दिल टूटने के बाद क्या होता है?...


user

Dinesh Mishra

Theosophists | Accountant

10:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

प्रश्न है दिल टूटने के बाद क्या होता है जब दिल टूटता है तो कष्ट होता है दुख होता है और बेचैनी हुआ करती है इसके पीछे कारण कुछ भी रही हो यह अक्सर इसलिए होता है किसी दो पक्षों में किसी एक पक्ष के द्वारा कोई ऐसा कार्य किया जाता है जिससे एक पक्ष को दुख पहुंचता है उसको कष्ट होता है तो दिल टूट ना कहती हैं दिल कोई ऐसी वस्तु नहीं है जो गिरने पर टूट जाए या बिखर जाए दिल एक भावना है और उस भावना पर किसी एक पक्ष के द्वारा या अन्य पक्षों के द्वारा को साकार किया जाता है जिससे दूसरे पक्ष को कष्ट होता है दुख होता है और वह जो व्यक्ति को कष्ट और बुक पुराण उसी व्यक्ति का जो दिल है वह टूट जाया करता है क्या यह भी देखा गया है प्रेम प्रसंगों में दिल टूट जाया करते हैं जब दो दिल आपस में मिलती हैं उनकी भावनाओं में तालमेल होता है तो व्यक्ति को सुख और आनंद की अनुभूति वा करती है फिर कोई ऐसा कारण हो जाया करता है जिससे एक पक्ष दूसरे पक्ष को कष्ट देता है जिससे अभी तक जो सुख और आनंद प्राप्त हो रहा था वह है सुख और आनंद कष्ट का कारण बन जाता है और आपको कछु नहीं लगता है इसको दिल टूटना कहते हैं दिल टूटने के बाद व्यक्ति का जीवन निराश हो जाता है दुखी हो जाता है ऐसी अवस्था में व्यक्ति या दो पक्षों में से कोई एक पक्ष कुछ भी करने कुछ भी कर सकता है क्योंकि उसकी मना अवस्था ठीक नहीं होती है अच्छी नहीं होती है ऐसे में दोनों पक्षों में किसी एक पक्ष को बड़ी सावधानी बरतने की आवश्यकता है क्योंकि पहले आपके द्वारा उस मन को लगाया गया आपने अपनी भावनाएं दूसरे पक्ष के साथ में जोड़ी और कुछ ऐसे कारण बने जिनके कारण उन भावनाओं को आग हाथ पहुंचा और आघात पहुंचने कि आपको कष्ट हो गया या दूसरे वाले पक्ष को आपने कष्ट दिया किसी भी व्यक्ति का दिल टूट गया अब व्यक्ति के अंतर्गत व्यक्ति में निराशा का भाव जागृत हो सकता है और वह व्यक्ति या वह पक्ष दुखी हो जाता है ऐसे वातावरण में व्यक्ति कुछ भी करने के लिए प्रेरित हो सकता है और यह भी संभव है कि वह टूटने के बाद अपने को संभालने और पुनः पहली वाली अवस्था में दृढ़ निश्चय करके अच्छी अवस्था को प्राप्त कर ली और यह भी संभव है कि जब दिल टूट जाते हैं तो व्यक्ति के अंदर निराशा की भावना जागृत होती है और वह गहरे मानसिक आघात में चला जाया करता है ऐसी अवस्था में यदि उस पक्ष को नहीं संभाला गया यह वह पक्ष नहीं समझा तो वह कुछ भी कर सकता है और ऐसे पकड़ो में आत्महत्या तक के किसी पक्ष के द्वारा प्रयास हुआ करते हैं जिनके दिल टूट जाया करते हैं आ जाए ऐसा मानना चाहिए कि दिल का जो लगाओ है या जाओ भावनाओं का लगाओ है उसमें सोच समझदारी के साथ कार्य करना चाहिए और दिल लगाने के पहले यह सुनिश्चित कर लेना चाहिए यह विश्वास कर लेना चाहिए दूसरा पक्ष हितकारी रहेगा कि नहीं और यह भी ध्यान देना चाहिए कि यह दूसरा पक्ष कोई ऐसा काम तो नहीं करेगा जिससे मेरा दिल टूट जाए और यह सावधानी बरतना चाहिए यदि दोनों पक्षों के द्वारा या किसी वक्त के द्वारा यह सावधानी नहीं बरती गई तो और कुछ ऐसा कार किया गया उसकी किसी एक पक्ष को कष्ट हो गया उसके बाद व्यक्ति निराशा में अवसाद में दुख मई कष्टों में कुछ भी कर सकता है वह अपने को उस अवस्था से निकाल भी सकता है वह निराशा अवसाद दुख के कारण वह कोई स्वयं के साथ अप्रिय घटना को अंजाम भी दे सकता है या जिस व्यक्ति ने जिस पक्ष ने उसका दिल तोड़ा है उसके विरुद्ध भी वह कुछ अप अंजलि सकता है यह दोनों पक्षों में वह स्वयं अपने लिए अथवा दूसरे पक्ष के लिए कोई अप्रिय निर्णय ले सकता है ऐसी स्थितियों में किसी भी जिसका दिल टूटा है उसको मारना चाहिए और वह भी समय में भी अपने में सुधार करें और उस स्थिति से निकले जिससे कि वह कुर्सी निकाल सके कष्टों से निकल सके अवसादो से निकल सके और वह स्वस्थ जीवन को जी सके इसके लिए स्वयं उसको जिसका दिल टूटा है प्रयास करने होंगे और इसके लिए दूसरे को ही ध्यान दें गन्ना होगा यह मेरा मानना है यह मेरी राय है

