आप काम के कारण होने वाले तनाव को कैसे प्रबंधित करते हैं?...


user

सुरेन्द्र पाल गुप्ता

रिटायर्ड प्रधानाचार्य

3:29
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जब मनुष्य अपने कार्य क्षेत्र में काम करता है चाहे वह नौकरी पेशा हो चाहे वह बिजनेस करता हो उसे तनाव होता है क्योंकि प्रतिदिन कोई न कोई समस्याएं आती रहती है और उनका मुकाबला हमें करना पड़ता है अब तनाव होता है लेकिन उसको प्रबंध भी उनका करना पड़ता है तनाव रहित भी होना पड़ता है क्योंकि घर लेकर जाएंगे तो घर में भी तनाव रहेगा ऐसी स्थिति में उस तरह आपको हम एक कम करने के लिए सबसे महत्वपूर्ण उपाय मेरी नजर में यह है कि अगर हम हमारे सामने कोई समस्या है तो हर इंसान के दो चार मित्र अवश्य होते हैं उन मित्रों से हमें सजा देनी चाहिए और घर में सब से अगर कोई नजदीकी मित्र है तो वह पत्नी तो उस पत्नी से भी हम उसके संबंध में चला दे सकते हैं हमारे सबसे बढ़िया मित्रों में पत्नी होती है और भी हमें निश्चित रूप से अच्छे सजा देती है और उसे तमाम भरता है क्योंकि हमारी समस्याएं हल हो जाती है बात करते हैं तो बातचीत के माध्यम से समस्याएं हल हो जाते तो मैंने तो अक्सर देखा है जब कविता लाभ होता था मैं बात को शेयर करता था अपने बच्चों से कर दिया करता था पत्नी से भी कर दिया करता था मित्र उसकी भी कर दिया था करता था मेरी समस्या दूसरा काम होता है तो एक में डायरी लिखा करता था और आज भी लिखता हूं कई बार समस्या होगी तो उसके कान भी तो भी तनाव का कारण क्या है और उसके साथ-साथ उसका में बाद में उसका निचोड़ भी लिख देता हूं कि आपका यह काम था और इसका यह काम हम कर देंगे तो दूर हो जाएगा तो उससे भी समस्याएं हल हो जाती है तो उसके बाद एक बार तनाव कम करने के लिए उस काम को पूरा कीजिए जिसके कारण से तलाब अगर उस काम को हम कर देंगे तो चुनाव निश्चित रूप से समाप्त हो जाए तो कुछ ऐसे ही व्यक्तिगत मामले से मिले उसे मैं अपने आप पर इतना आप को कम किया करता था और जब काम पूरा हो जाता है तो चुनाव निश्चित रूप से समाप्त होता है कुछ ऐसी बातें हैं जो कि मनुष्य के बस में नहीं है तो वह भक्ति में ईश्वर पर छोड़ दिया तो छोड़ देता हूं यह मेरे बस की नहीं ईश्वर अपने आप पर और फिर रात को नींद नहीं आती थी तो उसके लिए मैं माला का जाप किया करता था माला फेरने से भी नींद आ जाती थी तब तुम करने का एक सबसे बड़ा तरीका ध्यान और योग कीजिए चुनाव को दूर करते हैं

jab manushya apne karya kshetra mein kaam karta hai chahen vaah naukri pesha ho chahen vaah business karta ho use tanaav hota hai kyonki pratidin koi na koi samasyaen aati rehti hai aur unka muqabla hamein karna padta hai ab tanaav hota hai lekin usko prabandh bhi unka karna padta hai tanaav rahit bhi hona padta hai kyonki ghar lekar jaenge toh ghar mein bhi tanaav rahega aisi sthiti mein us tarah aapko hum ek kam karne ke liye sabse mahatvapurna upay meri nazar mein yah hai ki agar hum hamare saamne koi samasya hai toh har insaan ke do char mitra avashya hote hain un mitron se hamein saza deni chahiye aur ghar mein sab se agar koi najdiki mitra hai toh vaah patni toh us patni se bhi hum uske sambandh mein chala de sakte hain hamare sabse badhiya mitron mein patni hoti hai aur bhi hamein nishchit roop se acche saza deti hai aur use tamaam bharta hai kyonki hamari samasyaen hal ho jaati hai baat karte hain toh batchit ke madhyam se samasyaen hal ho jaate toh maine toh aksar dekha hai jab kavita labh hota tha main baat ko share karta tha apne baccho se kar diya karta tha patni se bhi kar diya karta tha mitra uski bhi kar diya tha karta tha meri samasya doosra kaam hota hai toh ek mein diary likha karta tha aur aaj bhi likhta hoon kai baar samasya hogi toh uske kaan bhi toh bhi tanaav ka karan kya hai aur uske saath saath uska mein baad mein uska nichod bhi likh deta hoon ki aapka yah kaam tha aur iska yah kaam hum kar denge toh dur ho jaega toh usse bhi samasyaen hal ho jaati hai toh uske baad ek baar tanaav kam karne ke liye us kaam ko pura kijiye jiske karan se talab agar us kaam ko hum kar denge toh chunav nishchit roop se samapt ho jaaye toh kuch aise hi vyaktigat mamle se mile use main apne aap par itna aap ko kam kiya karta tha aur jab kaam pura ho jata hai toh chunav nishchit roop se samapt hota hai kuch aisi batein hain jo ki manushya ke bus mein nahi hai toh vaah bhakti mein ishwar par chod diya toh chod deta hoon yah mere bus ki nahi ishwar apne aap par aur phir raat ko neend nahi aati thi toh uske liye main mala ka jaap kiya karta tha mala pherane se bhi neend aa jaati thi tab tum karne ka ek sabse bada tarika dhyan aur yog kijiye chunav ko dur karte hain

जब मनुष्य अपने कार्य क्षेत्र में काम करता है चाहे वह नौकरी पेशा हो चाहे वह बिजनेस करता हो

Romanized Version
Likes  123  Dislikes    views  867
KooApp_icon
WhatsApp_icon
7 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!