play
user

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो आपका यह क्वेश्चन हमें बहुत अच्छा लगा जो आपने यह बात की है महंगाई क्यों बढ़ती है मंगाई बढ़ती महंगाई बढ़ाई जाती जैसे कि कोई भी स्वाद लेने जाते हैं पिक्चर वाली कंट्री रोजा कहीं भी हो दरों के हिसाब से कैसे पैसे आपके पास और पैर की जूती अब ठीक रहेगी उसकी उतनी ही मिटा सकते हैं यह भी कर सकते हैं सच्ची सच्ची कर सकते हैं ऐसे नहीं होता है इसलिए बताएं कि आप कितने कितने पैसे की आ पासवान पंचायत हो गए वह सामान के दोगे आपको इतनी बंदरिया देनी पड़ेगी अगर ऐसे हैं जैसे हटाने के लिए इतने पैसे सावित्री की कुंडली में नहीं हटा पाए थे और अब अर्जुन को समान कहना पड़ रहा था और इस बात के लिए हम भी वही अपने इंडिया में नहीं है रब ने क्यों कहते हैं उनका नाश करके उसमें डीएस टिकट कंफर्म करके वह अपने सुधा पर चलते हैं कि आप पढ़ाई के ऊपर जा रहे हैं मंगाई दो बड़े मंगाई नहीं पड़ेगी हम सोचे कि पैसा दे पैसा चाहिए वह करते हैं गवर्नमेंट कंपनी होता है मेरे कुछ भी नहीं रहा है उसको भी मेहंदी लग रही है तू इतना 50 करके पैसे नहीं दे सकते हो उतना ही देते हैं यह थोड़ा हमारे लिए भी कीमत पर सत्ता कर देंगे मुंद्रा जाती लेकिन करने के लिए घर के पैसे रखे और पैसे अगर पैसे पूरे कर दे मुंदरी लगेगी और सो जाएगा सोच की एक रात परेशान होगी सोच कर देखना क्या कर रहे हो और क्या नहीं कर रही

hello aapka yah question hamein bahut accha laga jo aapne yah baat ki hai mahangai kyon badhti hai mangai badhti mahangai badhai jaati jaise ki koi bhi swaad lene jaate hain picture wali country roza kahin bhi ho daro ke hisab se kaise paise aapke paas aur pair ki juti ab theek rahegi uski utani hi mita sakte hain yah bhi kar sakte hain sachi sachi kar sakte hain aise nahi hota hai isliye bataye ki aap kitne kitne paise ki aa paswan panchayat ho gaye vaah saamaan ke doge aapko itni bandariya deni padegi agar aise hain jaise hatane ke liye itne paise savitri ki kundali mein nahi hata paye the aur ab arjun ko saman kehna pad raha tha aur is baat ke liye hum bhi wahi apne india mein nahi hai rab ne kyon kehte hain unka naash karke usme DS ticket confirm karke vaah apne sudha par chalte hain ki aap padhai ke upar ja rahe hain mangai do bade mangai nahi padegi hum soche ki paisa de paisa chahiye vaah karte hain government company hota hai mere kuch bhi nahi raha hai usko bhi mehendi lag rahi hai tu itna 50 karke paise nahi de sakte ho utana hi dete hain yah thoda hamare liye bhi kimat par satta kar denge mundra jaati lekin karne ke liye ghar ke paise rakhe aur paise agar paise poore kar de mundari lagegi aur so jaega soch ki ek raat pareshan hogi soch kar dekhna kya kar rahe ho aur kya nahi kar rahi

हेलो आपका यह क्वेश्चन हमें बहुत अच्छा लगा जो आपने यह बात की है महंगाई क्यों बढ़ती है मंगाई

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  44
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!