हमें अपनी पृष्ठभूमि के बारे में बताएं?...


play
user

Prof. Deepti Storyteller

Founder Truth Institute, Brand Consultant,Ex NID: Follow My You Tube Channel.9910114584

3:13

Likes  14  Dislikes    views  154
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
8:26
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यार बहुत इंटरेस्टिंग क्वेश्चन है और मुझे यह बताते हुए बहुत खुशी हो रही है क्योंकि लोगों को पता रहना चाहिए ना कि आप कहां से बिलॉन्ग करते हो किस जगह पर आए हो तो आपको बता दूं कि मैं एक एमपी के छोटे से जिले जिसका नाम डिंडोरी है क्योंकि अभी कुछ साल पहले जिला बना है वहां से भी और 13 किलोमीटर अंदर दूर एक गांव है और जिसका नाम जो भी मिला है वहां से मेरे दादाजी हैं तो हमारे दादा जी हां ज्योति स्कूल टीचर थे और मेरी दादी जो थी वह हाउसवाइफ है और यह मान लीजिए कि इनके थे 7 बच्चे के साथ बेटे और दो बेटियां यानी की टोटल 9 बच्चे पर मेरे दादाजी के और आप समझ सकते हैं एक तो टैलेंट स्कूल टीचर और प्लस उनकी खेती बाड़ी थी तो दादाजी जैसे चौक में चले जाते थे तो फिर मेरी दादी को पूरा घर संभालना बच्चों को संभालना और फिर सब कुछ मैनेज करना तो मेरी दादी बहुत स्ट्रांग थी बहुत स्ट्रॉन्ग बनती और फिर क्या है हम बहुत अगर मैं उसको बोलूं तो हालात इतने अच्छे नहीं थे क्योंकि उनकी सैलरी ही शायद पीस ₹40 थी उस वक्त उस में इतने सारे बच्चों को रखना आप पढ़ना पढ़ाना ऐसे करके सबसे अच्छा मैंने दादा जी को तो इतना नहीं देखा लेकिन मैंने अपने पापा को देखा है यार एक गांव से एक छोटे से गांव से जहां पर जहां पर ना मार्केट भी नहीं होता था संडे के दिन 1 दिन बस मार्केट लगता था उसमें भी मेरे दादाजी तेरा किलोमीटर पैदल चलकर आते थे कि हमारे पर गाड़ियां भी नहीं चलती थी और मां हम लोग ऐसी जगह से थे 1 दिन में जो भी आपको सामान चाहिए वह खरीद के ले जाओ बहुत ही गांव की लाई थी उस पर उन्होंने अपने सारे बच्चों को कोशिश की कि मैं सारे बच्चों को पढ़ाओ सारे बच्चों को अपने पैरों पर खड़ा कर सकूं उन्होंने में पापा को पढ़ने के लिए भेजा पापा से जबलपुर रायसर उन्होंने जॉब की पैड मम्मी से शादी की रस्में हुई यह सब कुछ बताने कारण यह है कि देखा है मैंने तो गांव में जो देखा हमारा छोटा सा घर भी देखा है जो थप्पड़ वाला होता है उसका घर है और मारा चूल्हे में हमारे यहां खाना बनता है और फिर वहां से किस तरह से पापा ने सरवाइव करके की क्यों प्रॉब्लम मैंने फेस की है वह मेरे बच्चों को कभी फैसला करने पड़े उन्होंने फिर अपना घर बनाया जबलपुर में गाड़ियां खरीदी और यानी कि हमको सिखाया कि बेटा जो अपने से नीचे है ना हमको उन को साथ में लेकर चलना है उनको आपको यह नहीं सोचना है कि अच्छे नहीं हैं या यह बुरे लोग हैं या कम से कम है ऐसा कभी नहीं लाना है क्योंकि हम भी वही तो उठ कर आए इतना मुझे अपना पूरा बैकग्राउंड बताने का जोड़ी दम था यहां से सीखा कि भाड़ जो है जैसा है तब हमारे जैसे एक भले कोई रिक्शावाला भी है कोई मजदूर भी है तो वह अपनी मजदूरी