सिर्फ़ आर्थिक व्यवस्था को देखते हुए, क्या मनमोहन सिंघ नरेंद्र मोदी से बेहतर प्रधानमंत्री थे?...


user

Kr Wahid Ali

Journalist

1:24
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मनमोहन सिंह अर्थव्यवस्था को लेकर एक अच्छे प्रधानमंत्री थे एक बड़े अंतरराष्ट्रीय के तौर पर पहचान है जिसके लिए कई अन्य देश भी उनसे अर्थव्यवस्था को लेकर मदद लेते रहे और रही बात प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की उनको राजनीतिक नॉलेज हो सकती है लेकिन अर्थव्यवस्था विकास इन सब चीजों से उनका कोई लेना-देना नहीं मेरे कोडिंग उसे राजनीति करना जानता है प्रधानमंत्री बनना जानते हैं लोगों से वोट कैसे ले जाता है इसके बारे में हमको अच्छा घर पर पता है लेकिन अगर बात टेक्निकली और आस्था और विकास की करें तो वह धरने पर कहीं नजर आता नहीं तो देखा जाए तो शोर शराबा बहुत ज्यादा है काम बहुत कम है सुधर की बहुत जरूरत है हिंदू मुस्लिम यह सब डिवाइड एंड रूल यह गलत है सरकार में धरना होगा

manmohan Singh arthavyavastha ko lekar ek acche pradhanmantri the ek bade antararashtriya ke taur par pehchaan hai jiske liye kai anya desh bhi unse arthavyavastha ko lekar madad lete rahe aur rahi baat pradhanmantri narendra modi ki unko raajnitik knowledge ho sakti hai lekin arthavyavastha vikas in sab chijon se unka koi lena dena nahi mere coding use raajneeti karna jaanta hai pradhanmantri banna jante hain logo se vote kaise le jata hai iske bare me hamko accha ghar par pata hai lekin agar baat technically aur astha aur vikas ki kare toh vaah dharne par kahin nazar aata nahi toh dekha jaaye toh shor sharaba bahut zyada hai kaam bahut kam hai sudhar ki bahut zarurat hai hindu muslim yah sab divide and rule yah galat hai sarkar me dharna hoga

मनमोहन सिंह अर्थव्यवस्था को लेकर एक अच्छे प्रधानमंत्री थे एक बड़े अंतरराष्ट्रीय के तौर पर

Romanized Version
Likes  51  Dislikes    views  989
WhatsApp_icon
20 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Ashok Bajpai

Rtd. Additional Collector P.C.S. Adhikari

1:50
Play

Likes  169  Dislikes    views  2326
WhatsApp_icon
user

S. K. Jani

Observer And Analyst

0:56
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सिर्फ आर्थिक व्यवस्था को देखते हुए क्या मनमोहन सिंह नरेंद्र मोदी से बेहतर प्रधानमंत्री हैं इस मसले पर में स्पष्ट तौर पर कहना चाहूंगा की आर्थिक व्यवस्था को देखते हुए यह दिया माकूनसर तो मनमोहन सिंह नरेंद्र मोदी से बहुत ही ज्यादा बेहतर प्रधानमंत्री है क्योंकि वह खुद एक बहुत बड़े अर्थशास्त्री हैं जिन्होंने भारत को 1991 की मंदी से मुंडी नहीं वह महामंत्री देश देश की आज तक की मंदिर से उभरा था और उसके बाद में 2014 तक भारत विश्व की सबसे बड़ी तीसरी अर्थ मलूक आर्थिक ताकत बन गया था जो कि मोदी जी की शासन के बाद इसमें गिरावट आई है और अब वापस सुधार आ रहा है आर्थिक मामलों में मनमोहन सिंह बहुत सूझबूझ वाले इंसान थे

sirf aarthik vyavastha ko dekhte hue kya manmohan Singh narendra modi se behtar pradhanmantri hain is masle par me spasht taur par kehna chahunga ki aarthik vyavastha ko dekhte hue yah diya makunasar toh manmohan Singh narendra modi se bahut hi zyada behtar pradhanmantri hai kyonki vaah khud ek bahut bade arthshastri hain jinhone bharat ko 1991 ki mandi se mundi nahi vaah mahamantri desh desh ki aaj tak ki mandir se ubhra tha aur uske baad me 2014 tak bharat vishwa ki sabse badi teesri arth maluk aarthik takat ban gaya tha jo ki modi ji ki shasan ke baad isme giraavat I hai aur ab wapas sudhaar aa raha hai aarthik mamlon me manmohan Singh bahut sujhbujh waale insaan the

सिर्फ आर्थिक व्यवस्था को देखते हुए क्या मनमोहन सिंह नरेंद्र मोदी से बेहतर प्रधानमंत्री हैं

Romanized Version
Likes  62  Dislikes    views  1835
WhatsApp_icon
user

Awdhesh Singh

Former IRS, Top Quora Writer, IAS Educator

0:42
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए नरेंद्र मोदी जी बहुत ही मेहनती व्यक्ति हैं उन्होंने बड़ी मेहनत की बहुत सारे सुधार लाने की भी कोशिश की लेकिन उसके बावजूद जो हकीकत है वह यही है कि आज के समय में हमारी कॉल मी कि जो डेवलपमेंट किधर है वह बहुत कम है और हमारे यहां पर एंप्लॉयमेंट अपॉर्चुनिटी घटी हैं ज्यादातर सेक्टर में जो डेवलपमेंट है जैसे रियल एस्टेट सेक्टर हैं या उसके अलावा आईटी सेक्टर इन सब में जो है वह ग्रुप जो है वह बहुत नग्न है या यूनिक एक्टिव साइड में जा रही है तो इसकी वजह से आप यह कहते हैं कि जो आर्थिक व्यवस्था कैसे देखा जाए तो मनमोहन सिंह को नरेंद्र मोदी से बेहतर थी ऐसा मुझे लगता है

dekhie chahiye narendra modi G bahut hi mehanati vyakti hain unhone badi mehnat ki bahut sare sudhaar lane ki bhi koshish ki lekin uske bawajud jo haqiqat hai wah yahi hai ki aaj ke samay mein hamari call me ki jo development kidhar hai wah bahut kam hai aur hamare yahan par employment opportunity chahiye ghati hain jyadatar sector mein jo development hai jaise real estate sector hain ya uske alava it sector in sab mein jo hai wah group jo hai wah bahut naggan chahiye hai ya Unique active side mein ja rahi hai to iski wajah se aap yeh kehte hain ki jo aarthik vyavastha kaise dekha jaye to manmohan Singh ko narendra modi se behtar thi aisa mujhe lagta hai

देखिए नरेंद्र मोदी जी बहुत ही मेहनती व्यक्ति हैं उन्होंने बड़ी मेहनत की बहुत सारे सुधार ला

