वास्तविक जीवन का आत्मा से क्या सम्बन्ध है?...


user

Dinesh Mishra

Theosophists | Accountant

10:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

प्रश्न है वास्तविक जीवन का आत्मा से क्या संबंध है देखिए जीवन जीवन हुआ करता है और यह वास्तविक और आभासी विथ नहीं होता है जीवन जब होता है तो इस पर चेतना होती है यह चेतना जीवन को चलाया करती है ऐसी कोई व्यक्ति प्राणवायु कहता है कोई इसको ऊर्जा कहता है जिससे किया जीवन चला करता है तो वास्तविक और आवश्यक टाइप का कोई जीवन नहीं होता है जीवन जीवन होता है कहने का अभिप्राय यह है कि मनुष्य का जो जीवन है वही जीवन जब मनुष्य प्राणवायु को लेता है जिससे कि जीवन संचालित होता है यदि व्यक्ति की प्राणवायु जिसको क्यों आए ग्रहण और छोड़ रहा है वह बंद हो जाए या उसको ग्रहण करना शरीर बंद कर दे दोगे की का जीवन मृत्यु को प्राप्त हो जाया करता है आता है वास्तविक और आवश्यक कुछ नहीं है और जीवन में जो तक तो है ही जिससे कि जीवन संचालित हो रहा है और संचालित है इसमें जो स्थिति है उसे आसमां कहते जीवन का आत्मा से गहरा रिश्ता है मनुष्य का जीवन आत्मा से संचालित है वैसे मनुष्य का जो जीवन है वह है जीवन का जो शरीर है पंच भौतिक तत्वों से निर्मित हुआ है जीवन का आत्मा से गहरा संबंध है यदि जीवन से आत्मा निकल जाए तो जीवन जीवन नहीं रहता वह निर्जीव अनु जाता है वह मृत प्राय हो जाता है और ऐसे जीवन यदि जीवन का आत्मा का गहरा संबंध है और आत्मा परमात्मा का अंश है जो जीवन को चलाया करता है जब व्यक्ति का जन्म होता है तब उस व्यक्ति क्या मरण भी होता है जब तक जीवन यात्रा शरीर में विद्यमान रहता है तब तक जीवन सही ढंग से संचालित होता है जैसे ही जीवन में आत्मा निकल जाती है तो यह जीवन मृत प्राय हो जाता है या शरीर मृत प्राय हो जाता है अध्यात्म की दृष्टि से यह कहा गया है कहा गया है मैं शरीर नहीं हूं मैं इंद्रियां भी नहीं मैं मन भी नहीं हूं मैं बुद्धि भी नहीं मैं अखंड हूं अनंत हूं असंग हूं अभय हूं और छात्र क्षेत्र आनंदमई आत्मा यह आत्म तत्व का बोध हुई सदु गुरु शिष्य को उसके हृदय में कोटा का ज्ञान कराता है ऐसा जीव को यह ज्ञान हो जाता है कि मेरा जो जीवन संचालित हो रहा है आत्मा से हो रहा है और आत्मा परमात्मा का अंश है और अंत में उसका भिलाई परमात्मा में होना है उसको उसको परमात्मा की शरण में रहना है किन्हीं कारणों बस वह मनुष्य के शरीर में आत्मा आत्मा आता है उस कारण से जीवन संचालित होता है एक निश्चित कार्यकाल के बाद आत्मा जीवन से चला जाता है तो मनुष्य का शरीर मृत पाए हो जाता है इसलिए जीवन का आत्मा से गहरा रिश्ता है आत्मा यदि विद्यमान है तो जीवन सजीव है आत्मा यदि जीवन से निकल जाता है तो जीवन निर्जीव है मृत प्राय हो जाता है इसलिए आत्मा का चिंतन मनन जीव को करना चाहिए और यह प्रयास करना चाहिए कि वे आत्मा के स्वरूप का बोध करें और चिंतन करें मनन करें निर्देशन करें जिससे कि वह व्यक्ति परमात्मा को प्राप्त हो सके यही जीव की जीवन की शैली है आओ यही जीवन का भी है जो जीवन का भी परमात्मा से मिलना है यह जीवन की अंतिम अभिलाषा है और सारे जीव जंतुओं में यही अभिलाषा देहित है क्योंकि मनुष्य विवेक वन है उसमें मस्तिष्क का विकास अधिक है तो वह अपनी पुरुषार्थ के द्वारा अपने जीवन को सफल करके जो आत्मा का भूत करके परमात्मा को प्राप्त करता है इस प्रकार से आत्मा का जीवन में होना सुदीप्ता को प्रदान करता है और आत्मा जब पर चला जाता है तो जीवन दर्ज हो जाता है इस आत्मा को कोई जल गिरा नहीं कर सकता है कोई अग्नि नहीं जला सकती है ऐसा ही सिद्ध है और यह कभी नष्ट नहीं होता है प्रत्येक जीवो में यह विद्वान है

