आज के समय में हर जाति हर वर्ग ऊपर उठने के लिए आरक्षण की मांग करती है, क्या उनके लिए यही समाघान है?...


play
user

Ranjan Khatumaria

Politician, Social Worker

0:56

Likes  16  Dislikes    views  183
WhatsApp_icon
6 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Mohd Naseem

Politician

0:56
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मर जाती है तो हो रहा है अन्याय हो रहा है उनको क्या गिफ्ट दे दी चौपाटी जिसके जिसके दिल में यह दर्द होती है बाकी भगवान मालिक यह देश जो है क्रिश्चन कभी खत्म नहीं हुआ उसमें

mar jaati hai toh ho raha hai anyay ho raha hai unko kya gift de di chaupati jiske jiske dil mein yah dard hoti hai baki bhagwan malik yah desh jo hai christian kabhi khatam nahi hua usmein

मर जाती है तो हो रहा है अन्याय हो रहा है उनको क्या गिफ्ट दे दी चौपाटी जिसके जिसके दिल में

Romanized Version
Likes  15  Dislikes    views  223
WhatsApp_icon
user

Ashok Sharma

Worker for Akhil Bharat Hindu Mahasabha

1:13
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आरक्षण को खत्म कर देना चाहिए जो ऐसी ऐसी हैं जो कमजोर होते हैं उनका उनका बेसिक मुलायम सिंह यादव है कोई बड़ा अग्रवाल है जो विचार एक और चीज से कमजोर हैं उसकी कभी नहीं होना गरीब ब्राह्मण के अंदर है जिसके बच्चे को पढ़ाने के लिए और एक कुंवारा अभी जो आता है जो है 90% 95% 99% मार्क्स लाने वाले बच्चे के लिए जॉब नहीं होगी

aarakshan ko khatam kar dena chahiye jo aisi aisi hain jo kamjor hote hain unka unka basic mulayam Singh yadav hai koi bada agrawal hai jo vichar ek aur cheez se kamjor hain uski kabhi nahi hona garib brahman ke andar hai jiske bacche ko padhane ke liye aur ek kunwara abhi jo aata hai jo hai 90 95 99 marks lane waale bacche ke liye job nahi hogi

आरक्षण को खत्म कर देना चाहिए जो ऐसी ऐसी हैं जो कमजोर होते हैं उनका उनका बेसिक मुलायम सिंह

Romanized Version
Likes  28  Dislikes    views  215
WhatsApp_icon
user

Shubham

Software Engineer in IBM

1:58
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखी दोस्त आपने कभी सही बोला हां मैं मानता हूं कि आज देश में जनजातियों को आरक्षण नहीं मिल रहा है वह अब सरकार के सामने आरक्षण की मांग कर रहे हैं अभी हमने हरियाणा में देखा पिछले साल फिर अभी हमने कुछ अन्य देशों प्रदेशों में भी देखा कि वह लोग आरक्षण की मांग कर रहे हैं जनजाति कोई कभी आरक्षण नहीं मिला और अगर सरकार उनकी बात नहीं मानती है तो कुछ कुछ प्रदेशों में जो दंगे भी हो जाते हैं और फिर बहुत ज्यादा नुकसान हो जाता है क्या करना चाहिए क्या इसका समाधान है देखिए SC ST और रिजर्वेशन के मुद्दे कई बार उठे कई बार फैसला भी आया लेकिन इसका कोई समाधान नहीं निकल पाया तू मेरा यह मानना है कि अगर आप इन सब चीजों से बचना चाहते हैं तो एक चीज लागू कर दीजिए वह यह है कि अब रिजर्वेशन मिलेगा मतलब उनको मिलेगा जो आर्थिक व्यवस्था पर मतलब अब पूरे कम्युनिटी को रिजर्वेशन नहीं मिलेगा या फिर हमारी सरकार ऐसा कुछ करें कि जिनकी आर्थिक व्यवस्था खराब है उनको हेल्प करें ऊपर पढ़ने में कैसे पढ़ाई कराने में स्कॉलरशिप देने में उनको जिनकी आर्थिक व्यवस्था खराब है और वह किसी भी कंपनी का हो सकता है पहली चीज ऐसा मेरा मानना है दूसरी चीज मैं यह बोलना चाहता हूं कि देखिए जॉब्स में रिजर्वेशन ना करें मतलब जो लोग गरीब है या फिर जो अभी जिनकी आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं है उनको उस स्टैंड पर खड़ा कर दें कि वह खुद पढ़ कर पेपर कर सके जैसे जो उसमें रिजर्वेशन ना करें उनको इतनी हेल्प करें कि वह पढ़ सके कम से कम अपने दम पर पढ़ कर पेपर को निकाले क्वालीफाई करें तो गवर्नमेंट उनके लिए यह कर सकती है ना कि जो जो रिजर्वेशन कर दें और नंबर और कटऑफ को कम कर देंगे उनको हेल्प करें पढ़ाई करने में कुछ तरीके सरकार कर सकती है

