राजनीति करने वाले पैसे कमाने के लिए रिजर्व राजनीतिक करते हैं या जनता की सेवा करने के लिए?...


user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

3:02
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत में पैसे कमाने की यह धन के लालच से परिपूर्ण सत्ता सुख प्राप्त करने की यह सत्ता प्राप्त करने की की राजनीति हो रही है जन जन सेवा की राजनीति तो कहीं दिखाई नहीं देती है 90 पर चयन राजनीतिज्ञों का जोड़-तोड़ जो रहता है वह केवल सत्ता मदद करना होता है या सत्ता सुख प्राप्त करने के लिए ही यह दिन रात राजनीति कर रहे हैं अब जो राष्ट्रीय मुद्दे हैं उन पर कभी विचार करते हुए नजर नहीं आते हैं जैसे बेरोजगारी की समस्या नित रोज बढ़ती हुई महंगाई की समस्या बढ़ती हुई जनसंख्या वृद्धि की समस्या आदि की समस्याओं पर उनको विचार करना चाहिए वह कहीं करते हुए नजर नहीं आते हैं नित रोज अखबारों टीवी पर सिर्फ ओनली इन के कवन घोटाले स्कोरिस्ट अचार आदि बातें की देखने को मिलती हैं पता नहीं रातो रात में कब दल बदल कर लेते हैं कब किस पार्टी को छोड़कर की किस पार्टी में जा मिले कब नई पार्टी गठित कर लें यह कभी किसी गुणवान नहीं लग पाता है क्योंकि इनका जो सारा ध्यान होता है कोई एन केन प्रकारेण सत्ता और सत्ता की राजनीति करना ही नजर आता है यह आर्थिक रूप से कमजोर आर्थिक रूप से संपन्न ने एक एक राजनीतिज्ञ कम से कम 10 वीडियो प्ले कलेक्शन कर लिया है लेकिन उसके बावजूद भी इनका लालच कर रही अंत में नहीं आता तो मैं बड़ा से बड़ा दुखी हूं सज्जनता का अधिकांश भाग भी इनसे दुखी है यह सत्ता की राजनीति कब छोड़ेंगे कभी यह जनहित की बातें करेंगे कभी देश के बारे में सोचेंगे तो राजनीति का मूल सिद्धांत है जन्नत सर्वोपरि होता है देश हित सर्वोपरि होता है राष्ट्रपति समक्ष समर्पित भाग होते हैं वोट की राजनीति में आज दिखाई नहीं देते हैं पॉलीटिकल पार्टीज हैं इनकी भी यही हालत है यह धर्मांधता पूर्ण जातिवाद सिर्फ राजनीति कर रहे हैं जो धर्म उन्माद पैदा करती है उस धर्म का धार्मिक संप्रदाय दंगे को जन्म देती है अपने दिल्ली का दंगा देखा उसके पीछे निश्चित रूप से कहा जा सकता है इन पॉलिटिशियन ओके भड़काऊ भाषणों के द्वारा ही यह संपन्न हुए हैं कारण

bharat mein paise kamane ki yah dhan ke lalach se paripurna satta sukh prapt karne ki yah satta prapt karne ki ki raajneeti ho rahi hai jan jan seva ki raajneeti toh kahin dikhai nahi deti hai 90 par chayan rajaneetigyon ka jod tod jo rehta hai vaah keval satta madad karna hota hai ya satta sukh prapt karne ke liye hi yah din raat raajneeti kar rahe hain ab jo rashtriya mudde hain un par kabhi vichar karte hue nazar nahi aate hain jaise berojgari ki samasya neeta roj badhti hui mahangai ki samasya badhti hui jansankhya vriddhi ki samasya aadi ki samasyaon par unko vichar karna chahiye vaah kahin karte hue nazar nahi aate hain neeta roj akhbaron TV par sirf only in ke coven ghotale skorist achaar aadi batein ki dekhne ko milti hain pata nahi raato raat mein kab dal badal kar lete hain kab kis party ko chhodkar ki kis party mein ja mile kab nayi party gathit kar le yah kabhi kisi gunvaan nahi lag pata hai kyonki inka jo saara dhyan hota hai koi N cane prakaren satta aur satta ki raajneeti karna hi nazar aata hai yah aarthik roop se kamjor aarthik roop se sampann ne ek ek rajanitigya kam se kam 10 video play collection kar liya hai lekin uske bawajud bhi inka lalach kar rahi ant mein nahi aata toh main bada se bada dukhi hoon sajjanata ka adhikaansh bhag bhi inse dukhi hai yah satta ki raajneeti kab chodenge kabhi yah janhit ki batein karenge kabhi desh ke bare mein sochenge toh raajneeti ka mul siddhant hai jannat sarvopari hota hai desh hit sarvopari hota hai rashtrapati samaksh samarpit bhag hote hain vote ki raajneeti mein aaj dikhai nahi dete hain political parties hain inki bhi yahi halat hai yah dharmandhata purn jaatiwad sirf raajneeti kar rahe hain jo dharm unmaad paida karti hai us dharm ka dharmik sampraday dange ko janam deti hai apne delhi ka danga dekha uske peeche nishchit roop se kaha ja sakta hai in politician ok bhadkau bhashano ke dwara hi yah sampann hue hain karan

भारत में पैसे कमाने की यह धन के लालच से परिपूर्ण सत्ता सुख प्राप्त करने की यह सत्ता प्राप्

Romanized Version
Likes  215  Dislikes    views  3813
KooApp_icon
WhatsApp_icon
3 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!