भाषा नीति से आप क्या समझते हैं?...


play
user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

1:43

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आशा दीदी चमार के द्वारा वैधानिक रूप से 16 भाषाओं को स्वीकृति दी हुई है बे 16 भाषाओं के माध्यम से ही आप कोई भी कार्य कर सकते हैं और उन को संवैधानिक मान्यता है लेकिन एक भाषा पूरे देश में ऐसी होनी चाहिए जो पूरे देश को जोड़ सके जो राष्ट्रीय एकता पन कर सके उस रूप में हमारे पूर्वज हमारे देश के हितेषी राजनीतिज्ञों ने सरकारों ने हिंदी भाषा का चयन किया था लिख दिया हिंदी भाषा को लेकर kv2 बातें उत्तर भारत वाले तो हिंदी भाषा को ही चाहते हैं लेकिन दक्षिण भारतीय जो लोग हैं वह हिंदी का विरोध करते हैं क्योंकि कारण क्या है कि वह लोग इंग्लिश बोलने में बहुत एक्सपर्ट हैं वे लोग अभी आप अपनी लोकल लैंग्वेज ओक हम करते हैं या फिर इंग्लिश को पसंद करते हैं जबकि उत्तर भारत के लोग आज भी बहुमत के साथ हिंदी भाषा को ही चाहते हैं जबकि एक भाषा होनी चाहिए जो देश भाषा के रूप में काम कर सके जो राष्ट्रीय एकता स्थापित कर सके जो राष्ट्रीय लोगों को मिला सके जो देश के लोगों को जनहितकारी करने के लिए प्रेरणा दे सके इस रूप में यदि देखा जाए तो सर्वाधिक मान्यता प्राप्त हमारी राष्ट्रभाषा है हिंदी की हो सकती है होनी चाहिए और उसी का समर्थन किया गया है

asha didi chamaar ke dwara vaidhyanik roop se 16 bhashaon ko swikriti di hui hai be 16 bhashaon ke madhyam se hi aap koi bhi karya kar sakte hain aur un ko samvaidhanik manyata hai lekin ek bhasha poore desh mein aisi honi chahiye jo poore desh ko jod sake jo rashtriya ekta pan kar sake us roop mein hamare purvaj hamare desh ke hiteshi rajaneetigyon ne sarkaro ne hindi bhasha ka chayan kiya tha likh diya hindi bhasha ko lekar kv2 batein uttar bharat waale toh hindi bhasha ko hi chahte hain lekin dakshin bharatiya jo log hain vaah hindi ka virodh karte hain kyonki karan kya hai ki vaah log english bolne mein bahut expert hain ve log abhi aap apni local language oak hum karte hain ya phir english ko pasand karte hain jabki uttar bharat ke log aaj bhi bahumat ke saath hindi bhasha ko hi chahte hain jabki ek bhasha honi chahiye jo desh bhasha ke roop mein kaam kar sake jo rashtriya ekta sthapit kar sake jo rashtriya logo ko mila sake jo desh ke logo ko janahitkari karne ke liye prerna de sake is roop mein yadi dekha jaaye toh sarvadhik manyata prapt hamari rashtrabhasha hai hindi ki ho sakti hai honi chahiye aur usi ka samarthan kiya gaya hai

आशा दीदी चमार के द्वारा वैधानिक रूप से 16 भाषाओं को स्वीकृति दी हुई है बे 16 भाषाओं के माध

Romanized Version
Likes  200  Dislikes    views  3192
KooApp_icon
WhatsApp_icon
3 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!