स्त्री शिक्षा की आवश्यकता क्यों है?...


user
5:44
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो नमस्कार मैं मनीष कुमार मौर्य आपका प्रश्न है कि स्त्री शिक्षण की आवश्यकता है जो है तो मैं बताना चाहता हूं क्योंकि अगर लड़की हूं ठीक है या स्त्री हो या जिनकी शादी हो गई आएगी लड़कियों के साथ ही नहीं है मैं सबके लिए प्रशंसा में चलाओ 36 जो लड़के हो या लड़की सब के लिए होता है बताना चाहता हूं कि शिक्षा में कैसी मार्ग है जिसके माध्यम से इंसान की सोचने की क्षमता बढ़ती है कि उसे एक भी डिसीजन लेने में आराम होता है यानी कोई भी फैसला लेने के लिए सक्षम होते हैं और शिक्षा से यह चीज होता है जिसे किसी दूसरे की मरने की कगार से समझती हो जबकि विकास इलेक्ट्रिक आते हैं वे अपनी उद्योग के माध्यम से अपना जीवन यापन करते जाते हैं चाहे स्त्री हो या पुरुष और इसके बाद अगर स्त्री शिक्षित है पढ़ी लिखी है तो वह क्या करेगी या घर या ससुराल में या कहीं भी उसको उत्पीड़न स्कूल दंडनीय इसको कह सकते हैं अगर उसे सताया जा रहा है तू क्या करेगी कानून व्यवस्था सिस्टम को लागू इसको पहले जो लागू हुआ है कानून के माध्यम से और उसका सहारा लेकर मंडल फंसी हुई स्थलों से निकलने के लिए हुए सक्षम रहेगी तो इसी प्रकार से स्त्रियों को शिक्षा देना अत्यावश्यक है जिससे कि वे अपना जीवन यापन सुख में व्यतीत करते हैं अभिजीत करते रहें ठीक है और बताओ जैसे कई क्षेत्रों के लिए दबाया जाता है क्योंकि जमाई आज दिन भर बहुत ज्यादा काम किया हूं इसलिए मुझे नींद आ रही लेकिन मैं वीडियो बना रहा हूं इस वीडियो में ध्यान से सुनिए मैंने क्या होता है आपको हां तो मैं कहां था कि स्त्री शिक्षा तो मैं यह बताना चाहता हूं कि स्त्रियों को जब शिक्षा दिया जाएगा उस से क्या होगा कि वह अपने जीवन यापन करने के लिए अपने पति के ऊपर डिपेंड नहीं लेंगी अलग से अपना रोजगार भी कर सकती हैं जिससे कि रोजगार करेंगी उनके पास पैसा आएगा तो पैसा जब आएगा तुम का जो परिवारिक कलह एक प्रकार से वह दूर होगा यहां का कहा जाता है कि यहां पैसा है वहां सुखी है ऐसा भी कहा जाता है आपके घर में कि पैसा है तो सब कुछ इसी प्रकार शिक्षित होना लड़कियों को अति आवश्यकता है बता सकते हैं कि ससुराल