prashna hai vastavik jeevan ka aatma se kya sambandh hai dekhiye jeevan jeevan hua karta hai aur yah vastavik aur abhasi with nahi hota hai jeevan jab hota hai toh is par chetna hoti hai yah chetna jeevan ko chalaya karti hai aisi koi vyakti pranavayu kahata hai koi isko urja kahata hai jisse kiya jeevan chala karta hai toh vastavik aur aavashyak type ka koi jeevan nahi hota hai jeevan jeevan hota hai kehne ka abhipray yah hai ki manushya ka jo jeevan hai wahi jeevan jab manushya pranavayu ko leta hai jisse ki jeevan sanchalit hota hai yadi vyakti ki pranavayu jisko kyon aaye grahan aur chod raha hai vaah band ho jaaye ya usko grahan karna sharir band kar de doge ki ka jeevan mrityu ko prapt ho jaya karta hai aata hai vastavik aur aavashyak kuch nahi hai aur jeevan mein jo tak toh hai hi jisse ki jeevan sanchalit ho raha hai aur sanchalit hai isme jo sthiti hai use asaman kehte jeevan ka aatma se gehra rishta hai manushya ka jeevan aatma se sanchalit hai waise manushya ka jo jeevan hai vaah hai jeevan ka jo sharir hai punch bhautik tatvon se nirmit hua hai jeevan ka aatma se gehra sambandh hai yadi jeevan se aatma nikal jaaye toh jeevan jeevan nahi rehta vaah nirjeev anu jata hai vaah mrit paraya ho jata hai aur aise jeevan yadi jeevan ka aatma ka gehra sambandh hai aur aatma paramatma ka ansh hai jo jeevan ko chalaya karta hai jab vyakti ka janam hota hai tab us vyakti kya maran bhi hota hai jab tak jeevan yatra sharir mein vidyaman rehta hai tab tak jeevan sahi dhang se sanchalit hota hai jaise hi jeevan mein aatma nikal jaati hai toh yah jeevan mrit paraya ho jata hai ya sharir mrit paraya ho jata hai adhyaatm ki drishti se yah kaha gaya hai kaha gaya hai sharir nahi hoon main indriya bhi nahi main man bhi nahi hoon main buddhi bhi nahi main akhand hoon anant hoon asang hoon abhay hoon aur chatra kshetra anandamai aatma yah aatm tatva ka bodh hui sadu guru shishya ko uske hriday mein quota ka gyaan karata hai aisa jeev ko yah gyaan ho jata hai ki mera jo jeevan sanchalit ho raha hai aatma se ho raha hai aur aatma paramatma ka ansh hai aur ant mein uska bhilai paramatma mein hona hai usko usko paramatma ki sharan mein rehna hai kinhi karanon bus vaah manushya ke sharir mein aatma aatma aata hai us karan se jeevan sanchalit hota hai ek nishchit karyakal ke baad aatma jeevan se chala jata hai toh manushya ka sharir mrit paye ho jata hai isliye jeevan ka aatma se gehra rishta hai aatma yadi vidyaman hai toh jeevan sajeev hai aatma yadi jeevan se nikal jata hai toh jeevan nirjeev hai mrit paraya ho jata hai isliye aatma ka chintan manan jeev ko karna chahiye aur yah prayas karna chahiye ki ve aatma ke swaroop ka bodh kare aur chintan kare manan kare nirdeshan kare jisse ki vaah vyakti paramatma ko prapt ho sake yahi jeev ki jeevan ki shaili hai aao yahi jeevan ka bhi hai jo jeevan ka bhi paramatma se milna hai yah jeevan ki antim abhilasha hai aur saare jeev jantuon mein yahi abhilasha dehit hai kyonki manushya vivek van hai usme mastishk ka vikas adhik hai toh vaah apni purusharth ke dwara apne jeevan ko safal karke jo aatma ka bhoot karke paramatma ko prapt karta hai is prakar se aatma ka jeevan mein hona sudipta ko pradan karta hai aur aatma jab par chala jata hai toh jeevan darj ho jata hai is aatma ko koi jal gira nahi kar sakta hai koi agni nahi jala sakti hai aisa hi siddh hai aur yah kabhi nasht nahi hota hai pratyek jeevo mein yah vidhwaan hai

