महात्मा गांधी अफ्रीका में जाकर क्या किया था?...


play
user

RAZIBUL ISLAM KHAN

Teacher- 10 Years experience in colleges as a assistant professor

8:11

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

महात्मा गांधी अफ्रीका में जाकर क्या-क्या थान देखिए महात्मा गांधी आफरी कल जाकर क्या किया था यह महात्मा गांधी ने राजकोट में अलग दफ्तर दफ्तर खोला यह उन्हें आरटीआई लिखने का काम मिलने लगा उनकी करीब ₹300 महीने की आमदनी होने लगी गांधीजी ने अपनी आत्मकथा में लिखा है कि मुंबई में कमीशन नहीं देने हैं कि जो मेरी आदत थी हो और आज कोर्ट में आकर नहीं रहे उन्हें एंड समझाया गया कि हमें सिर्फ हलाल की देने की बात थी लेकिन यहां पैसे वकील को देने हैं लेकिन इस दौरान 1987 में गांधीजी को दक्षिण अफ्रीका से हां सेठ अब्दुल्ला अब्दुल्ला ने एक मुकदमा लड़ने के लिए बुला लिया यहीं से शुरू हुई उनकी दक्षिण अफ्रीका जात्रा इस लेख के जरिए आगे जो है जने गांधीजी का दक्षिण अफ्रीका से जुड़ा अनुभव और कुछ बात लेकिन अब्दुल्ला से बुलावे पर ध्यान दीजिए पानी के जहाज पर सवार होकर दक्षिण आपसे क्या के अंदर भगवान से यहां से 7 जून और 18 सितंबर को उन्होंने आप पिपरिया जाने के लिए ट्रेन पत्री गांधीजी ने पास हां फर्स्ट क्लास का टिकट था हां लेकिन जहां पर ट्रेन पीटर मारी मारी जबर जबर को कौन से वाली थी तो उन्हें थर्ड क्लास वाले डिब्बे में जाने के लिए कहा गया लेकिन गांधीजी ने इसके इंकार कर दिया तो उन्हें जबरदस्ती नोबिता मारी चप्पल मार्केट जबलपुर स्टेशन पर ट्रेन से धक्का देकर उतार दिया और गांधी जी के साथ हुई इस घटना ने जज जगहों को जन्म दिया 70 ग्रहों या ना नैना मिलाइके खिलाफ शांतिपूर्वक लड़ाई लड़ा करणी करणी धाम में रजिस्टर गांधी जी रिटर्न रिटर्न मैरिज रजिस्ट्रेशन के हैं बैटिंग ग्रुप में कौन से यह सारी बारात वह यही सोचते रहे कि क्या उन्हें झुकना चाहिए भारत वापस लौट जाना भारत वापस लौट जाना चाहिए यह फिर दक्षिण अफ्रीका में भारतीयों पर हो रहे अन्याय के खिलाफ संघर्ष करना चाहिए ट्रेन में उनके साथ हुए बर्ताव ने गांधी जी को महात्मा बनने