आपको ऐसा क्यों लगता है कि सामाजिक सुधार आंदोलन का धार्मिक सुधारों के बिना कोई अर्थ नहीं है?...


user

Bk Arun Kaushik

Youth Counselor Motivational Speaker

1:41
Play

Likes  70  Dislikes    views  2342
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

En Rajendra Kumar Joshi

Life Coach, Motivator

2:12
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार सामाजिक सुधार आंदोलन या धार्मिक सुधार आंदोलन दोनों एक दूसरे से जुड़े हुए हैं ऐसा नहीं है कि सामाजिक सुधार धार्मिक सुधार नहीं करते आपको राजा राममोहन राय का उदाहरण देना चाहिए जिन्होंने सती प्रथा बाल विवाह प्रथा और अनेकों प्रकार के हिंदू धर्म में फैली कुरीतियों को समाप्त करने के लिए आंदोलन किया लोगों को जागरूक किया और उसके बाद हिंदू धर्म में यह पूरी तरह समाप्त हुई और धार्मिक सुधार भी उसके बाद संभव हो पाया दोनों को अलग-अलग देख नहीं सकते यह दोनों एक दूसरे से जुड़े हुए हैं धार्मिक सुधार की आवश्यकता मेरे अनुसार नहीं होती सुधार सामाजिक होते हैं धर्म में कहीं पर भी किसी भी परम में कोई कमी नहीं होती हां उस धर्म को मानने वाला समाज उस धर्म में अपने सामाजिक आचार विचारों को डालकर उसको उसको कमजोर अवश्य करता है आज के दौर में हम मुस्लिम समाज में हलाला और तलाक प्रथा के ऊपर जो अभी आंदोलन चले सामाजिक सुधार के लिए चले गए या फिर यूं कहें कि उसको कोर्ट के तहत दंडनीय अपराध बनाया गया तो यह मुस्लिम धर्म में सामाजिक सुधार धार्मिक सुधारों का एक स्टार्टिंग अब उसको अगर धर्म में आत्मसात नहीं किया तो वह सामाजिक सुधार किसी तरह से कारगर नहीं हो सकता मतलब कि वह समाज में सुधार आ नहीं पाएगा जब तक कि धर्म उसकी परमिशन नहीं देगा तो इसलिए हम इसको कट ही नहीं मान सकते कि धार्मिक सुधार आंदोलन या सामाजिक सुधार आंदोलन अलग-अलग है दोनों एक ही है सिर्फ नाम अलग है धन्यवाद

namaskar samajik sudhaar andolan ya dharmik sudhaar andolan dono ek dusre se jude hue hain aisa nahi hai ki samajik sudhaar dharmik sudhaar nahi karte aapko raja rammohan rai ka udaharan dena chahiye jinhone sati pratha baal vivah pratha aur anekon prakar ke hindu dharm mein faili kuritiyon ko samapt karne ke liye andolan kiya logo ko jagruk kiya aur uske baad hindu dharm mein yah puri tarah samapt hui aur dharmik sudhaar bhi uske baad sambhav ho paya dono ko alag alag dekh nahi sakte yah dono ek dusre se jude hue hain dharmik sudhaar ki avashyakta mere anusaar nahi hoti sudhaar samajik hote hain dharm mein kahin par bhi kisi bhi param mein koi kami nahi hoti haan us dharm ko manne vala samaj us dharm mein apne samajik aachar vicharon ko dalkar usko usko kamjor avashya karta hai aaj ke daur mein hum muslim samaj mein Halala aur talak pratha ke upar jo abhi andolan chale samajik sudhaar ke liye chale gaye ya phir yun kahein ki usko court ke tahat dandniya apradh banaya gaya toh yah muslim dharm mein samajik sudhaar dharmik sudharo ka ek starting ab usko agar dharm mein aatmsat nahi kiya toh vaah samajik sudhaar kisi tarah se kargar nahi ho sakta matlab ki vaah samaj mein sudhaar aa nahi payega jab tak ki dharm uski permission nahi dega toh isliye hum isko cut hi nahi maan sakte ki dharmik sudhaar andolan ya samajik sudhaar andolan alag alag hai dono ek hi hai sirf naam alag hai dhanyavad

नमस्कार सामाजिक सुधार आंदोलन या धार्मिक सुधार आंदोलन दोनों एक दूसरे से जुड़े हुए हैं ऐसा न

Romanized Version
Likes  44  Dislikes    views  337
WhatsApp_icon
user

Lokesh kesharwani

Psychologist & Philosopher (Life Coach), Counsellor Of Everything.

