दिल्ली केंद्र शासित प्रदेश होते हुए भी वहाँ मुख्यमंत्री क्यों हैं?...


play
user

Ashok Sharma

Worker for Akhil Bharat Hindu Mahasabha

0:44

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दिल्ली टीम केजरीवाल के सोचने का फर्क है हमको यार जल्दी दे देंगे तो मोहम्मद वॉल्यूम की तरफ आ जाएंगे तो यह सब के मामले में उन्होंने अच्छा काम किया है मनीष सिसोदिया जी ने सरकारी खुला हुआ है

delhi team kejriwal ke sochne ka fark hai hamko yaar jaldi de denge toh muhammad volume ki taraf aa jaenge toh yah sab ke mamle mein unhone accha kaam kiya hai manish sisodiya ji ne sarkari khula hua hai

दिल्ली टीम केजरीवाल के सोचने का फर्क है हमको यार जल्दी दे देंगे तो मोहम्मद वॉल्यूम की तरफ

Romanized Version
Likes  23  Dislikes    views  245
WhatsApp_icon
4 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Sachin Bharadwaj

Faculty - Mathematics

0:22
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

वीडियो 69 में संवैधानिक संशोधन की अगर बात की जाए तो हमारे संविधान में ही प्रोविजन है जिसमें कहा गया है कि दिल्ली के अंदर लेफ्टिनेंट जनरल की सहायता के लिए मंत्रिपरिषद का होना जरूरी और मध्य प्रदेश के अध्यक्ष वहां का मुख्यमंत्री होगा इसी वजह से दिल्ली में मुख्यमंत्री का व्यवस्था की गई है

video 69 mein samvaidhanik sanshodhan ki agar baat ki jaaye toh hamare samvidhan mein hi provision hai jisme kaha gaya hai ki delhi ke andar lieutenant general ki sahayta ke liye mantriparishad ka hona zaroori aur madhya pradesh ke adhyaksh wahan ka mukhyamantri hoga isi wajah se delhi mein mukhyamantri ka vyavastha ki gayi hai

वीडियो 69 में संवैधानिक संशोधन की अगर बात की जाए तो हमारे संविधान में ही प्रोविजन है जिसमे

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  169
WhatsApp_icon
user

Pragati

Aspiring Lawyer

1:18
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए जो दिल्ली है वह हमारे देश की राजधानी है और वह केंद्र शासित प्रदेश भी है और वहां पर अपनी भी राज्य किस तरह एक राज्य भी है तो वहां पर अपनी राज्य की सरकार भी होती है तो कहीं ना कहीं दिल्ली आ केंद्र और राज्य सरकार दोनों द्वारा चलाया जाता है और एक राजस्थानी होने के नाते और उसके आसपास का जितना भी यह रीजन है जो के एनसीआर के नाम से जाना जाता है क्या नेशनल कैपिटल रीजन के नाम से जाना जाता है तो वह सभी चीजों का जो जिम्मेदारी है वह राज्य और केंद्र दोनों सरकारों पर होती है क्योंकि यह दिल्ली राजधानी होने की वजह से केंद्र सरकार के अंतर्गत भी आता है और इसीलिए केंद्र शासित प्रदेश कहा जाता है और एक राज्य होने के नाते राज्य सरकार के अंतर्गत आता है उसकी है उसे राज्य सरकार भी चलाती है और वहां पर मुख्यमंत्री भी किसी कारणवश बनते हैं कि वह एक राज्य में था और वहां पर राज्य सरकार बनती है पोलिटिकल पार्टीज इलेक्शन से लड़ती है और जो जीता है वहां पर अपनी सरकार बनाता है तो कहीं ना कहीं केंद्र पूरी तरह से दिल्ली को शासित नहीं करता है राज्य और केंद्र सरकार दोनों बराबर का हक रखती है दिल्ली पर और वहां पर भी पूरा कैबिनेट होता है मिनिस्टर का जो कि दिल्ली की हर चीजों पर ध्यान देते हैं और चलाते हैं लेकिन केंद्र सरकार कभी कहीं ना कहीं उसमें हस्तक्षेप होता है तो इसीलिए उसको केंद्र शासित देश कहा जाता है परंतु वह मुख्य मंत्री और पूर्व कैबिनेट भी होता है

dekhiye jo delhi hai vaah hamare desh ki rajdhani hai aur vaah kendra shasit pradesh bhi hai aur wahan par apni bhi rajya kis tarah ek rajya bhi hai toh wahan par apni rajya ki sarkar bhi hoti hai toh kahin na kahin delhi aa kendra aur rajya sarkar dono dwara chalaya jata hai aur ek rajasthani hone ke naate aur uske aaspass ka jitna bhi yah reason hai jo ke NCR ke naam se jana jata hai kya national capital reason ke naam se jana jata hai toh vaah sabhi chijon ka jo jimmedari hai vaah rajya aur kendra dono sarkaro par hoti hai kyonki yah delhi rajdhani hone ki wajah se kendra sarkar ke antargat bhi aata hai aur isliye kendra shasit pradesh kaha jata hai aur ek rajya hone ke naate rajya sarkar ke antargat aata hai uski hai use rajya sarkar bhi chalati hai aur wahan par mukhyamantri bhi kisi karanvash bante hain ki vaah ek rajya mein tha aur wahan par rajya sarkar banti hai political parties election se ladati hai aur jo jita hai wahan par apni sarkar banata hai toh kahin na kahin kendra puri tarah se delhi ko shasit nahi karta hai rajya aur kendra sarkar dono barabar ka haq rakhti hai delhi par aur wahan par bhi pura cabinet hota hai minister ka jo ki delhi ki har chijon par dhyan dete hain aur chalte hain lekin kendra sarkar kabhi kahin na kahin usme hastakshep hota hai toh isliye usko kendra shasit desh kaha jata hai parantu vaah mukhya mantri aur purv cabinet bhi hota hai

देखिए जो दिल्ली है वह हमारे देश की राजधानी है और वह केंद्र शासित प्रदेश भी है और वहां पर अ

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  185
WhatsApp_icon
user

Rahul kumar

Junior Volunteer

0:23
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सेंट्रल गवर्नमेंट को कोई भी स्टेट को रेगुलेट नहीं करती है ठीक है वह किसी दूसरे सेट की मुख्यमंत्री करते हैं सब काम वहां के मुख्यमंत्री

central government ko koi bhi state ko regulate nahi karti hai theek hai vaah kisi dusre set ki mukhyamantri karte hain sab kaam wahan ke mukhyamantri

सेंट्रल गवर्नमेंट को कोई भी स्टेट को रेगुलेट नहीं करती है ठीक है वह किसी दूसरे सेट की मुख्

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  187
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
kendra sasit pradesh ke mukhyamantri ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!