हो ठीक है तो वहां पर लड़की लड़कियों को शादी के बाद सताया जाता है यह किया जाता है वह कई किया जाता है तो लड़की पढ़ी-लिखी है तो कानून व्यवस्था की मदद लेकर अपनी आवश्यकताओं को बढ़िया से बात करेगी और सहारा लेकर यह सिस्टम को जो उसके घर का सिस्टम जो बिगड़ गया उसको सुधरेगी और इसे एक चीज और है कि कि देखा जाता है कि जगदम पिछड़े वर्ग के हैं एकदम मतलब जिसे करिए कि को कुछ नहीं आता करो लड़की पढ़ी-लिखी है तू अपने क्षेत्रों के विकास के लिए वह दूसरों को भी सिखा देगी या भूख बड़ी है यह जी जानिए उचित जाने से क्या होगा कि गांवों के विकास होगी तो क्षेत्र का विकास होगा जब क्षेत्र का विकास होगा तो जिला का विकास होगा जिला का विकास होगा तो पूरे देश का विकास होगा अति आवश्यक से सबको शिक्षा होना अति आवश्यक स्त्रियों को एकदम आवश्यकता आवश्यक है पहले जो है कि हां जनसंख्या पर नियंत्रण करने के लिए क्या किया जाता है तो नहीं होता तो उस पर कुछ उपचार किए गए थे उसमें बताया गया था कि सामाजिक व्यवस्था में विराजी अनुरंजन की सुविधाएं प्रधानमंत्री से टीवी देखना बाजार रेडियो यह सब सुविधाएं दी जाती थी क्या होता कि लो काम कर लिया के थे और अपने पति पत्नी के साथ जो है कि संभोग इसको कहते संभोग करते थे और जो सो जाते थे और उसके बाद जो बाल बच्चे जन्म लेते थे तुमको कभी ईश्वर का ही देन है ठीक है तो लेकिन अब ऐसा नहीं होता कि अगर लड़की पढ़ी-लिखी है ठीक है अगर वह शिक्षित है कि मतलब कि आप उसको शिक्षा प्राप्त करवाएंगे तो शिक्षित होगी जब से जीत होगी तो उसको पता रहेगा कि नहीं यह ईश्वर ही देन है लेकिन जो है कि आई को अपना कंट्रोल लिमिट है उसको उसको क्लास नहीं किया जाता ठीक है उसे क्या हो घी और क्षेत्रों में वे सक्षम होंगे डिसीजन के लिए तो कहेंगे नहीं अब मुझे बच्चे की आवश्यकता नहीं है तो उसे क्या होगा कि अपनी जनसंख्या चोरी मूवी हरियाणा की देश का विकास होगा तो शिक्षा देना अति आवश्यक है सभी क्षेत्रों में जितने भी है तो है लेकिन शायद आप समझ गए होंगे कि मैं इस वीडियो के माध्यम से क्या कहना चाहता हूं ठीक है भावनाओं को समझिए और लाइफ शेयर फॉलो करते रहिए शिक्षा लेते रहिए और शिक्षा देते रहिए मेरा यह अनुरोध है धन्यवाद आईसीआई खोलो

