यदि आप शिक्षकों को प्रशिक्षित करना चाहते हैं तो कौन से पांच अभ्यास हैं, जिन्हें आप अपने प्रशिक्षण सत्रों में नियोजित करेंगे?...


user

डॉ अर्चना चौधरी

कवयित्री ,कॉन्सलर ,समाजसेवी , शिक्षिका

2:02
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर शिक्षकों को प्रशिक्षित करने की बारी आती है तो सबसे पहला अभ्यास जो शिक्षकों के लिए है वह अनुशासन है उन्हें अनुशासन का विशेष ध्यान रखना पड़ेगा ताकि उनके बच्चे उन्हें समझना पड़ेगा उन्हें बहुत ज्यादा ध्यान रखना पड़ेगा क्योंकि ऐसा प्लेटफॉर्म है एक ऐसा व्यक्तित्व है जिसे देखकर जिसे फॉलो कर बहुत बच्चों का भविष्य बच्चों के भविष्य का होता है तो शिक्षक को एक रोल मॉडल बनना है और वह सारे मानदंड अपनाने होंगे जिससे एक जिम्मेदार नागरिक हम बना सके देश के लिए शुद्ध आचरण कथनी और करनी में अंतर नहीं होना चाहिए जीवन के मूल्यों को समझना और समझाना बच्चों के प्रति व्यवहार में बहुत ही सतर्कता बरतनी पड़ेगी शिक्षक एक सार्वजनिक मंच पर काम करता है तो उसे अपना व्यवहार बहुत ही संतुलित रखना पड़ता है उसके एक-एक एक्टिविटी को एक-एक बात को ग्रुप ऑफ द चिल्ड्रन बच्चे फॉलो करते हैं बच्चे देखते हैं बच्चे उसका अपना विचार देते हैं और शिक्षक का आचरण व्यवहार और उनका जो एटीट्यूड है यह बिल्कुल सही दिशा में होना चाहिए तभी जाकर एक कामयाब हो सकता है और एक ही समाज का निर्माण कर सकता है और इस तरह पर काम करेगा या अपने आप को इस मापदंड पर खरा रखेगा उस दिन वह नेशनल बिल्डर फिर से बन जाएगा और देश जरूर आगे बढ़ेगा और फिर से डिस्टिक में बने बने गा

agar shikshakon ko prashikshit karne ki baari aati hai toh sabse pehla abhyas jo shikshakon ke liye hai vaah anushasan hai unhe anushasan ka vishesh dhyan rakhna padega taki unke bacche unhe samajhna padega unhe bahut zyada dhyan rakhna padega kyonki aisa platform hai ek aisa vyaktitva hai jise dekhkar jise follow kar bahut baccho ka bhavishya baccho ke bhavishya ka hota hai toh shikshak ko ek roll model banna hai aur vaah saare manadand apnane honge jisse ek zimmedar nagarik hum bana sake desh ke liye shudh aacharan kathni aur karni me antar nahi hona chahiye jeevan ke mulyon ko samajhna aur samajhana baccho ke prati vyavhar me bahut hi satarkata bartani padegi shikshak ek sarvajanik manch par kaam karta hai toh use apna vyavhar bahut hi santulit rakhna padta hai uske ek ek activity ko ek ek baat ko group of the children bacche follow karte hain bacche dekhte hain bacche uska apna vichar dete hain aur shikshak ka aacharan vyavhar aur unka jo attitude hai yah bilkul sahi disha me hona chahiye tabhi jaakar ek kamyab ho sakta hai aur ek hi samaj ka nirmaan kar sakta hai aur is tarah par kaam karega ya apne aap ko is maapdand par Khara rakhega us din vaah national builder phir se ban jaega aur desh zaroor aage badhega aur phir se district me bane bane jaayega

अगर शिक्षकों को प्रशिक्षित करने की बारी आती है तो सबसे पहला अभ्यास जो शिक्षकों के लिए है व

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  174
KooApp_icon
WhatsApp_icon
14 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

Related Searches:
शिक्षकों को प्रशिक्षित करने के पांच अभ्यास ; यदि आप शिक्षकों को प्रशिक्षित करना चाहते हैं तो कौन से पांच अभ्यास ; यदि आप शिक्षकों को प्रशिक्षित करना चाहते हैं तो कौन-से पांच अभ्यास(इस प्रशिक्षण कार्यक्रम से सीखे हुए) हैं जिन्हें आप अपने प्रशिक्षण सत्रों मेंनियोजित करेंगे? ; यदि आप शिक्षकों को प्रशिक्षित करना चाहते हैं तो कौन-से पांच अभ्यास(इस प्रशिक्षण कार्यक्रम से सीखे हुए) हैं जिन्हें आप अपने प्रशिक्षण सत्रों मेंनियोजित करेंगे? * ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!