Romanized Version
Likes  39  Dislikes    views  1302
WhatsApp_icon
user

Govind Saraf

Entrepreneur

1:33
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए अगर आर्थिक व्यवस्था की बात करें तो नरेंद्र मोदी जी के कार्यकाल अनी में जीडीपी जा 8.2 के बैठना को टच की है जहां पर टैक्स कलेक्शन ज्यादा हुआ है जा पर एक टैक्स पेयर्स बड़े हैं उन्हें वृद्धि हुई है साथ ही साथ जीएसटी टैक्स पर जीएसटी की दरों में बदलाव या कलेक्शंस में भी वृद्धि हुई है तो यह अच्छी बात है अब की अर्थव्यवस्था बहुत अच्छी जा रही है मेरा यह मानना है और कहीं ना कहीं दिखे तो एंप्लॉयमेंट जनरेट हो रहा है लेकिन दिक्कत यह है कि कहां जा रहा है कि फॉरेन करेंसी ज्यादा स्ट्रांग हो रही है हमारे देश की करेंसी टेबल है इसलिए डॉलर एक्सचेंज रेट में हमारी करंसी थोड़ी भी पड़ जा रही है उपाय करने से ज्यादा स्ट्रांग हो रही है लेकिन इस तौर पर देखा जाए तो आरती व्यवस्था ठीक है जा रही है अच्छी चल रही है लेकिन मेरा मानना है कि और बेहतर हो सकती है एंप्लॉयमेंट और ज्यादा जनरेट हो सकता है एंड डेफिनटली जो मेक इन इंडिया के तहत पॉसिबल हो रहा है बड़ी-बड़ी कंपनियां आ रही है इस तरह से अर्थव्यवस्था अच्छी की जा रही है और एक चीज एक टैक्स कलेक्शन की जहां पर में बात करो 2 टायर शोरूम में थोड़ी तो कुछ कुछ चीजों में कमी की भी जरूरत है कोई-कोई चीजों में जीरो टैक्स लगाने की भी जरूरत है क्योंकि कोई कोई चीज नहीं सिटी होती है जैसे बहुत सारे चीज है आप सैनिटरी पैड्स एक एग्जांपल है तो इस पर भी राइट पेटिशन फाइल किया है कुछ लोगों ने और स्वस्थ मेरे ख्याल से ठीक ही चल रही है लेकिन मेरा मानना है कि और ज्यादा बेहतर हो सकती है कोशिश यही होनी चाहिए क्या व्यवस्था और ज्यादा बेहतर हो बस और मेरा माने मनमोहन सिंह के कार्यकारी से आज कुछ ज्यादा अर्थव्यवस्था पहले से बहुत ज्यादा बेटर हुई है पीडीपी पहले वहां पर इतना अच्छा टेबल्स वन टच नहीं कर पा रही थी

dekhie chahiye agar aarthik vyavastha ki baat kare chahiye to narendra modi G ke karyakal any mein gdp ja 8.2 ke baithana ko touch ki hai jaha par tax collection chahiye zyada hua hai ja par ek chahiye tax pairs bade hain unhen chahiye vriddhi hui hai saath hi saath gst tax par gst ki daro mein badlav ya kalekshans mein bhi vriddhi hui hai to yeh acchi baat hai ab ki arthavyavastha bahut acchi ja rahi hai mera yeh manana hai aur kahin na kahin dikhe to employment generate ho raha hai lekin dikkat yeh hai ki kahaan ja raha hai ki foreign currency zyada strong ho rahi hai hamare desh ki currency table hai isliye dollar exchange rate mein hamari currency thodi bhi padh ja rahi hai upay karne se zyada strong ho rahi hai lekin is taur par dekha jaye to aarti vyavastha theek hai ja rahi hai acchi chal rahi hai lekin mera manana hai ki aur behtar ho sakti hai employment aur zyada generate ho sakta hai end definatali jo make in india ke tahat possible ho raha hai badi badi companiya aa rahi hai is tarah se arthavyavastha acchi ki ja rahi hai aur ek chahiye cheez ek chahiye tax collection chahiye ki jaha par mein baat karo 2 tyre showroom mein thodi to kuch kuch chijon mein kami ki bhi zarurat hai koi koi chijon mein zero tax lagane ki bhi zarurat hai kyonki koi koi cheez nahi city hoti hai jaise bahut sare cheez hai aap sanitary pads ek chahiye example hai to is par bhi right petition file kiya chahiye hai kuch logo chahiye ne aur swasthya mere khayal se theek hi chal rahi hai lekin mera manana hai ki aur zyada behtar ho sakti hai koshish yahi honi chahiye kya vyavastha aur zyada behtar ho bus aur mera mane manmohan Singh ke kaaryakari se aaj kuch zyada arthavyavastha pehle se bahut zyada better hui hai pdp pehle wahan par itna accha tubeless van touch nahi kar pa rahi thi

देखिए अगर आर्थिक व्यवस्था की बात करें तो नरेंद्र मोदी जी के कार्यकाल अनी में जीडीपी जा 8.2

Romanized Version
Likes  62  Dislikes    views  1432
WhatsApp_icon
user

Vinod Tiwari

Journalist

1:48
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लगभग पिछले कई समय से कांग्रेस का राज आ सकता है आज की डेट में नहीं देख सकते कि हमें मनमोहन सिंह ने क्या दिया नरेंद्र मोदी ने क्या-क्या मिलेगा और अभी नहीं मिलेगा सबसे बड़ी बात हमारा देश जो है कर दी कृषि प्रधान देश है हमारे यहां तो सबसे ज्यादा अगर होता है तो कृषि पर किसान दिलबर हमारी जीडीपी आती है वहीं पर आती है जब जब कांग्रेस की सरकार रही है किसानों को अगर डीजल से ज्यादा खेती में लगता था या बीज लगता था तो वह संतुलित रेट में एक ऐसे रूप में उनको मिलता था जो महंगा नहीं पड़ता था और खेती हो जाती थी लेकिन जब से नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री बने हैं एक सबसे बड़ी समस्या आ गई कांग्रेस का शासन जाने के बाद नरेंद्र मोदी जब प्रधानमंत्री बने हैं तो जो हमारे पेट्रोलियम पदार्थ बेबी सिस्टर डीजल और पेट्रोल की कीमत आसमान छू रही है और जब से नरेंद्र मोदी बने उसका मुख्य कारण चौराहे पर नाराज रहा है या जो उसके बाद डीजल जब जब किसान को डीजल की जरूरत पड़ी है जब जब सरकार ने डीजल महंगा किया है और यह सरकार जानती है कि किसान यह कृषि का कार्य बिना डीजल के नहीं हो सकता और जैसे ही डीजल महंगा मिलता है किसान के कई काम रुक जाते उसे ट्रांसपोर्ट की व्यवस्था इसका रेट बढ़ाना है किसानों को थोड़ा मिल रहा है लेकिन

lagbhag pichle kai samay se congress ka raj aa sakta hai aaj ki date mein nahi dekh sakte ki hamein manmohan Singh ne kya diya narendra modi ne kya kya milega aur abhi nahi milega sabse baadi baat hamara desh jo hai kar di krishi pradhan desh hai hamare yahan toh sabse zyada agar hota hai toh krishi par kisan dilbar hamari gdp aati hai wahi par aati hai jab jab congress ki sarkar rahi hai kisano ko agar diesel se zyada kheti mein lagta tha ya beej lagta tha toh vaah santulit rate mein ek aise roop mein unko milta tha jo mehnga nahi padta tha aur kheti ho jaati thi lekin jab se narendra modi pradhanmantri bane hai ek sabse baadi samasya aa gayi congress ka shasan jaane ke baad narendra modi jab pradhanmantri bane hai toh jo hamare petroleum padarth baby sister diesel aur petrol ki kimat aasman chu rahi hai aur jab se narendra modi bane uska mukhya karan chauraahe par naaraj raha hai ya jo uske baad diesel jab jab kisan ko diesel ki zarurat padi hai jab jab sarkar ne diesel mehnga kiya hai aur yah sarkar jaanti hai ki kisan yah krishi ka karya bina diesel ke nahi ho sakta aur jaise hi diesel mehnga milta hai kisan ke kai kaam ruk jaate use transport ki vyavastha iska rate badhana hai kisano ko thoda mil raha hai lekin

लगभग पिछले कई समय से कांग्रेस का राज आ सकता है आज की डेट में नहीं देख सकते कि हमें मनमोहन

