मैं बात करते वक़्त हकलाता हूँ। मैं इसे कैसे ठीक करूँ?...


user

Bhim Singh Kasnia

Acupunctrist,Motivational Speaker

0:21
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार आपका सवाल है कि बात करते वक्त आप हक लाते हैं कैसे ठीक करें देखिए इसके लिए आप अपने शहर के जो सबसे अच्छे स्पीच थैरेपिस्ट है उनसे आप कंफर्म करें लगातार उनके पास जाकर प्रैक्टिस करें उनके बताए द्वारा अभ्यास को करने से ही आप इससे मुक्ति पा सकते हैं नमस्कार धन्यवाद

namaskar aapka sawaal hai ki baat karte waqt aap haq laate hain kaise theek kare dekhiye iske liye aap apne shehar ke jo sabse acche speech thairepist hai unse aap confirm kare lagatar unke paas jaakar practice kare unke bataye dwara abhyas ko karne se hi aap isse mukti paa sakte hain namaskar dhanyavad

नमस्कार आपका सवाल है कि बात करते वक्त आप हक लाते हैं कैसे ठीक करें देखिए इसके लिए आप अपने

Romanized Version
Likes  24  Dislikes    views  261
WhatsApp_icon
12 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Manish Singh

Motivational Speaker

0:55
Play

Likes  10  Dislikes    views  304
WhatsApp_icon
user

Abhishek Sharmaa

Life Coach And Internationally Recognised Tarot/Angel Card Reader, Reiki GrandMaster

3:47
Play

Likes  43  Dislikes    views  437
WhatsApp_icon
user

Bhavin J. Shah

Life Coach

1:04
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हकलाना ठीक करना यह जरूरी नहीं है हकलाने का स्वीकार करना यह जरूरी है हकलाना कुछ बुरी बात नहीं है हकलाना एक शरीर का स्वभाव है कुछ मन में बैठी बात या बचपन के कुछ डर या कोई ऐसा इंसीडेंस ऐसी कोई बीमारी जिसके कारण व्यक्ति अकल आता है एचडी फिल्म स्टार कहीं बिजनेसमैन कई स्पोर्ट्स पर्सन बोलते ह कल आते हैं उसको ठीक करने की वजह आप इतना नॉर्मल भी हेल्प करिए कि आप के लिए यह कोई प्रॉब्लम ही नहीं है इससे होगा यह क्यू शॉप टेंशन फ्री रहेंगे और आप नॉर्मल भूल पाएंगे आपको प्रयत्न भी नहीं करना पड़ेगा आपको याद भी नहीं करना पड़ेगा और आप ऐसे बातचीत करेंगे जैसे आप एक नार्मल इंसाने सुहाग लाना ठीक करना यह इसका उपाय नहीं है हकलाने को स्वीकार करना और फिर भी ऐसे भी हो करना जैसे कि आपके लिए नॉर्मल है यह आपको इससे बहुत जल्दी मुक्त करवा पाएगा थैंक यू

haklana theek karna yah zaroori nahi hai hakalane ka sweekar karna yah zaroori hai haklana kuch buri baat nahi hai haklana ek sharir ka swabhav hai kuch man mein baithi baat ya bachpan ke kuch dar ya koi aisa insidens aisi koi bimari jiske karan vyakti akal aata hai hd film star kahin bussinessmen kai sports person bolte h kal aate hain usko theek karne ki wajah aap itna normal bhi help kariye ki aap ke liye yah koi problem hi nahi hai isse hoga yah kyu shop tension free rahenge aur aap normal bhool payenge aapko prayatn bhi nahi karna padega aapko yaad bhi nahi karna padega aur aap aise batchit karenge jaise aap ek normal insane suhaag lana theek karna yah iska upay nahi hai hakalane ko sweekar karna aur phir bhi aise bhi ho karna jaise ki aapke liye normal hai yah aapko isse bahut jaldi mukt karva payega thank you

हकलाना ठीक करना यह जरूरी नहीं है हकलाने का स्वीकार करना यह जरूरी है हकलाना कुछ बुरी बात नह

