संस्कृत व्याकरण के बारे में बताये?...


user

Md Neyaz

Teacher

0:19
Play

Likes  32  Dislikes    views  541
WhatsApp_icon
10 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
6:17
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

संस्कृत व्याकरण आपका प्रश्न है की संस्कृत व्याकरण के बारे में बताइए तो सबसे पहले हमें यह जान लेना चाहिए कि व्याकरण क्या है व्याकरण की परिभाषा क्या है तो व्याकरण वह ज्ञान है या व्याकरणम है जिसके द्वारा हम किसी भाषा को शुद्ध लिखना शुद्ध बोलना सीखते हैं उसे हम व्याकरण कहते हैं जिसके द्वारा हम किसी भाषा को शुद्ध बोलना और लिखना लिखते हैं तो संस्कृत जागरण भी वही है संस्कृत व्याकरण व्याकरण है जिसके द्वारा हम संस्कृत भाषा को शुद्ध बोलना और शुद्ध लिखना सीखते हैं और संस्कृत व्याकरण की हम बात करें तो संस्कृत व्याकरण संस्कृत भाषा का जो व्याकरण है वह विश्व की जितनी भी भाषाएं हैं उन सभी भाषाओं के व्याकरण से सबसे बड़ा व्याकरण संस्कृत व्याकरण है संपूर्ण विश्व में सबसे बड़ा जो व्याकरण है वह संस्कृत व्याकरण है और दूसरी बात क्योंकि संस्कृत भाषा का व्याकरण सबसे बड़ा है इस कारण से विश्व में सबसे शुद्ध बोली जाने वाली भाषा भी संस्कृत है प्राचीन काल में जो संस्कृत थी वह आम बोलचाल की भाषा थी परंतु वर्तमान काल में संस्कृत का पतन हुआ है क्योंकि भारत में कई शासकों ने कई आमचा शासकों ने राज्य किया जिसके कारण से जो है संस्कृत भाषा का लॉक होता गया धीरे-धीरे संस्कृत भाषा जनसामान्य की भाषा बंद करना है अब संस्कृत भाषा केवल संस्कृत विद्वानों की ही भाषा बनकर सीमित है तब भी जो है भारत में संस्कृत भाषा का प्रयोग करने वालों की संख्या बहुत है भारत ही में नहीं परंतु संपूर्ण विश्व में संस्कृत भाषा का प्रयोग लोग करना चाहते हैं लोग कर रहे हैं और संस्कृत भाषा सीखने के संपूर्ण विश्व में भारत ही नहीं संपूर्ण विश्व में लोग इच्छुक हैं कि हम संस्कृत भाषा सीखें और जो संस्कृत भाषा में निहित ज्ञान है उसको हम प्राप्त कर सके संस्कृत भाषा में अभिषेक सकते हैं जो हम संस्कृत व्याकरण पड़े तो संस्कृत व्याकरण के विषय में कई उक्तियां है एक तू है की संस्कृत व्याकरण को यदि आपने सीखना है अच्छी तरह से सीखना है तो आप संस्कृत व्याकरण लगभग 12 वर्षों में अच्छी तरह से सीख पाएंगे 12 वर्ष से पूर्व आप संस्कृत व्याकरण अच्छे से नहीं सीख सकते हैं पूर्ण रूप से नहीं सीख सकते हैं क्योंकि संस्कृत जागरण इतना बड़ा है कि उसको पूर्ण रूप से सीखने में आपको 12 वर्ष का समय लग जाएगा तो 12 वर्ष कुछ नहीं यदि आप 12 वर्ष भी नहीं 5 वर्ष से पढ़ लो सब से जाकर को चलो 5 वर्ष भी नहीं तो 3 वर्ष ही पार्टी जी आप संस्कृत जागरण को तो आप काफी सीख सकते हैं क्योंकि अदवा 10 वर्ष की जो यह उक्ति है यह प्राचीन काल की है तो यह भी हमें असली मूल रोग का संस्कृत आकाश चिकने तो द्वादश वर्ष लगेंगे परंतु यदि हमें मोटे तौर पर संस्कृत व्याकरण सीखना है संस्कृत भाषा सीखनी है आम बोलचाल के लिए तो आप 3 वर्ष में भी सीख सकते हैं दो-तीन वर्ष में ऐसा भी नहीं है क्योंकि एक संस्कृत की एक कविता है एक गीत है कि सूरत सुबोधा विश्व मनोज्ञ ललिता ही दया रमणीय अमृतवाणी संस्कृत भाषा नहीं बस लेटा न च कठिना नई बात कानाचा कठिना अर्थात जो संस्कृत भाषा है वह सुरेश है सुबोध है अनीश शब्दकोश का बोध हो सकता है और विश्व मनोज्ञ और विश्व का मनोरंजन करने वाली है ललित है रमणीय है अमृतवाणी है संस्कृत भाषा दोहे अमृतवाणी है और जो यह अमृतवाणी है तुरंत बहजोई संस्कृत भाषा है यह क्लिष्ट नहीं है यह कठिन नहीं है और कठिन भी नहीं है और क्लिष्ट भी नहीं है तेरी भी नहीं है और ना ही कठिन उसको सीखना सरल है इसीलिए वर्तमान समय की जो भ्रांतियां हैं उनको दूर करने के लिए हां यह जो गीत है गाया गया इसलिए गया कि जो भ्रांति है कि संस्कृत भाषा बहुत ही कठिन है यह दूर की जा सके तो मैं अपने वक्तव्य को विराम देता हूं धन्यवाद

