जातिवाद और वंशवाद को खत्म करने के लिए कौन सा नारा का उपयोग करना पड़ेगा शब्दों में लिख करके बताएं?...


user

En Rajendra Kumar Joshi

Life Coach, Motivator

3:13
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जातिवाद वंशवाद इंसानी सभ्यता में न कभी जातिवाद खत्म होगा ना कभी वंशवाद खत्म होगा हम नारा ढूंढते रहेंगे आप इन्हीं चीजों से उलझ कर रह जाएंगे कौन सी जाति कौन सा समूह अपना वर्चस्व स्थापित करना नहीं चाहता और कौन सा ऐसा वक्त है जो अपने ही वक्त को आगे बढ़ाना नहीं चाहता तब इस स्थिति में जातिवाद और वंशवाद समाप्त कैसे हो सकता है हमारा भारतीय संस्कृति कहती है वासुदेव कुटुंबकम पूरा विश्व मेरा कुटुम है जब पूरा विश्व हमारा कुटुंब है तो फिर जातिवाद और वंशवाद रहा ही कहा अगर हम वसुदेव वसुदेव कुटुंबकम के नारे को आगे बढ़ाएं इसे सब लोग आत्मसात करें तो ना जातिवाद रहेगा और ना वंशवाद रहेगा लेकिन हकीकत में ऐसा होता नहीं अपनी जाति के लिए आदमी आगे बढ़ता है अपनी जाति के हित को चाहता है अपनी जाति के लोगों से मिलना जुलना चाहता है अपनी जाति के लोगों को आगे बढ़ाना चाहता है क्योंकि उसे सुख अपनी जाति के लोगों के बीच ही मिलता है तो फिर ऐसी स्थिति में कैसे जातिवाद खत्म होगा हम एक बाप अपने बेटे को ही अपनी विरासत देना चाहता है ऐसी स्थिति में क्या रखें युवक सभा समाप्त हो जाएगा आपने कभी हाथ से पहले वाले युग में भी किसी राजा को अपने पुत्र के अलावा अपने भतीजे को अपने भांजे को आम जनता से किसी अन्य को जो कि उसे योग्य मिला उसे राजा बनाया कभी नहीं बनाया ईशान का दसवां भाग है वह अपने लिए जीना है वह अपने लिए सारी सुख सुविधाएं उत्पन्न करता है पहले वह अपने लिए जीता है फिर वह अपनों के लिए जीता है जो अपने और अपनों के लिए उसका सब कुछ हो जाता है कर लेता है उसके बाद वह समाज के लिए सोचता है हम कोई नाराज होने की जरूरत नहीं है हमारे पास नारा पहले से ही है वासुदेव कुटुंबकम का नारा है इस नारे को सारी दुनिया अपनाए ऐसी स्थिति अपने आप समाप्त होगी जो कि असंभव काम है मानव सभ्यता के लिए यह संभव प्रतीत नहीं होता धन्यवाद

jaatiwad vanshavad insani sabhyata mein na kabhi jaatiwad khatam hoga na kabhi vanshavad khatam hoga hum naara dhoondhate rahenge aap inhin chijon se ulajh kar reh jaenge kaun si jati kaun sa samuh apna varchaswa sthapit karna nahi chahta aur kaun sa aisa waqt hai jo apne hi waqt ko aage BA dhana nahi chahta tab is sthiti mein jaatiwad aur vanshavad samapt kaise ho sakta hai hamara bharatiya sanskriti kehti hai vasudev kutumbakam pura vishwa mera kutum hai jab pura vishwa hamara kutumb hai toh phir jaatiwad aur vanshavad raha hi kaha agar hum vasudev vasudev kutumbakam ke nare ko aage BA dhayen ise sab log aatmsat kare toh na jaatiwad rahega aur na vanshavad rahega lekin haqiqat mein aisa hota nahi apni jati ke liye aadmi aage BA dhta hai apni jati ke hit ko chahta hai apni jati ke logo se milna julana chahta hai apni jati ke logo ko aage BA dhana chahta hai kyonki use sukh apni jati ke logo ke beech hi milta hai toh phir aisi sthiti mein kaise jaatiwad khatam hoga hum ek BA ap apne bete ko hi apni virasat dena chahta hai aisi sthiti mein kya rakhen yuvak sabha samapt ho jaega aapne kabhi hath se pehle waale yug mein bhi kisi raja ko apne putra ke alava apne bhatije ko apne bhanje ko aam janta se kisi anya ko jo ki use yogya mila use raja BA naya kabhi nahi BA naya ishan ka dasvan bhag hai vaah apne liye jeena hai vaah apne liye saree sukh suvidhaen utpann karta hai pehle vaah apne liye jita hai phir vaah apnon ke liye jita hai jo apne aur apnon ke liye uska sab kuch ho jata hai kar leta hai uske BA ad vaah samaj ke liye sochta hai hum koi naaraj hone ki zarurat nahi hai hamare paas naara pehle se hi hai vasudev kutumbakam ka naara hai is nare ko saree duniya apnaye aisi sthiti apne aap samapt hogi jo ki asambhav kaam hai manav sabhyata ke liye yah sambhav pratit nahi hota dhanyavad

जातिवाद वंशवाद इंसानी सभ्यता में न कभी जातिवाद खत्म होगा ना कभी वंशवाद खत्म होगा हम नारा

Romanized Version
Likes  41  Dislikes    views  676
KooApp_icon
WhatsApp_icon
4 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!