से कमा कर खा रहा है अब से मांग के तो नहीं खारा ना तो मेरी नजर में बोरिंग पानी बहुत इज्जत दार था यह मैंने यहां से सीखा था और सबसे बड़ी बात थी बहुत बड़ी फैमिली है हमारी जैसे कि आप समझ सकते अब आप समझ लीजिए मेरे 6 चाहता लोग हैं चार नई फिल्मों के बच्चे हैं दो बुआ फूफा जी और फिर उनके बच्चे होते की बातें लगता है कोई पार्टी हो रही है चेकअप इतनी बड़ी शामली में मैं सबसे पहली लड़की मुझे यह मुझे बहुत नहीं कह सकती हूं बिल्कुल गोदी में रख के नीचे नहीं रखते थे जी ठंडी लग जाएगी बच्चे को मुझे इस तरह से पाला है पापा ने और सब लोगों ने बहुत लाड़ प्यार किया है तो ज्योति बड़ी सामने होती ना जॉइंट शामली मानते हैं हम शहर में रहते थे लेकिन हर त्यौहार में हर छुट्टियों में हमारे पापा हम को लेकर दादा दादी क्या लेकर आते थे जब मैं जॉइंट कभी देखी ना तो मैंने एडजस्ट करना सीखा मिल बांट के खाना मिल बांट के हर चीज करना सीखा कि जब हम साथ में सब कुछ करते हैं ना तो मजा आता है वह सबसे बेहतरीन बेहतरीन आयनिक है आपकी जिंदगी का यह चीज बड़ी शामली से समझ में आए और हमारे बीच में ऐसा भी नहीं है कि जो मेरे चाचा जी के बच्चे मम्मी चाचा जी के बच्चे हैं वह हमारे नहीं हमारे हमारे ही भाई हैं हम ऐसे नहीं बोल सकते कि नहीं यह मेरा केवल एक भाई है ऐसा इसलिए हमारी फैमिली में है ही नहीं तो यह चीज की बैकग्राउंड से मैं हूं और और अगर कुछ अगर आप मेरे मम्मी पापा के बारे में मैं आप बताओ तो वह एक बैंक में मैनेजर थे अभी रिटायर हो चुके हैं अभी मामा है कि स्कूल टीचर है और मेरा एक भाई है वह भी करता है और मैं खुद एक स्कूल में ज्यादातर लोग जॉब में है दादा जी भी थे पापा का मन था बनने का लेकिन वह बन नहीं पाए तो उन्होंने मुझे बना दिया यह मान सकते हैं यही बोलूंगी कि मैं पढ़ने में होशियार तो इस तरह से हमारे यहां पर एक्शन चला रहे कि हां अच्छे से हूं हर छोटी से छोटी चीज दी अगर किसी को समझा नहीं है ना तो मैं समझूंगी मेरे दादाजी से मेरे चाचा चाची मामा मामी और मैं नाना जी यह सब के सब किसी सबकी चरित है तो इसलिए मुझे मुझे बहुत अच्छा लगता है यह मुझे बताओ कि होता कि मैं बहुत अच्छी फैमिली को ब्लॉक करती हूं जितना दिया है भगवान ने मुझे ऐसा लगता है वो काट दिया है बहुत और उसके लिए हम हर बार बार भगवान जी का बहुत बहुत बहुत शुक्रिया अदा करते हैं मेरी परवरिश के लिए मैं कि मुझे इतनी अच्छी परवरिश मिली है मेरे मां-बाप से मेरे परिवार वालों से सभी से इतने अच्छे दोस्त हैं अच्छे दोस्त भी इतने सालों में लेना कि मैं आपको बता नहीं सकती कि सब एक से बढ़कर एक हीरा हीरा है मैं थोड़ा सा आप फ्रेंडशिप के मामले में सूजन कम लोगों से ज्यादा खुशी मिलती नहीं करती है जिनमें चुन्नी 34 दोस्ती है मेरे जितने भी है ना बहुत खूबसूरत हैं बहुत कीमती है बहुत अनमोल है मेरे दोस्त कहीं ना कहीं इन सब की कोशिशों की वजह से शायद मैं आज कहां पर हूं मैं यही कहूंगी और इसके अलावा मुझे नहीं लगता कि और कुछ बचा है बोलने को यह बताने को नहीं चलते मेरी पृष्ठभूमि में इतना काफी के लिए