Romanized Version
Likes  19  Dislikes    views  444
WhatsApp_icon
play
user

Dr. Suman Aggarwal

Personal Development Coach

0:52

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सबसे पहले आप अपनी हक नानी को स्वीकार कर ली यह बात तो बहुत जरूरी है और इसके बाद मैं आपको एक छोटी सी पत्नी बन जाती हूं और मैं आपको अप्रिशिएट करती हूं कि आप इससे भरना चाहते हैं और जब आप ने यह फैसला कर लिया कि आप इसे ठीक करना चाहते हैं तो सारी दुनिया आपके साथ हैं पूरा विश्व आपके साथ है कि आप इसे अच्छे से ठीक कर सके तो आपको ज्यादा मेहनत नहीं करनी होगी आप सिर्फ धीरे-धीरे रोज यह थोड़ी थोड़ी कोशिश करें कि आप सुबह उठने के बाद मिरर में अपने आप को देख कर खुद से कुछ भी बातें करें अपनी तारीफ करें और उस समय आप की आंखों से आंखें मिला कर बात करें और जन शब्दों में आफत लाते हैं उनको बार-बार उस सेंटेंस को पूरे को आप रिपीट करें और देखिए आपको इससे बहुत आराम मिलेगा

sabse pehle aap apni haq naani ko sweekar kar li yah baat toh bahut zaroori hai aur iske baad main aapko ek choti si patni ban jaati hoon aur main aapko aprishiet karti hoon ki aap isse bharna chahte hain aur jab aap ne yah faisla kar liya ki aap ise theek karna chahte hain toh saree duniya aapke saath hain pura vishwa aapke saath hai ki aap ise acche se theek kar sake toh aapko zyada mehnat nahi karni hogi aap sirf dhire dhire roj yah thodi thodi koshish kare ki aap subah uthane ke baad mirror mein apne aap ko dekh kar khud se kuch bhi batein kare apni tareef kare aur us samay aap ki aankho se aankhen mila kar baat kare aur jan shabdon mein afat laate hain unko baar baar us sentence ko poore ko aap repeat kare aur dekhiye aapko isse bahut aaram milega

सबसे पहले आप अपनी हक नानी को स्वीकार कर ली यह बात तो बहुत जरूरी है और इसके बाद मैं आपको एक

Romanized Version
Likes  16  Dislikes    views  447
WhatsApp_icon
user

Amol

Stammering Cure Specialist

0:28
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हकलाना जो है यह एक बीमारी नहीं है कपिल शर्मा को वीडियो हकलाना है चंद क्यों किसी को सकता है

haklana jo hai yah ek bimari nahi hai kapil sharma ko video haklana hai chand kyon kisi ko sakta hai

हकलाना जो है यह एक बीमारी नहीं है कपिल शर्मा को वीडियो हकलाना है चंद क्यों किसी को सकता है

Romanized Version
Likes  12  Dislikes    views  325
WhatsApp_icon
user

Dr Deepali batra

Clinical Psychologist

1:36
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

विकी बात करते हुए हकलाने के बहुत सारे कारण है इतनी कोशिशों को बचपन से ही यह दिक्कत होती है और कुछ लोगों को यह दिक्कत इसलिए होती है क्योंकि वह घबरा बड़ी जल्दी जाते जाते जाते हैं अनजान लोगों के सामने जाते हैं तो बोलते हुए अंदर घबराहट बेचैनी से लेती है जो हमारी बोली है वह बात नहीं आ पाती क्योंकि हम काफी ज्यादा कौन सी लड़की जल्दी खा जाते हैं परेशान जल्दी हो जाते दिक्कत हो सकती है अपना साइक्लोजिकल असेसमेंट करवाएं क्योंकि मानसिक जाट के टेस्ट होते हैं वह मशीन क्या कारण है जो यह दिक्कत हो रही है किसी भी पर्सन को किस टाइम के और भी बहुत सारे कार्टून होते हैं और कोई ऐसी चीज नहीं है आप जब आप अपनी जानेमन जानेमन के नीचे होते तो आप कौन होते हैं बात करते हैं कि परेशानी की वजह से गाना टूटने की वजह से अकाउंट बैलेंस कम होने की वजह से सैलरी हो रही है