Romanized Version
Likes  20  Dislikes    views  604
WhatsApp_icon
user

साकेत कुमार

Senior Software Developer

2:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए मैं ऐसा नहीं मानता आर्थिक नीतियां कोई ऐसी चीज़ नहीं है जिसे आप दो या 3 वर्षों में रख सके काफी समय लगता है इसे जनता के बीच में जाने में और अपना प्रभाव दिखाने में अटल बिहारी वाजपेई के बोए बीज की फसल मनमोहन सरकार ने काटी थी फिर भी मनमोहन सरकार से मुद्रास्फीति जिला नहीं गया और मुद्रास्फीति चरम पर थी मनमोहन सरकार पॉलिसी पैरालाइसिस से जूझ रही थी यह बात जगजाहिर है उनके पास संख्याबल नहीं था इसलिए नवो एमडीआई पास करवा पाए बाबू जीएसटी पास करवा पाए कोई भी लैंड मार्क बिल पास हुआ हो अर्थ के संबंध में मुझे ऐसा कुछ याद आता नहीं मोदी सरकार ने इस मामले में काफी जी बेटा दिखाइए काफी हिम्मत दिखाया है उन्होंने जीएसटी पास कराया एफडीआई पास करवाया और भी काफी नीतियां लाइन है नोटबंदी करवाया तो मैं मानता हूं की नीतियों का जो इंप्लीमेंटेशन था वह सब ग्रुप नहीं था लेकिन मैं यह भी मानता हूं कि वह जिस दिन भी आता तो उसका प्रारूप कुछ न कुछ ऐसा ही होना था क्योंकि बाबूलाल किसी किसी को पर है तो मोदी सरकार कोई नीतियों का मैसेज देता हूं मैं जानता हूं की नीतियां भविष्य में अच्छा सा अच्छा फल देंगे आप इस तिमाही का जीडीपी देखने 7.1% है तो हम अच्छे ट्रैक पर हैं और यह ट्रैक अच्छा ही होता जाएगा अगर हम युवा अपना काम ईमानदारी से करते रहे तो

dekhie chahiye main aisa nahi manata chahiye aarthik nitiyan koi aisi cheese nahi hai jise aap do ya 3 varshon mein rakh sake kaafi samay lagta hai ise janta ke bich mein jaane mein aur apna prabhav dikhane mein atal bihari vajpayee ke boy beej ki phasal manmohan sarkar ne kaati thi chahiye phir bhi manmohan sarkar se mudrasfiti jila nahi gaya aur mudrasfiti charam par thi chahiye manmohan sarkar policy paralysis se joojh rahi thi yeh baat jagajahir hai chahiye unke paas sankhyabal nahi tha isliye navo MDI paas karava paye chahiye babu gst paas karava paye koi bhi land mark chahiye bill paas hua ho chahiye arth ke sambandh mein mujhe aisa kuch yaad aata nahi chahiye modi sarkar ne chahiye is mamle mein kaafi G beta dikhaaiye kaafi himmat dikhaya hai chahiye unhone gst paas karaya chahiye IFDI paas karvaya chahiye aur bhi kaafi nitiyan line hai notebandi karvaya to main manata hoon ki nitiyon ka chahiye jo implementation tha wah sab group nahi tha lekin main yeh bhi manata hoon ki wah jis din bhi aata to uska prarup kuch n kuch aisa hi hona tha kyonki babulal kisi kisi ko par hai chahiye to modi sarkar koi nitiyon ka chahiye massage deta hoon main jaanta hoon ki nitiyan bhavishya mein accha sa accha fal denge aap is timaahi ka chahiye gdp dekhne 7.1% hai to hum acche track par hain aur yeh track accha hi hota jayega agar hum yuva apna kaam imaandaari se karte rahe to

देखिए मैं ऐसा नहीं मानता आर्थिक नीतियां कोई ऐसी चीज़ नहीं है जिसे आप दो या 3 वर्षों में र

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  810
WhatsApp_icon
play
user

Rahul Bharat

राजनैतिक विश्लेषक

1:57

Likes  66  Dislikes    views  1684
WhatsApp_icon
user
1:03
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आर्थिक मामलों की बात की जाए तो वह जरूर बेहतर आर्थिक के जानकार थे लेकिन जब याद आता कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पास दिल के अनुसार बनाते हैं मोदी की सरकार में काम कर रही है ताकि जहीर अहमद

aarthik mamlon ki baat ki jaaye toh vaah zaroor behtar aarthik ke janakar the lekin jab yaad aata ki pradhanmantri narendra modi ke paas dil ke anusaar banate hain modi ki sarkar mein kaam kar rahi hai taki zaheer ahmad

आर्थिक मामलों की बात की जाए तो वह जरूर बेहतर आर्थिक के जानकार थे लेकिन जब याद आता कि प्रधा

Romanized Version
Likes  71  Dislikes    views  1420
WhatsApp_icon
user

Aamir Saleem Khan

Chief Reporter/News editor

0:40
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जहां तक की बात है तो मैं समझता हूं कि जब आया था इस वक्त देश पुकारती सवाल किया था कि पूरी दुनिया में मैं हूं कि भारत एक ऐसा देश था जो कदम

jahan tak ki baat hai toh main samajhata hoon ki jab aaya tha is waqt desh pukaaratii sawaal kiya tha ki puri duniya mein main hoon ki bharat ek aisa desh tha jo kadam

जहां तक की बात है तो मैं समझता हूं कि जब आया था इस वक्त देश पुकारती सवाल किया था कि पूरी द

Romanized Version
Likes  30  Dislikes    views  1117
WhatsApp_icon
user

Vikas Singh

Political Analyst

1:42
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मनमोहन सिंह किसी व्यवस्था को देखते हुए नरेंद्र मोदी से अच्छे प्रधानमंत्री नहीं थे जरा सोचिए 170 65 साल का आदमी 35 साल के प्रश्न का पैर छूता है फुल लेकर खड़ा रहता है सोनिया गांधी जी का पैर छूता है राहुल गांधी जी का पैर छूता है वह अच्छा कैसे हो सकता है अच्छा तो वह है जो अच्छा काम करता है हमारे प्रधानमंत्री जी नरेंद्र मोदी जी बहुत अच्छा काम कर रहे हैं उन्होंने अपना पूरा परिवार अपना पूरा सब कुछ हमारे देश के लिए छोड़ा है वैसा प्रधानमंत्री अब अमित कभी नहीं मिलेगा इतिहास में प्रधानमंत्री जी जो कार्य कर रहे हैं और सराहनीय कार्य है उसे शब्दों में नहीं एक्सपेंड किया जा सकता है मैं बताना चाहता हूं कि मनमोहन सिंह जी बोलते नहीं थे और करते भी नहीं थे उनके अंदर कुछ ऐसी क्वालिटी नहीं थी जो कि प्रधानमंत्री बनने की क्वालिटी हो वह प्रधानमंत्री बने क्योंकि कांग्रेस के पास कोई दूसरा चारा नहीं था और आज भी वह लगे पड़े हैं कांग्रेस पार्टी में प्रवण मुखर्जी भी कांग्रेस के नेता थे लेकिन उन्होंने साफ साफ बोला कि संघ और भारतीय जनता पार्टी ही देश को आगे बढ़ा सकती है देश को उच्च लेवल पर पहुंचा सकती है इसलिए हमारी सभी भारतवासियों से रिक्वेस्ट है प्रार्थना है कि 2019 के चुनाव के ऊपर कंसंट्रेट करके सिर्फ भारतीय जनता पार्टी को वोट करें ताकि हमारा देश आगे बढ़ सके हमारा देश फिर से विश्व गुरु कहला सके और हमारा देश फिर से सोने की चिड़िया काला सके धन्यवाद

