कुतुबुद्दीन ऐबक के बारे में बताये?...


user
0:31
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अपने प्रश्न पूछा कुतुबुद्दीन ऐबक के बारे में बताएं तो मैं आपको बता दूं कि जब का जी की मृत्यु हो गई तो इनका बस का जी के पुत्रों ने खुद बुद्धि नेवको एक गुलाम व्यापारी के हाथों बेच दिया अंत में युवक को मध्य अफगानिस्तान के गोश्त मध्यकालीन भारत के शासक को बुद्धि ने भक्ति दिल्ली सल्तनत किस के पहले शासक और गुलाम वंश के संस्थापक भी थे धन्यवाद

apne prashna poocha kutubuddin aibak ke bare me bataye toh main aapko bata doon ki jab ka ji ki mrityu ho gayi toh inka bus ka ji ke putron ne khud buddhi nevako ek gulam vyapaari ke hathon bech diya ant me yuvak ko madhya afghanistan ke gosht madhyakalin bharat ke shasak ko buddhi ne bhakti delhi sultanate kis ke pehle shasak aur gulam vansh ke sansthapak bhi the dhanyavad

अपने प्रश्न पूछा कुतुबुद्दीन ऐबक के बारे में बताएं तो मैं आपको बता दूं कि जब का जी की मृत्

Romanized Version
Likes  56  Dislikes    views  891
WhatsApp_icon
5 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
1:10
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सर आपने अपने संख्या कुतुबुद्दीन ऐबक के बारे में बताइए तो फिर मैं आपको बताता हूं कुतुबुद्दीन ऐबक गुलाम वंश से संबंधित था और उसने जो शासन किया था वह 1286 पर गद्दी पर बैठा था कुतुबुद्दीन ऐबक ने अपनी राजधानी लोगों ने बनाई थी और कुतुब मीनार की नींव भी कुतुबुद्दीन ऐबक ने डाली थी ओके और सर दिल्ली का कुतुब इस्लाम मस्जिद और अजमेर का डाई दिन का झोपड़ा नामक मस्जिद का निर्माण विभाग ने कराया था और तुमने रघुकुल लाख वक्त का जाता था क्योंकि यह लागू का दान देने वाला था और जो नालंदा विश्वविद्यालय था वह कुतुबुद्दीन ऐबक का सेनानायक बख्तियार खिलजी था उसने उसको वापस कर दिया था और सर कुतुबुद्दीन ऐबक की मृत्यु 1210 ईस्वी में चौहान खेलते समय घोड़े से गिरकर हो गई थी और उसे ला और में दफनाया गया था और इसका जो उत्तराधिकारी था वह राम सा हुआ ओके सर

sir aapne apne sankhya kutubuddin aibak ke bare me bataiye toh phir main aapko batata hoon kutubuddin aibak gulam vansh se sambandhit tha aur usne jo shasan kiya tha vaah 1286 par gaddi par baitha tha kutubuddin aibak ne apni rajdhani logo ne banai thi aur qutub minar ki neev bhi kutubuddin aibak ne dali thi ok aur sir delhi ka qutub islam masjid aur ajmer ka dye din ka jhopada namak masjid ka nirmaan vibhag ne karaya tha aur tumne raghukul lakh waqt ka jata tha kyonki yah laagu ka daan dene vala tha aur jo nalanda vishwavidyalaya tha vaah kutubuddin aibak ka senanayak bakhtiyar khilji tha usne usko wapas kar diya tha aur sir kutubuddin aibak ki mrityu 1210 isvi me Chauhan khelte samay ghode se girkar ho gayi thi aur use la aur me dafnaya gaya tha aur iska jo uttradhikari tha vaah ram sa hua ok sir

सर आपने अपने संख्या कुतुबुद्दीन ऐबक के बारे में बताइए तो फिर मैं आपको बताता हूं कुतुबुद्दी