dekhi dost aapne kabhi sahi bola haan main manata hoon ki aaj desh mein janjatiyon ko aarakshan nahi mil raha hai vaah ab sarkar ke saamne aarakshan ki maang kar rahe hain abhi humne haryana mein dekha pichle saal phir abhi humne kuch anya deshon pradeshon mein bhi dekha ki vaah log aarakshan ki maang kar rahe hain janjaati koi kabhi aarakshan nahi mila aur agar sarkar unki baat nahi maanati hai toh kuch kuch pradeshon mein jo dange bhi ho jaate hain aur phir bahut zyada nuksan ho jata hai kya karna chahiye kya iska samadhan hai dekhiye SC ST aur reservation ke mudde kai baar uthe kai baar faisla bhi aaya lekin iska koi samadhan nahi nikal paya tu mera yah manana hai ki agar aap in sab chijon se bachna chahte hain toh ek cheez laagu kar dijiye vaah yah hai ki ab reservation milega matlab unko milega jo aarthik vyavastha par matlab ab poore community ko reservation nahi milega ya phir hamari sarkar aisa kuch kare ki jinki aarthik vyavastha kharab hai unko help kare upar padhne mein kaise padhai karane mein scholarship dene mein unko jinki aarthik vyavastha kharab hai aur vaah kisi bhi company ka ho sakta hai pehli cheez aisa mera manana hai dusri cheez main yah bolna chahta hoon ki dekhiye jobs mein reservation na kare matlab jo log garib hai ya phir jo abhi jinki aarthik sthiti achi nahi hai unko us stand par khada kar de ki vaah khud padh kar paper kar sake jaise jo usme reservation na kare unko itni help kare ki vaah padh sake kam se kam apne dum par padh kar paper ko nikale qualify kare toh government unke liye yah kar sakti hai na ki jo jo reservation kar de aur number aur cutoff ko kam kar denge unko help kare padhai karne mein kuch tarike sarkar kar sakti hai

देखी दोस्त आपने कभी सही बोला हां मैं मानता हूं कि आज देश में जनजातियों को आरक्षण नहीं मिल

