पितृ दोष के लक्षण क्या हैं और उसका इलाज कैसे करें?...


user

Shivendra Pratap Singh

Engineer , Assistant Professor

0:34
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अपने पर्सनल पितृदोष के लक्षण जायसवाल आपका समय तो बताना चाहता हूं कि हिंदू माइथोलॉजी के अनुसार हम हमारे पूर्वज तब तक प्राप्त नहीं होते हैं जब तक हम उनका पिंडदान नहीं करते हैं यह पिंड दान गया में किया जाता है बोधगया में और महाबोधि के वृक्ष के नीचे नदी बहती है वहां पर यह पिंडदान किया जाता है और यह परिणाम सिर्फ लड़कों के द्वारा किया था लड़की को अधिकार नहीं होता कि वह प्रदान कर सकें प्रदान करने से पित्त दोष दूर होता है

apne personal pitridosh ke lakshan jaiswal aapka samay toh batana chahta hoon ki hindu mythologies ke anusaar hum hamare purvaj tab tak prapt nahi hote hain jab tak hum unka pindadan nahi karte hain yah pind daan gaya me kiya jata hai bodhgaya me aur mahabodhi ke vriksh ke niche nadi behti hai wahan par yah pindadan kiya jata hai aur yah parinam sirf ladko ke dwara kiya tha ladki ko adhikaar nahi hota ki vaah pradan kar sake pradan karne se pitt dosh dur hota hai

अपने पर्सनल पितृदोष के लक्षण जायसवाल आपका समय तो बताना चाहता हूं कि हिंदू माइथोलॉजी के अनु

Romanized Version
Likes  141  Dislikes    views  1717
WhatsApp_icon
6 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Deepak thakur

Indian post office

0:37
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पितृदोष के लक्षण नहीं होते हैं कि इसके अंदर जैसे मान लीजिए हम कोई भी मांगलिक कार्य करने जाते हैं तो वह पूरी तरह से सफल नहीं हो पाता और इसके अलावा हमारे घर में जो भी परिजनों है हमारे हमेशा दुखी रहते हैं घर में कोई भी जो है सहानुभूति नहीं आ पाती है इस कारण जो है यह जो इशारा पितृदोष कहलाता है इसके लक्षण है कि हमें हमारे पितरों को प्रसन्न करना पड़ेगा आप जो है उनका 247 वगैरह है जब सीजन चलता है उस सेंड करें और जो पिंडदान जो है अच्छे से करें हैं और जिनको गए को खाना खिला है बाकी सब तो छोटी मोटी चीजें आप करेंगे तो आसानी से आपके पित्र दोष समाप्त हो जाएंगे

pitridosh ke lakshan nahi hote hai ki iske andar jaise maan lijiye hum koi bhi manglik karya karne jaate hai toh vaah puri tarah se safal nahi ho pata aur iske alava hamare ghar mein jo bhi parijanon hai hamare hamesha dukhi rehte hai ghar mein koi bhi jo hai sahanubhuti nahi aa pati hai is karan jo hai yah jo ishara pitridosh kehlata hai iske lakshan hai ki hamein hamare pitaron ko prasann karna padega aap jo hai unka 247 vagera hai jab season chalta hai us send kare aur jo pindadan jo hai acche se kare hai aur jinako gaye ko khana khila hai baki sab toh choti moti cheezen aap karenge toh aasani se aapke pitra dosh samapt ho jaenge

पितृदोष के लक्षण नहीं होते हैं कि इसके अंदर जैसे मान लीजिए हम कोई भी मांगलिक कार्य करने जा

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  215
WhatsApp_icon
user

Sunil

Teacher

0:22
Play

Likes  41  Dislikes    views  652
WhatsApp_icon
user
1:05
Play

Likes  71  Dislikes    views  1765
WhatsApp_icon
user
0:36
Play

Likes  30  Dislikes    views  444
WhatsApp_icon
user
0:13
Play

Likes  27  Dislikes    views  794
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!