प्यार का मतलब क्या होता है?...


user

Yogi Prashant Nath

Business Consultant / M D

4:43
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार सर्वप्रथम प्रशंसनीय है यह प्रश्न जो कि हमारे जीवन में बहुत महत्व रखता है आधार को उसके प्रांत में अपना परिचय कराना चाहूंगा मेरा नाम है योगी योगी प्रशांत ना चलिए बढ़ते हैं आपके प्रश्न की तरह आपका प्रश्न है प्यार का क्या मतलब मतलब क्या होता है प्यार का अर्थ है समर्पण भी आपने ठीक सुना हम किसी के प्रति समर्पित होते हैं अपने आप को उसके लिए कह सकते हैं अपना योगदान देते हैं जैसे एक मां अपने बच्चे के प्रति समर्पित रहती है उसके जीवन में लालन-पालन और उसके हर एक चीज के लिए अपना जीवन देती है समय देती है एक पिता अपने बच्चे के अच्छे से अच्छी व्यवस्था करने की कोशिश करता है इस वजह से वह काम करता है धन अर्जित करता है और ताकि उस दिन परेशानी भी सामना करें और अपने पुत्र को ना हो अपने बच्चों को ना हो तेरी कोनो को समर्पित और इसी प्रकार से हम अपने जीवनसाथी के प्रति समर्पित रहते हैं उसे किसी प्रकार की कोई कष्ट ना हो चाहे हमें किसी भी हालत में मिलेंगे हम किसी भी दुख सह लेंगे कष्ट को हम पर आ जाए कोई भी आज लेकिन उसके प्रति उसको कुछ ना हो उसको एक खरोच तक ना आए इस तरह की भावना ही प्यार कहलाती हैं यह मावी मां का भी पता है पिता के प्रति भी होता है हमारा भी तो इसे कोई दो राय नहीं है क्या किसी एक कुछ नहीं कर सकते किसी स्पेस में गया किसी चीज में पांच के नहीं रख सकते क्योंकि यह हमें किसी प्राणी उसे भी हो सकता है जैसे हमारा कोई फेवरेट लगा आप बैठता है तो मुझसे भी हमें हम जब उसके दो एहसास होता है उसका तो अच्छा सकारात्मक और हमें जवान बनाते हैं ऐसी चीज है जब हम किसी के प्रति समर्पित होते हैं तो उसकी खुशियों में जब उसे खुशी मिलती तो हमें भी एक नई तरह की ताकत ख़ुशी का एहसास होता है प्रशांत उसके दुख में हमें भी दुख दुख महसूस होता है हम उससे कहीं ना कहीं जुड़े होते क्या क्या हम वही होते हैं हम एक व्यक्ति एक एक का दो का प्रश्न निबंध जैसे हम हमारा शरीर एक है हमारी बॉडी के जितने भी पाठ हैं कि अगर उन्हें किसी में भी चोट लगती है तो दर्द होता है सभी को महसूस होता इसी प्रकार से जब हम किसी व्यक्ति के साथ एकाकार होते होते हैं तो उसको वीडियो पर का कोई तकलीफ होती तो हमें भी एहसास होता उस स्थान होगा जिसे मैं और बच्चे बच्चे को जरा सी चोट लगती है वह बहुत ज्यादा दुख होता है मैं उसको पूछती है उसको देखती है काफी घबराहट जब कोई व्यक्ति अपने जीवन साथी के लिए होता है समर्पित उसके हर छोटी-बड़ी चीजों का ख्याल रखता है यह जहां तक हो सके उसे किसी प्रकार की कोई कमी ना मिले और कमी ना हो और अपना कह सकते हैं कि पूरा योगदान देता या खुद के ऊपर कोई भी आ जाता है लेकिन उसके आशा करता है यह पोस्ट आपके लिए आपकी हेल्प करूं आपको अभी से समझ आए और इसी के साथ-साथ इसी के उपरांत मैं आप का आभार व्यक्त करता हूं अपना मूल्यवान समय निकाला इस पर सुनने के लिए मैं आपका आभारी हूं प्रशांत नाथ नाम करके हमारा वह कल प्रोफाइल पर इसको आप फॉलो कीजिए इस तरह के सकारात्मक विचार पोस्ट करते रहते हैं ज्ञान से संबंधित चिकित्सा से संबंधित और अगर अच्छा लगा तो आप इसे शेयर भी कर सकते हैं अपने दोस्तों के साथ अपने परिवारजनों के साथ आशा करता हूं आपके जीवन में काफी सारी खुशियां आएं और आप खूब तरक्की करें धन्यवाद

