बिहार में वापस से 12वीं के परीक्षा परिणाम में गड़बड़ी होने की खबर,क्या शिक्षा व्य्वस्था कभी सुधर पाएगी?...


user

Vatsal

Engineering Student

1:05
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बच्चों के नंबर 100 से भी ज्यादा

bacchon ke number 100 se bhi zyada

बच्चों के नंबर 100 से भी ज्यादा

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  114
WhatsApp_icon
4 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

.

Hhhgnbhh

2:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखें शिक्षा व्यवस्था को सुधारने के लिए हम बहुत ज्यादा वोट डालने होंगे और मुझे लगता है कि काफी ज्यादा हमें लोगों को यहां से बदलना होगा क्योंकि कोई ना कोई लोग ऐसे हैं जो यहां से बैठकर Hera Pheri कटनी से अगर पेपर लीक होने लग गए या पितरों की इधर उधर होने लग गए तो इसका मतलब तो यही है कि हमारी शिक्षा को शिक्षा प्रदान हेतु शिक्षा को दे रहे हैं शिक्षा व्यवस्था जो होती है वह अच्छी नहीं है तो सब पर प्रश्न उत्तर टीचर से प्रश्न उत्तर Junoon पूरे साल मेहनत करवाई है बच्चों को उन बच्चों के प्रश्न उठता है जिन्होंने पूरे साल बैठकर चीजें पड़ी है उन्हें समझा है और उन उन लोगों पर मेहनत बनके जिन्होंने पेपर बनाए हैं तो इसे कौन देख कर रहा है कौन दिन में Hera Pheri करो उसके लिए हमारे पास एक ही सलूशन है कि हम 3 फिल्म करें उन लोगों को निकाले इसमें से जो लोग हेरा फेरी करें क्योंकि अभी काफी ज्यादा जरूरी है कि अगर देखिए आप यह नहीं समझ ले इसमें सिर्फ भारत का कीबोर्ड का बालू हमारे यहां पर खराब नहीं हो रही है बाहर भी अगर कोई बच्चा का भी बोलेगा कि मैं 90 परसेंट आए हैं मेरे हाथ के अंदर 100 में से 100 आए हैं तो उसके प्रश्न खड़े हो सकते हैं कि आपके पास नहीं थे पता नहीं था भारत में तो पेपर लीक हो जाते हैं तो यह प्रश्न में बंद करने पड़ेंगे इससे हमारे पूरे बच्चे का जो है भविष्य उस पर निर्भर करता हूं इतना याद रखिएगा अगर तू होता तो उसे सिर्फ आपके बच्चे का भविष्य निर्भर करता है जिसको पेपर मिला है बच्चों को लिख उसका भविष्य निर्भर करता बल्कि उन करोड़ों लोगों का भविष्य उससे फर्क होगा जिन बच्चों को पेपर नहीं मिल पाया तो पेपर लिखो ना मुझे लगता है बहुत ही बुरी बात है या पेपरों के अंदर Hera Pheri होना तो अगर मुझे शिक्षा व्यवस्था को सुधारना है तो इसके लिए हम सब लोगों को कोई बड़ा स्टेप लेना पड़ेगा और मुकदमे तो देकर चली रहे सीबीएसई पर भी चल रहे हैं पर उनमें बहुत समय लग जाएगा और अगर हमें शिक्षा व्यवस्था को सुधारना है सही मायने में तो उसके लिए हमें जल्दी को बड़ा कदम लेना होगा