प्रश्न है वास्तविक जीवन का आत्मा से क्या संबंध है देखिए जीवन जीवन हुआ करता है और यह वास्तव

Romanized Version
Likes  25  Dislikes    views  188
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Pramodan swami (PK.VERMAN)

Prem Hi Dharm Hai Premi Karm Hi Prem Hi Safar

2:28
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपने पूछा है वास्तविक जीवन का आत्मा से क्या संबंध है यह संबंध परिभाषा से नहीं बताया जा सकता ना इसे स्थापित किया जा सकता है जैसे कि आप कहे की आंख से रोशनी का क्या संबंध यह फूल से खुशबू का क्या संबंध पेड़ का जमीन से क्या संबंध इसे परिभाषित कर सकते हैं बिल्कुल नहीं यह कोई मित्रता का संबंध नहीं होता कि दो मित्रों के बीच का संबंध आप को समझाते हैं ग्राहक और दुकानदार के बीच का संबंध आपको समझाता है यह यह स्थापित संबंध है जो सामान्यता सामान्य लोगों को समझ में नहीं आता अगर आप इसको खो जाएंगे तो आपको कुछ मिलेगा नहीं जैसे कि आप किसी पेड़ को जमीन में देखे कि कहां तक है खुद देंगे तो पेड़ सूख जाएगा क्या मिल जाएगा को कुछ भी नहीं डीलर के ऊपर है वही नीचे अगर आप फूल में देखिए खुशबू कहां से आती है फूल को तोड़ मरोड़ डालेंगे आपको पता चलेगा बिल्कुल नहीं ऐसा ही वास्तविक जीवन और आत्मा का संबंध है या एक ही सिक्के के दो पहलू हैं वास्तविक जीवन जीते यह वास्तविक नहीं होता तो एक किसी दमाद की तरह भीड़ की तरह हम भागते रहते फिरते रहते बिना किसी मतलब अगर इसे वास्तविक जीवन कहते हैं तो अभी आप बहुत दूर हैं वास्तविक जीवन के

aapne poocha hai vastavik jeevan ka aatma se kya sambandh hai yah sambandh paribhasha se nahi bataya ja sakta na ise sthapit kiya ja sakta hai jaise ki aap kahe ki aankh se roshni ka kya sambandh yah fool se khushboo ka kya sambandh ped ka jameen se kya sambandh ise paribhashit kar sakte hain bilkul nahi yah koi mitrata ka sambandh nahi hota ki do mitron ke beech ka sambandh aap ko smajhate hain grahak aur dukaandar ke beech ka sambandh aapko samajhaata hai yah yah sthapit sambandh hai jo samanyata samanya logo ko samajh me nahi aata agar aap isko kho jaenge toh aapko kuch milega nahi jaise ki aap kisi ped ko jameen me dekhe ki kaha tak hai khud denge toh ped sukh jaega kya mil jaega ko kuch bhi nahi dealer ke upar hai wahi niche agar aap fool me dekhiye khushboo kaha se aati hai fool ko tod marod daalenge aapko pata chalega bilkul nahi aisa hi vastavik jeevan aur aatma ka sambandh hai ya ek hi sikke ke do pahaloo hain vastavik jeevan jeete yah vastavik nahi hota toh ek kisi damad ki tarah bheed ki tarah hum bhagte rehte phirte rehte bina kisi matlab agar ise vastavik jeevan kehte hain toh abhi aap bahut dur hain vastavik jeevan ke

आपने पूछा है वास्तविक जीवन का आत्मा से क्या संबंध है यह संबंध परिभाषा से नहीं बताया जा सकत

Romanized Version
Likes  20  Dislikes    views  237
WhatsApp_icon
user

Vikash Pandey

song writer

1:35
Play

Likes  7  Dislikes    views  91
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!