अकाल मृत्यु के लक्षण क्या हैं और उसका इलाज कैसे करें?...


user
0:29
Play

Likes  50  Dislikes    views  887
WhatsApp_icon
8 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Shivendra Pratap Singh

Engineer , Assistant Professor

0:20
Play

Likes  118  Dislikes    views  1655
WhatsApp_icon
user
1:42
Play

Likes  34  Dislikes    views  594
WhatsApp_icon
user

singh

Teacher

1:09
Play

Likes  14  Dislikes    views  516
WhatsApp_icon
user

AMAN KUMAR

TEACHER | UPSC ASPIRANT | UNACADEMY

0:25
Play

Likes  30  Dislikes    views  1361
WhatsApp_icon
user
0:50
Play

Likes  56  Dislikes    views  2524
WhatsApp_icon
user
1:38
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अकाल मृत्यु अकाल मृत्यु तीन कारणों से होती है अकाल मृत्यु का पहला कारण है पितृदोष अगर हमारे कुल में या वंश में पितृदोष नामक चीज़ है तो उससे अकाल मृत्यु का खतरा बहुत रहता है इसने पितरों को हमेशा खुश रखना चाहिए या फिर उनकी गया स्थापना करनी चाहिए क्योंकि अतिरिक्त अतिरिक्त मित्र हमेशा अकाल मृत्यु का कारण बन सकते हैं क्योंकि उनकी आत्मा को शांति नहीं मिलती इसलिए वह घर वालों को भी नुकसान पहुंचा सकते हैं कुलदेवी देवी या देवता का रुष्ट होना कुल देवी या देवता अगर उस होते हैं उससे भी अकाल मृत्यु का खतरा बना रहता है क्योंकि अगर वह दुष्ट हो गए तो उनका प्रकोप पूरे घर पर इफेक्ट करेगा और अकाल मृत्यु ऐसे में हो सकती है और कालसर्प दोष कालसर्प दोष ऐसा दोस्त है जो हमारी कुंडली में पाया जाता है दोस्त से हमें अक्सर अकाल मृत्यु जैसा भयानक परिणाम देखने को मिलता है इसलिए हमें इसका जल्द से जल्द उपाय कराना चाहिए और किसी अच्छे से जोशी से इसके लिए उपाय पूछनी चाहिए काल मृत्यु मैं इन सब चीजों का बहुत ध्यान रखना चाहिए तो घर में अकाल मिट्ठू जैसी समस्या से इंसान निजात पा सकता है

akaal mrityu akaal mrityu teen karanon se hoti hai akaal mrityu ka pehla karan hai pitridosh agar hamare kul mein ya vansh mein pitridosh namak cheez hai toh usse akaal mrityu ka khatra bahut rehta hai isne pitaron ko hamesha khush rakhna chahiye ya phir unki gaya sthapna karni chahiye kyonki atirikt atirikt mitra hamesha akaal mrityu ka karan ban sakte hain kyonki unki aatma ko shanti nahi milti isliye vaah ghar walon ko bhi nuksan pohcha sakte hain kuldevi devi ya devta ka rusht hona kul devi ya devta agar us hote hain usse bhi akaal mrityu ka khatra bana rehta hai kyonki agar vaah dusht ho gaye toh unka prakop poore ghar par effect karega aur akaal mrityu aise mein ho sakti hai aur kalsarp dosh kalsarp dosh aisa dost hai jo hamari kundali mein paya jata hai dost se hamein aksar akaal mrityu jaisa bhayanak parinam dekhne ko milta hai isliye hamein iska jald se jald upay krana chahiye aur kisi acche se joshi se iske liye upay puchani chahiye kaal mrityu main in sab chijon ka bahut dhyan rakhna chahiye toh ghar mein akaal mitthu jaisi samasya se insaan nijat paa sakta hai

अकाल मृत्यु अकाल मृत्यु तीन कारणों से होती है अकाल मृत्यु का पहला कारण है पितृदोष अगर हमार

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  134
WhatsApp_icon
user
Play

Likes  29  Dislikes    views  1162
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!