भगवान को क्यों मानते हैं?...


user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भगवान को क्यों मानते हैं भगवान जो है वह भाव और भक्ति का मौका है भगवान को और कुछ नहीं चाहिए इंसान से यदि उसे उनकी भगवान का स्वरूप जो है प्रेम स्वरूप है दयालु है वह शांति का और शक्ति का एक महासागर है आधारशिला शीतलता है सुख प्रदान करने वाली एक शक्ति है उसने कोई विरोध नहीं है चलता है कहीं कोई कपट नहीं है तो यह सारे गुण भगवान के होते हैं और जीव जो है खास करके इंसान तो इंसान को यह मौका दिया गया है कि वह जीते जी भगवान को पांच सकता है हमारे अपने अंदर प्यार के बिना जिंदगी अधूरी है प्यार का सागर कौन है इसलिए जो सो जाती है जो होते हैं जब तक उस सजातीय मिलते नहीं एक ग्रुप नहीं होते तब तक जो है मन को शांति नहीं मिलती जब तक पत्नी अपने पति से नहीं मिलती है तो वह सुहागिन नहीं हो सकती उसी तरह भगवान जो है एक हमारा जन्मदाता है पालनहार है संभाल करने वाला है जब तक हम भगवान को हमारे अंदर प्राप्त नहीं करते तब तक हम आनंद को नहीं प्राप्त हो सकते इसलिए हमारे पास दूसरा कोई चारा नहीं है हमें भगवान को मानना ही पड़ेगा

bhagwan ko kyon maante hain bhagwan jo hai vaah bhav aur bhakti ka mauka hai bhagwan ko aur kuch nahi chahiye insaan se yadi use unki bhagwan ka swaroop jo hai prem swaroop hai dayalu hai vaah shanti ka aur shakti ka ek mahasagar hai adharshila shitalata hai sukh pradan karne wali ek shakti hai usne koi virodh nahi hai chalta hai kahin koi kapat nahi hai toh yah saare gun bhagwan ke hote hain aur jeev jo hai khas karke insaan toh insaan ko yah mauka diya gaya hai ki vaah jeete ji bhagwan ko paanch sakta hai hamare apne andar pyar ke bina zindagi adhuri hai pyar ka sagar kaun hai isliye jo so jaati hai jo hote hain jab tak us sajatiye milte nahi ek group nahi hote tab tak jo hai man ko shanti nahi milti jab tak patni apne pati se nahi milti hai toh vaah suhagin nahi ho sakti usi tarah bhagwan jo hai ek hamara janmadata hai palanahar hai sambhaal karne vala hai jab tak hum bhagwan ko hamare andar prapt nahi karte tab tak hum anand ko nahi prapt ho sakte isliye hamare paas doosra koi chara nahi hai hamein bhagwan ko manana hi padega

भगवान को क्यों मानते हैं भगवान जो है वह भाव और भक्ति का मौका है भगवान को और कुछ नहीं चाहिए

Romanized Version
Likes  203  Dislikes    views  1469
KooApp_icon
WhatsApp_icon
10 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!