vicky baat karte hue hakalane ke bahut saare karan hai itni koshishon ko bachpan se hi yah dikkat hoti hai aur kuch logo ko yah dikkat isliye hoti hai kyonki vaah ghabara badi jaldi jaate jaate jaate hain anjaan logo ke saamne jaate hain toh bolte hue andar ghabarahat bechaini se leti hai jo hamari boli hai vaah baat nahi aa pati kyonki hum kaafi zyada kaun si ladki jaldi kha jaate hain pareshan jaldi ho jaate dikkat ho sakti hai apna saiklojikal assessment karvaaein kyonki mansik jaat ke test hote hain vaah machine kya karan hai jo yah dikkat ho rahi hai kisi bhi person ko kis time ke aur bhi bahut saare cartoon hote hain aur koi aisi cheez nahi hai aap jab aap apni jaaneman jaaneman ke niche hote toh aap kaun hote hain baat karte hain ki pareshani ki wajah se gaana tutne ki wajah se account balance kam hone ki wajah se salary ho rahi hai

विकी बात करते हुए हकलाने के बहुत सारे कारण है इतनी कोशिशों को बचपन से ही यह दिक्कत होती है

Romanized Version
Likes  15  Dislikes    views  390
WhatsApp_icon
user

Dr. Swatantra Jain

Psychotherapist, Family & Career Counsellor and Parenting & Life Coach

10:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मैं बात करते वखत लापरवाही से कैसे ठीक करूं आप लाना एक समस्या है यह तो बहुत बच्चों को हो जाती है और इसके कारण शारीरिक और मानसिक और मनोवैज्ञानिक सभी होते हैं तो आपको देखना होगा कि आपके कौन से कह रहे हैं शरीर में सबसे बड़ा कारण है कि जो मस्तिष्क में एक रासायनिक असंतुलन हो सकता है ब्रेन के अंदर के भाग में बोलने की क्षमता को नियंत्रित करता है उसमें डोकोमेंट की मात्रा कम होने से डोपामाइन की मात्रा कम होने से प्रॉब्लम हो सकती है और मोटी होने से भी हो सकती है कुछ तलवे में भी फर्क पड़ा मैं आलू में भी फर्क पड़ सकता है तो डॉक्टर करके देखें क्या कारण क्या है अगर यह मनोवैज्ञानिक कारण है आज मानसिक कारण है तो इसके लिए काफी उपाय कर सकते हैं सबसे पहले तो इसको सेट करिए शिकार के लिए किया था चलाते हैं जैसे आपने प्रश्न पूछ लिया तो आप मान रहे लेकिन अपने अंदर से पूरा करके दूर करने का मतलब है आपको इसको और उनके सामने हम आपको देख कर बोलते हुए देख कर कोई हंसना शुरू करें कोई कुछ करें तो आप उसको हल्के से लेंगे आप उसका बुरा नहीं मानेंगे क्योंकि आपको पता है कि आपकी प्रॉब्लम हो रहा था पृथ्वी आप भी उस तो मजाक में ले दूसरों से बिल्कुल चिड़िया नहीं और इसके आईटी भी नहीं करी है इसके बारे में मतलब इसकी वजह से तनाव में भी नहीं आई है और यह तनाव यह चरण आपन और दूसरा है कि आप नोट करिए आप कौन से शब्द बनते हैं कौन से अक्षर बोल दो हम दो बार पूछने पाठ को हम बार-बार बनाते हैं दूध लाने का मतलब है कि आप उस वक्त कोई दबाव दबाव पड़ रहा है अगर आप दबाव महसूस करते हैं जेब में या मुंह के किस चीज से मैं इस दबाव को आप कहीं और निकाल सकते हैं जैसे मूवमेंट शुरू कर दो आगे पीछे जाना शुरु कर दी गई है या हाथ में हाथ से कुछ आपकी मॉम एंड बॉडी की मोमेंट मोमेंट मोमेंट करने के प्रति और जाकर आप किसे बोल पाएंगे फिर भी नहीं होता तो आप पब्लिक में बोलने से पहले अपने आप में कहीं प्रेक्टिस करें कई बोलिए जो आप देखिए आपको कौन-कौन से अक्षर कौन-कौन से वर्ल्ड की वजह से आप हट लाते हैं उनको आप अकेले में बोलने का अभ्यास करो उनको आपको बोलते हुए रिकॉर्ड करो और करने के बाद फिर आपको अपना खुद का रिकॉर्ड करो अकेले को रिकॉर्ड करो और पूरे ग्रुप की रिकॉर्डिंग करो तो जरूरी नहीं है कि पूरे