manmohan Singh kisi vyavastha ko dekhte huye narendra modi se acche pradhanmantri nahi the jara sochie chahiye 170 65 saal ka chahiye aadmi 35 saal ke prashna ka chahiye pair chuta hai full lekar khada rehta hai sonia gandhi G ka chahiye pair chuta hai rahul gandhi G ka chahiye pair chuta hai wah accha kaise ho sakta hai accha to wah hai jo accha kaam karta hai hamare pradhanmantri G narendra modi G bahut accha kaam kar rahe hain unhone apna pura parivar apna pura sab kuch hamare desh ke liye choda hai waisa pradhanmantri ab amit kabhi nahi milega itihas mein pradhanmantri G jo karya kar rahe hain aur sarahniya karya hai use shabdon mein nahi eksapend kiya chahiye ja sakta hai batana chahta hoon ki manmohan Singh G bolte nahi the aur karte bhi nahi the unke andar kuch aisi quality nahi thi jo ki pradhanmantri banne ki quality ho wah pradhanmantri bane kyonki congress ke paas koi doosra chara nahi tha aur aaj bhi wah lage pade chahiye hain congress party mein pravan mukherjee bhi congress ke neta the lekin unhone saaf saaf bola ki sangh aur bharatiya janta party hi desh ko aage badha sakti hai desh ko uccha chahiye level par pohcha sakti hai isliye hamari sabhi bharatvasiyon chahiye se request hai prarthana hai ki 2019 ke chunav ke upar concentrate karke sirf bharatiya janta party ko vote kare chahiye taki hamara desh aage badh sake hamara desh phir se vishwa guru kahlaa sake aur hamara desh phir se sone ki chidiya kala sake dhanyavad

मनमोहन सिंह किसी व्यवस्था को देखते हुए नरेंद्र मोदी से अच्छे प्रधानमंत्री नहीं थे जरा सोचि

Romanized Version
Likes  12  Dislikes    views  367
WhatsApp_icon
user

Mohammad Sartaj Alam

Journalist & Author

3:20
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सिर्फ आर्थिक अवस्था को देखते हुए क्या मनमोहन सिंह नरेंद्र मोदी से बेहतर प्रधानमंत्री थे चेयर नमस्कार मैं हूं सरदार और आपके सवाल का जवाब देने के लिए आशिक दरअसल आपको यह सवाल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तुलना कर रहा है पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के तौर से और जिसका आधार है आर्थिक व्यवस्था तुम्हें आपसे सबसे पहले यह कहना चाहूंगा कि किंतु परंतु उससे इन सब चीजों से बाहर निकली और खुद ही समझने की कोशिश कीजिए की स्थिति आपसे क्या कह रही है जब कभी लोलियम प्रोडक्ट की कीमत $120 प्रति बैरल थी तब पेट्रोल ₹70 लीटर देखा करता था आज पेट्रोलियम प्रोडक्ट की कीमत $25 प्रति बैरल है फिर भी पेट्रोलियम प्रोडक्ट यानी पेट्रोल 17 लीटर बिक रहा है जहां दूसरे देशों में दूसरे छोड़िए आप अपने उस घटिया पड़ोसी मुल्क की बात कीजिए यानी पाकिस्तान जिसका एग्जांपल बार-बार टीवी चैनलों पर दिया जाता है उस मुल्क ने पेट्रोलियम यानी पेट्रोल की कीमत में पेट्रोल और डीजल दोनों की कीमत में ₹15 घटा दो ताकि स्क्रोल वायरस किसके बीच और हमारे यहां कीमत बढ़ाई गई इसलिए ताकि पूर्णा से लड़ने में पैसे हासिल किया जाए या किधर है हम अपनी इकोनामी को कहां भेज रहे हैं और अपने सिस्टम को कहां भेज रहे हैं आज हमारे यहां कुर्ला से लड़ने के लिए कोई क्रोना चिट देने टेस्ट के लिए जो होती है वह अवेलेबल नहीं है स्वास्थ्य सेवा के लिए माने प्रधानमंत्री मोदी ने 1500000 रुपए दिए अब आपको यह समझना होगा कि ₹15000 अगर 130 करोड़ देशवासियों प्रदेशवासियों में डिस्ट्रीब्यूटर किए जाएंगे टेस्ट के लिए तो मात्र पाच हजार करोड़ लोगों का ही टेस्ट मुमकिन है तो बाकी लोगों का टेस्ट और ट्रीटमेंट कैसे होगा मान लीजिए कि हाइड्रोक्लोरिक मेनी मेडिसिन का इस्तेमाल होता है तो भी 11 देशवासी को इस्तेमा की कमी महसूस होगी क्योंकि उसके पास अगर पैसा नहीं है तो वह टेक्स्ट नहीं टच करा सकता है और ना ही किंतु परंतु सिर्फ इन सब से बाहर निकलिए और हालात को समझने और आने वाले चुनाव में भावनाओं से बाहर निकल कर वोट देने का काम कीजिए धन्यवाद

sirf aarthik avastha ko dekhte hue kya manmohan Singh narendra modi se behtar pradhanmantri the chair namaskar main hoon sardar aur aapke sawaal ka jawab dene ke liye aashik darasal aapko yah sawaal pradhanmantri narendra modi ki tulna kar raha hai purv pradhanmantri manmohan Singh ke taur se aur jiska aadhar hai aarthik vyavastha tumhe aapse sabse pehle yah kehna chahunga ki kintu parantu usse in sab chijon se bahar nikli aur khud hi samjhne ki koshish kijiye ki sthiti aapse kya keh rahi hai jab kabhi loliyam product ki kimat 120 prati barrel thi tab petrol Rs litre dekha karta tha aaj petroleum product ki kimat 25 prati barrel hai phir bhi petroleum product yani petrol 17 litre bik raha hai jaha dusre deshon me dusre chodiye aap apne us ghatiya padosi mulk ki baat kijiye yani pakistan jiska example baar baar TV channelon par diya jata hai us mulk ne petroleum yani petrol ki kimat me petrol aur diesel dono ki kimat me Rs ghata do taki scroll virus kiske beech aur hamare yahan kimat badhai gayi isliye taki poorna se ladane me paise hasil kiya jaaye ya kidhar hai hum apni economy ko kaha bhej rahe hain aur apne system ko kaha bhej rahe hain aaj hamare yahan kurla se ladane ke liye koi corona chit dene test ke liye jo hoti hai vaah available nahi hai swasthya seva ke liye maane pradhanmantri modi ne 1500000 rupaye diye ab aapko yah samajhna hoga ki Rs agar 130 crore deshvasiyon pradeshvasiyon me distributor kiye jaenge test ke liye toh matra paanch hazaar crore logo ka hi test mumkin hai toh baki logo ka test aur treatment kaise hoga maan lijiye ki hydrochloric many medicine ka istemal hota hai toh bhi 11 deshvasi ko istema ki kami mehsus hogi kyonki uske paas agar paisa nahi hai toh vaah text nahi touch kara sakta hai aur na hi kintu parantu sirf in sab se bahar nikliye aur haalaat ko samjhne aur aane waale chunav me bhavnao se bahar nikal kar vote dene ka kaam kijiye dhanyavad

सिर्फ आर्थिक अवस्था को देखते हुए क्या मनमोहन सिंह नरेंद्र मोदी से बेहतर प्रधानमंत्री थे चे

Romanized Version
Likes  35  Dislikes    views  1055
WhatsApp_icon
user

sneha soni

राजनीतिज्ञ,Writer(Antrdhwani)

2:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखी मैं इस बारे में कौनसा लक सोचती हूं प्रधानमंत्री की जाति बात है तो वह सिर्फ आरती व्यवस्था कोई नहीं वह इंडिया लेवल पर अपने देश को लेकर हर स्थिति में सोचने का विचार नहीं का उसका होना चाहिए कि उसका विचार कैसा है सब से अलग होना चाहिए यूनिक होना चाहिए और सबसे कारगर होना चाहिए इन चीजों का ध्यान रखना चाहिए सबसे बड़ी चीज नगर में प्रधानमंत्री की बात करूं तो मोदी जी आर्थिक व्यवस्था के साथ ही नहीं इंटरनेशनल लेवल पर हर तरीके से उन्हें यह क्वालिटी है कि वह अपने देश को किस तरीके से प्रजेंट करते हैं किस तरीके से लोगों को अपनी बात को रखते हैं उसको ग्रुप करते और सिर्फ बड़बोली नहीं है करके भी दिखाया और अगर आप विश्लेषण इन 5 सालों को बहुत सी चीजें ऐसी मिली कि विपरीत स्थिति में उन्होंने इस तरीके की जवाबी कार्रवाई करी है फिलाल की बात करूं तो पुरवा में जो हमला हुआ इतने 40 लोग घायल हुए 40 लोगों की दया से छोरी घायल नहीं जाती उसके अंदर कांग्रेस में सिर्फ दुख जाहिर किया जब कि इन्होंने सैनिक के ऊपर वोट डालने के साथ-साथ सैनिक कार्रवाई करने के लिए थोड़ा सा टाइम लिया कि सैनिक कार्रवाई करेगी लेकिन उन्होंने इंटरनेशनल लेवल पर उसको आई एम एस इंटरनेशनल चीजों से उन्होंने पाकिस्तान को बाहर खेसारी छोरी सोचने वाली चीजें की चमक की नीति के ऊपर काम करते हैं इनकी छोरी सब की समझने की बस की बात नहीं है और यह कांग्रेस वाले जो नेता है जो थोड़ी थोड़ी सी जो चलने वाले चोले चक्कर है चापलूसी वाले लोग नहीं समझ सकते क्योंकि उनकी शादी में कितना भरना है कितना आना है वही समय तो मेरा ख्याल है कि कांग्रेस से बेहतर मैं भाजपा को नहीं बोलूंगी लेकिन मैं सिर्फ मोदी

dekhi main is bare mein kaunsa luck sochti hoon pradhanmantri ki jati baat hai toh vaah sirf aarti vyavastha koi nahi vaah india level par apne desh ko lekar har sthiti mein sochne ka vichar nahi ka uska hona chahiye ki uska vichar kaisa hai sab se alag hona chahiye Unique hona chahiye aur sabse kargar hona chahiye in chijon ka dhyan rakhna chahiye sabse badi cheez nagar mein pradhanmantri ki baat karu toh modi ji aarthik vyavastha ke saath hi nahi international level par har tarike se unhe yah quality hai ki vaah apne desh ko kis tarike se present karte hain kis tarike se logo ko apni baat ko rakhte hain usko group karte aur sirf badboli nahi hai karke bhi dikhaya aur agar aap vishleshan in 5 salon ko bahut si cheezen aisi mili ki viprit sthiti mein unhone is tarike ki javaabi karyawahi kari hai filal ki baat karu toh purva mein jo hamla hua itne 40 log ghayal hue 40 logo ki daya se chhori ghayal nahi jaati uske andar congress mein sirf dukh jaahir kiya jab ki inhone sainik ke upar vote dalne ke saath saath sainik karyawahi karne ke liye thoda sa time liya ki sainik karyawahi karegi lekin unhone international level par usko I M s international chijon se unhone pakistan ko bahar khesari chhori sochne wali cheezen ki chamak ki niti ke upar kaam karte hain inki chhori sab ki samjhne ki bus ki baat nahi hai aur yah congress waale jo neta hai jo thodi thodi si jo chalne waale chole chakkar hai chaaplusi waale log nahi samajh sakte kyonki unki shadi mein kitna bharna hai kitna aana hai wahi samay toh mera khayal hai ki congress se behtar main bhajpa ko nahi bolungi lekin main sirf modi

देखी मैं इस बारे में कौनसा लक सोचती हूं प्रधानमंत्री की जाति बात है तो वह सिर्फ आरती व्यवस

Romanized Version
Likes  20  Dislikes    views  496
WhatsApp_icon
user

महेश हिन्दू

विधार्थी

10:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार माताओं बहनों राजनीति में रुचि रखने वाले और राष्ट्रभक्त देखे मनमोहन सिंह और नरेंद्र मोदी माननीय प्रधानमंत्री जी मौजूदा भारत के और पूर्व प्रधानमंत्री श्री सरदार मोनी बाबा के बारे में आप उनकी आर्थिक स्थिति और जो उनके द्वारा दोनों के द्वारा आर्थिक मजबूती के लिए जो भारत में हैं फैसले लिए गए हैं उनके बारे में आप दोनों की तुलना के बारे में पूछना कि नरेंद्र मोदी क्या मोनी बाबा से बेहतर थे देखिए मैं भारत को भारतीयता भारतीयता होने पर कर मैं करता हूं मैं एक भारतीय तक धारण करने वाला या किया हुआ इंसान ठीक है तो जो कांग्रेस पार्टी है अगर उनके अनुमानों के भीतर भीतर कोई काम कर ले और उस अनुमान से कोई बाहर काम करें मैं की कोशिश करता है तो उसका हसरत कांग्रेश पार्टी या उनके लिए ट्रेन क्या करते हैं या आप सभी को पता है और देश जानता है चित्र से बड़े बड़े पत्रकार और राजनीतिक विश्लेषक हैं वह भी जानते हैं मैं किसी का नाम नहीं लूंगा तो मनमोहन सिंह जी एक भारत के जाने-माने अर्थशास्त्री भी रह चुके थे बहुत अच्छे व्यक्ति हैं वह पहले भी कांग्रेसियों की सरकार में कई महत्वपूर्ण मंत्रालय संभाल चुके हैं और 10 साल देश के प्रधानमंत्री भी रहे हैं 2004 से 2013 तक यूपी के जून का गठबंधन है यूपी उसके शिव प्रधान मंत्री भी रहे हैं काफी घोड़ों को साथ में लेकर उन्होंने सरकार चलाई है तो मनमोहन सिंह जी ने चाह कर भी देश के हित में फैसले लेने जो चाहे को नहीं ले पाए क्योंकि उनकी मजबूरी होगी और क्या उनके ऊपर दबाव था या आप भली-भांति पहचानता है मैं नहीं बताऊंगा हां मैं इस बात से आपकी बात से सहमत हूं कि माननीय मोदी जी से कहीं दरमियान में अगर देखा जाए तो मनमोहन सिंह मोनी बाबा आर्थिक मामलों में मोदी जी से बेहतर प्रधानमंत्री थे लेकिन उनके हाथ बंधे हुए थे और चाह कर भी कुछ नहीं कर पा रहे थे लेकिन उनका 10 साल का शासन और मोदी जी का 5 साल का शासन अगर में तुलना करूं तो उसमें से मोदी जी को मैं 100 में से 40 से 45% पास करता हूं और मनमोहन सिंह जी को 16 से 17 फसल ठीक है ना वह मोनी बाबा कि मैं क्या बात करूं जिस व्यक्ति ने विदेशों में जाकर अंग्रेजों के आगे घुटने टेक दिए सिटी के अंदर का संबोधन में उन्होंने कहा अगर आप अंग्रेज लोग हमारे भारत में नहीं आते ना जाने भारत का क्या होता है हम आपके शुक्रगुजार हैं कि आप भारत में आए तो जिस भाई बहनों की प्रश्न पूछा है तो आप उस बंदे से क्या उम्मीद रखोगे कि उसने भारत की अर्थव्यवस्था को मजबूत किया आप उस बंदे की नरेंद्र मोदी जी से कहां तुलना कर रहे हो भाई या नहीं ना जिस व्यक्ति ने कहा कि इस भारत या भारतवर्ष के खनिज संसाधनों पर अगर सबसे पहला अधिकार है तो वह मुसलमानों का है तो उस बंदे की आप क्या बात करते हो मैं तो यह कहता हूं वह तो एक राज परिवार था जिसने मोनी बाबा को प्रधानमंत्री बना दिया अगर राजपरिवार का उनके ऊपर आशीर्वाद ना होता अपने जीवन में कभी प्रधानमंत्री नहीं बन पाते यह मेरा आठवां में उनकी 50 से 55 साल का जो राजनीतिक और सार्वजनिक जीवन में नागिन किया है उसे मुझे यह पता चला है यह तो आपने आपको मैंने कुछ 10 साल की एक दो घटनाओं के बारे में बताएं जो बयानों के कारण उनको कहना पड़ा कांग्रेस पार्टी को सफाई भी लेनी पड़ेगी वहीं मोनी बाबा है जिनको अपने राजा महाराजा ने किन का कह रहा हूं आपको पता को खुश करने के लिए और अपने समुदाय अपनी कौम अपने सिख भाइयों को खुश करने के लिए उन लोगों ने खुद ने माफी नहीं मांगी 1984 के बारे में जो 1984 में कत्लेआम किया राजीव गांधी ने करवाया यह मैं स्पष्ट तौर पर कहता हूं जो 3000 से 1 मारे गए थे और राजीव गांधी के इशारे पर ही सब कुछ हुआ था पूरा पूरा उनकी देखरेख में यह कार्य व उनके लिए मोनी बाबा ने माफी मांगी कि मैं देश माफी मांगता हूं जो सिखों का कत्लेआम हुआ क्यों भाई तुम माफी किस लिए मांगोगे राहुल गांधी मर गए हैं क्या सोनिया गांधी क्या उसका कोई दायित्व नहीं है क्या बाकी और भी बहुत कुछ है सब एक्सपर्ट के अलग लग रहा है होती है लेकिन मुझे यह मत समझ लेना कि मैं बीजेपी से जुड़ा हुआ हूं या किसी हिंदुत्ववादी संगठन से जुड़ा वो मैं भारत के कुल वैदिक सनातन हिंदुओं से जुड़ा हुआ हूं और उस वसुदेव कुटुंबकम की विचारधारा से जुड़ा हुआ हूं और समाज क्या चाहता है समाज की क्या सोच है समाज क्या सुनाना चाहता है पहले वह मैं भली भांति जानता हूं उसी को आधार बनाकर में जवाब देता हूं बहुत से लोगों का पति होगी बहुत जोक एक्सपर्टो ने इसका जवाब दिया है उनको भी मेरा रात नेगी आपत्ति होगी होने दो मुझे उससे कोई फर्क नहीं पड़ता है मुझे लाइक करो और लाइक करो या आपकी इच्छा पर निर्भर करता है बहुत-बहुत धन्यवाद जय हिंद जय भारत वंदे मातरम शुभ रात्रि नमस्कार अब रही बात और मनमोहन सिंह बाबा कि मैं बता देता हूं थोड़ी जो 26 से 11 का हमला हुआ था वह हमला इसी सरकार ने करवाया था और जिसका मास्टरमाइंड था पाकिस्तान का एक मिनिस्टर था जो आज भी आंका मिनिस्टर है उसके पास कौन सा डिपार्टमेंट है वह नहीं बताऊंगा नाम नहीं बताऊंगा लेकिन वह दिल्ली में हो रहे थे और फिर उसको भारत सरकार ने अपने सरकारी हवाई जहाज से भी पहुंचा

