अपने देश में नेताओं के लिए शिक्षा अनिवार्य क्यों नहीं है?...


user

Samir Choudhary

Engineer by profession, IAS Aspirant by passion.

3:04
Play

Likes  20  Dislikes    views  444
WhatsApp_icon
5 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

Ashok Sharma

Worker for Akhil Bharat Hindu Mahasabha

1:24

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बिल्कुल अनिवार्य होनी चाहिए और उसके साथ आता भी समझे कि लिखिए कि कोई चैनल है कि एमपी है इनकी इनका जो है अभी देखो कितना पाउंड होगा रिंकू होते हैं उसके बाद इनके हारने के बाद भी इनकी टेंशन रहती है यह सब क्यों बंद होने की संसद के अंदर देख लीजिए विधानसभा में देख लेती है बहुत ही बन गया था कि सारी जिंदगी के लिए कुछ ठीक है इन पर गौर करना चाहिए लोगों को यह सब आमिर कपूर

bilkul anivarya honi chahiye aur uske saath aata bhi samjhe ki likhiye ki koi channel hai ki mp hai inki inka jo hai abhi dekho kitna pound hoga rinku hote hain uske baad inke haarne ke baad bhi inki tension rehti hai yah sab kyon band hone ki sansad ke andar dekh lijiye vidhan sabha mein dekh leti hai bahut hi ban gaya tha ki saree zindagi ke liye kuch theek hai in par gaur karna chahiye logon ko yah sab aamir kapur

बिल्कुल अनिवार्य होनी चाहिए और उसके साथ आता भी समझे कि लिखिए कि कोई चैनल है कि एमपी है इन

Romanized Version
Likes  21  Dislikes    views  200
WhatsApp_icon
user

Mohd Naseem

Politician

0:15
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बिल्कुल यादव गुड अच्छा बेटा बन जाता है उसको उसका काम करता है काम करता है काम चलना चाहिए को सजाने की

bilkul yadav good accha beta ban jata hai usko uska kaam karta hai kaam karta hai kaam chalna chahiye ko sajane ki

बिल्कुल यादव गुड अच्छा बेटा बन जाता है उसको उसका काम करता है काम करता है काम चलना चाहिए को

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  224
WhatsApp_icon
user

Ranjan Khatumaria

Politician, Social Worker

0:53
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बिल्कुल हम कहीं ना कहीं ले ले पैसा कमा कर दिया कि पार्टी के नेता इलेक्शन कमीशन की सीट पर कोई ना तो संज्ञान गया

bilkul hum kahin na kahin le le paisa kama kar diya ki party ke neta election commision ki seat par koi na toh sangyaan gaya

बिल्कुल हम कहीं ना कहीं ले ले पैसा कमा कर दिया कि पार्टी के नेता इलेक्शन कमीशन की सीट पर क

Romanized Version
Likes  13  Dislikes    views  177
WhatsApp_icon
user

Manish Singh

VOLUNTEER

1:12
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लिखे अपने जैसे पॉलिटिक्स के लिए एजुकेशन कंपलसरी नहीं है इसलिए तो हमारे देश का यह हाल हो रहा है आप किसी भी फॉरेन कंट्री में देखें तो वहां पर जो नेता होते हैं बिल्कुल पढ़े लिखे होते हैं कम से कम उनके पास ग्रेजुएशन की डिग्री होती लेकिन हमारे पास ऐसा कुछ नहीं है हमारे देश में सब कोई रूल नहीं है कि एजुकेशन कंपलसरी हमारे देश में उन लोगों को ज्यादा टिकट मिलती है जोकि को चुन कर चुके हो जिनके ऊपर केस लगा हूं उन लोगों को सादर टिकट मिलती है वह चुनाव जीत के भी यहां पर ज्यादा आते हैं तो पढ़ाई लिखाई तो सवाल दूर की बात है पढ़ाई लिखाई में तो लेकिन मैं ऐसा भी नहीं कह रहा हूं कि जो हर लोग होते हैं जो सभी पढ़े-लिखे नहीं होते हैं वह बेवकूफ होते हैं कुछ लोग होते हैं कि नहीं तो जिंदगी देखती रह सकता है वह अपनी जिंदगी के एक्सपीरियंस यूज़ करके काम करते जैसे आपने अपने घर में भी देखा होगा कि आपके घर में कुछ बड़े लोग हैं आखिर को पढ़े-लिखे नहीं है बस समझ बहुत होती है यह हमारे राजनेता में ऐसा बहुत जो नंबर है जिंदगी के समझ यूज़ करके कुछ काम करने वाला गाना सुना है बहुत ही कमात उंगलियों पर अकाउंट कर सकते हैं इतने नंबर है तो बिल्कुल ऐसा कुछ कंपलसरी होना चाहिए लेकिन कंपलसरी करेगा कौन रूल जो बनाते हो यहां के नेता बनाते हैं और खुद जो अनपढ़ है वह अपने लिए रूल थोड़ी ऐसा बनाएगा कि पढ़े लिखे लोग ही आएंगे तो उसकी पत्ते कट जाएंगे चुनाव

likhe apne jaise politics ke liye education compulsory nahi hai isliye toh hamare desh ka yah haal ho raha hai aap kisi bhi foreign country mein dekhen toh wahan par jo neta hote hain bilkul padhe likhe hote hain kam se kam unke paas graduation ki degree hoti lekin hamare paas aisa kuch nahi hai hamare desh mein sab koi rule nahi hai ki education compulsory hamare desh mein un logon ko zyada ticket milti hai joki ko chun kar chuke ho jinke upar case laga hoon un logon ko sadar ticket milti hai vaah chunav jeet ke bhi yahan par zyada aate hain toh padhai likhai toh sawaal dur ki baat hai padhai likhai mein toh lekin main aisa bhi nahi keh raha hoon ki jo har log hote hain jo sabhi padhe likhe nahi hote hain vaah bewakoof hote hain kuch log hote hain ki nahi toh zindagi dekhti reh sakta hai vaah apni zindagi ke experience use karke kaam karte jaise aapne apne ghar mein bhi dekha hoga ki aapke ghar mein kuch bade log hain aakhir ko padhe likhe nahi hai bus samajh bahut hoti hai yah hamare raajneta mein aisa bahut jo number hai zindagi ke samajh use karke kuch kaam karne vala gaana suna hai bahut hi kamat ungaliyon par account kar sakte hain itne number hai toh bilkul aisa kuch compulsory hona chahiye lekin compulsory karega kaun rule jo banate ho yahan ke neta banate hain aur khud jo anpadh hai vaah apne liye rule thodi aisa bnayega ki padhe likhe log hi aayenge toh uski patte cut jaenge chunav

लिखे अपने जैसे पॉलिटिक्स के लिए एजुकेशन कंपलसरी नहीं है इसलिए तो हमारे देश का यह हाल हो रह

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  119
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!