dekhen shiksha vyavastha ko sudhaarne ke liye hum bahut zyada vote dalne honge aur mujhe lagta hai ki kaafi zyada hamein logo ko yahan se badalna hoga kyonki koi na koi log aise hain jo yahan se baithkar Hera Pheri katni se agar paper leak hone lag gaye ya pitaron ki idhar udhar hone lag gaye toh iska matlab toh yahi hai ki hamari shiksha ko shiksha pradan hetu shiksha ko de rahe hain shiksha vyavastha jo hoti hai vaah achi nahi hai toh sab par prashna uttar teacher se prashna uttar Junoon poore saal mehnat karwai hai baccho ko un baccho ke prashna uthata hai jinhone poore saal baithkar cheezen padi hai unhe samjha hai aur un un logo par mehnat banke jinhone paper banaye hain toh ise kaun dekh kar raha hai kaun din mein Hera Pheri karo uske liye hamare paas ek hi salution hai ki hum 3 film kare un logo ko nikale isme se jo log hera pheri kare kyonki abhi kaafi zyada zaroori hai ki agar dekhiye aap yah nahi samajh le isme sirf bharat ka keyboard ka baalu hamare yahan par kharab nahi ho rahi hai bahar bhi agar koi baccha ka bhi bolega ki main 90 percent aaye hain mere hath ke andar 100 mein se 100 aaye hain toh uske prashna khade ho sakte hain ki aapke paas nahi the pata nahi tha bharat mein toh paper leak ho jaate hain toh yah prashna mein band karne padenge isse hamare poore bacche ka jo hai bhavishya us par nirbhar karta hoon itna yaad rakhiega agar tu hota toh use sirf aapke bacche ka bhavishya nirbhar karta hai jisko paper mila hai baccho ko likh uska bhavishya nirbhar karta balki un karodo logo ka bhavishya usse fark hoga jin baccho ko paper nahi mil paya toh paper likho na mujhe lagta hai bahut hi buri baat hai ya peparon ke andar Hera Pheri hona toh agar mujhe shiksha vyavastha ko sudharna hai toh iske liye hum sab logo ko koi bada step lena padega aur mukadme toh dekar chali rahe cbse par bhi chal rahe hain par unmen bahut samay lag jaega aur agar hamein shiksha vyavastha ko sudharna hai sahi maayne mein toh uske liye hamein jaldi ko bada kadam lena hoga

देखें शिक्षा व्यवस्था को सुधारने के लिए हम बहुत ज्यादा वोट डालने होंगे और मुझे लगता है कि

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  127
WhatsApp_icon
user

Pragati

Aspiring Lawyer

1:34
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी हां इस बार काफी बार की तरह बिहार में फिर से 12 वीं की जो परीक्षार्थी उनके परिणाम में गड़बड़ी हुई है और जहां पर जो मैक्सिमम मार्क्स थे वह 3435 हुआ करते थे तो वहां पर बच्चों को 30 एक नंबर दिए गए हैं जो मैक्सिमम से भी ज्यादा है और ऐसी चीजें पॉसिबल बिल्कुल भी नहीं है तो यह सब चीज दर्शाती है कि वहां पर जो परिणाम घोषित किया गया है वहां की शिक्षा व्यवस्था की बहुत बड़ी कमी है बहुत बड़ी गड़बड़ी है और उसको सुधार बिल्कुल करना चाहिए और देखे कब तक सुधार हो पाएगा या होगा भी कि नहीं होगा यह चीज वहां के लोगों पर डिपेंड करती है वहां कि यह कॉमेंट पर डिपेंड करती है वहां की गवर्नमेंट जिस तरह कि जहां वहां पर धूल चलाएगी तो गवर्नमेंट काम करेगी उसी तरह वहां के लोग बदलाव लेकर आएंगे तो देखिए शिक्षा व्यवस्था पर कॉमेंट को स्पेशल को खुश रखना होगा कि यह चीजें काफी साल से होती चली जा रही है और अगर ऐसा आगे भी होता रहा तो वहां की शिक्षा व्यवस्था पर बहुत बड़ा एक क्वेश्चन मार्क होगा कि आप किस तरह से काम कर रहे हैं आपके जो राज्य है उसकी किस तरह की है लता दूध के पूरे देश में बिहार के बारे में इस तरह की जो खबरें छपती हैं तो उसकी शिक्षा व्यवस्था व्यवस्था का मजाक उड़ता है लोग उसके बारे में गलत बातें करते हैं तो जल्दी से जल्दी कुछ ऐसी चीज कानून बनाने होंगे कुछ ऐसी चीजें करनी होगी ताकि जो शिक्षा व्यवस्था है उसमें सुधार लेकर आज आप आए और जो नई सरकार वहां पर बिहार में बनने वाली है उसको जल्दी से जल्दी इसके बारे में सोचना होगा कि इसमें सुधार ले कर आया दवाई हो सकता है कि आगे चलकर इस तरह की चीजें और बच्चों के भविष्य पर एक बड़ा इंपैक्ट लेकर आए