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  122
WhatsApp_icon
user

Pragati

Aspiring Lawyer

2:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए आज के समय में हर जाति और हर वर्ग के लोग ऊपर उठने के लिए चाहते हैं कि उनकी जाति को भी आरक्षण मिले और बोलो मांग करते हैं उस चीज की और सरकार से लेकिन देखें मैं नहीं बात मानती कि और किसी भी जाति को ऊपर उठने के लिए सिर्फ आरक्षण एक समाधान है क्योंकि देखिए हमने यह चीज जरूर देखे कि SC ST की जनजातियां हुआ करती थी उन सभी को ऊपर उठाने के लिए कॉन्स्टिट्यूशन में आरक्षण डाला गया था ताकि उन लोगों को बढ़ावा मिल सके वह लोग अपना वर्क ऊपर को लेकर आ सके जो लोगों को काफी सालों से बहुत नीचे रखा गया है ऊपर ऊपर अपर कास्ट के लोगों द्वारा तो इसीलिए उनको आरक्षण दिया गया था लेकिन उस पर भी बात कही गई थी कि आरक्षण सिर्फ कुछ समय कि नहीं देना चाहे जाने दिया जाना चाहिए और उसके बाद उसे हटा देना चाहिए गुजराती अपने आप ही ऊपर आ जाएंगे इतने समय में और उसके बाद उसे हटा देना होगा लेकिन आज भी हमारे देश में SC ST के लिए आरक्षण लागू हो रखा है और यही कारण है कि जो अन्य जाति न्यू और अन्य वर्ग के लोग हैं वह लोग सोचते हैं क्या कर उनको भी एक बार आरक्षण मिल गया तो वह भी बहुत समय तक रहेगा और वह लोग भी वह लाभ उठाएंगे जो कि आज आरक्षण जाट आरक्षण प्रजातियां उठा रही है हम सभी ने देखा है कि जहां पर रख सामान्य वर्ग के लोगों को बहुत मेहनत करके आगे आने का मौका मिलता है वही आरक्षण जाति के लोग बहुत आसानी से आगे आ जाते हैं जबकि कई बार हमने यह भी देखा है कि जिनके मां बाप ऑलरेडी आरक्षण से लाभ लेकर आगे आ चुके हैं और उनका परिवार काफी संपूर्ण है उसके बाद भी वह आरक्षण ले रहे हैं और यह चीज तो काफी गलत है क्योंकि आरक्षण उन लोगों के लिए बनाए गए जिनको उसकी जरूरत है ना कि उन लोगों के लिए जो अपने लाभ के लिए इसका फायदा उठा रहे हैं तो इसीलिए मुझे लगता है कि आरक्षण किसी को किसी की जाति के आधार पर नहीं बल्कि उसका आधार बदलकर आर्थिक स्थिति को देख कर देना चाहिए ताकि जिस की आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं है उसको आरक्षण दिया जाए ताकि हर जाति का और हर बार पेंशन ऊपर उठने के लिए आरक्षण की मांग ना करें और आराम से ऊपर आ सके

dekhiye aaj ke samay mein har jati aur har varg ke log upar uthane ke liye chahte hain ki unki jati ko bhi aarakshan mile aur bolo maang karte hain us cheez ki aur sarkar se lekin dekhen main nahi baat maanati ki aur kisi bhi jati ko upar uthane ke liye sirf aarakshan ek samadhan hai kyonki dekhiye humne yah cheez zaroor dekhe ki SC ST ki janajatiyan hua karti thi un sabhi ko upar uthane ke liye Constitution mein aarakshan dala gaya tha taki un logo ko badhawa mil sake vaah log apna work upar ko lekar aa sake jo logo ko kaafi salon se bahut niche rakha gaya hai upar upar upper caste ke logo dwara toh isliye unko aarakshan diya gaya tha lekin us par bhi baat kahi gayi thi ki aarakshan sirf kuch samay ki nahi dena chahen jaane diya jana chahiye aur uske baad use hata dena chahiye gujarati apne aap hi upar aa jaenge itne samay mein aur uske baad use hata dena hoga lekin aaj bhi hamare desh mein SC ST ke liye aarakshan laagu ho rakha hai aur yahi karan hai ki jo anya jati new aur anya varg ke log hain vaah log sochte kya kar unko bhi ek baar aarakshan mil gaya toh vaah bhi bahut samay tak rahega aur vaah log bhi vaah labh uthayenge jo ki aaj aarakshan jaat aarakshan prajatiya utha rahi hai hum sabhi ne dekha hai ki jaha par rakh samanya varg ke logo ko bahut mehnat karke aage aane ka mauka milta hai wahi aarakshan jati ke log bahut aasani se aage aa jaate hain jabki kai baar humne yah bhi dekha hai ki jinke maa baap already aarakshan se labh lekar aage aa chuke hain aur unka parivar kaafi sampurna hai uske baad bhi vaah aarakshan le rahe hain aur yah cheez toh kaafi galat hai kyonki aarakshan un logo ke liye banaye gaye jinako uski zarurat hai na ki un logo ke liye jo apne labh ke liye iska fayda utha rahe hain toh isliye mujhe lagta hai ki aarakshan kisi ko kisi ki jati ke aadhaar par nahi balki uska aadhaar badalkar aarthik sthiti ko dekh kar dena chahiye taki jis ki aarthik sthiti achi nahi hai usko aarakshan diya jaaye taki har jati ka aur har baar pension upar uthane ke liye aarakshan ki maang na kare aur aaram se upar aa sake

देखिए आज के समय में हर जाति और हर वर्ग के लोग ऊपर उठने के लिए चाहते हैं कि उनकी जाति को भी

