मैं बहुत लोगों को मुफ्त में पढ़ा देता हूँ परन्तु उसका लाभ वो छात्र ले नहीं पाते। क्या गुरु दक्षिणा लेना इसलिये आवश्यक है ताकि उनका लाभ हो?...


user

B San

Entrepreneur | Management | Consultant | Advisor

7:21
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखें यह जानना चाहा है मैं बहुत लोगों को मुफ्त में पढ़ा देता हूं परंतु उसका लाभ वह छात्र नहीं ले पाते क्या गुरु दक्षिणा देना चाहिए इसलिए आवश्यक है ताकि उनका लाभ हो सके यहां पर मैं अपना मंतव्य विचारधारा अपना अनुभव अपना ज्ञान साझा करना चाहूंगा सबसे पहले तो मैं आपके इस कार्य की अत्यधिक प्रशंसा करता हूं कि वर्तमान दौर में आप इतना उत्कृष्ट कार्य कर रहे हैं लोगों को अपने पढ़ा रहे हैं किंतु लाभार्थी द्वारा नगर का छात्र द्वारा इसका लाभ प्राप्त नहीं किया जा रहा है आपकी शिक्षा को वह अर्चित कर प्रदर्शित नहीं कर पा रहे उसका पदार्पण नहीं कर पाए या नहीं हुआ उसमें अपनी प्रीवेंटर कुशलता व्यक्ति नहीं कर पा रहे संभवत इसका कारण मुफ्त शिक्षा भी हो सकता है फ्री में पढ़ाना भी हो सकता है क्या उनका मनोवैज्ञानिक स्तर भी हो सकता है या वह अन्य दृष्टिकोण कुछ भी हो सकता है कि वह इसका लाभ क्यों नहीं ले पाए जहां बात आते ही गुरु दक्षिणा की यानी फीस के आने पेमेंट की कि भाई पढ़ाई करनी है तो इतना अमाउंट लगेगा इतनी पैसे इतनी धनराशि इतना शुल्क देना होगा अब यहां पर पहले मुफ्त की शिक्षा और वर्तमान की पेड एजुकेशन या नि शुल्क वाली शिक्षा में उत्तरदायित्व की पक्ष का रहता है वह शिक्षक का पानी शिक्षक को वक्त के शिक्षा में भी अपना परिणाम बेहतर करना है और जब शुल्क प्राप्त करता है गुरु दक्षिणा प्राप्त कर रहे हैं इसके सापेक्ष गुरु को जो भी दक्षिणा मिले वह गुरु दक्षिणा प्राप्त करने पर भी परिणाम उत्कृष्ट होना आवश्यक हो जाता है यहां पर मेरा मानना है कि गुरु दक्षिणा देने पर शिष्य के मानसिक विचारधारा में संभव हो तो मानसिक रूप में यह तो विचार का सृजन होगा कि मैं इसका भुगतान करना हूं यानी मैं पढ़ने जा रहा हूं तो भेज दे रहा हूं पेमेंट दे रहा हूं तो मुझे पढ़ना चाहिए यह प्रतिबद्धता बन जाएगी और शिक्षक के बीच प्रतिबद्धता बनती कि हां मैं पैसा ले रहा हूं तो पढ़ाने अभी यहां पर बात है कि उसका मानसिक संतुलन कैसा है उसका ग्रास्पिंग पावर कैसी है समझने की शक्ति बौद्धिक क्षमता कैसी है और छात्र निहित करती है या शिक्षक का कराने का तरीका कैसा है वह शिक्षक के शिक्षण प्रणाली पर निहित करती गुरु दक्षिणा लेने के बाद एक अलग दृष्टिकोण बनता है और मुख्य की शिक्षा में एक अलग दृष्टिकोण बनता है क्योंकि मेरा मानना है कहीं ना कहीं शिक्षक भी इस विचारधारा एक वहां भी एक आंशिक रूप में आया 0 न्यू न रूप में रहता है कि मैं शिक्षा मुफ्त में दे रहा हूं और मुझे परिणाम नहीं मिल रहा है वक्तव्य शिक्षा नहीं दे रहा हूं फिर भी परिणाम नहीं मिला तो क्यों ना मैं शुल्क सहित ही पढ़ा हूं यानी गुरु दक्षिणा प्राप्त कर क्या मेरा मानना है यह मैं खौफ नहीं रहा हूं अपना मंतव्य साझा करता हूं गुरु दक्षिणा में दोनों के प्रतिबद्धता बन जाती क्या है मुझे पढ़ाना है शिक्षक के त्रिकोण से की छात्र द्वारा शिक्षा के प्रति खर्च किया जा रहा है और छात्रा रहे हो ताकि मुझे पढ़ना है मेरे परिवार से पैसा आ रहा है मेरे परिवार की आमदनी से पहचान यदि वह इस समाज का इस बौद्धिक स्तर का हो गया तो यानी समय बर्बाद करना चाहते हैं या नहीं वह नहीं पढ़ना चाह रहे हैं सामाजिक या पारिवारिक दबाव के कारण हो भौतिक रूप में तो वहां उपस्थित हैं कक्षा में पर मानसिक रूप में वह उसको बहन नहीं करता है या नहीं करना चाह रहे हैं या छात्र के टिकट पर अधिकतर के बारे में पर मुक्त के शिक्षा व गुरु दक्षिणा सहित शिक्षा दोनों का परिणाम प्रथक प्रथक निरूपित होगा धन्यवाद