के रास्ते पर चला दिया 7 जून 18 सितंबर को उस रात दक्षिण अफ्रीका के पीटर मरीज गो गोलमाल गो गो गो गाने हर गाने में गांधी जी के सत्याग्रह के ऊपर चुकी थी नंदी जी को उस समय नहीं पता था उनका यही हथियार कभी भारत की आजादी का रास्ता भी खोलेगा दक्षिण अफ्रीका में गांधी जी कोई की कोई बाहर भेदभाव का सामना करना पड़ा एक बार जैसे घोड़ा गाड़ी में अंग्रेज यात्री के लिए सीट नहीं होने पर उन्हें आप पायदान पर जाता करने परी और चालाकी मार भी झेलनी पड़ी गांधीजी ने अपनी आत्मकथा में बताया कि दक्षिण अफ्रीका के डरबन के लिए जो जहाज पर चला उसने एक शाखा मजमा मजमा उधर को छोड़कर सभी अंग्रेज थे यह आप मुझसे बोलती की हर खुशी के कर दी तो मैं समझ ही नहीं पाता मुझे घंटे से खाना नहीं आता था और किस पदार्थों के मांगते हैं यह पूछने की है हिम्मत नहीं थी इसलिए मैं खाने की मेज पर कभी गया नहीं नहीं अपने साथ जो मिठाई लाया था उसे कहा काम चलाया मजमुदार को कोई अंकुश नहीं था यह सब से सब के साथ घूमने गए थे यह मसूद हर मुझे समझाते कि सबके साथ गोलो मिला आजादी से बातचीत करो यह मुझसे यह भी कहते हैं कि वकील की खूब खूब चलती चाहिए चलनी चाहिए यह अपने अनुभव सुनाते और का कहते कि अंग्रेजी हमारी भाषा नहीं है उसमें गलती है तो होंगी ही फिर भी खुलकर बोलते रहना चाहिए यह मुझ पर दया करके एक अंग्रेजी में मुझसे बातचीत शुरू हो कि मैं क्या खाता हो कहां जा रहा हो या किसी से बातचीत कर करें नहीं करता अभी चावल उन्होंने मेरे से पूछे उन्हें मुझे खाने की मेज पर जाने की सलाह दी मांस ना खाने के मेरे आज हमारे यहां से और बोले ही है तो ठीक है पर है जिसके की खाड़ी में कौन से फल तुम अपना विचार बदल लोगे यह जो है देखिए यह महात्मा गांधी साउथ अफ्रीका में जाकर बधाइयां उठा देना बाद में लेकर 18 17 नंबर से लेकर 1914 तक महात्मा गांधी दक्षिण अफ्रीका में नागरिक अधिकारों के लिए आंदोलन करते रहे 1915 में गांधी जी भारत लौटे और फिर आजादी का जो आंदोलन उन्होंने सलाया उसे ने हमें अपनी अंग्रेजी से आजा कराया तो यही था गांधी जी महात्मा गांधी अफ्रीका जाकर जो मैंने यह बताया सब कुछ है