Romanized Version
Likes  41  Dislikes    views  745
WhatsApp_icon
user
0:36
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जैसा कि आपने क्वेश्चन पूछा कुतुबुद्दीन ऐबक के बारे में बताएं तो मैं आपको इतना चाहूंगा कुतुबुद्दीन ऐबक मध्यकालीन भारत में एक शासक दिल्ली सल्तनत का पहला शासक एवं गुलाम वंश का संस्थापक था उसने केवल 4 वर्ष ही शासन किया हुआ मोहम्मद गौरी का एक गुलाम था या पहले गोरी साम्राज्य के सुल्तान मोहम्मद गोरी के सैन्य अभियानों का सहायक होना और फिर दिल्ली का शासक ने अपनी राजधानी लाहौर बनाई इसका जन्म 250 तुर्किस्तान कजाखस्तान की मृत्यु 1 दिसंबर 1210 लाहौर पाकिस्तान धन्यवाद

jaisa ki aapne question poocha kutubuddin aibak ke bare me bataye toh main aapko itna chahunga kutubuddin aibak madhyakalin bharat me ek shasak delhi sultanate ka pehla shasak evam gulam vansh ka sansthapak tha usne keval 4 varsh hi shasan kiya hua muhammad gauri ka ek gulam tha ya pehle gori samrajya ke sultan muhammad gori ke sainya abhiyaanon ka sahayak hona aur phir delhi ka shasak ne apni rajdhani lahore banai iska janam 250 turkistan kajakhastan ki mrityu 1 december 1210 lahore pakistan dhanyavad

जैसा कि आपने क्वेश्चन पूछा कुतुबुद्दीन ऐबक के बारे में बताएं तो मैं आपको इतना चाहूंगा कुतु

Romanized Version
Likes  38  Dislikes    views  1251
WhatsApp_icon
user

vikash

Teacher

0:27
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कुतुबुद्दीन ऐबक जो दिल्ली सल्तनत के बहुत ही प्रसिद्ध नवाब और राजा के नाम में जाना जाता जिनका जन्म जन्म कहते हैं जिनका जिन्होंने 12 को 4 फरवरी से लेकर 1210 ईसवी के आसपास शासन किया था जिन्होंने दिल्ली सल्तनत पर शासन किया था उन्होंने कुतुब मीनार झोंके दिल्ली में स्थित सबसे बड़ा मीनार है जो सबसे लंबा मिला है उन्होंने ही बनाया था

kutubuddin aibak jo delhi sultanate ke bahut hi prasiddh nawab aur raja ke naam me jana jata jinka janam janam kehte hain jinka jinhone 12 ko 4 february se lekar 1210 isvi ke aaspass shasan kiya tha jinhone delhi sultanate par shasan kiya tha unhone qutub minar jhonke delhi me sthit sabse bada minar hai jo sabse lamba mila hai unhone hi banaya tha

कुतुबुद्दीन ऐबक जो दिल्ली सल्तनत के बहुत ही प्रसिद्ध नवाब और राजा के नाम में जाना जाता जिन

Romanized Version
Likes  12  Dislikes    views  425
WhatsApp_icon
play
user
0:41

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कुतुबुद्दीन ऐबक था उसने गुलाम वंश की स्थापना करी थी 1290 ईस्वी में यह एक बहुत ही प्रतापी राजा था लेकिन कट्टरपंथी था इसने इस्लाम धर्म का खूब प्रचार-प्रसार भी किया था इसके बाद इसका भतीजा तथा दमाद अलाउद्दीन खिलजी तक तो बैठा उसने बहुत ही कत्लेआम मचा है

kutubuddin aibak tha usne gulam vansh ki sthapna kari thi 1290 isvi mein yah ek bahut hi prataapee raja tha lekin kattarapanthi tha isne islam dharm ka khoob prachar prasaar bhi kiya tha iske baad iska bhatija tatha damad alauddin khilji tak toh baitha usne bahut hi katleam macha hai

कुतुबुद्दीन ऐबक था उसने गुलाम वंश की स्थापना करी थी 1290 ईस्वी में यह एक बहुत ही प्रतापी र

Romanized Version
Likes  24  Dislikes    views  424
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!