yaar bahut interesting question hai aur mujhe yah batatey hue bahut khushi ho rahi hai kyonki logo ko pata rehna chahiye na ki aap kaha se Belong karte ho kis jagah par aaye ho toh aapko bata doon ki main ek mp ke chote se jile jiska naam dindori hai kyonki abhi kuch saal pehle jila bana hai wahan se bhi aur 13 kilometre andar dur ek gaon hai aur jiska naam jo bhi mila hai wahan se mere dadaji hai toh hamare dada ji haan jyoti school teacher the aur meri dadi jo thi vaah housewife hai aur yah maan lijiye ki inke the 7 bacche ke saath bete aur do betiyan yani ki total 9 bacche par mere dadaji ke aur aap samajh sakte hai ek toh talent school teacher aur plus unki kheti baadi thi toh dadaji jaise chauk mein chale jaate the toh phir meri dadi ko pura ghar sambhaalna baccho ko sambhaalna aur phir sab kuch manage karna toh meri dadi bahut strong thi bahut strong banti aur phir kya hai hum bahut agar main usko bolu toh haalaat itne acche nahi the kyonki unki salary hi shayad peace Rs thi us waqt us mein itne saare baccho ko rakhna aap padhna padhana aise karke sabse accha maine dada ji ko toh itna nahi dekha lekin maine apne papa ko dekha hai yaar ek gaon se ek chote se gaon se jaha par jaha par na market bhi nahi hota tha sunday ke din 1 din bus market lagta tha usme bhi mere dadaji tera kilometre paidal chalkar aate the ki hamare par gadiyan bhi nahi chalti thi aur maa hum log aisi jagah se the 1 din mein jo bhi aapko saamaan chahiye vaah kharid ke le jao bahut hi gaon ki lai thi us par unhone apne saare baccho ko koshish ki ki main saare baccho ko padhao saare baccho ko apne pairon par khada kar saku unhone mein papa ko padhne ke liye bheja papa se jabalpur rayasar unhone job ki pad mummy se shadi ki rasmen hui yah sab kuch bata karan yah hai ki dekha hai maine toh gaon mein jo dekha hamara chota sa ghar bhi dekha hai jo thappad vala hota hai uska ghar hai aur mara choolhe mein hamare yahan khana baata hai aur phir wahan se kis tarah se papa ne survive karke ki kyon problem maine face ki hai vaah mere baccho ko kabhi faisla karne pade unhone phir apna ghar banaya jabalpur mein gadiyan kharidi aur yani ki hamko sikhaya ki beta jo apne se niche hai na hamko un ko saath mein lekar chalna hai unko aapko yah nahi sochna hai ki acche nahi hai ya yah bure log hai ya kam se kam hai aisa kabhi nahi lana hai kyonki hum bhi wahi toh uth kar aaye itna mujhe apna pura background bata ka jodi dum tha yahan se seekha ki bhad jo hai jaisa hai tab hamare jaise ek bhale koi rikshavala bhi hai koi majdur bhi hai toh vaah apni mazdoori se kama kar kha raha hai ab se maang ke toh nahi khara na toh meri nazar mein boaring paani bahut izzat daar tha yah maine yahan se seekha tha aur sabse baadi baat thi bahut baadi family hai hamari jaise ki aap samajh sakte ab aap samajh lijiye mere 6 chahta log hai char nayi filmo ke bacche hai do buaa fufa ji aur phir unke bacche hote ki batein lagta hai koi party ho rahi hai checkup itni baadi shamili mein main sabse pehli ladki mujhe yah mujhe bahut nahi keh sakti hoon bilkul godi mein rakh ke niche nahi rakhte the ji thandi