ग्रुप के रिकॉर्डिंग करते हो आप उनको बताओ आप वैसे ही अपना रिकॉर्ड करके उनकी बातचीत को रिकॉर्ड क्यों उसने अपने आप आपको तो पता है आप रिकॉर्ड कर रहे हो तो आप अपने आप ज्यादा बोलिए ताकि आपको पता लगे बाद में उस रिपोर्ट को ध्यान से और आपको पता लगेगा आप कहां गलती कर रहे हैं कहां आप बार-बार गए इसलिए अक्षय को यह शब्द तो बोल रहे हैं कहां आप तनावग्रस्त हो रहे हैं आपका नाम ले रहे हैं और कैसे उसी के साथी आपका ग्रुप कैसे बोल रहे हो बार-बार उनको सुनने से और अपनी कमियों को लोड करने से देखिए यह बेस्ट तरीका है कि रिकॉर्ड करके अपनी कमी को आप सुन सकते हैं देख सकते हैं समझ सकते हैं अदर वाइज आप रिकॉर्ड नहीं करेंगे दूसरी आपको बताएंगे यार तू मटक मटक मटक के तो कोई मतलब आपको इतना पता नहीं लगेगा इसी तरह स्वीकार नहीं करते तनाव में रहते हो हम कौन सी सो जाते हैं बोलते कौनसी-कौनसी वैसे ही आप और हकलाना शुरू कर देते समय कुछ सोचिए नहीं बस अपने आप को डाइवर्ट करने की कोशिश करें सोचेंगे नहीं कि मैं बोल रहा हूं या गलत बोल जाऊंगा मैं कैसे बोलूंगा तो आप गलत बोल सकते हैं इसलिए सोचे नहीं बस एक प्रभावी नेचुरल की परवाह मत करो जैसा भी जो भी हंसते हैं हंस में दो परवाह मत कर क्योंकि आपने तो स्वीकार कर लिया आप से गलती होती है आप बोल रहा तुझे समझते हैं और यह समस्या आपकी हां यह भी सोचे की समस्या खाली आपकी नहीं है बहुत सारे लोग बहुत सारे लोग एवं अच्छे-अच्छे पब्लिक स्पीकर्स भी किसी टाइम बहुत आते थे बहुत थक लाते थे और धीरे-धीरे करके उनकी कंप्यूटर बन गई बन सकते क्योंकि आपको आपके अंदर अभी विश्वास की कमी है तो जैसे जैसे वह विश्वास वापस आएगा अगर मनोवैज्ञानिक कारणों जैसे जैसे आपका विश्वास बताएगा आप की मोटिवेशन बढ़ेगी अपने ऊपर कॉन्फिडेंस होगा बिना हकलाहट के होती जाएगी बेबसी अपनी बॉडी लैंग्वेज को बदल कर भी हकला हकला तेरे पता कि हमारी मोमेंट कैसी होती है हमारी कैसे बनता है इसमें तन जाता है जहां हमारे अंदर तनाव आता है असली नोट करिए आपके अंदर कहां तनाव आ रहा है और अब तो आप मेरे सामने बोलने की प्रैक्टिस के सामने बोलने से आपको पता लगेगा आप को बदलने की कोशिश करिए अगर मुंह लाल हो जाता है या कुछ और हो जाता है जाते हैं कुछ प्रॉब्लम होती है तो निकालने की कोशिश करें और एक बात एक स्टैंड से बोलते हैं तो हमारे बीच में गड़बड़ हो जाती है और गड़बड़ का मतलब एक ही स्टाइल को बदल कर आप कविता के फॉर्म में गाने की फॉर्म नहीं है किसी और फोन में उसको गाकर देखी उसको बोल कर देखिए और क्या उसका रिटर्न कुछ बदल ले स्टाइल बदलने तो आपको जो एक डरता था ना आपके बोलने का गलत बोलने का बहुत दूर हो सकता है ट्राई कर सकते हैं आप किसी को भी आता किसी का नहीं यह तो डिपेंड करता है कि आप आपको कौन सा उपाय क्लिक करेगा बहुत सारे उपाय हो सकते हैं और हां जान पहचान के लोगों से तो आप खुश होते हो कौन से सूखे बोलते तो फिर ज्यादा है प्लांट आपको याद आ जाती है और आपको कौन से छोटे गलत बोलते हो इसलिए आप अनजान लोगों से बोलने की दादा कोशिश करिए चले जाए वहां जाकर बोल सकते हो क्योंकि उनको पता नहीं है कि आप गलत बोलते हो तो वहां जाकर जाकर ज्यादा चीजें मुझे दिखाओ दिखाओ कर सकते बोल सकते बच्चे बच्चे आपके बारे में जानते नहीं पार्क में जाओ तो अजनबी लोगों से बोल सकते हो तो जितने भी अजनबी लोग जवाब से कम पढ़े लिखे हैं उन लोगों से बातचीत करो क्योंकि उनको आपके बारे में पता नहीं और उनके उनसे बात करने में अनपढ़ या अज्ञानी लोगों से बात करने में आपको ज्यादा कंप्यूटर चाहेगा आपसे पिएंगे तो वहां पर आप बिना कौन सी सकते हैं और कई बार ऐसे लोगों कोशिश करूंगा तो सोचिए नहीं लेकिन लंबा चलेगा