hello namaskar main manish kumar maurya aapka prashna hai ki stree shikshan ki avashyakta hai jo hai toh main batana chahta hoon kyonki agar ladki hoon theek hai ya stree ho ya jinki shadi ho gayi aayegi ladkiyon ke saath hi nahi hai sabke liye prashansa mein chalao 36 jo ladke ho ya ladki sab ke liye hota hai batana chahta hoon ki shiksha mein kaisi marg hai jiske madhyam se insaan ki sochne ki kshamta badhti hai ki use ek bhi decision lene mein aaram hota hai yani koi bhi faisla lene ke liye saksham hote hain aur shiksha se yah cheez hota hai jise kisi dusre ki marne ki kagar se samajhti ho jabki vikas electric aate hain ve apni udyog ke madhyam se apna jeevan yaapan karte jaate hain chahen stree ho ya purush aur iske baad agar stree shikshit hai padhi likhi hai toh vaah kya karegi ya ghar ya sasural mein ya kahin bhi usko utpidan school dandniya isko keh sakte hain agar use sataaya ja raha hai tu kya karegi kanoon vyavastha system ko laagu isko pehle jo laagu hua hai kanoon ke madhyam se aur uska sahara lekar mandal fansi hui sthalon se nikalne ke liye hue saksham rahegi toh isi prakar se sthreeyon ko shiksha dena atyavashak hai jisse ki ve apna jeevan yaapan sukh mein vyatit karte hain abhijeet karte rahein theek hai aur batao jaise kai kshetro ke liye dabaya jata hai kyonki jamai aaj din bhar bahut zyada kaam kiya hoon isliye mujhe neend aa rahi lekin main video bana raha hoon is video mein dhyan se suniye maine kya hota hai aapko haan toh main kaha tha ki stree shiksha toh main yah batana chahta hoon ki sthreeyon ko jab shiksha diya jaega us se kya hoga ki vaah apne jeevan yaapan karne ke liye apne pati ke upar depend nahi leangi alag se apna rojgar bhi kar sakti hain jisse ki rojgar karengi unke paas paisa aayega toh paisa jab aayega tum ka jo pariwarik kalah ek prakar se vaah dur hoga yahan ka kaha jata hai ki yahan paisa hai wahan sukhi hai aisa bhi kaha jata hai aapke ghar mein ki paisa hai toh sab kuch isi prakar shikshit hona ladkiyon ko ati avashyakta hai bata sakte hain ki sasural ho theek hai toh wahan par ladki ladkiyon ko shadi ke baad sataaya jata hai yah kiya jata hai vaah kai kiya jata hai toh ladki padhi likhi hai toh kanoon vyavastha ki madad lekar apni avashayaktaon ko badhiya se baat karegi aur sahara lekar yah system ko jo uske ghar ka system jo bigad gaya usko sudharegi aur ise ek cheez aur hai ki ki dekha jata hai ki jagdam pichade varg ke hain ekdam matlab jise kariye ki ko kuch nahi aata karo ladki padhi likhi hai tu apne kshetro ke vikas ke liye vaah dusro ko bhi sikha degi ya bhukh badi hai yah ji janiye uchit jaane se kya hoga ki gaon ke vikas hogi toh kshetra ka vikas hoga jab kshetra ka vikas hoga toh jila ka vikas hoga jila ka vikas hoga toh poore desh ka vikas hoga ati aavashyak se sabko shiksha hona ati aavashyak sthreeyon ko ekdam avashyakta aavashyak hai pehle jo hai ki haan jansankhya par niyantran karne ke liye kya kiya jata hai toh nahi hota toh us par kuch upchaar kiye gaye the usme bataya gaya tha ki samajik vyavastha mein viraji anuranjan ki suvidhaen pradhanmantri se TV dekhna bazaar radio yah sab suvidhaen di jaati thi kya hota ki lo kaam kar liya ke the aur apne pati patni ke saath jo hai ki sambhog isko kehte sambhog karte the aur jo so jaate the aur uske baad jo baal bacche janam lete the tumko kabhi ishwar ka hi then hai theek hai toh lekin ab aisa nahi hota ki agar ladki padhi likhi hai theek hai agar vaah shikshit hai ki matlab ki aap usko shiksha prapt karavaenge toh shikshit hogi jab se jeet hogi toh usko pata rahega ki nahi yah ishwar hi then hai lekin jo hai ki I ko apna control limit hai usko usko kashi nahi kiya jata theek hai use kya ho ghee aur kshetro mein ve saksham honge decision ke liye toh kahenge nahi ab mujhe bacche ki avashyakta nahi hai toh use kya hoga ki apni jansankhya chori movie haryana ki desh ka vikas hoga toh shiksha dena ati aavashyak hai sabhi kshetro mein jitne bhi hai toh hai lekin shayad aap samajh gaye honge ki main is video ke madhyam se kya kehna chahta hoon theek hai bhavnao ko samjhiye aur life share follow karte rahiye shiksha lete rahiye aur shiksha dete rahiye mera yah anurodh hai dhanyavad ICI kholo

