आप कैसे प्रफेशनल और पर्सनल लाइफ को मैनेज करते हैं?...


user
Play

Likes  5  Dislikes    views  100
WhatsApp_icon
6 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Shibani Kashyap

Renowned Bollywood Singer and Actor

0:31
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ड्यूटी पे फ्रेंड रिक्वेस्ट करते हैं राजीव चौक

duty pe friend request karte hain rajeev chauk

ड्यूटी पे फ्रेंड रिक्वेस्ट करते हैं राजीव चौक

Romanized Version
Likes  19  Dislikes    views  745
WhatsApp_icon
user

Krishna Singh

Motivational Speaker

1:11
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आप कैसी प्रोफेशनल और पर्सनल लाइफ को मैनेज करते हैं इसमें हम को यह समझना होगा कि जब हम अपने प्रोफेशन में होते हैं उस समय हमारा रोल अलग होता है जब हम अपनी माता के पास जाते हैं तो उस समय हम पुत्र का रोल निभाते हैं जब हम अपने बच्चे के पास जाते हैं तो हम पिता का रोल निभाते हैं तो अपनी बुद्धि में हमारा रोल स्पष्ट होना चाहिए इसके उदाहरण के तौर पर अगर मैं इंस्पेक्टर हूं थाने में मुझे हो सकता है कोई चोर आया को चाय उसको थोड़ा सा डराने के लिए दोष दिखाना पड़ेगा आदि-आदि लेकिन अगर वही रोल में घर पर परिवार में लेकर कैरी फॉरवर्ड करो तो मेरे घर की लाइफ कैसे हो जाएगी रूइन हो जाएगी मुझे वहां समझना होगा कि वहां मैं किसी का पति हूं तो किसी का पीता हूं तो जब जिस समय जो रोल करना हो हमें हमारी जन्नत में होनी चाहिए आप उसी प्रकार हम अगर एक्ट करेंगे तो क्या है कि हमारी प्रोफेशनल और पर्सनल लाइफ दोनों ही सक्सेसफुल होगी

aap kaisi professional aur personal life ko manage karte hain isme hum ko yah samajhna hoga ki jab hum apne profession me hote hain us samay hamara roll alag hota hai jab hum apni mata ke paas jaate hain toh us samay hum putra ka roll nibhate hain jab hum apne bacche ke paas jaate hain toh hum pita ka roll nibhate hain toh apni buddhi me hamara roll spasht hona chahiye iske udaharan ke taur par agar main inspector hoon thane me mujhe ho sakta hai koi chor aaya ko chai usko thoda sa darane ke liye dosh dikhana padega aadi aadi lekin agar wahi roll me ghar par parivar me lekar carry forward karo toh mere ghar ki life kaise ho jayegi ruin ho jayegi mujhe wahan samajhna hoga ki wahan main kisi ka pati hoon toh kisi ka pita hoon toh jab jis samay jo roll karna ho hamein hamari jannat me honi chahiye aap usi prakar hum agar act karenge toh kya hai ki hamari professional aur personal life dono hi successful hogi

आप कैसी प्रोफेशनल और पर्सनल लाइफ को मैनेज करते हैं इसमें हम को यह समझना होगा कि जब हम अपने

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  127
WhatsApp_icon
play
user

मुनि श्री अशोक कुमार मेरा नाम है

Business Owner ज्योतिष के विशेषज्ञ जनरल रोज

0:49

Likes  8  Dislikes    views  137
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

प्रोफेशनल और पर्सनल लाइफ को मैनेज करने की व्यक्तिगत मेरी राय यह है कि प्रोफेशनल और पर्सनल जब प्रोफेशनल में मैं उठ जाता हूं तो पर्सनल लाइफ में चला जाता और पर्सनल लाइफ को एक समय तक करने के बाद फिर अपने प्रोफेशनल लाइफ को आकर मैनेज करता हूं अब दोनों अलग-अलग बातें हैं दोनों की अलग-अलग जगह है दोनों का अलग-अलग सीमा है उसको ध्यान में रखना पड़ता है

professional aur personal life ko manage karne ki vyaktigat meri rai yah hai ki professional aur personal jab professional mein main uth jata hoon toh personal life mein chala jata aur personal life ko ek samay tak karne ke baad phir apne professional life ko aakar manage karta hoon ab dono alag alag batein hain dono ki alag alag jagah hai dono ka alag alag seema hai usko dhyan mein rakhna padta hai

प्रोफेशनल और पर्सनल लाइफ को मैनेज करने की व्यक्तिगत मेरी राय यह है कि प्रोफेशनल और पर्सनल

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  81
WhatsApp_icon
play
user

Dhiraj Kumar

Teacher & Advisor

0:25

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दोस्तो आपका पूछा गया प्रश्न है कि आप कैसे प्रोफेशनल और पर्सनल लाइफ को मैनेज करते तो दोस्तों प्रोफेशनल लाइफ और 55 लाइन दोनों अलग-अलग चीजें होती है जब हम प्रोफेशनल काम कर रहे थे मैं पूरा ध्यान उसमें लगाता हूं आता है जब काम को हम नहीं करते पर्सनल काम कर रहे होते तो अपना पूरा ध्यान अपने पर्सनल काम में लगाना पड़ता है दोनों काम जब करते हैं तो अपना अपना ध्यान उस समय लगाते हैं

doston aapka poocha gaya prashna hai ki aap kaise professional aur personal life ko manage karte toh doston professional life aur 55 line dono alag alag cheezen hoti hai jab hum professional kaam kar rahe the main pura dhyan usme lagaata hoon aata hai jab kaam ko hum nahi karte personal kaam kar rahe hote toh apna pura dhyan apne personal kaam mein lagana padta hai dono kaam jab karte hain toh apna apna dhyan us samay lagate hain

दोस्तो आपका पूछा गया प्रश्न है कि आप कैसे प्रोफेशनल और पर्सनल लाइफ को मैनेज करते तो दोस्तो

Romanized Version
Likes  39  Dislikes    views  1051
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!