main baat karte vakhat laparwahi se kaise theek karu aap lana ek samasya hai yah toh bahut baccho ko ho jaati hai aur iske karan sharirik aur mansik aur manovaigyanik sabhi hote hain toh aapko dekhna hoga ki aapke kaunsi keh rahe hain sharir mein sabse bada karan hai ki jo mastishk mein ek Rasayanik asantulan ho sakta hai brain ke andar ke bhag mein bolne ki kshamta ko niyantrit karta hai usme dokoment ki matra kam hone se dopamine ki matra kam hone se problem ho sakti hai aur moti hone se bhi ho sakti hai kuch talave mein bhi fark pada main aalu mein bhi fark pad sakta hai toh doctor karke dekhen kya karan kya hai agar yah manovaigyanik karan hai aaj mansik karan hai toh iske liye kaafi upay kar sakte hain sabse pehle toh isko set kariye shikaar ke liye kiya tha chalte hain jaise aapne prashna puch liya toh aap maan rahe lekin apne andar se pura karke dur karne ka matlab hai aapko isko aur unke saamne hum aapko dekh kar bolte hue dekh kar koi hansana shuru kare koi kuch kare toh aap usko halke se lenge aap uska bura nahi manenge kyonki aapko pata hai ki aapki problem ho raha tha prithvi aap bhi us toh mazak mein le dusro se bilkul chidiya nahi aur iske it bhi nahi kari hai iske bare mein matlab iski wajah se tanaav mein bhi nahi I hai aur yah tanaav yah charan apan aur doosra hai ki aap note kariye aap kaunsi shabd bante hain kaunsi akshar bol do hum do baar poochne path ko hum baar baar banate hain doodh lane ka matlab hai ki aap us waqt koi dabaav dabaav pad raha hai agar aap dabaav mehsus karte hain jeb mein ya mooh ke kis cheez se main is dabaav ko aap kahin aur nikaal sakte hain jaise movement shuru kar do aage peeche jana shuru kar di gayi hai ya hath mein hath se kuch aapki mom and body ki moment moment moment karne ke prati aur jaakar aap kise bol payenge phir bhi nahi hota toh aap public mein bolne se pehle apne aap mein kahin practice kare kai bolie jo aap dekhiye aapko kaun kaunsi akshar kaun kaunsi world ki wajah se aap hut laate hain unko aap akele mein bolne ka abhyas karo unko aapko bolte hue record karo aur karne ke baad phir aapko apna khud ka record karo akele ko record karo aur poore group ki recording karo toh zaroori nahi hai ki poore group ke recording karte ho aap unko batao aap waise hi apna record karke unki batchit ko record kyon usne apne aap aapko toh pata hai aap record kar rahe ho toh aap apne aap zyada bolie taki aapko pata lage baad mein us report ko dhyan se aur aapko pata lagega aap kahan galti kar rahe hain kahan aap baar baar gaye isliye akshay ko yah shabd toh bol rahe hain kahan aap tanaavgrast ho rahe hain aapka naam le rahe hain aur kaise usi ke sathi aapka group kaise bol rahe ho baar baar unko sunne se aur apni kamiyon ko load karne se dekhiye yah best tarika hai ki record karke apni kami ko aap sun sakte hain dekh sakte hain samajh sakte hain other wise aap record nahi karenge