namaskar mataon bahnon raajneeti mein ruchi rakhne waale aur rashtrabhakt dekhe manmohan Singh aur narendra modi mananiya pradhanmantri ji maujuda bharat ke aur purv pradhanmantri shri sardar moni baba ke bare mein aap unki aarthik sthiti aur jo unke dwara dono ke dwara aarthik majbuti ke liye jo bharat mein hai faisle liye gaye hai unke bare mein aap dono ki tulna ke bare mein poochna ki narendra modi kya moni baba se behtar the dekhiye main bharat ko bharatiyta bharatiyta hone par kar main karta hoon main ek bharatiya tak dharan karne vala ya kiya hua insaan theek hai toh jo congress party hai agar unke anumanon ke bheetar bheetar koi kaam kar le aur us anumaan se koi bahar kaam kare main ki koshish karta hai toh uska hasrat congress party ya unke liye train kya karte hai ya aap sabhi ko pata hai aur desh jaanta hai chitra se bade bade patrakar aur raajnitik vishleshak hai vaah bhi jante hai kisi ka naam nahi lunga toh manmohan Singh ji ek bharat ke jaane maane arthshastri bhi reh chuke the bahut acche vyakti hai vaah pehle bhi congressiyo ki sarkar mein kai mahatvapurna mantralay sambhaal chuke hai aur 10 saal desh ke pradhanmantri bhi rahe hai 2004 se 2013 tak up ke june ka gathbandhan hai up uske shiv pradhan mantri bhi rahe hai kaafi ghodon ko saath mein lekar unhone sarkar chalai hai toh manmohan Singh ji ne chah kar bhi desh ke hit mein faisle lene jo chahen ko nahi le paye kyonki unki majburi hogi aur kya unke upar dabaav tha ya aap bhali bhanti pahachanta hai nahi bataunga haan main is baat se aapki baat se sahmat hoon ki mananiya modi ji se kahin darmiyaan mein agar dekha jaaye toh manmohan Singh moni baba aarthik mamlon mein modi ji se behtar pradhanmantri the lekin unke hath bandhe hue the aur chah kar bhi kuch nahi kar paa rahe the lekin unka 10 saal ka shasan aur modi ji ka 5 saal ka shasan agar mein tulna karu toh usme se modi ji ko main 100 mein se 40 se 45 paas karta hoon aur manmohan Singh ji ko 16 se 17 fasal theek hai na vaah moni baba ki main kya baat karu jis vyakti ne videshon mein jaakar angrejo ke aage ghutne take diye city ke andar ka sambodhan mein unhone kaha agar aap angrej log hamare bharat mein nahi aate na jaane bharat ka kya hota hai hum aapke shukragujar hai ki aap bharat mein aaye toh jis bhai bahnon ki prashna poocha hai toh aap us bande se kya ummid rakhoge ki usne bharat ki arthavyavastha ko majboot kiya aap us bande ki narendra modi ji se kahaan tulna kar rahe ho bhai ya nahi na jis vyakti ne kaha ki is bharat ya bharatvarsh ke khanij sansadhano par agar sabse pehla adhikaar hai toh vaah musalmanon ka hai toh us bande ki aap kya baat karte ho main toh yah kahata hoon vaah toh ek raj parivar tha jisne moni baba ko pradhanmantri bana diya agar rajaparivar ka unke upar ashirvaad na hota apne jeevan mein kabhi pradhanmantri nahi ban paate yah mera aathwan mein unki 50 se 55 saal ka jo raajnitik aur sarvajanik jeevan mein nagin kiya hai use mujhe yah pata chala hai yah toh aapne aapko maine kuch 10 saal ki ek do ghatnaon ke bare mein bataye jo bayanon ke karan unko kehna pada congress party ko safaai bhi leni padegi wahi moni baba hai jinako apne raja maharaja ne kin ka keh raha hoon aapko pata ko khush karne ke liye aur apne samuday apni com apne sikh bhaiyo ko khush karne ke liye un logo ne khud ne maafi nahi maangi 1984 ke bare mein jo 1984 mein katleam kiya rajeev gandhi ne karvaya yah main spasht taur par kahata hoon jo 3000 se 1 maare gaye the aur rajeev gandhi ke ishare par hi sab kuch hua tha pura pura unki dekhrekh mein yah karya va unke liye moni baba ne maafi maangi ki main desh maafi mangta hoon jo Sikhon ka katleam hua kyon bhai tum maafi kis liye mangoge rahul gandhi mar gaye hai kya sonia gandhi kya uska koi dayitva nahi hai kya baki aur bhi bahut kuch hai sab expert ke alag lag raha hai hoti hai lekin mujhe yah mat samajh lena ki main bjp se jinko hua hoon ya kisi hindutvawadi sangathan se jinko vo main bharat ke kul vaidik sanatan hinduon se jinko hua hoon aur us vasudev kutumbakam ki vichardhara se jinko hua hoon aur samaj kya chahta hai samaj ki kya soch hai samaj kya sunana chahta hai pehle vaah main bhali bhanti jaanta hoon usi ko aadhaar banakar mein jawab deta hoon bahut se logo ka pati hogi bahut joke eksaparto ne iska jawab diya hai unko bhi mera raat negi apatti hogi hone do mujhe usse koi fark nahi padta hai mujhe like karo aur like karo ya aapki iccha par nirbhar karta hai bahut bahut dhanyavad jai hind jai bharat vande mataram shubha ratri namaskar ab rahi baat aur manmohan Singh baba ki main bata deta hoon thodi jo 26 se 11 ka hamla hua tha vaah hamla isi sarkar ne karvaya tha aur jiska mastermind tha pakistan ka ek minister tha jo aaj bhi aanka minister hai uske paas kaun sa department hai vaah nahi bataunga naam nahi bataunga lekin vaah delhi mein ho rahe the aur phir usko bharat sarkar ne apne sarkari hawai jahaj se bhi pahuncha

