आपने जिन्दगी में बहुत देर से क्या सीखा?...


user

Vinod Kumar Pandey

Life Coach | Career Counsellor ::Relationship Counsellor :: Parenting Counsellor

2:35
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अपने प्रश्न किया है कि अपनी जिंदगी में बहुत देर से क्या सीखा इसके लिए मैं यही कहूंगा कि हर व्यक्ति को अपने कैरियर का चुनाव अप्रैल प्रोफेशन का चुनाव अपने जीवन पर जो महत्वपूर्ण लक्ष्य सुनाओ अपने इंटरेस्ट के आधार पर अपने प्रतिभा के आधार पर अपनी अंतरात्मा की आवाज पर और केवल अपने विवेक के आधार पर ही सुनने का प्रयास करना चाहिए कभी भी दूसरे की सलाह या दूसरे के अनुभव के आधार पर या बाहरी आकर्षण को देख कर के अपने कैरियर का चुनाव बिल्कुल नहीं करना चाहिए क्योंकि ध्यान रखेंगे आप अपनी जिंदगी में संतुष्टि केवल और केवल उन्हीं चीजों से पा सकते हैं जिसमें आपका इंटरेस्ट हो जो आपकी प्रतिभा हो और जो आपकी अंतरात्मा का रही हो जिस दिन आप उसके अनुसार अपने कैरियर का चुनाव करेंगे तो उसमें संतुष्टि के साथ था सफलता कामयाबी बहुत अधिक मिलेगी और तभी आप अपने जीवन से संतुष्ट हो पाएंगे इसलिए हर व्यक्ति की यह सबसे पहले जिम्मेदारी बनती है कि अपने कैरियर के चुनाव में बहुत सावधानी रखें अपने जीवन का जम्मू की लक्ष्य चुने और बहुत सावधानीपूर्वक चुने और उसमें अपने व्यक्तित्व को वह बिल्कुल इग्नोर ना करें क्योंकि कई बार ऐसा होता है कि हम अपने लक्ष्य का या अपने कैरियर का चुनाव तो कर लेते हैं लेकिन उसमें जो चुनाव का क्राइटेरिया होता है वह बाहरी आकर्षण होता है जो कि बाद में हमारे बहुत तनाव का कारण बनता है लेकिन जब कैरियर का चुनाव हम अपने व्यक्तित्व के हिसाब से करते हैं अपनी प्रतिभा अपने इंटरेस्ट के अनुसार करते हैं तो जो भी हम कैरियर सुनते हैं उसमें हमको बहुत आनंद आता है और कभी भी वह हमें काम की तरह नहीं लगता उसको कहीं ना कहीं एक आनंद की तरह लगता है और तब अपने जीवन भर हम उस कार्य को कर सकते हैं और जिसमें ना हमें थकान होता है ना तना होता है उसमें सिर्फ हमें कामयाबी सफलता और संतुष्टि मिलती है और जब इस तरीके से हम जीवन जीते हैं तो कहीं ना कहीं हमें जीवन में बहुत अधिक संतोष और कामयाबी मिलती है और तब हम अपने जीवन के साथ-साथ दूसरों को जीवन में भी बहुत कुछ अच्छा कर पाते हैं और इस दुनिया को एक नया नई चीज और महत्वपूर्ण से तय करके जाते हैं मेरी शुभकामनाएं आपको धन्यवाद

apne prashna kiya hai ki apni zindagi mein bahut der se kya seekha iske liye main yahi kahunga ki har vyakti ko apne carrier ka chunav april profession ka chunav apne jeevan par jo mahatvapurna lakshya sunao apne interest ke aadhar par apne pratibha ke aadhar par apni antaraatma ki awaaz par aur keval apne vivek ke aadhar par hi sunne ka prayas karna chahiye kabhi bhi dusre ki salah ya dusre ke anubhav ke aadhar par ya bahri aakarshan ko dekh kar ke apne carrier ka chunav bilkul nahi karna chahiye kyonki dhyan rakhenge aap apni zindagi mein santushti keval aur keval unhi chijon se paa sakte hain jisme aapka interest ho jo aapki pratibha ho aur jo aapki antaraatma ka rahi ho jis din aap uske anusaar apne carrier ka chunav karenge toh usme santushti ke saath tha safalta kamyabi bahut adhik milegi aur tabhi aap apne jeevan se santusht ho payenge isliye har vyakti ki yah sabse pehle jimmedari banti hai ki apne carrier ke chunav mein bahut savdhani rakhen apne jeevan ka jammu ki lakshya chune aur bahut savadhanipurvak chune aur usme apne vyaktitva ko vaah bilkul ignore na kare kyonki kai baar aisa hota hai ki hum apne lakshya ka ya apne carrier ka chunav toh kar lete hain lekin usme jo chunav ka criteria hota hai vaah bahri aakarshan hota hai jo ki baad mein hamare bahut tanaav ka karan baata hai lekin jab carrier ka chunav hum apne vyaktitva ke hisab se karte hain apni pratibha apne interest ke anusaar karte hain toh jo bhi hum carrier sunte hain usme hamko bahut anand aata hai aur kabhi bhi vaah hamein kaam ki tarah nahi lagta usko kahin na kahin ek anand ki tarah lagta hai aur tab apne jeevan bhar hum us karya ko kar sakte hain aur jisme na hamein thakan hota hai na tana hota hai usme sirf hamein kamyabi safalta aur santushti milti hai aur jab is tarike se hum jeevan jeete hain toh kahin na kahin hamein jeevan mein bahut adhik santosh aur kamyabi milti hai aur tab hum apne jeevan ke saath saath dusro ko jeevan mein bhi bahut kuch accha kar paate hain aur is duniya ko ek naya nayi cheez aur mahatvapurna se tay karke jaate hain meri subhkamnaayain aapko dhanyavad

अपने प्रश्न किया है कि अपनी जिंदगी में बहुत देर से क्या सीखा इसके लिए मैं यही कहूंगा कि हर

Romanized Version
Likes  46  Dislikes    views  668
KooApp_icon
WhatsApp_icon
12 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!