3:10
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका फेस नहीं आपको ऐसा क्यों लगता है कि सामाजिक सुधार आंदोलन का धार्मिक सुधारों के बिना कोई अर्थ नहीं है तो मैं बताना चाहूंगा कि समाज मतलब समाज के अच्छे दिशा में ना जाने का सबसे बड़ा कारण यही है धर्म बढ़ जाना है इंसान अपना अपना सामान लेकर के अपना पुतले करके समाज को अपने द्वारा ही तोड़ दिया है जैसे यह है कि आज समाज में अलग गुट बन गए हैं और एक दूसरे का विरोध करते हैं ऐसे में समाज एक चल नहीं पाता और किसी भी आपदा में सामाजिक स्थिति में नहीं रह जाता तो समाज की सुधारण का जो समाज सुधार का जो मूल कारण होना चाहिए जो समाज के बिगड़ने का जो मूल कारण है और धर्म नहीं है तो सबसे पहले हमें ध्यान रिप्लाई करना होगा हमें लोग एक करना होगा हमें पूरा धर्म हटाने होंगे हमें बता रहा होगा कि हम इंसान हैं एक हैं ईश्वर भी एक ही है नहीं 36 ईश्वर है नहीं सकते इंसान की भी प्रजाति एक होती है और ईश्वरी प्रसाद एक होती है तब यह चीज है तब लोगों को समझ में आएंगे तभी ऐसा संभव हो सकता है कि हम धार्मिक प्रभाव दूर करें और सामाजिक समाज का सुधार करें और धर्म का प्रभाव दूर होना तभी संभव हो सकता है जब इंसान जागरुक हो और जागरूकता शिक्षा से इंसान के आध्यात्मिक शिक्षा होती है जब इंसान के अच्छे पढ़ाई होती है जब उनकी सोच होती है तब जाकर ऐसा होता है अच्छे शिक्षा होती है सरकार द्वारा सरकार में वही लोग अच्छी शिक्षा पर ध्यान देंगे जो खुद पढ़े लिखे हो एक अनपढ़ व्यक्ति कभी पढ़े लिखे व्यक्ति के महत्व को समझ नहीं पाता तो पढ़ा लिखा व्यक्ति हो सकेगा ऐसा नियम लागू होगा जब जनता साथ देगी और जब तक इस चुनाव में वही लोग खड़े होकर खड़े थे जिसमें लोग समझदार हो जो लोग बुद्धिमान हो उसका कोई गुट नहीं ना कोई नाम न कोई जाति न कोई धर्म संगठन है एकदम पढ़े-लिखे वालों का संगठन आंदोलन करेंगे संविधान के प्रति किलो है लेकिन मैं इतनी भी सुंदर को स्वतंत्रता नहीं चाहिए नहीं चाहिए और नेताओं के लिए एक नियम लागू होगा और धार्मिक और सामाजिक सुधार अपने आप हो जाएगा आपके साथ हैं धन्यवाद

aapka face nahi aapko aisa kyon lagta hai ki samajik sudhaar andolan ka dharmik sudharo ke bina koi arth nahi hai toh main batana chahunga ki samaj matlab samaj ke acche disha me na jaane ka sabse bada karan yahi hai dharm badh jana hai insaan apna apna saamaan lekar ke apna putale karke samaj ko apne dwara hi tod diya hai jaise yah hai ki aaj samaj me alag gut ban gaye hain aur ek dusre ka virodh karte hain aise me samaj ek chal nahi pata aur kisi bhi aapda me samajik sthiti me nahi reh jata toh samaj ki sudharan ka jo samaj sudhaar ka jo mul karan hona chahiye jo samaj ke bigadne ka jo mul karan hai aur dharm nahi hai toh sabse pehle hamein dhyan reply karna hoga hamein log ek karna hoga hamein pura dharm hatane honge hamein bata raha hoga ki hum insaan hain ek hain ishwar bhi ek hi hai nahi 36 ishwar hai nahi sakte insaan ki bhi prajati ek hoti hai aur ISHWARI prasad ek hoti hai tab yah cheez hai tab logo ko samajh me aayenge tabhi aisa sambhav ho sakta hai ki hum dharmik prabhav dur kare aur samajik samaj ka sudhaar kare aur dharm ka prabhav dur hona tabhi sambhav ho sakta hai jab insaan jagruk ho aur jagrukta shiksha se insaan ke aadhyatmik shiksha hoti hai jab insaan ke acche padhai hoti hai jab unki soch hoti hai tab jaakar aisa hota hai acche shiksha hoti hai sarkar dwara sarkar me wahi log achi shiksha par dhyan denge jo khud padhe likhe ho ek anpad vyakti kabhi padhe likhe vyakti ke mahatva ko samajh nahi pata toh padha likha vyakti ho sakega aisa niyam laagu hoga jab janta saath degi aur jab tak is chunav me wahi log khade hokar khade the jisme log samajhdar ho jo log buddhiman ho uska koi gut nahi na koi naam na koi jati na koi dharm sangathan hai ekdam padhe likhe walon ka sangathan andolan karenge samvidhan ke prati kilo hai lekin main itni bhi sundar ko swatantrata nahi chahiye nahi chahiye aur netaon ke liye ek niyam laagu hoga aur dharmik aur samajik sudhaar apne aap ho jaega aapke saath hain dhanyavad

आपका फेस नहीं आपको ऐसा क्यों लगता है कि सामाजिक सुधार आंदोलन का धार्मिक सुधारों के बिना को

Romanized Version
Likes  287  Dislikes    views  2941
WhatsApp_icon
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!