नमस्कार माताओं बहनों राजनीति में रुचि रखने वाले और राष्ट्रभक्त देखे मनमोहन सिंह और नरेंद्र

Romanized Version
Likes  22  Dislikes    views  576
WhatsApp_icon
play
user

Alimpan Banerjee

Political Consultant

1:60

Likes  11  Dislikes    views  364
WhatsApp_icon
user
0:46
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मनमोहन जी 18 शास्त्री थे और आरबीआई के गवर्नर भी रह चुके थे मेरे हिसाब से मनमोहन सिंह ने जो भारत की आर्थिक स्थिति के लिए किया वह सबसे अच्छा टाइम था और बात रही नरेंद्र मोदी की कॉपी अच्छा काम कर रहे फिर भी एक और शास्त्री की तरीके से देखें तो मनमोहन सिंह ने जो भी किया था वह सबसे अच्छा टर्म और भारत की नीति के लिए किया और मेरे हिसाब से मनमोहन जी एक अच्छे पीएम थे और एक महान अर्थशास्त्री थे उनको मेरी 4 जून की नितिन नरेंद्र मोदी की नीति से अच्छी थी

manmohan G 18 shastri the aur rbi ke governor bhi rah chuke the mere hisab se manmohan Singh ne jo bharat ki aarthik sthiti ke liye kiya wah sabse accha time tha aur baat rahi narendra modi ki copy accha kaam kar rahe phir bhi ek aur shastri ki tarike se dekhen to manmohan Singh ne jo bhi kiya tha wah sabse accha term aur bharat ki niti ke liye kiya aur mere hisab se manmohan G ek acche pm the aur ek mahaan arthshastri the unko meri 4 june ki nitin narendra modi ki niti se acchi thi

मनमोहन जी 18 शास्त्री थे और आरबीआई के गवर्नर भी रह चुके थे मेरे हिसाब से मनमोहन सिंह ने जो

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  353
WhatsApp_icon
user

Suraj Singh

सुनो ..सुनाओ..सीखो!

1:18
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बिल्कुल साफ तौर पर मनमोहन सिंह ने मोदी से कई कई मायने में बेहतर थी क्योंकि 2008 की अगर बात करें जब तक पूरे विश्व में इतना बड़ा आर्थिक संकट आ गया था उस टाइम भी मनमोहन सिंह जी ने भारतीय अर्थव्यवस्था को गिरने नहीं दिया यह पहचान होती है एक बड़े अर्थशास्त्री की और जहां तक माने तू जब-जब अंतरराष्ट्रीय बाजार में पेट्रोल की कीमत कितनी उम्र 6 साल की थी तब भी मनमोहन सिंह जी ने उनके पेट्रोल के दामों को उस उस जमाने में इतना बढ़ने नहीं दिया जितना कि आज है जैसे कि आवाज देखते हैं पेट्रोल की कीमत कितनी कम हो गई है अंतर्राष्ट्रीय बाजार में फिर भी आज पेट्रोल की कीमतें आसमान छू रही हैं अगर देखें देश के अंदर अगर बात करें अब बाकी बाकी नेताओं की विदेशी लाल यादव की उनके समय में भी रेलवे की कीमतों में ₹1 का भी इजाफा नहीं हुआ लेकिन फिर भी रेलवे फायदे में रहे तो मैं मानता हूं कि हां मनमोहन सिंह कई पैमाने में

bilkul saaf taur par manmohan Singh ne modi se kai kai maayne mein behtar thi kyonki 2008 ki agar baat kare chahiye jab tak poore vishwa mein itna bada aarthik sankat aa gaya tha us chahiye time bhi manmohan Singh G ne bharatiya arthavyavastha ko girne nahi diya yeh pehchaan hoti hai ek chahiye bade arthshastri ki aur jaha tak mane tu jab jab antararashtriya bazar mein petrol ki kimat kitni umar 6 saal ki thi tab bhi manmohan Singh G ne unke petrol ke daamo ko us chahiye us chahiye jamane mein itna badhne nahi diya jitna ki aaj hai jaise ki aawaj chahiye dekhte hain petrol ki kimat kitni kam ho gayi hai antar rashtriya bazar mein phir bhi aaj petrol ki keematen aasman chahiye chu rahi hain agar dekhen desh ke andar agar baat kare chahiye ab baki baki netaon ki videshi laal yadav ki unke samay mein bhi railway ki kimton mein ₹ ka chahiye bhi ijafa nahi hua lekin phir bhi railway fayde mein rahe to main manata hoon ki haan manmohan Singh kai paimane mein

बिल्कुल साफ तौर पर मनमोहन सिंह ने मोदी से कई कई मायने में बेहतर थी क्योंकि 2008 की अगर बात

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  149
WhatsApp_icon
user
Play

Likes  21  Dislikes    views  498
WhatsApp_icon
user

Jyoti Mehta

Ex-History Teacher

1:59
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मनमोहन सिंह जी के समय की आर्थिक व्यवस्था को उदाहरण बनाया गया था और उसी से कई सारे परिवर्तन आए और हमारे देश की आर्थिक व्यवस्था मजबूत हुई लेकिन जब से मोदी जी सत्ता में आए हैं उन्होंने भारत के विकास के लिए कई कार्य किए हैं उन्होंने भारत की आर्थिक विकास की दर को ऊपर उठाने के लिए भी कहीं नहीं नहीं है उन्होंने नोटबंदी और जीएसटी का जो निर्णय लिया है उनकी दूरदर्शिता का परिणाम है इसीलिए आज वर्तमान समय में अगर हम देखें तो उनकी जो आर्थिक नीति है उसकी वजह से देश को नुकसान हो रहा है देश का आर्थिक दर्द नीचे गिर रहा है तो कहीं ना कहीं लगता है कि मनमोहन मनमोहन सिंह जी के टाइम आर्थिक व्यवस्था ज्यादा अच्छी थी मोदी जी के वाक्य से लेकिन मुझे लगता है उन्होंने जो दूरदर्शिता से सोचा है आने वाले 5 या 10 सालों के बाद देखेंगे तो जो मोदी जी की नीतियां हैं उनका प्रभाव हमें अपनी अर्थव्यवस्था पर दिखाई देगा और नीतियों का जो असर हुआ है वह हमें अपने देश में जनता को दिखाई देगा और अगर इस तरह से पॉजिटिव होते तो मुझे लगता है कि आज के समय में जरूर हमारी थोड़ी परेशानियां बढ़ी है लेकिन आने वाले वक्त में जो भी मोदी जी ने निर्णय लिए हैं जो भी उन्होंने भारत की अर्थव्यवस्था के लिए नियम बनाए हैं उनकी वजह से आने वाले वक्त में हमारे देश को काफी लाभ होने वाला है और हमारा देश एक अच्छे मुकाम पर पहुंचने वाला है आर्थिक स्थिति भी सुधर जाएगी और जो भी परेशानियां अभी हमें दिखाई दे रही है वह आने वाले वक्त में जरूर खत्म हो जाएगी इसलिए मुझे लगता है मोदी जी के लिए बेहतर हैं