हेलो नमस्कार मैं मनीष कुमार मौर्य आपका प्रश्न है कि स्त्री शिक्षण की आवश्यकता है जो है तो

Romanized Version
Likes  25  Dislikes    views  223
WhatsApp_icon
7 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमारे समाज में स्त्री शिक्षा का भात नाते क्योंकि हमारे परिवार हमारे समाज में स्त्री ही मूल आधार है अगर अच्छी सी स्त्री पढ़ी लिखी है तो हमारा परिवार हमारा समाज हमारा देश आसानी से तरक्की कर सकता है और छोटी-छोटी बातें वह स्वयं भी कर सकती है

hamare samaj me stree shiksha ka bhat naate kyonki hamare parivar hamare samaj me stree hi mul aadhar hai agar achi si stree padhi likhi hai toh hamara parivar hamara samaj hamara desh aasani se tarakki kar sakta hai aur choti choti batein vaah swayam bhi kar sakti hai

हमारे समाज में स्त्री शिक्षा का भात नाते क्योंकि हमारे परिवार हमारे समाज में स्त्री ही मूल

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  122
WhatsApp_icon
user

Pooja gour

Teacher

4:33
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेरे दोस्तों आपका सवाल एससी शिक्षा की आवश्यकता क्यों है आपको बताऊंगी मेरे हिसाब से जो मुझे लगता है जब आपको बताना चाहिए स्त्री समाज का आधार होती है एक समाज के निर्माण में स्त्री की मुख्य भूमिका होती है आप तो यह तो जानते ही हमें हमारे ग्रंथों में स्त्री को संसार की जिन्हें कहां गया और उसे देवी की तरह पूजते हैं आदर करते हैं हमारे ग्रंथों में आपने पढ़ा होगा इसलिए को हर काम में बराबर का हक दिया जाता था जो से घर में क्या आदि ग्रंथों में बराबर का सहयोग प्रदान करते थे उसे पुरुषों के सामान्य जीवन के मजबूत आधार स्तंभ माना गया है इन सब को देखने के बावजूद स्त्री की दशा अभी देखें तो वह देनी है जिसे देखते हुए हम अपने समाज को भी प्रगति प्रदान नहीं कर सकते समाज में पुरुषों ने उनके अस्तित्व को कहीं दबा कर रख दी कहां जाए तो गया मातृ कहने के लिए सम्मान और आदर का प्रतीक बन गए हैं परंतु पुरुष की दासता स्वीकार करने के लिए पुरुषों ने शिक्षा के अधिकार से वंचित कर दिया प्राचीन काल में देखा होगा हमने और अभी भी ग्रामीण क्षेत्रों में देखे तो शिक्षा का कोई महत्व नहीं है स्त्री शिक्षा पर तो को विशेषकर कोई ध्यान नहीं देते हैं इसका परिणाम यह निकलता है कि उनका अस्तित्व कहीं विलीन हो जाता है एक समाज के विकास के लिए स्त्री का शिक्षित होना बहुत आवश्यक है स्त्री जहां एक घर का निर्माण करती है जीवन भी उत्पन्न