भारत में कौनसी जाति गरीबों पर ज़्यादा अत्याचार करती है?...


user

Vatsal

Engineering Student

0:56
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दिल की जहां तक बात है चार अन्य देशों में क्या है कोई एक पर्टिकुलर जाति विशेष के लोग जो है वह सबसे ज्यादा मात्रा में थोड़े बहुत लोगों की पुरानी पार्टी द्वारा की जाती है आप सफलता नहीं मिलेगी आजकल की युवा जनरेशन बहुत होशियार हो गई हो कैसे होते हैं

dil ki jaha tak baat hai char anya deshon mein kya hai koi ek particular jati vishesh ke log jo hai vaah sabse zyada matra mein thode bahut logo ki purani party dwara ki jaati hai aap safalta nahi milegi aajkal ki yuva generation bahut hoshiyar ho gayi ho kaise hote hain

दिल की जहां तक बात है चार अन्य देशों में क्या है कोई एक पर्टिकुलर जाति विशेष के लोग जो है

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  109
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

.

Hhhgnbhh

0:28
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए मुझे कुछ जानती नहीं पर यह तो अमीर लोग होते हैं यह गरीब लोगों पर बहुत अत्याचार करता हूं का सबसे आसान अत्याचार करने का तरीका जो सबसे ज्यादा बुरी तरीके से पर बात करता गरीबों को वह भ्रष्टाचार है क्योंकि प्रस्तुत करते हैं जिनके पास काला धन आता है तो यह काला धन मतलब ऐसा नहीं होता कि कहीं से आ जाता है पैसा होता है जो इनको बनता है

dekhiye mujhe kuch jaanti nahi par yah toh amir log hote hain yah garib logo par bahut atyachar karta hoon ka sabse aasaan atyachar karne ka tarika jo sabse zyada buri tarike se par baat karta garibon ko vaah bhrashtachar hai kyonki prastut karte hain jinke paas kaala dhan aata hai toh yah kaala dhan matlab aisa nahi hota ki kahin se aa jata hai paisa hota hai jo inko banta hai

देखिए मुझे कुछ जानती नहीं पर यह तो अमीर लोग होते हैं यह गरीब लोगों पर बहुत अत्याचार करता ह

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  150
WhatsApp_icon
user

Pragati

Aspiring Lawyer

1:15
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर पहले के समय की बात की जाए तो जितनी भी और जातियां ऊपर की जाती मानी जाती थी और जो कि क्षत्रिय और ब्राह्मण जातियां हुआ करते थे तो वह लोग अपने आप को ऊपर की जाती मानते थे और उन जातियों पर जो कि शुद्राज में आती थी उन पर काफी ज्यादा अत्याचार किया करते थे और जैसे-जैसे समय आगे बढ़ना है तो जो SC ST कास्ट है दलित लोग हैं उनके ऊपर भी काफी अत्याचार किए हैं जमींदारों ने तू अब ऐसी कोई स्पेशल या कोई स्पेसिफिक जाती नहीं है जिसके ऊपर बहुत ज्यादा अत्याचार किया है यह कौन सी जाति ने गरीबों पर अत्याचार किया है लेकिन हमारे समाज में कहीं ना कहीं पर की जाती और नीचे जाती अजय प्रधान बना दिया गया है उन प्रधान के चलते जो जातियां ऊपर आती हैं वह कहीं ना कहीं नीचे की जातियों का बहुत ज्यादा अपमान करते थे उन पर अत्याचार करते थे और उनका शोषण भी होता था और उसके अलावा देखी जितनी भी जमीदार हुआ करते थे पहले के समय में वह सभी लोग अपने आप को बहुत ऊंचे तबके का मानते थे और उनके अंदर का उनके अंदर काम करने वाले जितने गरीब लोग होते थे उन सभी पर अत्याचार करते थे तो कहीं ना कहीं वही जमीदार की जो जातियां होती थी और जो राजा महाराजा लोग होते थे उनको जातियों ने गरीबों को काफी अत्याचार किए हैं

agar pehle ke samay ki baat ki jaaye toh jitni bhi aur jatiya upar ki jaati maani jaati thi aur jo ki kshatriya aur brahman jatiya hua karte the toh vaah log apne aap ko upar ki jaati maante the aur un jaatiyo par jo ki shudraj mein aati thi un par kaafi zyada atyachar kiya karte the aur jaise jaise samay aage badhana hai toh jo SC ST caste hai dalit log hain unke upar bhi kaafi atyachar kiye hain zamindaro ne tu ab aisi koi special ya koi specific jaati nahi hai jiske upar bahut zyada atyachar kiya hai yah kaun si jati ne garibon par atyachar kiya hai lekin hamare samaj mein kahin na kahin par ki jaati aur niche jaati ajay pradhan bana diya gaya hai un pradhan ke chalte jo jatiya upar aati hain vaah kahin na kahin niche ki jaatiyo ka bahut zyada apman karte the un par atyachar karte the aur unka shoshan bhi hota tha aur uske alava dekhi jitni bhi jamidaar hua karte the pehle ke samay mein vaah sabhi log apne aap ko bahut unche tabke ka maante the aur unke andar ka unke andar kaam karne waale jitne garib log hote the un sabhi par atyachar karte the toh kahin na kahin wahi jamidaar ki jo jatiya hoti thi aur jo raja maharaja log hote the unko jaatiyo ne garibon ko kaafi atyachar kiye hain

अगर पहले के समय की बात की जाए तो जितनी भी और जातियां ऊपर की जाती मानी जाती थी और जो कि क्ष

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  188
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!