शिक्षा मनोविज्ञान ज़रूरी क्यों है?...


user

Hemant rajbale

शिक्षा सेवा, लेखक, विचारक

2:09
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

शिक्षा मनोविज्ञान जरूरी है शिक्षा मनोविज्ञान इसीलिए जरूरी है क्योंकि हमें शिक्षा देनी है हमें कुछ बच्चों को देना है इसलिए शिक्षा मनोरिया जरूरी है यदि हम बालक या शिक्षार्थी को अच्छी तरह से समझेंगे नहीं उसके मन को नहीं समझेंगे उसके व्यवहार को नहीं समझेंगे तो हम जो हैं उसको कुछ नहीं दे पाएंगे इसलिए शिक्षा मनोविज्ञान हमें यह समझाता है कि हमें क्या करना है और कैसे करना है तो बालक के मन को समझना उसकी स्थितियों को समझना उसके व्यवहार को समझना इसके लिए शिक्षा मनोविज्ञान बहुत जरूरी है हम शिक्षा मनोविज्ञान की अवधारणाओं परिभाषा और उसका जो क्षेत्र है उस चित्र को यदि पूर्ण रूप से समझ ले तो हम बालक को समझ सकते हैं और उसके व्यवहार को समझकर उसके साथ में हम से विवाह कर सकते हैं उससे यह बातचीत अधिगम कर सकते हैं इससे बालक से हैं वह निश्चित रूप से सीखता है और उसके जीवन को एक दिशा मिल जाती है अगर हम शिक्षा मनोविज्ञान का अध्ययन न करें तो हम बालक के मन को नहीं समझ पाएंगे और फिर हम उसके साथ में न्याय नहीं कर सके इसलिए शिक्षा मनोविज्ञान जरूरी है ताकि बालक से हैं बालक के हम मन को समझ सके उसके व्यवहार को समझ सके और उसे आगे ले जाना करते तुम कर सके धन्यवाद

shiksha manovigyan zaroori hai shiksha manovigyan isliye zaroori hai kyonki hamein shiksha deni hai hamein kuch baccho ko dena hai isliye shiksha manoriya zaroori hai yadi hum balak ya shiksharthi ko achi tarah se samjhenge nahi uske man ko nahi samjhenge uske vyavhar ko nahi samjhenge toh hum jo hain usko kuch nahi de payenge isliye shiksha manovigyan hamein yah samajhaata hai ki hamein kya karna hai aur kaise karna hai toh balak ke man ko samajhna uski sthitiyo ko samajhna uske vyavhar ko samajhna iske liye shiksha manovigyan bahut zaroori hai hum shiksha manovigyan ki avadharanaon paribhasha aur uska jo kshetra hai us chitra ko yadi purn roop se samajh le toh hum balak ko samajh sakte hain aur uske vyavhar ko samajhkar uske saath me hum se vivah kar sakte hain usse yah batchit adhigam kar sakte hain isse balak se hain vaah nishchit roop se sikhata hai aur uske jeevan ko ek disha mil jaati hai agar hum shiksha manovigyan ka adhyayan na kare toh hum balak ke man ko nahi samajh payenge aur phir hum uske saath me nyay nahi kar sake isliye shiksha manovigyan zaroori hai taki balak se hain balak ke hum man ko samajh sake uske vyavhar ko samajh sake aur use aage le jana karte tum kar sake dhanyavad

शिक्षा मनोविज्ञान जरूरी है शिक्षा मनोविज्ञान इसीलिए जरूरी है क्योंकि हमें शिक्षा देनी है ह

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  119
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!