करती है और स्त्री के हाथ नहीं होता है कि वह एक समाज को भी विकसित बना सके उसके कंधों पर बेमतलब ही समाज के निर्माण का भार सौंप दिया जाता है इसी बात से अंदाजा लगाया जा सकता है कि हमारे देश में एक स्त्री अशिक्षित समाज की क्या दशा होगी भारत में आरंभिक स्त्री शिक्षा पर प्रतिबंध नहीं था रंग बदलते वातावरण में उसके इस अधिकार को छीन लिया जहां एक स्त्री शिक्षा के अधिकार से वंचित हुए समाज की वहीं विभिन्न तरह से अपने वतन में होने लगी और हमने देखा है यदि एक अशिक्षित मैं खुद अशिक्षित होगी तो वह अपने बच्चों को सही शिक्षा नहीं दे पाएगी हमको इन चीजों से अनजान रहेगी कि उसे अपने बच्चे को कैसे भविष्य के लिए तैयार करना है और कैसे परिस्थितियों का सामना करना सिखाना इस तरह समाज के विकास में रुक जाएगा और हमारा देश की प्रगति भी रुक जाएगी दूसरा कारण यह है कि स्त्री स्वयं शिक्षित होगी तो उसके स्वयं के विकास और गर्मी के लिए खड़े होने में कोई दिक्कत नहीं आई है और शिक्षित नारी अपने अधिकार से वंचित रहती हो यहां विशाल को प्राप्त कर पाएगी और शिक्षित होने के कारण उसका शिवा ज्यादा होता है किसी पर निर्भर नहीं रहती है स्त्री का शिक्षित होना समाज और देश के विकास के लिए अत्यंत आवश्यक है जिस स्त्री शिक्षित होती है वहां इतनी भी समझाएं देखने को नहीं मिलती है हमें चाहिए कि स्त्रियों का नाम मात्र का आदर सम्मान के खातिर धोने जीवन में यही विकास करने और स्वतंत्र रूप से शिक्षित होने के अवसर प्रदान किए जा शिक्षा मनुष्य के मानवता का सच्चे स्वरूप प्रदान करती है विद्या विहीन मनुष्य पशु के समान होता है इसीलिए प्रत्येक मानव के लिए पिक्चर जरूरी है किसी भी समाज के सर्वांगीण विकास के लिए नारी शिक्षा की बहुत आवश्यकता है उसकी प्रथम शिक्षिका कोई अगर हम शिक्षित रखेंगे तो हमारे समाज के क्या होगा और हमारे देश का क्या होगा हमारे देश में हार्दिक ग्रामीण क्षेत्रों में स्त्रियों की दशा बहुत देनी है वर्तमान में देखें तो भारत में आज भी नारी शिक्षा लोगों की रुचि नहीं रह गई है ग्रामीण क्षेत्रों में तो घूमने नारी समाज शिक्षित इस पुरुष प्रधान समाज में नारी आज भी अशिक्षित और उन्हें अधिक लज्जालु बनाना विच नारी का बहिष्कार करना ही है क्योंकि शिक्षित नारी आजीविका को जुटा सकती है आज के हरिहर क्षेत्र में भाग लेकर पुलिस उससे भी आगे समाज की आप सब से मेरी अपील है कि अपने देश को लगाते हो संभालने के लिए नारी शिक्षा पर विशेष जोर दिया जाए उनके लिए अलग-अलग योजनाएं बनाई जाएं नारी को शिक्षित किया जाए धन्यवाद

