आप काम और निजी जीवन को कैसे संतुलित करते हैं?...


user

Pramod Kushwaha

famous Motivational Guru N Painter

0:34
Play

Likes  65  Dislikes    views  1723
WhatsApp_icon
8 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Pramod Kumar Singh

Motivator And Business

1:48
Play

Likes  158  Dislikes    views  1753
WhatsApp_icon
user

Owais Sabir Hussain

Chief Editor, The Ancient Times

0:51
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

तो फिर से मिलना चाहिए एल्बम देखकर नहीं आता उस टाइम मैं बिजी होता हूं कुछ पाने के लिए कुछ खोना पड़ता है बहुत टाइम है क्या होता है काम से बाहर जाना पड़ता पड़ता है जब पसंद की बात आती है तो उनके साथ करता हूं शाम को जो कभी नहीं कर सकते अगर मुझे टाइपिंग करना हो तो तभी तेरी मेरी तारीख को साथ लेकर चलता हूं सूरत भी कैंसिल टाइम

toh phir se milna chahiye album dekhkar nahi aata us time main busy hota hoon kuch paane ke liye kuch khona padta hai bahut time hai kya hota hai kaam se bahar jana padta padta hai jab pasand ki baat aati hai toh unke saath karta hoon shaam ko jo kabhi nahi kar sakte agar mujhe typing karna ho toh tabhi teri meri tarikh ko saath lekar chalta hoon surat bhi cancel time

तो फिर से मिलना चाहिए एल्बम देखकर नहीं आता उस टाइम मैं बिजी होता हूं कुछ पाने के लिए कुछ ख

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  194
WhatsApp_icon
user
Play

Likes  21  Dislikes    views  246
WhatsApp_icon
play
user

RAVI

Teacher and Poet

0:50

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए काम और निजी जीवन को संतुलित करने के लिए पहले अपना संतुलित होना बहुत ही आवश्यक है इसके लिए मैं सुबह एक्सरसाइज में जैसे योगा मेडिटेशन वगैरह यह सारी चीजें करता हूं गाड़ी वगैरह तो इससे क्या है कि मेरी बॉडी असंतुलित रहती है और मैं किसी चीज को करने के लिए काफी पहले से ही मतलब है कि अपने आपको क्या पर दिल कर लेता हूं और ज्यादा से ज्यादा करने के लिए कोई भी एचबीडी तैयार रहता हूं इस चीज का मुझे अपनी लाइफ में और मेरी जॉब वर्किंग रूटीन है उनमें बहुत ही हेल्प मिलती है तो मेरे हिसाब से संतुलित करने के लिए इन दोनों चीजों को पहले अपने आप को संतुलित करना बहुत जरूरी है धन्यवाद

dekhiye kaam aur niji jeevan ko santulit karne ke liye pehle apna santulit hona bahut hi aavashyak hai iske liye main subah exercise mein jaise yoga meditation vagera yah saree cheezen karta hoon gaadi vagera toh isse kya hai ki meri body asantulit rehti hai aur main kisi cheez ko karne ke liye kaafi pehle se hi matlab hai ki apne aapko kya par dil kar leta hoon aur zyada se zyada karne ke liye koi bhi HBD taiyar rehta hoon is cheez ka mujhe apni life mein aur meri job working routine hai unmen bahut hi help milti hai toh mere hisab se santulit karne ke liye in dono chijon ko pehle apne aap ko santulit karna bahut zaroori hai dhanyavad

देखिए काम और निजी जीवन को संतुलित करने के लिए पहले अपना संतुलित होना बहुत ही आवश्यक है इसक

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  103
WhatsApp_icon
user

Ankit

Farmer

0:12
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मैं अपना काम बड़ी सजगता से और अपने जीवन को बड़ी सरलता से संतुलित करता हूं

main apna kaam badi sajgata se aur apne jeevan ko badi saralata se santulit karta hoon

