क्या भारत की इकोनॉमी भविष्य में बिज़नेस के ऊपर निर्भर होगी? आपकी राय?...


play
user

Pradeep Kumar Patel

Graduation (Civil Engineer), Poet

1:07

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जिस तरह से जनसंख्या में वृद्धि हो रही है और खेती कम हो रही है इससे कह सकते हैं कि इंडिया की टीचर इकोनॉमी बिजनेस के ऊपर ही डिपेंड होगी क्योंकि भारत सरकार की कुल आय का एक बड़ा हिस्सा बिजनेस से होता है और अदर कंट्रीस में भी देखा जाए तो बिजनेस को लोग ज्यादा महत्व देते हैं और बिजनेस यही इनकम होती है तो कहीं ना कहीं भारत सरकार या भारत के भारत की जनता और देशों की तुलना करके अपने देश में भी बिजनेस को प्राथमिकता दे रहे हैं और बिजनेस को महत्व दे रहे हैं और भारत सरकार भी इसी पर ज्यादा जोर देती है और इसी को बढ़ावा दे रही है बिजनेस को ही बढ़ावा दे रहे जिससे आज की युवा पीढ़ी उस बिजनेस करके अपने करियर बना सके और बेहतर भविष्य बना सकें

jis tarah se jansankhya mein vriddhi ho rahi hai aur kheti kam ho rahi hai isse keh sakte hain ki india ki teacher economy business ke upar hi depend hogi kyonki bharat sarkar ki kul aay ka ek bada hissa business se hota hai aur other kantris mein bhi dekha jaaye toh business ko log zyada mahatva dete hain aur business yahi income hoti hai toh kahin na kahin bharat sarkar ya bharat ke bharat ki janta aur deshon ki tulna karke apne desh mein bhi business ko prathamikta de rahe hain aur business ko mahatva de rahe hain aur bharat sarkar bhi isi par zyada jor deti hai aur isi ko badhawa de rahi hai business ko hi badhawa de rahe jisse aaj ki yuva peedhi us business karke apne career bana sake aur behtar bhavishya bana sakein

जिस तरह से जनसंख्या में वृद्धि हो रही है और खेती कम हो रही है इससे कह सकते हैं कि इंडिया क

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  131
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Pragati

Aspiring Lawyer

1:47
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी हां यह बात बिल्कुल सही है कि इंडिया की जो फ्यूचर इकॉनमी है वह काफी हद तक बिजनेस के ऊपर डिपेंड होगी क्योंकि देखिए अभी भी हम देखें तो अब BJP के आने के बाद हमारी जो कॉल मी है वह कैपिटल को नमी बन गई है जहां पर पैसे का बहुत ज्यादा महत्व हो गया है और हर चीज हर वस्तु आपको पैसे से ही मिल रही है तो कहीं ना कहीं और जो आगे का फ्यूचर है वह बिजनेस पर बहुत ज्यादा डिपेंड करेगा क्योंकि यह जितना इंसान बिजनेस कर पाएगा कि हमारे देश में जितना बिज़नेस होगा चीजों का उतनी ही इकॉनमी अच्छी होगी और वही जा कर लोगों को लाभ मिलेगा अगर हमारे देश में अच्छे बिजनेस की शुरुआत होगी अच्छे स्टार्टअप्स की शुरुआत होगी ताकि हमारे देश में जो फॉरेन इन्वेस्टमेंट है वह आएगा उससे और कहीं ना कहीं हमारे देश के जो शेयर मार्किट के प्राइसेज है वह भी ऊपर जाएंगे स्टॉक मार्केट ऊपर जाएगा और और और हमारे देश की दुकान भी है वह काफी हद तक कैपिटल इस शाने ही पैसों के ऊपर डिपेंड करेगी जो कि बृजेश की वजह से ही उसका लेनदेन बढ़ता है तो वह मुझे लगता है कि हां यह बात बिल्कुल सही है हमारे देश की जो फ्यूचर इकॉनमी है वह काफी हद तक बिजनेस के ऊपर डिपेंड करेगी क्योंकि बिजनेस एक बहुत बड़ा रोल प्ले करेगा जब वह पूरी पूरी तरह से हमारी जो कॉल मी है वह कैपिटल लिस्ट बन जाएगी टैक्स सिस्टम बहुत अच्छा स्ट्रांग बन जाएगा तो उसके बाद जो लोग भी जाएंगे कि वह किसी ना किसी बिजनेस में अपना हाथ आजमाए ताकि है क्योंकि बिजनेस में ही जाकर लोगों को फायदा होना शुरू होगा क्योंकि बाहर के लोग जब इन्वेस्टमेंट करेंगे और हमारे देश में ही जब इन्वेस्टमेंट होगा डायरेक्ट इन्वेस्टमेंट तो वह सभी बिजनेस में होगा और बिजनेस इसके हीरो प्राइसेस है जो स्टॉक मार्केट में उनके शेर हैं वह पर जाएंगे तो ओवरऑल पुरी कॉलोनी जो है वह बस उसके ऊपर ही भेज दोगी तो इसीलिए हम कह सकते हैं कि अंदर इंडिया का जो फ्यूचर है वह बिजनेस के ऊपर ही भेज दूंगा