dusri aapko batayenge yaar tu matak matak matak ke toh koi matlab aapko itna pata nahi lagega isi tarah sweekar nahi karte tanaav mein rehte ho hum kaun si so jaate hain bolte kaunsi kaun se waise hi aap aur haklana shuru kar dete samay kuch sochiye nahi bus apne aap ko Divert karne ki koshish kare sochenge nahi ki main bol raha hoon ya galat bol jaunga main kaise boloonga toh aap galat bol sakte hain isliye soche nahi bus ek prabhavi natural ki parvaah mat karo jaisa bhi jo bhi hansate hain hans mein do parvaah mat kar kyonki aapne toh sweekar kar liya aap se galti hoti hai aap bol raha tujhe samajhte hain aur yah samasya aapki haan yah bhi soche ki samasya khaali aapki nahi hai bahut saare log bahut saare log evam acche acche public speakers bhi kisi time bahut aate the bahut thak laate the aur dhire dhire karke unki computer ban gayi ban sakte kyonki aapko aapke andar abhi vishwas ki kami hai toh jaise jaise vaah vishwas wapas aayega agar manovaigyanik karanon jaise jaise aapka vishwas batayega aap ki motivation badhegi apne upar confidence hoga bina hakalahat ke hoti jayegi bebasi apni body language ko badal kar bhi hakla hakla tere pata ki hamari moment kaisi hoti hai hamari kaise baata hai isme tan jata hai jaha hamare andar tanaav aata hai asli note kariye aapke andar kahan tanaav aa raha hai aur ab toh aap mere saamne bolne ki practice ke saamne bolne se aapko pata lagega aap ko badalne ki koshish kariye agar mooh laal ho jata hai ya kuch aur ho jata hai jaate hain kuch problem hoti hai toh nikalne ki koshish kare aur ek baat ek stand se bolte hain toh hamare beech mein gadbad ho jaati hai aur gadbad ka matlab ek hi style ko badal kar aap kavita ke form mein gaane ki form nahi hai kisi aur phone mein usko gaakar dekhi usko bol kar dekhiye aur kya uska return kuch badal le style badalne toh aapko jo ek darta tha na aapke bolne ka galat bolne ka bahut dur ho sakta hai try kar sakte hain aap kisi ko bhi aata kisi ka nahi yah toh depend karta hai ki aap aapko kaun sa upay click karega bahut saare upay ho sakte hain aur haan jaan pehchaan ke logo se toh aap khush hote ho kaunsi sukhe bolte toh phir zyada hai plant aapko yaad aa jaati hai aur aapko kaunsi chote galat bolte ho isliye aap anjaan logo se bolne ki dada koshish kariye chale jaaye wahan jaakar bol sakte ho kyonki unko pata nahi hai ki aap galat bolte ho toh wahan jaakar jaakar zyada cheezen mujhe dikhaao dikhaao kar sakte bol sakte bacche bacche aapke bare mein jante nahi park mein jao toh ajnabee logo se bol sakte ho toh jitne bhi ajnabee log jawab se kam padhe likhe hain un logo se batchit karo kyonki unko aapke bare mein pata nahi aur unke unse baat karne mein anpad ya agyani logo se baat karne mein aapko zyada computer chahega aapse piyenge toh wahan par aap bina kaun si sakte hain aur kai baar aise logo koshish karunga toh sochiye nahi lekin lamba chalega