dekhen yah janana chaha hai main bahut logo ko muft me padha deta hoon parantu uska labh vaah chatra nahi le paate kya guru dakshina dena chahiye isliye aavashyak hai taki unka labh ho sake yahan par main apna mantavya vichardhara apna anubhav apna gyaan sajha karna chahunga sabse pehle toh main aapke is karya ki atyadhik prashansa karta hoon ki vartaman daur me aap itna utkrasht karya kar rahe hain logo ko apne padha rahe hain kintu labharthi dwara nagar ka chatra dwara iska labh prapt nahi kiya ja raha hai aapki shiksha ko vaah archit kar pradarshit nahi kar paa rahe uska padarpan nahi kar paye ya nahi hua usme apni priventar kushalata vyakti nahi kar paa rahe sambhavat iska karan muft shiksha bhi ho sakta hai free me padhana bhi ho sakta hai kya unka manovaigyanik sthar bhi ho sakta hai ya vaah anya drishtikon kuch bhi ho sakta hai ki vaah iska labh kyon nahi le paye jaha baat aate hi guru dakshina ki yani fees ke aane payment ki ki bhai padhai karni hai toh itna amount lagega itni paise itni dhanrashi itna shulk dena hoga ab yahan par pehle muft ki shiksha aur vartaman ki ped education ya ni shulk wali shiksha me uttardayitva ki paksh ka rehta hai vaah shikshak ka paani shikshak ko waqt ke shiksha me bhi apna parinam behtar karna hai aur jab shulk prapt karta hai guru dakshina prapt kar rahe hain iske sapeksh guru ko jo bhi dakshina mile vaah guru dakshina prapt karne par bhi parinam utkrasht hona aavashyak ho jata hai yahan par mera manana hai ki guru dakshina dene par shishya ke mansik vichardhara me sambhav ho toh mansik roop me yah toh vichar ka srijan hoga ki main iska bhugtan karna hoon yani main padhne ja raha hoon toh bhej de raha hoon payment de raha hoon toh mujhe padhna chahiye yah pratibaddhata ban jayegi aur shikshak ke beech pratibaddhata banti ki haan main paisa le raha hoon toh padhane abhi yahan par baat hai ki uska mansik santulan kaisa hai uska grasping power kaisi hai samjhne ki shakti baudhik kshamta kaisi hai aur chatra nihit karti hai ya shikshak ka karane ka tarika kaisa hai vaah shikshak ke shikshan pranali par nihit karti guru dakshina lene ke baad ek alag drishtikon banta hai aur mukhya ki shiksha me ek alag drishtikon banta hai kyonki mera manana hai kahin na kahin shikshak bhi is vichardhara ek wahan bhi ek aanshik roop me aaya 0 new na roop me rehta hai ki main shiksha muft me de raha hoon aur mujhe parinam nahi mil raha hai vaktavya shiksha nahi de raha hoon phir bhi parinam nahi mila toh kyon na main shulk sahit hi padha hoon yani guru dakshina prapt kar kya mera manana hai yah main khauf nahi raha hoon apna mantavya sajha karta hoon guru dakshina me dono ke pratibaddhata ban jaati kya hai mujhe padhana hai shikshak ke trikon se ki chatra dwara shiksha ke prati kharch kiya ja raha hai aur chatra rahe ho taki mujhe padhna hai mere parivar se paisa aa raha hai mere parivar ki aamdani se pehchaan yadi vaah is samaj ka is baudhik sthar ka ho gaya toh yani samay barbad karna chahte hain ya nahi vaah nahi padhna chah rahe hain samajik ya parivarik dabaav ke karan ho bhautik roop me toh wahan upasthit hain kaksha me par mansik roop me vaah usko behen nahi karta hai ya nahi karna chah rahe hain ya chatra ke ticket par adhiktar ke bare me par mukt ke shiksha va guru dakshina sahit shiksha dono ka parinam prathak prathak nirupit hoga dhanyavad

देखें यह जानना चाहा है मैं बहुत लोगों को मुफ्त में पढ़ा देता हूं परंतु उसका लाभ वह छात्र न

Romanized Version
Likes  32  Dislikes    views  686
KooApp_icon
WhatsApp_icon
16 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!