ji haan yah baat bilkul sahi hai ki india ki jo future economy hai vaah kaafi had tak business ke upar depend hogi kyonki dekhiye abhi bhi hum dekhen toh ab BJP ke aane ke baad hamari jo call me hai vaah capital ko nami ban gayi hai jaha par paise ka bahut zyada mahatva ho gaya hai aur har cheez har vastu aapko paise se hi mil rahi hai toh kahin na kahin aur jo aage ka future hai vaah business par bahut zyada depend karega kyonki yah jitna insaan business kar payega ki hamare desh mein jitna business hoga chijon ka utani hi economy achi hogi aur wahi ja kar logo ko labh milega agar hamare desh mein acche business ki shuruat hogi acche startups ki shuruat hogi taki hamare desh mein jo foreign investment hai vaah aayega usse aur kahin na kahin hamare desh ke jo share market ke prices hai vaah bhi upar jaenge stock market upar jaega aur aur aur hamare desh ki dukaan bhi hai vaah kaafi had tak capital is shane hi paison ke upar depend karegi jo ki brijesh ki wajah se hi uska lenden badhta hai toh vaah mujhe lagta hai ki haan yah baat bilkul sahi hai hamare desh ki jo future economy hai vaah kaafi had tak business ke upar depend karegi kyonki business ek bahut bada roll play karega jab vaah puri puri tarah se hamari jo call me hai vaah capital list ban jayegi tax system bahut accha strong ban jaega toh uske baad jo log bhi jaenge ki vaah kisi na kisi business mein apna hath ajamaye taki hai kyonki business mein hi jaakar logo ko fayda hona shuru hoga kyonki bahar ke log jab investment karenge aur hamare desh mein hi jab investment hoga direct investment toh vaah sabhi business mein hoga aur business iske hero praises hai jo stock market mein unke sher hain vaah par jaenge toh overall puri colony jo hai vaah bus uske upar hi bhej dogi toh isliye hum keh sakte hain ki andar india ka jo future hai vaah business ke upar hi bhej dunga

जी हां यह बात बिल्कुल सही है कि इंडिया की जो फ्यूचर इकॉनमी है वह काफी हद तक बिजनेस के ऊपर

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  140
WhatsApp_icon
user

SATYAM

JE AT NTPC

1:01
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमारी देश की इकोनॉमी हिंदी बेस्ट होगी नदीयापार पर गिरे तो शॉर्टकट में हथोड़ा में इकोनॉमी की बात नहीं करते तो होती ही बात कर लेते यह इनकम टैक्स इंफ्रास्ट्रक्चर एग्रीकल्चर एक्सपोर्ट-इंपोर्ट उस सभी दोस्तों से जिससे कि हमारी अर्थव्यवस्था को स्ट्रांग होता है वे सभी रिवीजन होते हैं और कैसे अधिक योगदान है पावर जितना ही कम रेट में उपलब्ध होगा उतना ही अधिक प्रोडक्शन होगा एग्रीकल्चर हो या इंडस्ट्री हो जाए इंफ्रास्ट्रक्चर हो प्रोडक्शन जितना इनक्रीस करेगा कहीं ना कहीं यह हमारे देश की इकोनॉमी में इनक्रीस करेगा जरूर और हमें ऐसा लगता है थैंक यू फैमिली

hamari desh ki economy hindi best hogi nadiyapar par gire toh shortcut mein hathoda mein economy ki baat nahi karte toh hoti hi baat kar lete yah income tax infrastructure agriculture export import us sabhi doston se jisse ki hamari arthavyavastha ko strong hota hai ve sabhi revision hote hain aur kaise adhik yogdan hai power jitna hi kam rate mein uplabdh hoga utana hi adhik production hoga agriculture ho ya industry ho jaaye infrastructure ho production jitna increase karega kahin na kahin yah hamare desh ki economy mein increase karega zaroor aur hamein aisa lagta hai thank you family

हमारी देश की इकोनॉमी हिंदी बेस्ट होगी नदीयापार पर गिरे तो शॉर्टकट में हथोड़ा में इकोनॉमी क

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  176
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!