mahatma gandhi africa mein jaakar kya kya than dekhiye mahatma gandhi afari kal jaakar kya kiya tha yah mahatma gandhi ne rajkot mein alag daftaar daftaar khola yah unhe rti likhne ka kaam milne laga unki kareeb Rs mahine ki aamdani hone lagi gandhiji ne apni atmakatha mein likha hai ki mumbai mein commision nahi dene hai ki jo meri aadat thi ho aur aaj court mein aakar nahi rahe unhe and samjhaya gaya ki hamein sirf halal ki dene ki BA at thi lekin yahan paise vakil ko dene hai lekin is dauran 1987 mein gandhiji ko dakshin africa se haan seth abdullah abdullah ne ek mukadma ladane ke liye bula liya yahin se shuru hui unki dakshin africa jatra is lekh ke jariye aage jo hai jane gandhiji ka dakshin africa se jinko anubhav aur kuch BA at lekin abdullah se bulaave par dhyan dijiye paani ke jahaj par savar hokar dakshin aapse kya ke andar bhagwan se yahan se 7 june aur 18 september ko unhone aap piparia jaane ke liye train patarri gandhiji ne paas haan first kashi ka ticket tha haan lekin jaha par train peter mari mari jabar jabar ko kaunsi wali thi toh unhe third kashi waale dibbe mein jaane ke liye kaha gaya lekin gandhiji ne iske inkar kar diya toh unhe jabardasti nobita mari chappal market jabalpur station par train se dhakka dekar utar diya aur gandhi ji ke saath hui is ghatna ne judge jagaho ko janam diya 70 grahon ya na naina milaike khilaf shantipurvak ladai lada karni karni dhaam mein register gandhi ji return return marriage registration ke hai BA tting group mein kaunsi yah saree BA raat vaah yahi sochte rahe ki kya unhe jhukna chahiye bharat wapas lot jana bharat wapas lot jana chahiye yah phir dakshin africa mein bharatiyon par ho rahe anyay ke khilaf sangharsh karna chahiye train mein unke saath hue BA rtaav ne gandhi ji ko mahatma BA nne ke raste par chala diya 7 june 18 september ko us raat dakshin africa ke peter marij go golmaal go go go gaane har gaane mein gandhi ji ke satyagrah ke upar chuki thi nandi ji ko us samay nahi pata tha unka yahi hathiyar kabhi bharat ki azadi ka rasta bhi kholega dakshin africa mein gandhi ji koi ki koi BA har bhedbhav ka samana karna pada ek BA ar jaise ghoda gaadi mein angrej yatri ke liye seat nahi hone par unhe aap payadan par jata karne pari aur chalaki maar bhi jhelani padi gandhiji ne apni atmakatha mein BA taya ki dakshin africa ke darban ke liye jo jahaj par chala usne ek shakha majama majama udhar ko chhodkar sabhi angrej the yah aap mujhse bolti ki har khushi ke kar di toh main samajh hi nahi pata mujhe ghante se khana nahi aata tha aur kis padarthon ke mangate hai yah poochne ki hai himmat nahi thi isliye main khane ki maze par kabhi gaya nahi nahi apne saath jo mithai laya tha use kaha kaam chalaya majamudar ko koi ankush nahi tha yah sab se sab ke saath ghoomne gaye the yah masood har mujhe smajhate ki sabke saath golo mila azadi se BA tchit karo yah mujhse yah bhi kehte hai ki vakil ki khoob khoob chalti chahiye chalni chahiye yah apne anubhav sunaate aur ka kehte ki angrezi hamari bhasha nahi hai usme galti hai toh hongi hi phir bhi khulkar bolte rehna chahiye yah mujhse par daya karke ek angrezi mein mujhse BA tchit shuru ho ki main kya khaata ho kahan ja raha ho ya kisi se BA tchit kar kare nahi karta abhi chawal unhone mere se pooche unhe mujhe khane ki maze par jaane ki salah di maas na khane ke mere aaj hamare yahan se aur bole hi hai toh theek hai par hai jiske ki khadi mein kaunsi fal tum apna vichar BA dal loge yah jo hai dekhiye yah mahatma gandhi south africa mein jaakar BA dhaiyan utha dena BA ad mein lekar 18 17 number se lekar 1914 tak mahatma gandhi dakshin africa mein nagarik adhikaaro ke liye andolan karte rahe 1915 mein gandhi ji bharat laute aur phir azadi ka jo andolan unhone salaya use ne hamein apni angrezi se aajad raya toh yahi tha gandhi ji mahatma gandhi africa jaakar jo maine yah BA taya sab kuch hai

महात्मा गांधी अफ्रीका में जाकर क्या-क्या थान देखिए महात्मा गांधी आफरी कल जाकर क्या किया था

Romanized Version
Likes  66  Dislikes    views  1049
WhatsApp_icon
2 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

8:00 बजे महात्मा गांधी अफ्रीका में जाकर क्या किया था महात्मा गांधी ने अमेरिका में जाकर भारतीयों के प्रति जो भेदभाव था अमरीका में वह दूर किया था वहां उन्होंने काफी दिन रुके थे धन्यवाद

8 00 BA je mahatma gandhi africa mein jaakar kya kiya tha mahatma gandhi ne america mein jaakar bharatiyon ke prati jo bhedbhav tha america mein vaah dur kiya tha wahan unhone kaafi din ruke the dhanyavad

8:00 बजे महात्मा गांधी अफ्रीका में जाकर क्या किया था महात्मा गांधी ने अमेरिका में जाकर भार

Romanized Version
Likes  45  Dislikes    views  1477
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!