आखिर ये जाति आधारित आरक्षण कब तक और झेलना पड़ेगा? भारत एक मात्र ऐसा राष्ट्र है जहां पर जाति आधारित भेदभाव को कानून द्वारा मान्यता प्राप्त है?...


play
user

RAM NIWAS

Politician

2:02

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दोबारा अपने कई व्यक्ति के नाम नाम लिया की जाति पर आधारित उनको सुरक्षा संविधान में मिली है वह कब तक चलेगा और एक आरक्षण पर बात करते हैं कि आरक्षण आज क्यों मिला हुआ जो हजारों सालों से जो जाते जिनकी सामाजिक स्थिति आर्थिक स्थिति जिनका शोषण हुआ शारीरिक मानसिक और आज भी वो लोग मानसिक गुलाम है भारत में दलित लोग खासकर उनके आरक्षण में जून को 17% आरक्षण मिलता है उसको देने में सरकार को इतनी प्रॉब्लम क्यों है आज भी बोलो कुछ अच्छे पदों पर पहुंच पहुंच जाते उसके बाद भी वह जाति सूचक शब्दों से उनको आदमी संबोधित करता है और दूसरा आपने कहा था कि जातिवाद सुन को संविधान के द्वारा कुछ चीजें मिली है जैसे किसी जाति सूचक शब्द का अरे उसके बाद भी जातिसूचक शब्द कहने के बाद दलित की लड़कियों को चेक भवरी देवी कांड जयपुर का कांड हो यूपी का कांड की लड़कियों को जिंदा जला दिया जाता है आरक्षण तब तक होना चाहिए जब तक इस देश में से मनुवाद और ब्राह्मणवाद है जब तक इस देश में जातिवाद खत्म नहीं होता बिकॉज जातिवाद जब तक रहेगा एक ब्राह्मण यदि रहती है ब्राह्मण अनपढ़ है वह अपनी जाति के नाम से वह एक ऊंचा दर्जा पा जाता कि पंडित जी पंडित जी आई है तो वह दलित के नाम से फिर भी उसको प्रताड़ित होना पड़ता है यदि इस देश में तक जब तक ऐसा चलता रहेगा मैं कहूंगा कि जब तक आरक्षण देना चाहिए और लोगों को सुरक्षा मिलनी चाहिए जो सविधान में जो बाबा साहब ने लिखा है उसके बाद भी संविधान के तहत भी उनको पूरे के पूरे अधिकार नहीं आज तक दलित आज को मिले

dobara apne kai vyakti ke naam naam liya ki jati par aadharit unko suraksha samvidhan mein mili hai vaah kab tak chalega aur ek aarakshan par baat karte hain ki aarakshan aaj kyon mila hua jo hazaro salon se jo jaate jinki samajik sthiti aarthik sthiti jinka shoshan hua sharirik mansik aur aaj bhi vo log mansik gulam hai bharat mein dalit log khaskar unke aarakshan mein june ko 17 aarakshan milta hai usko dene mein sarkar ko itni problem kyon hai aaj bhi bolo kuch acche padon par pohch pahuch jaate uske baad bhi vaah jati suchak shabdon se unko aadmi sambodhit karta hai aur doosra aapne kaha tha ki jaatiwad sun ko samvidhan ke dwara kuch cheezen mili hai jaise kisi jati suchak shabd ka are uske baad bhi jatisuchak shabd kehne ke baad dalit ki ladkiyon ko check bhavari devi kaand jaipur ka kaand ho up ka kaand ki ladkiyon ko zinda jala diya jata hai aarakshan tab tak hona chahiye jab tak is desh mein se manuwaad aur brahmanvad hai jab tak is desh mein jaatiwad khatam nahi hota because jaatiwad jab tak rahega ek brahman yadi rehti hai brahman anpad hai vaah apni jati ke naam se vaah ek uncha darja paa jata ki pandit ji pandit ji I hai toh vaah dalit ke naam se phir bhi usko pratarit hona padta hai yadi is desh mein tak jab tak aisa chalta rahega main kahunga ki jab tak aarakshan dena chahiye aur logo ko suraksha milani chahiye jo samvidhan mein jo baba saheb ne likha hai uske baad bhi samvidhan ke tahat bhi unko poore ke poore adhikaar nahi aaj tak dalit aaj ko mile

दोबारा अपने कई व्यक्ति के नाम नाम लिया की जाति पर आधारित उनको सुरक्षा संविधान में मिली है

Romanized Version
Likes  138  Dislikes    views  2847
WhatsApp_icon
1 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!