namaskar sarvapratham prashansaniya hai yah prashna jo ki hamare jeevan mein bahut mahatva rakhta hai aadhar ko uske prant mein apna parichay krana chahunga mera naam hai yogi yogi prashant na chaliye badhte hain aapke prashna ki tarah aapka prashna hai pyar ka kya matlab matlab kya hota hai pyar ka arth hai samarpan bhi aapne theek suna hum kisi ke prati samarpit hote hain apne aap ko uske liye keh sakte hain apna yogdan dete hain jaise ek maa apne bacche ke prati samarpit rehti hai uske jeevan mein lalan palan aur uske har ek cheez ke liye apna jeevan deti hai samay deti hai ek pita apne bacche ke acche se achi vyavastha karne ki koshish karta hai is wajah se vaah kaam karta hai dhan arjit karta hai aur taki us din pareshani bhi samana kare aur apne putra ko na ho apne baccho ko na ho teri kono ko samarpit aur isi prakar se hum apne jeevansathi ke prati samarpit rehte hain use kisi prakar ki koi kasht na ho chahen hamein kisi bhi halat mein milenge hum kisi bhi dukh sah lenge kasht ko hum par aa jaaye koi bhi aaj lekin uske prati usko kuch na ho usko ek kharoch tak na aaye is tarah ki bhavna hi pyar kahalati hain yah mavi maa ka bhi pata hai pita ke prati bhi hota hai hamara bhi toh ise koi do rai nahi hai kya kisi ek kuch nahi kar sakte kisi space mein gaya kisi cheez mein paanch ke nahi rakh sakte kyonki yah hamein kisi prani use bhi ho sakta hai jaise hamara koi favourite laga aap baithta hai toh mujhse bhi hamein hum jab uske do ehsaas hota hai uska toh accha sakaratmak aur hamein jawaan banate hain aisi cheez hai jab hum kisi ke prati samarpit hote hain toh uski khushiyon mein jab use khushi milti toh hamein bhi ek nayi tarah ki takat khushi ka ehsaas hota hai prashant uske dukh mein hamein bhi dukh dukh mehsus hota hai hum usse kahin na kahin jude hote kya kya hum wahi hote hain hum ek vyakti ek ek ka do ka prashna nibandh jaise hum hamara sharir ek hai hamari body ke jitne bhi path hain ki agar unhe kisi mein bhi chot lagti hai toh dard hota hai sabhi ko mehsus hota isi prakar se jab hum kisi vyakti ke saath ekakar hote hote hain toh usko video par ka koi takleef hoti toh hamein bhi ehsaas hota us sthan hoga jise main aur bacche bacche ko zara si chot lagti hai vaah bahut zyada dukh hota hai usko puchti hai usko dekhti hai kaafi ghabarahat jab koi vyakti apne jeevan sathi ke liye hota hai samarpit uske har choti badi chijon ka khayal rakhta hai yah jaha tak ho sake use kisi prakar ki koi kami na mile aur kami na ho aur apna keh sakte hain ki pura yogdan deta ya khud ke upar koi bhi aa jata hai lekin uske asha karta hai yah post aapke liye aapki help karu aapko abhi se samajh aaye aur isi ke saath saath isi ke uprant main aap ka abhar vyakt karta hoon apna mulyavan samay nikaala is par sunne ke liye main aapka abhari hoon prashant nath naam karke hamara vaah kal profile par isko aap follow kijiye is tarah ke sakaratmak vichar post karte rehte hain gyaan se sambandhit chikitsa se sambandhit aur agar accha laga toh aap ise share bhi kar sakte hain apne doston ke saath apne parivarajanon ke saath asha karta hoon aapke jeevan mein kaafi saree khushiya aaen aur aap khoob tarakki kare dhanyavad

नमस्कार सर्वप्रथम प्रशंसनीय है यह प्रश्न जो कि हमारे जीवन में बहुत महत्व रखता है आधार को उ

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  132
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!