ji haan is baar kaafi baar ki tarah bihar mein phir se 12 vi ki jo pariksharthi unke parinam mein gadbadi hui hai aur jaha par jo maximum marks the vaah 3435 hua karte the toh wahan par baccho ko 30 ek number diye gaye hain jo maximum se bhi zyada hai aur aisi cheezen possible bilkul bhi nahi hai toh yah sab cheez darshatee hai ki wahan par jo parinam ghoshit kiya gaya hai wahan ki shiksha vyavastha ki bahut badi kami hai bahut badi gadbadi hai aur usko sudhaar bilkul karna chahiye aur dekhe kab tak sudhaar ho payega ya hoga bhi ki nahi hoga yah cheez wahan ke logo par depend karti hai wahan ki yah comment par depend karti hai wahan ki government jis tarah ki jaha wahan par dhul chalaegi toh government kaam karegi usi tarah wahan ke log badlav lekar aayenge toh dekhiye shiksha vyavastha par comment ko special ko khush rakhna hoga ki yah cheezen kaafi saal se hoti chali ja rahi hai aur agar aisa aage bhi hota raha toh wahan ki shiksha vyavastha par bahut bada ek question mark hoga ki aap kis tarah se kaam kar rahe hain aapke jo rajya hai uski kis tarah ki hai lata doodh ke poore desh mein bihar ke bare mein is tarah ki jo khabren chapati hain toh uski shiksha vyavastha vyavastha ka mazak udta hai log uske bare mein galat batein karte hain toh jaldi se jaldi kuch aisi cheez kanoon banane honge kuch aisi cheezen karni hogi taki jo shiksha vyavastha hai usme sudhaar lekar aaj aap aaye aur jo nayi sarkar wahan par bihar mein banne wali hai usko jaldi se jaldi iske bare mein sochna hoga ki isme sudhaar le kar aaya dawai ho sakta hai ki aage chalkar is tarah ki cheezen aur baccho ke bhavishya par ek bada impact lekar aaye

जी हां इस बार काफी बार की तरह बिहार में फिर से 12 वीं की जो परीक्षार्थी उनके परिणाम में गड

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  104
WhatsApp_icon
play
user

Manish Singh

VOLUNTEER

0:47

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

शीशा ध्यान देने वाली चीजें खुद बोर्ड का बोर्ड की जिम्मेदारी बनती है कि ऐसे कुछ भी ना हो और दूसरी है वहां की शिक्षा मंत्री की होती है तो बहुत बाद में झारखंड बिहार से अलग होकर झारखंड 2000 में बना लेकिन अगर आप देखेंगे झारखंड की शिक्षा व्यवस्था कभी-कभी झारखंड रिजल्ट अच्छा नहीं आता रिजल्ट अच्छी नहीं आ पाती किस तरह का कभी न्यूज़ नहीं आता की धांधली होती है या फिर सेटिंग की कभी प्रॉब्लम आई है या फिर कोई किसी को फेल कर दिया क्या इन सब की न्यूज़ झारखंड बहुत मिनिमम में बहुत कम है तो बिहार से झारखंड से कुछ सीख लेना चाहिए क्योंकि आज बहुत बाद में बनाएं और सीखने की शिक्षा व्यवस्था को सुधारने चाहिए

shisha dhyan dene wali cheezen khud board ka board ki jimmedari banti hai ki aise kuch bhi na ho aur dusri hai wahan ki shiksha mantri ki hoti hai toh bahut baad mein jharkhand bihar se alag hokar jharkhand 2000 mein bana lekin agar aap dekhenge jharkhand ki shiksha vyavastha kabhi kabhi jharkhand result accha nahi aata result achi nahi aa pati kis tarah ka kabhi news nahi aata ki dhandhali hoti hai ya phir setting ki kabhi problem I hai ya phir koi kisi ko fail kar diya kya in sab ki news jharkhand bahut minimum mein bahut kam hai toh bihar se jharkhand se kuch seekh lena chahiye kyonki aaj bahut baad mein banaye aur sikhne ki shiksha vyavastha ko sudhaarne chahiye

शीशा ध्यान देने वाली चीजें खुद बोर्ड का बोर्ड की जिम्मेदारी बनती है कि ऐसे कुछ भी ना हो और

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  140
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
वापस से ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!