ओजोन छिद्र के कारण त्वचा का कैंसर कैसे होता है समझाए?...


user

Naresh Kumar

writer, GK Expert, Career Counselor

2:09
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है कि ओजोन छिद्र के कारण त्वचा कैंसर कैसे होता है तो सबसे पहले मैं आपको बताना चाहूंगा ओजोन परत ज्योति गैस के बारे में ओजोन परत वायुमंडल की एक प्रमुख भारत है और यह हल्के नीले रंग की गैस होती है यह केस 10 से 50 किलोमीटर के बीच पाई जाती है और यह सूर्य से निकलने वाली हानिकारक पराबैंगनी किरणों से हमारी रक्षा करती है अथवा यूं कहे कि उन्हें उपेक्षित कर लेती है और जो पृथ्वी के लिए फायदेमंद के पीछे उनको पृथ्वी के धरातल देती है ना होने के कारण सीधे संपर्क में हमारा श्री आता है तो इससे होगा क्या कि इससे तो पराबैंगनी किरणें हैं वह हमारे शरीर के बायोमोलीक्यूल को बदलेगी और इसके कारण क्या होगा कि इसके कारण हमार शरीर में कई बीमारियां उत्पन्न होगी जैसा कि हम देखते हैं कि जो शरीर से लड़ने की क्षमता है वह भी इससे कम हो जाएगी और अगर ये हमारे बॉडी पर चीजें पड़ती है तो इससे त्वचा कैंसर हो सकता है त्वचा कैंसर होने के साथ-साथ यह बहुत सारी घातक बीमारियों को भी जन्म देगी इससे और हो गया होगा क्या कि इस सूक्ष्म जीवाणु है वह भी नष्ट हो जाएगी और फसलें हैं पशुओं पर भी इसका बहुत बुरा प्रभाव पड़ेगा तो अगर वह धूम परत में छेद होता है तो यह पूरी पृथ्वी के लिए बहुत बुरी बात है और यह पृथ्वी के लिए काफी हानिकारक है अतः में प्रदूषण के स्तर को काफी हद तक कम करना होगा ताकि यह चित्र बना हुआ है वह काफी हद तक भर जाए और हमारी पृथ्वी को या जीवन उस को भारी नुकसान उठाने से बचना पड़े ओके

aapka prashna hai ki ozone chhidra ke karan twacha cancer kaise hota hai toh sabse pehle main aapko batana chahunga ozone parat jyoti gas ke bare me ozone parat vayumandal ki ek pramukh bharat hai aur yah halke neele rang ki gas hoti hai yah case 10 se 50 kilometre ke beech payi jaati hai aur yah surya se nikalne wali haanikarak parabangani kirano se hamari raksha karti hai athva yun kahe ki unhe upekshit kar leti hai aur jo prithvi ke liye faydemand ke peeche unko prithvi ke dharatal deti hai na hone ke karan sidhe sampark me hamara shri aata hai toh isse hoga kya ki isse toh parabangani kirne hain vaah hamare sharir ke bayomolikyul ko badalegi aur iske karan kya hoga ki iske karan hamar sharir me kai bimariyan utpann hogi jaisa ki hum dekhte hain ki jo sharir se ladane ki kshamta hai vaah bhi isse kam ho jayegi aur agar ye hamare body par cheezen padti hai toh isse twacha cancer ho sakta hai twacha cancer hone ke saath saath yah bahut saari ghatak bimariyon ko bhi janam degi isse aur ho gaya hoga kya ki is sukshm jivanu hai vaah bhi nasht ho jayegi aur faslen hain pashuo par bhi iska bahut bura prabhav padega toh agar vaah dhoom parat me ched hota hai toh yah puri prithvi ke liye bahut buri baat hai aur yah prithvi ke liye kaafi haanikarak hai atah me pradushan ke sthar ko kaafi had tak kam karna hoga taki yah chitra bana hua hai vaah kaafi had tak bhar jaaye aur hamari prithvi ko ya jeevan us ko bhari nuksan uthane se bachna pade ok

आपका प्रश्न है कि ओजोन छिद्र के कारण त्वचा कैंसर कैसे होता है तो सबसे पहले मैं आपको बताना

Romanized Version
Likes  12  Dislikes    views  122
KooApp_icon
WhatsApp_icon
19 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!