राहुल गांधी को कांग्रेस का अध्यक्ष बना कर क्या सही किया गया है?...


play
user

Ghanshyam Mehar

Indian Politician

0:35

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए गांधी जी कांग्रेस के अध्यक्ष में जितने भी होते हैं

dekhie gandhi ji congress ke adhyaksh mein jitne bhi hote hain

देखिए गांधी जी कांग्रेस के अध्यक्ष में जितने भी होते हैं

Romanized Version
Likes  65  Dislikes    views  627
WhatsApp_icon
4 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

1:46
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नहीं मैं इसका पता नहीं हूं एक निष्पक्ष टिक भारतीय दृष्टि से ही देखा जाए तो राहुल गांधी जी को कांग्रेस के अध्यक्ष की तो बात छोड़िए यह उसके भी काबिल नहीं है क्योंकि मैं एबिलिटी का पूर्ण अभाव है इनके बोलने का मेथड वोट डाउन है कि मैं कल इनको भारतीय कल्चर की जानकारी नहीं भारतीय इतिहास की जानकारी नहीं हां यदि कांग्रेस का अध्यक्ष बनने की समय की किसी अभिरुचि देखी जाए तो हमारे राजस्थान के जो वर्तमान में सीएम है अशोक गहलोत जी में है इनको यह देश को पूरे को कांग्रेसियों को संगठित कर राहुल गांधी जी को तो केवल एक परिवारवाद की पूजा के कारण से ही अध्यक्ष दे दी गई है हमें सूत्रों से इनकी भी शुरू शुरू में तो ऐसा धड़क रहा था कि जिनको कोई इसमें कोई ज्यादा इंटरेस्ट नहीं है मेरे विचार से कांग्रेस में राहुल गांधी जी कोचिंग सिद्धि में यह अनुच्छेद m.a. पॉलिटिकल से ज्यादा कुछ अच्छी नहीं है मैं सभी पार्टियों से प्रेरित करता हूं देश की बर्बादी कर दी किसी भी कारण देखा जाए तो हमारे यहां की पार्टी पॉलिटिक्स पार्टी पॉलिटिक्स ने जातिवाद धर्म बाद जगह फैला रखा है परदेसी 100 से अधिक जब कांग्रेस से संबंधित है कांग्रेस अध्यक्ष रूप में मैच का समर्थन कदापि नहीं करूंगा कि राहुल गांधी जी को रीडिंग से व्हिस्की दी जाए

nahi main iska pata nahi hoon ek nishpaksh tick bharatiya drishti se hi dekha jaaye toh rahul gandhi ji ko congress ke adhyaksh ki toh baat chodiye yah uske bhi kaabil nahi hai kyonki main ability ka purn abhaav hai inke bolne ka method vote down hai ki main kal inko bharatiya culture ki jaankari nahi bharatiya itihas ki jaankari nahi haan yadi congress ka adhyaksh banne ki samay ki kisi abhiruchi dekhi jaaye toh hamare rajasthan ke jo vartaman mein cm hai ashok gehlot ji mein hai inko yah desh ko poore ko congressiyo ko sangathit kar rahul gandhi ji ko toh keval ek parivaarvaad ki puja ke karan se hi adhyaksh de di gayi hai hamein sootron se inki bhi shuru shuru mein toh aisa dhadak raha tha ki jinako koi isme koi zyada interest nahi hai mere vichar se congress mein rahul gandhi ji coaching siddhi mein yah anuched m a political se zyada kuch achi nahi hai sabhi partiyon se prerit karta hoon desh ki barbadi kar di kisi bhi karan dekha jaaye toh hamare yahan ki party politics party politics ne jaatiwad dharm baad jagah faila rakha hai pardesi 100 se adhik jab congress se sambandhit hai congress adhyaksh roop mein match ka samarthan kadapi nahi karunga ki rahul gandhi ji ko reading se whiskey di jaaye

नहीं मैं इसका पता नहीं हूं एक निष्पक्ष टिक भारतीय दृष्टि से ही देखा जाए तो राहुल गांधी जी