मैं बात करते वखत लापरवाही से कैसे ठीक करूं आप लाना एक समस्या है यह तो बहुत बच्चों को हो जा

Romanized Version
Likes  188  Dislikes    views  2101
WhatsApp_icon
user
0:34
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है कि आप बात करते वक्त खाकर आते हैं तो मैं आपको यही बता देना चाहता हूं कि परण्या में एक उज्जाई प्राणायाम होता है जिससे आपको ज्यादा फायदा हो सकता है अतः आप इस ऊंचाई पर मैं आपको निरंतर कम से कम दो-तीन माह का तक करिए उसके बाद आपको ज्यादा बेनिफिट होगा या फिर आप ओमकार कंटिन्यू किसी भी टाइम करिए लेकिन कंटिन्यू 23 माता करी उससे भी आपको बेनिफिट हो सकता है

aapka prashna hai ki aap baat karte waqt khakar aate hain toh main aapko yahi bata dena chahta hoon ki paranya me ek ujjai pranayaam hota hai jisse aapko zyada fayda ho sakta hai atah aap is unchai par main aapko nirantar kam se kam do teen mah ka tak kariye uske baad aapko zyada benefit hoga ya phir aap omkar continue kisi bhi time kariye lekin continue 23 mata kari usse bhi aapko benefit ho sakta hai

आपका प्रश्न है कि आप बात करते वक्त खाकर आते हैं तो मैं आपको यही बता देना चाहता हूं कि परण्

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  125
WhatsApp_icon
user

Chaina Karmakar

Spiritual Healer & Life Coach

1:45
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अब बात करते समय हाथ लाते हैं सबसे पहले इस चीज को स्वीकार करें क्योंकि स्ट्रगल और ज्यादा होता है जब आप इस को एक्सेप्ट नहीं कर पाते हैं क्योंकि हमेशा आप अपने आसपास दूसरों को बात करते हुए देखते हैं और आपको लगता है कि आप नॉर्मल तरीके से बात नहीं कर पा रहे तू यह चीज जो है आपके अंदर कांस्टेंट एक स्ट्रगल क्रिएट करता है कि उस क्रिएट करता है जो कि आपको आपके कॉन्फिडेंस को बिल्कुल लोअर लेवल पर ले आता है बात करने की कोशिश करते हैं या किसी के साथ एंजॉय करते हैं क्या हो जाता है आपको बार बार याद दिलाया जाता है आपकी मां को याद दिलाती क्या फल आते हो और अब कौन से सो जाते हो और आप बात करते समय और भी ज्यादा हकलाने लगते हो तो सबसे पहले स्वीकार करें कि हां मैं चलाता हूं और जैसे ही आप इस चीज को स्वीकार करेंगे आपके कॉन्फिडेंस लेवल जो है खिलेगा ने उस से क्या हो जाएगा आपको बात करते समय जो है अगर आप हां कल आएंगे भी तो आपको कंफर्टेबल फील होगा इसे क्यों होता है धीरे-धीरे इसकी इंटेंसिटी कम होती जाती है धीरे धीरे आप से बात भी नहीं होता कि आप अच्छे से बोल पा रहे हैं तो सबसे पहले स्वीकार कीजिए और इंटर्न बनाई है कि मुझे मां से बाहर निकलना है आराम से तभी जाकर आप बाहर निकल पाएंगे और अच्छे से बात कर पाएंगे

