वंदे मातरम गीत कब और किसने लिखा और इसमें किस का गुणगान किया गया है?...


play
user

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बंकिम चंद्र चट्टोपाध्याय द्वारा लिखित वंदे मातरम गीत भारत का राष्ट्रीय गीत बंकिम चंद्र चट्टोपाध्याय ने सात नवंबर 18 सो 70 ईस्वी को बंगाल के गांव तलवाड़ा नाम के गांव में इस गीत को लिखा था वंदे मातरम गीत के पहले दोपहर संस्कृत में तब बाकी पद बंगला में थे सब प्रथम वर्ष 18 सो 96 में कांग्रेस के कलकत्ता अधिवेशन में इस गीत को गाया गया था और अगर हम बात करते हैं ऐसा लोगों का मानना है कि इस 1770 तुमने तो सी कृषि में ब्रिटिश शासकों द्वारा सरकारी समारोह में गॉडशिप दुकान की गाने को अनिवार्य कर दिया तो बंकिम चटर्जी ने इसके विकल्प के तौर पर वंदे मातरम गीत के प्रथम 2 पदों की रचना साह का उम्र 18 से 70 को की थी बाद में बंकिम चटर्जी ने 18 ओवर में जब आनंदमठ नामक उपन्यास के कातक गीत को उन्होंने इसमें शामिल कर लिया और इसमें और भी पद जोड़े आनंदमठ उपन्यास अंग्रेजी शासन जमींदारों के शोषण व प्राकृतिक प्रकोप से त्रस्त जनता द्वारा बंगाल की किए गए सन्यासी विद्रोह पर विद्रोह विद्रोह पर आधारित भारत की संविधान सभा द्वारा 26 जनवरी 24 जनवरी सन 1950 को प्रथम 2 पदों को राष्ट्रगीत का दर्जा प्रदान किया गया स्वतंत्रता के पूर्व दिसंबर 19 5 में कांग्रेसका अधिकारियों की बैठक में इस गीत को राष्ट्रीय दर्जा प्रदान किया गया और बंग भंग आंदोलन के दौरान वंदे मातरम राष्ट्रीय नारा बन गया था

bankim chandra chattopadhyay dwara likhit vande mataram geet bharat ka rashtriya geet bankim chandra chattopadhyay ne saat november 18 so 70 isvi ko bengal ke gaon talvada naam ke gaon mein is geet ko likha tha vande mataram geet ke pehle dopahar sanskrit mein tab baki pad bangla mein the sab pratham varsh 18 so 96 mein congress ke calcutta adhiveshan mein is geet ko gaaya gaya tha aur agar hum baat karte hai aisa logo ka manana hai ki is 1770 tumne toh si krishi mein british shaasakon dwara sarkari samaroh mein gadship dukaan ki gaane ko anivarya kar diya toh bankim chatterjee ne iske vikalp ke taur par vande mataram geet ke pratham 2 padon ki rachna sah ka umr 18 se 70 ko ki thi baad mein bankim chatterjee ne 18 over mein jab anandamath namak upanyas ke katak geet ko unhone isme shaamil kar liya aur isme aur bhi pad jode anandamath upanyas angrezi shasan zamindaro ke shoshan va prakirtik prakop se trast janta dwara bengal ki kiye gaye sanyaasi vidroh par vidroh vidroh par aadharit bharat ki samvidhan sabha dwara 26 january 24 january san 1950 ko pratham 2 padon ko rashtrageet ka darja pradan kiya gaya swatantrata ke purv december 19 5 mein kangresaka adhikaariyo ki baithak mein is geet ko rashtriya darja pradan kiya gaya aur bang bhang andolan ke dauran vande mataram rashtriya naara ban gaya tha

बंकिम चंद्र चट्टोपाध्याय द्वारा लिखित वंदे मातरम गीत भारत का राष्ट्रीय गीत बंकिम चंद्र चट्

Romanized Version
Likes  15  Dislikes    views  674
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!