ऐसी कौन सी परिस्थिति थी जब आप चाहते हुए भी कुछ ना कर पाए हो?...


user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हर इंसान की परिस्थिति हर इंसान की जिंदगी में ऐसा पल जरूर आता है कि जब वह सोचता है कि उसमें चाहते हुए भी कुछ नहीं कर पाए तो कहीं बार ऐसा होता है कि हमारे सामने ऐसी परिस्थितियों जो पीके हमें उसके लिए कंसीडर करना पड़ता है कुछ कॉन्प्रोमाइज करना पड़ता है और वह हमारे अपनों के लिए ही होता तो कोई बात नहीं हमारी लाइफ में भी आया था नहीं कर पाए तो जब जागो तब सवेरा होता है अपने आप को कुछ करो आगे बढ़ाओ और जो हमारे अंदर होना है उसको बाहर निकालने की कोई उम्र नहीं होती है अतः ऐसा नहीं सोचना है कि जब हम नहीं कर पाए तो हम कभी नहीं कर पाएंगे इसलिए जब आप अब अगर हमारे पास आओ सर है तो हम अपने हुनर को बाहर दिखाएं और यही सबसे बेस्ट है

har insaan ki paristhiti har insaan ki zindagi mein aisa pal zaroor aata hai ki jab vaah sochta hai ki usmein chahte hue bhi kuch nahi kar paye toh kahin baar aisa hota hai ki hamare saamne aisi paristhitiyon jo pk hamein uske liye Consider karna padta hai kuch kanpromaij karna padta hai aur vaah hamare apnon ke liye hi hota toh koi baat nahi hamari life mein bhi aaya tha nahi kar paye toh jab jaago tab savera hota hai apne aap ko kuch karo aage badhao aur jo hamare andar hona hai usko bahar nikalne ki koi umr nahi hoti hai atah aisa nahi sochna hai ki jab hum nahi kar paye toh hum kabhi nahi kar payenge isliye jab aap ab agar hamare paas aao sir hai toh hum apne hunar ko bahar dikhaen aur yahi sabse best hai

हर इंसान की परिस्थिति हर इंसान की जिंदगी में ऐसा पल जरूर आता है कि जब वह सोचता है कि उसमें

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  98
WhatsApp_icon
2 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

Ashwani Thakur

👤Teacher & Advisor🙏

0:24

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पाद की नमस्कार गुड इवनिंग अपनों के प्रश्न किया है के द्वारा क्या-क्या प्रश्न है कि परिस्थितियां जी ना थी जब आप चाहे कुछ भी कुछ ना कर पाएंगे कि ऐसी परिस्थितियां होती है मनुष्य के साथ ठीक है लेकिन उस परिस्थितियों में भी आप अगर तोड़ निकालते हैं तभी आपका अपना जीवन जो है वह सफलतापूर्वक एक अच्छे नागरिक की तरह की बातें

pad ki namaskar good evening apnon ke prashna kiya hai ke dwara kya kya prashna hai ki paristhiyaann ji na thi jab aap chahen kuch bhi kuch na kar payenge ki aisi paristhiyaann hoti hai manushya ke saath theek hai lekin us paristhitiyon mein bhi aap agar tod nikalate hain tabhi aapka apna jeevan jo hai vaah safaltaapurvak ek acche nagarik ki tarah ki batein

पाद की नमस्कार गुड इवनिंग अपनों के प्रश्न किया है के द्वारा क्या-क्या प्रश्न है कि परिस्थि

Romanized Version
Likes  47  Dislikes    views  1270
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!