टुडे कोई भी छात्र आर्कोलॉजी में अपना करियर कैसे बनाएं?...


play
user
1:51

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आर्कोलॉजी में अपना कैरियर कैसे बनाएं यह जो है छात्रों के लिए आप इस बात को जाने की आर्कोलॉजी पुरातत्व का विभाग जो है यह इतिहास लेखन में सहायक होता है और इतिहास लेखन की परंपरा जो है कार्बन डेटिंग परंपरा को अलग थी अब इसमें शिलालेखों का अध्ययन सिक्कों का अध्ययन साहित्य का अध्ययन और खुदाई से जो प्राप्त होने वाली चीज है उससे खुदाई में बहुत सारी चीजें प्राप्त होती है यहां आप किसी भी साइट का एक्सप्रेशन करती हूं नालंदा का साइट हो या तक्षशिला का टायर साइट हो यहां तो प्राप्त होगी समुंदरों में भी खुदाई होती है बहुत सारी सरजू है सागर में विलीन हो गए वहां से ही प्राप्त होता है तो खुदाई जो होती है वह उसका स्वरूप आज बदलते जा रहा है इसमें पाली पाली पाली पाली में कैरियर कैसे बनाएं इसमें कैरियर बनाने के लिए आप सबसे पहले तो कोई विशेष या नष्ट कर अनुज करने के बाद आर्कोलॉजी से संबंधित एनसेंटिन्यू विभाग में आप जीते भारतीय इतिहास की जो प्राचीन भारतीय इतिहास जो पढ़ाया जाता उस विभाग से जुड़े बहुत सारी विद्यालयों में आर्कोलॉजी का डिपार्टमेंट है उसमें आपने एडमिशन और अपना कैरियर जो है बनाने इतिहास को आप देखें और भूत को देखकर बहुत को प्रकाशित कर भविष्य को बनाने यही मेरी शुभकामनाएं धन्यवाद

arkolaji mein apna carrier kaise banaye yah jo hai chhatro ke liye aap is baat ko jaane ki arkolaji puratatva ka vibhag jo hai yah itihas lekhan mein sahayak hota hai aur itihas lekhan ki parampara jo hai carbon dating parampara ko alag thi ab isme shilalekho ka adhyayan sikkon ka adhyayan sahitya ka adhyayan aur khudai se jo prapt hone wali cheez hai usse khudai mein bahut saree cheezen prapt hoti hai yahan aap kisi bhi site ka expression karti hoon nalanda ka site ho ya takshashila ka tyre site ho yahan toh prapt hogi samundaron mein bhi khudai hoti hai bahut saree saraju hai sagar mein vileen ho gaye wahan se hi prapt hota hai toh khudai jo hoti hai vaah uska swaroop aaj badalte ja raha hai isme paali paali paali paali mein carrier kaise banaye isme carrier banane ke liye aap sabse pehle toh koi vishesh ya nasht kar anuj karne ke baad arkolaji se sambandhit enasentinyu vibhag mein aap jeete bharatiya itihas ki jo prachin bharatiya itihas jo padhaya jata us vibhag se jude bahut saree vidhayalayo mein arkolaji ka department hai usme aapne admission aur apna carrier jo hai banane itihas ko aap dekhen aur bhoot ko dekhkar bahut ko prakashit kar bhavishya ko banane yahi meri subhkamnaayain dhanyavad

आर्कोलॉजी में अपना कैरियर कैसे बनाएं यह जो है छात्रों के लिए आप इस बात को जाने की आर्कोलॉज

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  88
WhatsApp_icon
1 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!