एक सार्वजनिक वक्ता होने के बारे में अपने पहली बार अनुभव साझा करें?...


play
user

Bhavin J. Shah

Life Coach

0:47

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हां ह्यूमन बीइंग अंदर एक एक्साइटमेंट भी था और डर भी था और ऐसा लगता था कि अगर नहीं स्पीच दूंगा और निश्चय किया तो यकीनन एप्लीकेशन में पूरी की थी तीन जगह सूरत सिटी में झांसी का ब्लॉक करता हूं जो मेरा होमटाउन है वहां पर 20 बाई 30 के तीन होली क्रॉस आर्टिकल की यात्रा तो बस क्यों ना

haan human being andar ek exitement bhi tha aur dar bhi tha aur aisa lagta tha ki agar nahi speech dunga aur nishchay kiya toh yakinan application mein puri ki thi teen jagah surat city mein jhansi ka block karta hoon jo mera hometown hai wahan par 20 bai 30 ke teen holi cross article ki yatra toh bus kyon na

हां ह्यूमन बीइंग अंदर एक एक्साइटमेंट भी था और डर भी था और ऐसा लगता था कि अगर नहीं स्पीच दू

Romanized Version
Likes  131  Dislikes    views  673
WhatsApp_icon
1 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!