manmohan Singh G ke samay ki aarthik vyavastha ko udaharan banaya gaya tha aur ussi se kai sare pariwartan aaye aur hamare desh ki aarthik vyavastha majboot hui lekin jab se modi G satta mein aaye hai unhone bharat ke vikash ke liye kai karya kiye hai unhone bharat ki aarthik vikash ki dar ko upar uthane ke liye bhi kahin nahi nahi hai unhone notebandi aur gst ka chahiye jo nirnay liya hai unki doordarshita ka chahiye parinam hai isliye aaj vartaman samay mein agar hum dekhen to unki jo aarthik niti hai uski wajah se desh ko nuksan ho raha hai desh ka chahiye aarthik dard niche gir raha hai to kahin na kahin lagta hai ki manmohan manmohan Singh G ke time aarthik vyavastha zyada acchi thi modi G ke vaakya se lekin mujhe lagta hai unhone jo doordarshita se socha hai aane wali 5 ya 10 salon ke baad dekhenge to jo modi G ki nitiyan hai unka prabhav hume apni arthavyavastha par dikhai dega aur nitiyon ka chahiye jo asar hua hai wah hume apne desh mein janta ko dikhai dega aur agar is tarah se positive hote to mujhe lagta hai ki aaj ke samay mein jarur hamari thodi pareshaniya badhi hai lekin aane wali waqt mein jo bhi modi G ne nirnay liye hai jo bhi unhone bharat ki arthavyavastha ke liye niyam banaye hai unki wajah se aane wali waqt mein hamare desh ko kaafi labh hone vala hai aur hamara desh ek chahiye acche mukam par pahuchne vala hai aarthik sthiti bhi sudhar jayegi aur jo bhi pareshaniya abhi hume dikhai de rahi hai wah aane wali waqt mein jarur khatam ho jayegi isliye mujhe lagta hai modi G ke liye behtar hain

मनमोहन सिंह जी के समय की आर्थिक व्यवस्था को उदाहरण बनाया गया था और उसी से कई सारे परिवर्तन

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  199
WhatsApp_icon
user

Shubham

Software Engineer in IBM

1:53
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

विकी मेरा मानना यह है कि सिर्फ आर्थिक व्यवस्था को देखते हुए नरेंद्र मोदी को दर्ज नहीं किया जाना चाहिए हालांकि मनमोहन सिंह ने अच्छा काम किया था अपने समय में लेकिन उस समय भी बहुत सारी गलतियां हुई थी उनकी सरकार से और जहां तक नरेंद्र मोदी जी की बात करूं नरेंद्र मोदी जी काफी मेहनती व्यक्ति हैं और वह काफी चेंजेस जाने की कोशिश कर रहे हैं भारत में उन्होंने जीएसटी लाया जो कि काफी सालों से पेंडिंग पड़ा था लेकिन उनकी सरकार में आने के बाद वह जीएसटी बिल पास हुआ और जीएसटी आने के बाद देश में बहुत ज्यादा सही स्टेप लिया गया है क्योंकि जीएसटी आने के बाद टैक्स की चोरी कम होगी साथ के साथ सारा काम ऑनलाइन होगा और ऊपर से अभी उसका रिजल्ट यह आया कि 50% डायरेक्ट टैक्स पर की बढ़ोतरी हुई है क्या यह अच्छी उपलब्धि नहीं है नरेंद्र मोदी जी की सरकार में डिजिटल इंडिया को प्रमोट किया गया अब सब डिजिटली जुड़ते जा रहे हैं साथ-साथ आधार कार्ड को लिंक किया गया अब फर्जी बैंक अकाउंट नहीं भूलते अभी राशन कार्ड को भी लिंक किया गया गाजीपुर राशन कार्ड जोगी पेट राशन कार्ड को रद्द कर दिए गए तो यह क्या उपलब्ध नहीं है यह बिल्कुल उपलब्धियां है अब यह सोचिए कि एकदम से आर्थिक व्यवस्था है वह सुधर जाए अपने देश में डेवलपमेंट जाए जहां तू जाए ऐसा तो पॉसिबल नहीं है तो मुझे लगता है कि जो नरेंद्र मोदी जी ने काम किया है प्रॉब्लम को जड़ से मिटाने का काम किया है और इसका जो रिजल्ट है आपको कुछ सालों बाद दिखाई देगा अभी नहीं तो मुझे लगता है थोड़ा टाइम और देना चाहिए उसके बाद हम को जज करें तब अगर रिजल्ट गलत आता है तो आप बिल्कुल बोल सकते हैं कि मनमोहन जी की सरकार ज्यादा अच्छी थी लेकिन अगर आप 4 या 5 साल मैसेज कर रहे हैं तो मुझे लगता है यह सही नहीं है यह चाहता हूं कि अगली सरकार की उनके और उनके द्वारा आने वाले समय में दिखाई दे

vikee mera manana yeh hai ki sirf aarthik vyavastha ko dekhte huye narendra modi ko darj nahi kiya chahiye jana chahiye halaki manmohan Singh ne accha kaam kiya chahiye tha apne samay mein lekin us chahiye samay bhi bahut saree galtiya hui thi unki sarkar se aur jaha tak narendra modi G ki baat karu chahiye narendra modi G kaafi mehanati vyakti hain aur wah kaafi changes jaane ki koshish kar rahe hain bharat mein unhone gst laya jo ki kaafi salon se pending pada tha lekin unki sarkar mein aane ke baad wah gst bill paas hua aur gst aane ke baad desh mein bahut zyada sahi step liya gaya hai kyonki gst aane ke baad tax ki chori kam hogi saath ke saath saara kaam online hoga aur upar se abhi uska result yeh aaya ki 50% direct tax par ki badhotari hui hai kya yeh acchi upalabdhi nahi hai narendra modi G ki sarkar mein digital india ko promote kiya chahiye gaya ab sab digitally judate chahiye ja rahe hain saath saath aadhar card ko link kiya chahiye gaya ab farji bank account nahi bhultey abhi raashan card ko bhi link kiya chahiye gaya gajipur raashan card jogi pet raashan card ko radd kar diye gaye to yeh kya uplabdh nahi hai yeh bilkul upalabdhiyaan hai ab yeh sochie chahiye ki ekdam se aarthik vyavastha hai wah sudhar jaye apne desh mein development jaye jaha tu jaye aisa to possible nahi hai to mujhe lagta hai ki jo narendra modi G ne kaam kiya chahiye hai problem ko jad se mitne ka chahiye kaam kiya chahiye hai aur iska jo result hai aapko chahiye kuch salon baad dikhai dega abhi nahi to mujhe lagta hai thoda time aur dena chahiye uske baad hum ko judge kare chahiye tab agar result galat aata hai to aap bilkul bol sakte hain ki manmohan G ki sarkar zyada acchi thi lekin agar aap 4 ya 5 saal massage kar rahe hain to mujhe lagta hai yeh sahi nahi hai yeh chahta hoon ki agli sarkar ki unke aur unke Dwara aane wali samay mein dikhai de

विकी मेरा मानना यह है कि सिर्फ आर्थिक व्यवस्था को देखते हुए नरेंद्र मोदी को दर्ज नहीं किया

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  191
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!