon
WhatsApp_icon
11 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!