हमारी ऐसी कौन सी आदतें हैं जो जाने-अनजाने में हमारे देश के विकास में बाधा डाल रही हैं?...


user

Bhaskar Saurabh

Politics Follower | Engineer

1:33
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमारी ऐसी बहुत सारी आदतें होती हैं जिसकी वजह से जाने अनजाने में हम हमारे देश के विकास में बाधा उत्पन्न करते हैं सबसे बड़ी आदत तो मुझे लगती है भ्रष्टाचार की यानी कि हम अपना काम करवाने के लिए या फिर जल्दी करवाने के लिए भ्रष्टाचार करने से नहीं बाज आते हैं सोचते हैं कि किसी भी ऑफिस में अगर हमारा काम पेंडिंग है तो थोड़े से पैसे अगर अतिरिक्त लग रहे हैं तो उसे देखकर अपना काम जल्दी से करवा लिया जाए तो इस तरह से भ्रष्टाचार को बढ़ावा मिलता है और हमारा देश आगे बढ़ने से रोकता है इसके अलावा कचरा फैलाने की जो आदत भारतीयों की रहती है आमतौर पर वह मुझे लगता है हमारे देश को एक स्वच्छ भारत बनाने से रोक रही है कहीं पर भी हम कचरा फेंक देते हैं कार से घूम रहे हैं तो खिड़की खुली और सड़क पर कचरा फेंक दिया इस तरह की मानसिकता में बदलाव लाना अति आवश्यक है साथ ही साथ महिलाओं को उचित सम्मान बहुत सारे लोग नहीं देते हैं जिसकी वजह से भी मुझे लग ताकि महिलाओं की स्थिति हमारे देश में उतनी अच्छी नहीं है जितनी होनी चाहिए थी और अगर महिलाएं हमारे देश में विकास करेंगे तभी जाकर हमारा देश की उन्नति कर सकता है साथ ही साथ अंधविश्वास को भी लोग बहुत ज्यादा मानते हैं हमारे देश में और अंधविश्वास के चक्कर में फस कर बहुत सारे काम नहीं करते हैं जिससे अगर वह करेंगे तो हमारा देश विकास कर पाएगा तो यह तमाम ऐसी आदतें हैं जिसे भारतीयों को छोड़ना होगा तभी जाकर भारत जल्दी प्रोग्रेस कर सकता है जल्दी विकास कर सकता है

hamari aisi bahut saree aadatein hoti hain jiski wajah se jaane anjaane mein hum hamare desh ke vikas mein badha utpann karte hain sabse badi aadat toh mujhe lagti hai bhrashtachar ki yani ki hum apna kaam karwane ke liye ya phir jaldi karwane ke liye bhrashtachar karne se nahi baaj aate hain sochte hain ki kisi bhi office mein agar hamara kaam pending hai toh thode se paise agar atirikt lag rahe hain toh use dekhkar apna kaam jaldi se karva liya jaaye toh is tarah se bhrashtachar ko badhawa milta hai aur hamara desh aage badhne se rokta hai iske alava kachra felane ki jo aadat bharatiyon ki rehti hai aamtaur par vaah mujhe lagta hai hamare desh ko ek swachh bharat banane se rok rahi hai kahin par bhi hum kachra fenk dete hain car se ghum rahe hain toh khidki khuli aur sadak par kachra fenk diya is tarah ki mansikta mein badlav lana ati aavashyak hai saath hi saath mahilaon ko uchit sammaan bahut saare log nahi dete hain jiski wajah se bhi mujhe lag taki mahilaon ki sthiti hamare desh mein utani achi nahi hai jitni honi chahiye thi aur agar mahilaye hamare desh mein vikas karenge tabhi jaakar hamara desh ki unnati kar sakta hai saath hi saath andhavishvas ko bhi log bahut zyada maante hain hamare desh mein aur andhavishvas ke chakkar mein fas kar bahut saare kaam nahi karte hain jisse agar vaah karenge toh hamara desh vikas kar payega toh yah tamaam aisi aadatein hain jise bharatiyon ko chhodna hoga tabhi jaakar bharat jaldi progress kar sakta hai jaldi vikas kar sakta hai

हमारी ऐसी बहुत सारी आदतें होती हैं जिसकी वजह से जाने अनजाने में हम हमारे देश के विकास में

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  272
KooApp_icon
WhatsApp_icon
10 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!