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  159
WhatsApp_icon
user

Manish Singh

VOLUNTEER

1:26
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लिखी मैं ऐसा नहीं कहूंगा कि आरक्षण होना नहीं चाहिए लेकिन आरक्षण जिस पर हम लोग यूज़ कर रहे उसमें नहीं होना चाहिए आरक्षण कुछ अलग तरीके से होना चाहिए जैसे कि अगर मैं आपको एक एग्जांपल दो छोटा सा होगा कोई एक छोटी जाति का एक इंसान है और वह कितना भी अमीर क्यों ना हो लेकिन उसे हर चीज में आरक्षण मिलता है उसे स्कूल फी में कंसेशन मिलता है उसे किसी काम में कटक में कंसेशन मिलता है उसे जॉब में उसकी सीट रिजर्व होती है लेकिन किसी अगर बड़ी जाति का कोई लोग इंसान हूं और वह चाहे कितना भी गरीब क्यों ना हो उसके पास खाने के पैसे ना हो उसको किसी चीज में रिजर्वेशन मिलते है ना उसको कोई पढ़ाई में फी कंसेशन मिलती है ना कोई गाना एग्जाम में मार्क्स कंसेशन मिलता है ना उसके लिए कोई रिजर्व होता है सीट तू जब तक हम अपने देश में रिज़र्व इन पीपल्स को सीख देती शॉपिंग को हटाते जाएंगे तब तक हमारा देश कभी डेवलप नहीं हो पाएगा डेवलपिंग कंट्री ही रह जाएगा इसी तरह पर देखी क्या कर एक भारतीय जूनियर विंग भारतीय शायद उसको कभी अपनी कंट्री में जॉब ना मिला हो विदेश में जाकर काम आता है तो एक भारतीय के ऑफिस चल रही थी एक लाख डॉलर वहां की सालाना और वही एक अमेरिकन केवल सैलरी होती 7000 तो हमारे भारतीय यहां से जाकर दूसरी हजार कमा रहे तो हम के इनकम ज्यादा लेकिन उन्हें अपने देश में नौकरी नहीं मिल रही है इसलिए आरक्षण को सही प्रेम इंप्लीमेंट करना चाहिए इससे सब का फायदा हुआ है एक बार जब सभी ऊपर उठ जाए तो बिल्कुल ही आरक्षण को जड़ से खत्म कर देना चाहिए

likhi main aisa nahi kahunga ki aarakshan hona nahi chahiye lekin aarakshan jis par hum log use kar rahe usme nahi hona chahiye aarakshan kuch alag tarike se hona chahiye jaise ki agar main aapko ek example do chota sa hoga koi ek choti jati ka ek insaan hai aur vaah kitna bhi amir kyon na ho lekin use har cheez mein aarakshan milta hai use school fee mein concession milta hai use kisi kaam mein katak mein concession milta hai use job mein uski seat reserve hoti hai lekin kisi agar badi jati ka koi log insaan hoon aur vaah chahen kitna bhi garib kyon na ho uske paas khane ke paise na ho usko kisi cheez mein reservation milte hai na usko koi padhai mein fee concession milti hai na koi gaana exam mein marks concession milta hai na uske liye koi reserve hota hai seat tu jab tak hum apne desh mein reserve in peoples ko seekh deti shopping ko hatate jaenge tab tak hamara desh kabhi develop nahi ho payega developing country hi reh jaega isi tarah par dekhi kya kar ek bharatiya junior wing bharatiya shayad usko kabhi apni country mein job na mila ho videsh mein jaakar kaam aata hai toh ek bharatiya ke office chal rahi thi ek lakh dollar wahan ki salana aur wahi ek american keval salary hoti 7000 toh hamare bharatiya yahan se jaakar dusri hazaar kama rahe toh hum ke income zyada lekin unhe apne desh mein naukri nahi mil rahi hai isliye aarakshan ko sahi prem implement karna chahiye isse sab ka fayda hua hai ek baar jab sabhi upar uth jaaye toh bilkul hi aarakshan ko jad se khatam kar dena chahiye

लिखी मैं ऐसा नहीं कहूंगा कि आरक्षण होना नहीं चाहिए लेकिन आरक्षण जिस पर हम लोग यूज़ कर रहे

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  127
WhatsApp_icon
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!