Romanized Version
Likes  16  Dislikes    views  412
WhatsApp_icon
user

Jyoti Mehta

Ex-History Teacher

1:58
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेरे विचार से राहुल गांधी को कांग्रेस का अध्यक्ष बनाकर एक सही निर्णय नहीं लिया गया क्योंकि राहुल गांधी ने कभी भी राजनीति में इतनी रुचि नहीं दिखाई हालांकि वह राजनीतिक परिवार से हैं उनकी पारिवारिक पृष्ठभूमि राजनीति की रही है लेकिन उसके बावजूद उन्होंने राजनीति में कभी भी इतनी दिलचस्पी नहीं दिखाई कि वो राजनीति में कांग्रेस के अध्यक्ष बन सके और आज भी वह सिर्फ कांग्रेस के जो बड़े नेता हैं उन लोगों के सुझाव पर ही चलते हैं उनकी अपनी कोई राजनीतिक समझ नहीं है और इस तरह के बयान देते हैं जिस तरह कि वह भाषण देते हैं उनसे भी यही जाहिर होता है कि अभी तक वह राजनीति के क्षेत्र में परिपक्व है मुझे लगता है उन्हें थोड़ा और वक्त की जरूरत है अभी वह राजनीति में थोड़ा सक्रिय हुए हैं और थोड़ी परिपक्वता उम्र में आई है लेकिन इस पद के लिए मुझे नहीं लगता कि वह सही व्यक्ति हैं अगर कांग्रेस ने किसी और युवा चेहरे को इसकी जगह दी होती या नेतृत्व के लिए किसी और युवा चेहरे को लिया होता जैसी ज्योतिरादित्य सिंधिया है या फिर सचिन पायलट है तो मुझे लगता है कि कांग्रेस की पकड़ थोड़ी मजबूत होती और विपक्ष थोड़ा मजबूत होता सत्ता पक्ष के लिए सही मुद्दे उठाता और देश की जनता को भी लगता कि हां उसने एक सही विपक्ष चुना है तो अगर कुछ कमियां रही है कांग्रेस पार्टी की सशक्त होने में तो मुझे लगता है उसकी नेटवर्क में कमी है अगर कांग्रेस पार्टी का नेतृत्व सही होता तो वह जरूर देश की एक मजबूत विपक्षी पार्टी होती है जो सत्ता पक्ष की कमियों की आलोचना करती और सत्ता पक्ष की उन मुद्दों को उठाते जो वादे सत्ता पक्ष पूरा नहीं कर पाया है

mere vichar se rahul gandhi ko congress ka adhyaksh banakar ek sahi nirnay nahi liya gaya kyonki rahul gandhi ne kabhi bhi raajneeti mein itni ruchi nahi dikhai halaki vaah raajnitik parivar se hain unki parivarik prishthbhumi raajneeti ki rahi hai lekin uske bawajud unhone raajneeti mein kabhi bhi itni dilchaspi nahi dikhai ki vo raajneeti mein congress ke adhyaksh ban sake aur aaj bhi vaah sirf congress ke jo bade neta hain un logo ke sujhaav par hi chalte hain unki apni koi raajnitik samajh nahi hai aur is tarah ke bayan dete hain jis tarah ki vaah bhashan dete hain unse bhi yahi jaahir hota hai ki abhi tak vaah raajneeti ke kshetra mein paripakva hai mujhe lagta hai unhe thoda aur waqt ki zarurat hai abhi vaah raajneeti mein thoda sakriy hue hain aur thodi paripakvata umr mein I hai lekin is pad ke liye mujhe nahi lagta ki vaah sahi vyakti hain agar congress ne kisi aur yuva chehre ko iski jagah di hoti ya netritva ke liye kisi aur yuva chehre ko liya hota jaisi jyotiraditya sindhiya hai ya phir sachin pilot hai toh mujhe lagta hai ki congress ki pakad thodi majboot hoti aur vipaksh thoda majboot hota satta paksh ke liye sahi mudde uthaata aur desh ki janta ko bhi lagta ki haan usne ek sahi vipaksh chuna hai toh agar kuch kamiyan rahi hai congress party ki sashakt hone mein toh mujhe lagta hai uski network mein kami hai agar congress party ka netritva sahi hota toh vaah zaroor desh ki ek majboot vipakshi party hoti hai jo satta paksh ki kamiyon ki aalochana karti aur satta paksh ki un muddon ko uthate jo waade satta paksh pura nahi kar paya hai

मेरे विचार से राहुल गांधी को कांग्रेस का अध्यक्ष बनाकर एक सही निर्णय नहीं लिया गया क्योंकि

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  141
WhatsApp_icon
user

Manish Singh

VOLUNTEER

0:44
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देसी जैसा पूछ रही कि राहुल गांधी को कांग्रेस का अध्यक्ष बनाकर सही किया गया है गलत किया गया स्कूल क्वेश्चन

desi jaisa puch rahi ki rahul gandhi ko congress ka adhyaksh banakar sahi kiya gaya hai galat kiya gaya school question

देसी जैसा पूछ रही कि राहुल गांधी को कांग्रेस का अध्यक्ष बनाकर सही किया गया है गलत किया गया

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  171
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!