sanskrit vyakaran aapka prashna hai ki sanskrit vyakaran ke bare me bataiye toh sabse pehle hamein yah jaan lena chahiye ki vyakaran kya hai vyakaran ki paribhasha kya hai toh vyakaran vaah gyaan hai ya vyakaranam hai jiske dwara hum kisi bhasha ko shudh likhna shudh bolna sikhate hain use hum vyakaran kehte hain jiske dwara hum kisi bhasha ko shudh bolna aur likhna likhte hain toh sanskrit jagran bhi wahi hai sanskrit vyakaran vyakaran hai jiske dwara hum sanskrit bhasha ko shudh bolna aur shudh likhna sikhate hain aur sanskrit vyakaran ki hum baat kare toh sanskrit vyakaran sanskrit bhasha ka jo vyakaran hai vaah vishwa ki jitni bhi bhashayen hain un sabhi bhashaon ke vyakaran se sabse bada vyakaran sanskrit vyakaran hai sampurna vishwa me sabse bada jo vyakaran hai vaah sanskrit vyakaran hai aur dusri baat kyonki sanskrit bhasha ka vyakaran sabse bada hai is karan se vishwa me sabse shudh boli jaane wali bhasha bhi sanskrit hai prachin kaal me jo sanskrit thi vaah aam bolchal ki bhasha thi parantu vartaman kaal me sanskrit ka patan hua hai kyonki bharat me kai shaasakon ne kai amcha shaasakon ne rajya kiya jiske karan se jo hai sanskrit bhasha ka lock hota gaya dhire dhire sanskrit bhasha janasamanya ki bhasha band karna hai ab sanskrit bhasha keval sanskrit vidvaano ki hi bhasha bankar simit hai tab bhi jo hai bharat me sanskrit bhasha ka prayog karne walon ki sankhya bahut hai bharat hi me nahi parantu sampurna vishwa me sanskrit bhasha ka prayog log karna chahte hain log kar rahe hain aur sanskrit bhasha sikhne ke sampurna vishwa me bharat hi nahi sampurna vishwa me log icchhuk hain ki hum sanskrit bhasha sikhe aur jo sanskrit bhasha me nihit gyaan hai usko hum prapt kar sake sanskrit bhasha me abhishek sakte hain jo hum sanskrit vyakaran pade toh sanskrit vyakaran ke vishay me kai uktiyan hai ek tu hai ki sanskrit vyakaran ko yadi aapne sikhna hai achi tarah se sikhna hai toh aap sanskrit vyakaran lagbhag 12 varshon me achi tarah se seekh payenge 12 varsh se purv aap sanskrit vyakaran acche se nahi seekh sakte hain purn roop se nahi seekh sakte hain kyonki sanskrit jagran itna bada hai ki usko purn roop se sikhne me aapko 12 varsh ka samay lag jaega toh 12 varsh kuch nahi yadi aap 12 varsh bhi nahi 5 varsh se padh lo sab se jaakar ko chalo 5 varsh bhi nahi toh 3 varsh hi party ji aap sanskrit jagran ko toh aap kaafi seekh sakte hain kyonki adava 10 varsh ki jo yah ukti hai yah prachin kaal ki hai toh yah bhi hamein asli mul rog ka sanskrit akash chikne toh dwadash varsh lagenge parantu yadi hamein mote taur par sanskrit vyakaran sikhna hai sanskrit bhasha sikhni hai aam bolchal ke liye toh aap 3 varsh me bhi seekh sakte hain do teen varsh me aisa bhi nahi hai kyonki ek sanskrit ki ek kavita hai ek geet hai ki surat subodha vishwa manogya lalita hi daya ramniya amritwani sanskrit bhasha nahi bus leta na ch kathina nayi baat kanacha kathina arthat jo sanskrit bhasha hai vaah suresh hai subodh hai aneesh shabdkosh ka bodh ho sakta hai aur vishwa manogya aur vishwa ka manoranjan karne wali hai lalit hai ramniya hai amritwani hai sanskrit bhasha dohe amritwani hai aur jo yah amritwani hai turant bahjoi sanskrit bhasha hai yah klisht nahi hai yah kathin nahi hai aur kathin bhi nahi hai aur klisht bhi nahi hai teri bhi nahi hai aur na hi kathin usko sikhna saral hai isliye vartaman samay ki jo bhrantiyan hain unko dur karne ke liye haan yah jo geet hai gaaya gaya isliye gaya ki jo bhranti hai ki sanskrit bhasha bahut hi kathin hai yah dur ki ja sake toh main apne vaktavya ko viraam deta hoon dhanyavad