prashna hai dil tutne ke baad kya hota hai jab dil tootata hai toh kasht hota hai dukh hota hai aur bechaini hua karti hai iske peeche karan kuch bhi rahi ho yah aksar isliye hota hai kisi do pakshon mein kisi ek paksh ke dwara koi aisa karya kiya jata hai jisse ek paksh ko dukh pahuchta hai usko kasht hota hai toh dil toot na kehti hai dil koi aisi vastu nahi hai jo girne par toot jaaye ya bikhar jaaye dil ek bhavna hai aur us bhavna par kisi ek paksh ke dwara ya anya pakshon ke dwara ko saakar kiya jata hai jisse dusre paksh ko kasht hota hai dukh hota hai aur vaah jo vyakti ko kasht aur book puran usi vyakti ka jo dil hai vaah toot jaya karta hai kya yah bhi dekha gaya hai prem prasangon mein dil toot jaya karte hai jab do dil aapas mein milti hai unki bhavnao mein talmel hota hai toh vyakti ko sukh aur anand ki anubhuti va karti hai phir koi aisa karan ho jaya karta hai jisse ek paksh dusre paksh ko kasht deta hai jisse abhi tak jo sukh aur anand prapt ho raha tha vaah hai sukh aur anand kasht ka karan ban jata hai aur aapko kachu nahi lagta hai isko dil tutana kehte hai dil tutne ke baad vyakti ka jeevan nirash ho jata hai dukhi ho jata hai aisi avastha mein vyakti ya do pakshon mein se koi ek paksh kuch bhi karne kuch bhi kar sakta hai kyonki uski mana avastha theek nahi hoti hai achi nahi hoti hai aise mein dono pakshon mein kisi ek paksh ko baadi savdhani bartane ki avashyakta hai kyonki pehle aapke dwara us man ko lagaya gaya aapne apni bhaavnaye dusre paksh ke saath mein jodi aur kuch aise karan bane jinke karan un bhavnao ko aag hath pohcha aur aaghat pahuchne ki aapko kasht ho gaya ya dusre waale paksh ko aapne kasht diya kisi bhi vyakti ka dil toot gaya ab vyakti ke antargat vyakti mein nirasha ka bhav jagrit ho sakta hai aur vaah vyakti ya vaah paksh dukhi ho jata hai aise vatavaran mein vyakti kuch bhi karne ke liye prerit ho sakta hai aur yah bhi sambhav hai ki vaah tutne ke baad apne ko sambhalne aur punh pehli wali avastha mein dridh nishchay karke achi avastha ko prapt kar li aur yah bhi sambhav hai ki jab dil toot jaate hai toh vyakti ke andar nirasha ki bhavna jagrit hoti hai aur vaah gehre mansik aaghat mein chala jaya karta hai aisi avastha mein yadi us paksh ko nahi sambhala gaya yah vaah paksh nahi samjha toh vaah kuch bhi kar sakta hai aur aise pakado mein atmahatya tak ke kisi paksh ke dwara prayas hua karte hai jinke dil toot jaya karte hai aa jaaye aisa manana chahiye ki dil ka jo lagao hai ya jao bhavnao ka lagao hai usme soch samajhdari ke saath karya karna chahiye aur dil lagane ke pehle yah sunishchit kar lena chahiye yah vishwas kar lena chahiye doosra paksh hitkari rahega ki nahi aur yah bhi dhyan dena chahiye ki yah doosra paksh koi aisa kaam toh nahi karega jisse mera dil toot jaaye aur yah savdhani bartana chahiye yadi dono pakshon ke dwara ya kisi waqt ke dwara yah savdhani nahi barti gayi toh aur kuch aisa car kiya gaya uski kisi ek paksh ko kasht ho gaya uske baad vyakti nirasha mein avsad mein dukh may kaston mein kuch bhi kar sakta hai vaah apne ko us avastha se nikaal bhi sakta hai vaah nirasha avsad dukh ke karan vaah koi swayam ke saath apriya ghatna ko anjaam bhi de sakta hai ya jis vyakti ne jis paksh ne uska dil toda hai uske viruddh bhi vaah kuch up anjali sakta hai yah dono pakshon mein vaah swayam apne liye athva dusre paksh ke liye koi apriya nirnay le sakta hai aisi sthitiyo mein kisi bhi jiska dil tuta hai usko marna chahiye aur vaah bhi samay mein bhi apne mein sudhaar kare aur us sthiti se nikle jisse ki vaah kursi nikaal sake kaston se nikal sake avasado se nikal sake aur vaah swasthya jeevan ko ji sake iske liye swayam usko jiska dil tuta hai prayas karne honge aur iske liye dusre ko hi dhyan de ganna hoga yah mera manana hai yah meri rai hai

प्रश्न है दिल टूटने के बाद क्या होता है जब दिल टूटता है तो कष्ट होता है दुख होता है और बेच

Romanized Version
Likes  27  Dislikes    views  254
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!