mere doston aapka sawaal SC shiksha ki avashyakta kyon hai aapko bataungi mere hisab se jo mujhe lagta hai jab aapko batana chahiye stree samaj ka aadhar hoti hai ek samaj ke nirmaan me stree ki mukhya bhumika hoti hai aap toh yah toh jante hi hamein hamare granthon me stree ko sansar ki jinhen kaha gaya aur use devi ki tarah pujte hain aadar karte hain hamare granthon me aapne padha hoga isliye ko har kaam me barabar ka haq diya jata tha jo se ghar me kya aadi granthon me barabar ka sahyog pradan karte the use purushon ke samanya jeevan ke majboot aadhar stambh mana gaya hai in sab ko dekhne ke bawajud stree ki dasha abhi dekhen toh vaah deni hai jise dekhte hue hum apne samaj ko bhi pragati pradan nahi kar sakte samaj me purushon ne unke astitva ko kahin daba kar rakh di kaha jaaye toh gaya matr kehne ke liye sammaan aur aadar ka prateek ban gaye hain parantu purush ki dasta sweekar karne ke liye purushon ne shiksha ke adhikaar se vanchit kar diya prachin kaal me dekha hoga humne aur abhi bhi gramin kshetro me dekhe toh shiksha ka koi mahatva nahi hai stree shiksha par toh ko visheshkar koi dhyan nahi dete hain iska parinam yah nikalta hai ki unka astitva kahin vileen ho jata hai ek samaj ke vikas ke liye stree ka shikshit hona bahut aavashyak hai stree jaha ek ghar ka nirmaan karti hai jeevan bhi utpann karti hai aur stree ke hath nahi hota hai ki vaah ek samaj ko bhi viksit bana sake uske kandhon par bematalab hi samaj ke nirmaan ka bhar saunp diya jata hai isi baat se andaja lagaya ja sakta hai ki hamare desh me ek stree ashikshit samaj ki kya dasha hogi bharat me aarambhik stree shiksha par pratibandh nahi tha rang badalte vatavaran me uske is adhikaar ko cheen liya jaha ek stree shiksha ke adhikaar se vanchit hue samaj ki wahi vibhinn tarah se apne vatan me hone lagi aur humne dekha hai yadi ek ashikshit main khud ashikshit hogi toh vaah apne baccho ko sahi shiksha nahi de payegi hamko in chijon se anjaan rahegi ki use apne bacche ko kaise bhavishya ke liye taiyar karna hai aur kaise paristhitiyon ka samana karna sikhaana is tarah samaj ke vikas me ruk jaega aur hamara desh ki pragati bhi ruk jayegi doosra karan yah hai ki stree swayam shikshit hogi toh uske swayam ke vikas aur garmi ke liye khade hone me koi dikkat nahi I hai aur shikshit nari apne adhikaar se vanchit rehti ho yahan vishal ko prapt kar payegi aur shikshit hone ke karan uska shiva zyada hota hai kisi par nirbhar nahi rehti hai stree ka shikshit hona samaj aur desh ke vikas ke liye atyant aavashyak hai jis stree shikshit hoti hai wahan itni bhi samjhaye dekhne ko nahi milti hai hamein chahiye ki sthreeyon ka naam matra ka aadar sammaan ke khatir dhone jeevan me yahi vikas karne aur swatantra roop se shikshit hone ke avsar pradan kiye ja shiksha manushya ke manavta ka sacche swaroop pradan karti hai vidya vihin manushya pashu ke saman hota hai isliye pratyek manav ke liye picture zaroori hai kisi bhi samaj ke Sarvangiṇa vikas ke liye nari shiksha ki bahut avashyakta hai uski pratham shikshika koi agar hum shikshit rakhenge toh hamare samaj ke kya hoga aur hamare desh ka kya hoga hamare desh me hardik gramin kshetro me sthreeyon ki dasha bahut deni hai vartaman me dekhen toh bharat me aaj bhi nari shiksha logo ki ruchi nahi reh gayi hai gramin kshetro me toh ghoomne nari samaj shikshit is purush pradhan samaj me nari aaj bhi ashikshit aur unhe adhik lajjalu banana which nari ka bahishkar karna hi hai kyonki shikshit nari aajiwika ko jutta sakti hai aaj ke harihar kshetra me bhag lekar police usse bhi aage samaj ki aap sab se meri appeal hai ki apne desh ko lagate ho sambhalne ke liye nari shiksha par vishesh jor diya jaaye unke liye alag alag yojanaye banai jayen nari ko shikshit kiya jaaye dhanyavad