संस्कृत व्याकरण आपका प्रश्न है की संस्कृत व्याकरण के बारे में बताइए तो सबसे पहले हमें यह

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  95
WhatsApp_icon
user

Dhiraj Kumar

Teacher & Advisor

0:34
Play

Likes  41  Dislikes    views  723
WhatsApp_icon
user
0:20
Play

Likes  43  Dislikes    views  1022
WhatsApp_icon
play
user
0:23

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका पूछा गया प्रश्न संस्कृत व्याकरण के बारे में बताएं जिसका उत्तर मैं आपको बताना चाहता हूं दोस्तों संस्कृत व्याकरण मुझसे कहते हैं जो भाषाओं संस्कृत भाषाओं का मेल है जी हां जैसे की इंग्लिश ग्रामर होती है हिंदी ग्रामर होती उसी तरह संस्कृत व्याकरण होती है

aapka poocha gaya prashna sanskrit vyakaran ke bare mein bataye jiska uttar main aapko bataana chahta hoon doston sanskrit vyakaran mujhse kehte hain jo bhashaon sanskrit bhashaon ka male hai ji haan jaise ki english grammar hoti hai hindi grammar hoti usi tarah sanskrit vyakaran hoti hai

आपका पूछा गया प्रश्न संस्कृत व्याकरण के बारे में बताएं जिसका उत्तर मैं आपको बताना चाहता हू

Romanized Version
Likes  39  Dislikes    views  1210
WhatsApp_icon
user
Play

Likes  8  Dislikes    views  405
WhatsApp_icon
user
0:20
Play

Likes  34  Dislikes    views  489
WhatsApp_icon
user

Suman Saurav

Government Teacher & Carrear Counsultent

0:26
Play

Likes  74  Dislikes    views  1408
WhatsApp_icon
user
0:27
Play

Likes  15  Dislikes    views  427
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार मैं आप सभी से यह पूछना चाहता हूं कि संस्कृत व्याकरण के तीन मुनियों के बारे में जानकारी चाहूंगा तीन मुनियों का नाम बताइए और फिर व्याकरण के 14 सूत्र सूत्र कहां से निकले और इसका वृतांत किसने किया सुना किसने देखा किसने पूरे विवरों के बारे में आप बताइए

namaskar main aap sabhi se yah poochna chahta hoon ki sanskrit vyakaran ke teen muniyon ke bare me jaankari chahunga teen muniyon ka naam bataiye aur phir vyakaran ke 14 sutra sutra kaha se nikle aur iska vritant kisne kiya suna kisne dekha kisne poore vivaron ke bare me aap bataiye

नमस्कार मैं आप सभी से यह पूछना चाहता हूं कि संस्कृत व्याकरण के तीन मुनियों के बारे में जान

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  116
WhatsApp_icon
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!