lag jayegi bacche ko mujhe is tarah se pala hai papa ne aur sab logo ne bahut lad pyar kiya hai toh jyoti baadi saamne hoti na joint shamili maante hai hum shehar mein rehte the lekin har tyohar mein har chhuttiyon mein hamare papa hum ko lekar dada dadi kya lekar aate the jab main joint kabhi dekhi na toh maine adjust karna seekha mil baant ke khana mil baant ke har cheez karna seekha ki jab hum saath mein sab kuch karte hai na toh maza aata hai vaah sabse behtareen behtareen ionic hai aapki zindagi ka yah cheez baadi shamili se samajh mein aaye aur hamare beech mein aisa bhi nahi hai ki jo mere chacha ji ke bacche mummy chacha ji ke bacche hai vaah hamare nahi hamare hamare hi bhai hai hum aise nahi bol sakte ki nahi yah mera keval ek bhai hai aisa isliye hamari family mein hai hi nahi toh yah cheez ki background se main hoon aur aur agar kuch agar aap mere mummy papa ke bare mein main aap batao toh vaah ek bank mein manager the abhi retire ho chuke hai abhi mama hai ki school teacher hai aur mera ek bhai hai vaah bhi karta hai aur main khud ek school mein jyadatar log job mein hai dada ji bhi the papa ka man tha banne ka lekin vaah ban nahi paye toh unhone mujhe bana diya yah maan sakte hai yahi bolungi ki main padhne mein hoshiyar toh is tarah se hamare yahan par action chala rahe ki haan acche se hoon har choti se choti cheez di agar kisi ko samjha nahi hai na toh main samjhungi mere dadaji se mere chacha chachi mama mami aur main nana ji yah sab ke sab kisi sabki charit hai toh isliye mujhe mujhe bahut accha lagta hai yah mujhe batao ki hota ki main bahut achi family ko block karti hoon jitna diya hai bhagwan ne mujhe aisa lagta hai vo kaat diya hai bahut aur uske liye hum har baar baar bhagwan ji ka bahut bahut bahut shukriya ada karte hai meri parvarish ke liye main ki mujhe itni achi parvarish mili hai mere maa baap se mere parivar walon se sabhi se itne acche dost hai acche dost bhi itne salon mein lena ki main aapko bata nahi sakti ki sab ek se badhkar ek heera heera hai thoda sa aap friendship ke mamle mein sujan kam logo se zyada khushi milti nahi karti hai jinmein chunni 34 dosti hai mere jitne bhi hai na bahut khoobsurat hai bahut kimti hai bahut anmol hai mere dost kahin na kahin in sab ki koshishon ki wajah se shayad main aaj kaha par hoon main yahi kahungi aur iske alava mujhe nahi lagta ki aur kuch bacha hai bolne ko yah bata ko nahi chalte meri prishthbhumi mein itna kaafi ke liye

यार बहुत इंटरेस्टिंग क्वेश्चन है और मुझे यह बताते हुए बहुत खुशी हो रही है क्योंकि लोगों को

Romanized Version
Likes  22  Dislikes    views  254
WhatsApp_icon
play
user

Shibani Kashyap

Renowned Bollywood Singer and Actor

1:00

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

गली-गली ऑफ एजुकेशन असाइनमेंट फॉर म्यूजिक 2019 का सॉन्ग सजना आ भी जा का भी होता है

gali gali of education assignment for music 2019 ka song sajna aa bhi ja ka bhi hota hai

गली-गली ऑफ एजुकेशन असाइनमेंट फॉर म्यूजिक 2019 का सॉन्ग सजना आ भी जा का भी होता है

Romanized Version
Likes  24  Dislikes    views  479
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!