ab baat karte samay hath laate hain sabse pehle is cheez ko sweekar kare kyonki struggle aur zyada hota hai jab aap is ko except nahi kar paate hain kyonki hamesha aap apne aaspass dusro ko baat karte hue dekhte hain aur aapko lagta hai ki aap normal tarike se baat nahi kar paa rahe tu yah cheez jo hai aapke andar constant ek struggle create karta hai ki us create karta hai jo ki aapko aapke confidence ko bilkul lower level par le aata hai baat karne ki koshish karte hain ya kisi ke saath enjoy karte kya ho jata hai aapko baar baar yaad dilaya jata hai aapki maa ko yaad dilati kya fal aate ho aur ab kaunsi so jaate ho aur aap baat karte samay aur bhi zyada hakalane lagte ho toh sabse pehle sweekar kare ki haan main chalata hoon aur jaise hi aap is cheez ko sweekar karenge aapke confidence level jo hai khilega ne us se kya ho jaega aapko baat karte samay jo hai agar aap haan kal aayenge bhi toh aapko Comfortable feel hoga ise kyon hota hai dhire dhire iski intention kam hoti jaati hai dhire dhire aap se baat bhi nahi hota ki aap acche se bol paa rahe hain toh sabse pehle sweekar kijiye aur intern banai hai ki mujhe maa se bahar nikalna hai aaram se tabhi jaakar aap bahar nikal payenge aur acche se baat kar payenge

अब बात करते समय हाथ लाते हैं सबसे पहले इस चीज को स्वीकार करें क्योंकि स्ट्रगल और ज्यादा हो

Romanized Version
Likes  20  Dislikes    views  448
WhatsApp_icon
user

Chandrakant Shrivastav

Educationist N Counsellor. PD Trainer. Motivator

0:45
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आप केवल समय पर भरोसा रखिए आपका हकलाना समय के साथ ठीक हो जाएगा कि डॉक्टरों के चक्कर में पड़ी है मत इसकी कोई दवाई नहीं है मुझे बोलते बोलते कर चलते चलते वह सब ठीक हो जाएगा मक्खी फिल्म देखिए आपने उसमें आप देख लेना एक मक्खी है जो उड़ नहीं पाती है उसका एक पंख चिपक जाता है कोशिश करती है वह पंख निकल आता है तो यह कल आना कोई बड़ी बीमारी नहीं है वैसे भी आप कैसे बोलती हो इससे बहुत ज्यादा जरूरी है क्या क्या बोलते हो ठीक है साहब

aap keval samay par bharosa rakhiye aapka haklana samay ke saath theek ho jaega ki doctoron ke chakkar me padi hai mat iski koi dawai nahi hai mujhe bolte bolte kar chalte chalte vaah sab theek ho jaega makkhi film dekhiye aapne usme aap dekh lena ek makkhi hai jo ud nahi pati hai uska ek pankh chipak jata hai koshish karti hai vaah pankh nikal aata hai toh yah kal aana koi badi bimari nahi hai waise bhi aap kaise bolti ho isse bahut zyada zaroori hai kya kya bolte ho theek hai saheb

आप केवल समय पर भरोसा रखिए आपका हकलाना समय के साथ ठीक हो जाएगा कि डॉक्टरों के चक्कर में पड़

Romanized Version
Likes  36  Dislikes    views  325
WhatsApp_icon
user

विकास सिंह

दिल से भारतीय

0:29
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दिल सामने वाले से बात करते समय ग्राफ बीच में अटकते हैं तो मैं भी आज कितने लोगों अटकने का थोड़ा आदत होता है कितने लोग कुछ होता के लिए ज्यादा वह बात नहीं करना चाहते हैं या नहीं लोगों से बात करने में तो दिक्कत होती है तो क्या प्रॉब्लम है पहले की पहली बात तो कभी भी किसी भी अनजान लोगों से बात की थी तूने कौन फ्रेंड हो कर बात कर बात करते हैं तो आप का एक अच्छा सा इमेज भी अच्छा लगता तो आप जो भी प्रॉब्लम को दूर कर पाएंगे

dil saamne waale se baat karte samay graph beech mein atakate hain toh main bhi aaj kitne logo atakane ka thoda aadat hota hai kitne log kuch hota ke liye zyada vaah baat nahi karna chahte hain ya nahi logo se baat karne mein toh dikkat hoti hai toh kya problem hai pehle ki pehli baat toh kabhi bhi kisi bhi anjaan logo se baat ki thi tune kaun friend ho kar baat kar baat karte hain toh aap ka ek accha sa image bhi accha lagta toh aap jo bhi problem ko dur kar payenge

दिल सामने वाले से बात करते समय ग्राफ बीच में अटकते हैं तो मैं भी आज कितने लोगों अटकने का थ

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  196
WhatsApp_icon
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!