मेरे दोस्तों आपका सवाल एससी शिक्षा की आवश्यकता क्यों है आपको बताऊंगी मेरे हिसाब से जो मुझे

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  95
WhatsApp_icon
user

Maya Singh

teacher

0:39
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

स्त्री शिक्षा इसलिए आवश्यक है क्योंकि कहा जाता है कि एक एक पुरुष को शिक्षित होता है वह सिर्फ खुद को शिक्षित करता है लेकिन जब एक ही स्त्री शिक्षित होती है तो पूरे समाज को शिक्षित करती है इसलिए क्योंकि अभी किस दिन शिक्षित होती है तो वह अपने बच्चों को शिक्षित करती है पूरे परिवार को शिक्षित करती है और पूरे समाज को शिक्षित करते हो हर चीज से हुजूर रहती है और अपने फैसले अच्छे से कर सकती हो इसलिए इसलिए और अपने अधिकारों के लिए लड़ सकती है तो इसलिए इसकी शिक्षा बहुत जरूरी है

stree shiksha isliye aavashyak hai kyonki kaha jata hai ki ek ek purush ko shikshit hota hai vaah sirf khud ko shikshit karta hai lekin jab ek hi stree shikshit hoti hai toh poore samaj ko shikshit karti hai isliye kyonki abhi kis din shikshit hoti hai toh vaah apne baccho ko shikshit karti hai poore parivar ko shikshit karti hai aur poore samaj ko shikshit karte ho har cheez se huzur rehti hai aur apne faisle acche se kar sakti ho isliye isliye aur apne adhikaaro ke liye lad sakti hai toh isliye iski shiksha bahut zaroori hai

स्त्री शिक्षा इसलिए आवश्यक है क्योंकि कहा जाता है कि एक एक पुरुष को शिक्षित होता है वह सिर

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  101
WhatsApp_icon
user
0:44
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

समाज को स्त्री शिक्षा बहुत ही जरूरी है क्योंकि जब एक स्त्री पड़ती है तो कई परिवारों को कई पीढ़ियों को सुधारते हैं स्त्री शिक्षा आगे तो तुम्हें बहुत जरूरी है आज के बेटियां और उससे किसी भी क्षेत्र में कम नहीं है वह पुरुष के साथ बराबर कंधे से कंधा मिलाकर चल रही हैं बालक में पढ़ते हैं तो कई परिवारों को जानते हैं कई पीढ़ियों को सुधारते हैं

samaj ko stree shiksha bahut hi zaroori hai kyonki jab ek stree padti hai toh kai parivaron ko kai peedhiyon ko sudharte hain stree shiksha aage toh tumhe bahut zaroori hai aaj ke betiyan aur usse kisi bhi kshetra me kam nahi hai vaah purush ke saath barabar kandhe se kandha milakar chal rahi hain balak me padhte hain toh kai parivaron ko jante hain kai peedhiyon ko sudharte hain

समाज को स्त्री शिक्षा बहुत ही जरूरी है क्योंकि जब एक स्त्री पड़ती है तो कई परिवारों को कई

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  84
WhatsApp_icon
user

Ajay kumar

Teacher

0:28
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका विल्सन है स्त्री शिक्षा की आवश्यकता क्यों है देखिए अगर स्त्री शिक्षित होगी तो हमारी आने वाली पीढ़ी अपने घर पर भी बहुत अच्छा प्रभाव पड़ेगा

aapka Wilson hai stree shiksha ki avashyakta kyon hai dekhiye agar stree shikshit hogi toh hamari aane wali peedhi apne ghar par bhi bahut accha prabhav padega

आपका विल्सन है स्त्री शिक्षा की आवश्यकता क्यों है देखिए अगर स्त्री शिक्षित होगी तो हमारी आ

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  138
WhatsApp_icon
play
user
0:18

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है दोस्तों की स्त्री शिक्षा की आवश्यकता क्या है तो दोस्तों आपके प्रश्न का उत्तर यह होगा कि स्त्री शिक्षा स्त्री और शिक्षा को अनिवार्य रूप से जोड़ने वाली अवधारणा है इसका एक रूप शिक्षा में स्त्रियों को पुरुष की तरह शामिल करने से संबंधित है

aapka prashna hai doston ki stree shiksha ki avashyakta kya hai toh doston aapke prashna ka uttar yah hoga ki stree shiksha stree aur shiksha ko anivarya roop se jodne wali avdharna hai iska ek roop shiksha mein sthreeyon ko purush ki tarah shaamil karne se sambandhit hai

आपका प्रश्न है दोस्तों की स्त्री शिक्षा की आवश्यकता क्या है तो दोस्तों आपके प्रश्न का उत्त

Romanized Version
Likes  44  Dislikes    views  718
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!