चपरासी पद की नियुक्ति के लिए मेडल पास होना अनिवार्य है लेकिन निर्वाचित विधायक या सांसद के लिए कोई योगिता योगिता नहीं ऐसा क्यों जनता को बेवकूफ क्यों बनाया जा रहा है?...


user

Krishanlal Kanwat

Retire Officer

2:07
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है चपरासी पद की नियुक्ति के लिए मेडल मेडल पास होना अनिवार्य है लेकिन विधायक या सांसद के लिए कोई योग्यता निर्धारित नहीं है वैसे यह बात सत्य है कि सांसद और विधायक के लिए योग्यता निर्धारित होनी चाहिए क्योंकि यह ज्यादा जिम्मेदारी के जनप्रतिनिधि होती है इन पर जवाबदेही ज्यादा होती है और शिक्षित व्यक्ति जनप्रतिनिधि के रूप में चुना जाएगा तो मुस्कान सोच का दायरा भी उसी हिसाब से होगा जनकल्याण के हित में उसी दायरे में सोच कर ज्यादा अच्छी तरह से कार्य कर सकेगा क्योंकि विधायक और सांसद ही विधायक राजस्थान कार चलाते हैं ताजा सांसद केंद्रीय सरकार का संचालन करते हैं जब अच्छी सोच पढ़े-लिखे लोग सत्ता में पहुंचेंगे राजनीति में पहुंचेंगे तो देश का कल्याण होगा देश की उन्नति होगी न सोचकर व्यक्ति पहुंचेंगे तो उनकी सोच भी हमने तो होगी और देश का विकास होगा अच्छे कानून बनाएंगे जनकल्याण के कानून बनाएंगे ऐसे हमारे देश की उन्नति होगी धन्यवाद

aapka prashna hai chaprasi pad ki niyukti ke liye medal medal paas hona anivarya hai lekin vidhayak ya saansad ke liye koi yogyata nirdharit nahi hai waise yah baat satya hai ki saansad aur vidhayak ke liye yogyata nirdharit honi chahiye kyonki yah zyada jimmedari ke janapratinidhi hoti hai in par javabdehi zyada hoti hai aur shikshit vyakti janapratinidhi ke roop mein chuna jaega toh muskaan soch ka dayara bhi usi hisab se hoga jankalyan ke hit mein usi daayre mein soch kar zyada achi tarah se karya kar sakega kyonki vidhayak aur saansad hi vidhayak rajasthan car chalte hain taaza saansad kendriya sarkar ka sanchalan karte hain jab achi soch padhe likhe log satta mein pahunchenge raajneeti mein pahunchenge toh desh ka kalyan hoga desh ki unnati hogi na sochkar vyakti pahunchenge toh unki soch bhi humne toh hogi aur desh ka vikas hoga acche kanoon banayenge jankalyan ke kanoon banayenge aise hamare desh ki unnati hogi dhanyavad

आपका प्रश्न है चपरासी पद की नियुक्ति के लिए मेडल मेडल पास होना अनिवार्य है लेकिन विधायक या

Romanized Version
Likes  30  Dislikes    views  1193
WhatsApp_icon
2 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

Dhiraj Kumar

Teacher & Advisor

0:47

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दोस्तों आपका जो पूछा गया प्रश्न है कि चपरासी पद की नियुक्ति के लिए मेडल पास होना अनिवार्य है लेकिन निर्वाचित विधायक या सांसद के लिए कोई योग्यता योग्यता नहीं ऐसा क्यों जनता को बेवकूफ क्यों बनाया जाता है तो दोस्तों इसी के कारण तो आज हमारा देश जो है पिछड़ा हुआ देश है अगर इसमें योग्यता वाले लोग अगर नेता बनते तो हमारा देश इतना पिछड़ा नहीं होता वह लोग जो नेता बनते हैं जिन्हें कुछ नहीं पता होता है देश दुनिया के बारे में उन्हें सिर्फ इतना पता है कि लोगों को बेवकूफ कैसे बनाना है और सबसे बेवकूफ जो थे वह जनता होती जो बेवकूफ लोगों को वोट देती आज जो आप दिल्ली में जो स्थिति देख रहे हैं वह सिर्फ फालतू के नेताओं की वजह से अगर पढ़े लिखे लोग अगर होते तो इस तरह का हाल नहीं होता

doston aapka jo poocha gaya prashna hai ki chaprasi pad ki niyukti ke liye medal paas hona anivarya hai lekin nirvachit vidhayak ya saansad ke liye koi yogyata yogyata nahi aisa kyon janta ko bewakoof kyon banaya jata hai toh doston isi ke karan toh aaj hamara desh jo hai pichda hua desh hai agar isme yogyata waale log agar neta bante toh hamara desh itna pichda nahi hota vaah log jo neta bante hain jinhen kuch nahi pata hota hai desh duniya ke bare mein unhe sirf itna pata hai ki logo ko bewakoof kaise banana hai aur sabse bewakoof jo the vaah janta hoti jo bewakoof logo ko vote deti aaj jo aap delhi mein jo sthiti dekh rahe hain vaah sirf faltu ke netaon ki wajah se agar padhe likhe log agar hote toh is tarah ka haal nahi hota

दोस्तों आपका जो पूछा गया प्रश्न है कि चपरासी पद की नियुक्ति के लिए मेडल पास होना अनिवार्य

Romanized Version
Likes  45  Dislikes    views  888
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!