मैं अपना काम बड़ी सजगता से और अपने जीवन को बड़ी सरलता से संतुलित करता हूं

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  68
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मैं एक टीचर हूं मैं सुबह काम खत्म करके फिर स्कूल जाती हूं और स्कूल से वापस आने के बाद फिर से काम में ले जाते हो इस प्रकार से अपने काम और निजी जीवन को संतुलित करते हो मैं भी शादीशुदा तो हूं लेकिन बच्चे वगैरह नहीं है इस वजह से ज्यादा काम भी नहीं है और मेरी ड्यूटी अपने घर से बहुत ज्यादा लगभग 500 किलोमीटर दूर है जहां पर मैं अकेली रहती हूं इस वजह से जता ज्यादा काम नहीं होता है और स्कूल के संस्था प्रधानों ने की वजह से स्कूल का थोड़ा काम भी ज्यादा रहता है जिस वजह से मैं वह काम आकर घर पर कर लेते हो जिस वजह से क्या होता है कि मेरा समय व्यतीत हो जाता है और अकेलापन भी महसूस नहीं होता है धन्यवाद

main ek teacher hoon main subah kaam khatam karke phir school jaati hoon aur school se wapas aane ke baad phir se kaam me le jaate ho is prakar se apne kaam aur niji jeevan ko santulit karte ho main bhi shaadishuda toh hoon lekin bacche vagera nahi hai is wajah se zyada kaam bhi nahi hai aur meri duty apne ghar se bahut zyada lagbhag 500 kilometre dur hai jaha par main akeli rehti hoon is wajah se jata zyada kaam nahi hota hai aur school ke sanstha pradhanon ne ki wajah se school ka thoda kaam bhi zyada rehta hai jis wajah se main vaah kaam aakar ghar par kar lete ho jis wajah se kya hota hai ki mera samay vyatit ho jata hai aur akelapan bhi mehsus nahi hota hai dhanyavad

मैं एक टीचर हूं मैं सुबह काम खत्म करके फिर स्कूल जाती हूं और स्कूल से वापस आने के बाद फिर

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  78
WhatsApp_icon
user

BOB

Teacher

1:23
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भगवान आप काम और की निजी जिंदगी को कैसे संतुलित करते हैं तो देखी दोनों अपनी अपनी जगह अलग चीज है आपका काम और आपकी जिंदगी दोनों ही जरूरी है तो आप हमेशा यह देखें कि भाई इसको हम कैसे आज है कल तेरा पूरा तरह से निभाएं हमारा काम भी सफर नहीं करें और मेरी निजी जिंदगी भी डिस्टर्ब ना हो तो उसके लिए बहुत जरूरी है कि जब आपका वक्त काम करने का हो तो आप उसे पूरी तरह से काम मेरे जैसे कि आपके ऑफिस टाइम है या आप बिजनेस करते हैं आपने दुकान पर बैठने का टाइम है तो उस टाइम पर आप अपना पूरी तरह से दिमाग और दिल अपने काम में लगाएगा जब आप घर वापस आए तो फिर अपने गांव वाले दिमाग को दुकान पर या ऑफिस के छोड़ कर आइए और फिर घर में अपनी बीवी बच्चों के साथ खून मिल चाहिए और उनका जो है उनका साथ दीजिए और उनको यह लगेगा कि भी अब आप आ गए हैं घर तो अब आप उनके हैं और वह आपके लिए है तू ही तो दोनों चीजों का संभालेंगे तो बेहतर से संतुलन बना पाएंगे आप

bhagwan aap kaam aur ki niji zindagi ko kaise santulit karte hain toh dekhi dono apni apni jagah alag cheez hai aapka kaam aur aapki zindagi dono hi zaroori hai toh aap hamesha yah dekhen ki bhai isko hum kaise aaj hai kal tera pura tarah se nibhayen hamara kaam bhi safar nahi kare aur meri niji zindagi bhi disturb na ho toh uske liye bahut zaroori hai ki jab aapka waqt kaam karne ka ho toh aap use puri tarah se kaam mere jaise ki aapke office time hai ya aap business karte hain aapne dukaan par baithne ka time hai toh us time par aap apna puri tarah se dimag aur dil apne kaam me lagaega jab aap ghar wapas aaye toh phir apne gaon waale dimag ko dukaan par ya office ke chhod kar aaiye aur phir ghar me apni biwi baccho ke saath khoon mil chahiye aur unka jo hai unka saath dijiye aur unko yah lagega ki bhi ab aap aa gaye hain ghar toh ab aap unke hain aur vaah aapke liye hai tu hi toh dono chijon ka sambhalenge toh behtar se santulan bana payenge aap

भगवान आप काम और की निजी जिंदगी को कैसे संतुलित करते हैं तो देखी दोनों अपनी अपनी जगह अलग ची

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  324
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!