पृथ्वी की खोज किसने की थी?...


user

Dharmendra Kumar

chutki Mathematics _ Maths For All Competitive Exam. Sampatchak Patna

0:19
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पृथ्वी की खोज किसने की थी तो उस समय बता दो आपको किस सबसे पहले गलियों ने यह साबित किया था कि पृथ्वी एक ग्रह है खरगोश सूर्य के चारों ओर चक्कर लगाती है

prithvi ki khoj kisne ki thi toh us samay BA ta do aapko kis sabse pehle galiyon ne yah saabit kiya tha ki prithvi ek grah hai khargosh surya ke charo aur chakkar lagati hai

पृथ्वी की खोज किसने की थी तो उस समय बता दो आपको किस सबसे पहले गलियों ने यह साबित किया था क

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  401
WhatsApp_icon
4 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
0:25
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पृथ्वी का इतिहास 4 पॉइंट 6 बिलियन वर्ष पूर्व पृथ्वी ग्रह के निर्माण से लेकर आज तक के इसके विकास की सबसे महत्वपूर्ण घटना और बुनियादी चरणों का वर्णन करता है प्राकृतिक विज्ञान की लगभग सभी शाखाओं ने पृथ्वी के इतिहास की प्रमुख घटनाओं को स्पष्ट करने में अपना योगदान दिया है पृथ्वी की आयु ब्रह्मांड की आयु के लगभग एक तिहाई उस कालखंड के दौरान व्यापारियों तथा जैविक परिवर्ती हुई है

prithvi ka itihas 4 point 6 billion varsh purv prithvi grah ke nirmaan se lekar aaj tak ke iske vikas ki sabse mahatvapurna ghatna aur buniyadi charno ka varnan karta hai prakirtik vigyan ki lagbhag sabhi shakhaon ne prithvi ke itihas ki pramukh ghatnaon ko spasht karne mein apna yogdan diya hai prithvi ki aayu brahmaand ki aayu ke lagbhag ek tihai us kalakhand ke dauran vyapariyon tatha Jaivik pariwarti hui hai

पृथ्वी का इतिहास 4 पॉइंट 6 बिलियन वर्ष पूर्व पृथ्वी ग्रह के निर्माण से लेकर आज तक के इसके

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  321
WhatsApp_icon
user
Play

समोस के एरिस्टार्कस द्वारा, और बाद में निकोलस कोपर्निकस के हेलियोसेंट्रिक सिस्टम (डी रिवोल्यूशनिबस ऑर्बियम कोएलेस्टियम, 1543) में, पृथ्वी को सूर्य के चारों ओर अन्य ग्रहों के साथ घूमने वाला ग्रह माना जाता था | उदा बुध , शुक्र, पृथ्वी, मंगल, बृहस्पति और शनि यह सूर्य से दूरी के निम्नलिखित क्रम में था |

samos ke eristarkas dwara aur BA ad mein nicholas koparnikas ke heliyosentrik system d rivolyushanibas arbiyam koelestiyam 1543 mein prithvi ko surya ke charo aur anya grahon ke saath ghoomne vala grah mana jata tha uda buddha shukra prithvi mangal brihaspati aur shani yah surya se doori ke nimnlikhit kram mein tha

समोस के एरिस्टार्कस द्वारा, और बाद में निकोलस कोपर्निकस के हेलियोसेंट्रिक सिस्टम (डी रिवोल

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  15
WhatsApp_icon
play
user

Preetisingh

Junior Volunteer

0:03

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पृथ्वी की खोज गलियों ने की थी

prithvi ki khoj galiyon ne ki thi

पृथ्वी की खोज गलियों ने की थी

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  3
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
पृथ्वी की खोज किसने की ; prithvi ki khoj kisne ki ; prithvi ki khoj kisne ki thi ; पृथ्वी की खोज किसने की थी ; earth ki khoj kisne ki ; पृथ्वी का खोज किसने किया ; earth ki khoj kisne ki thi ; prithvi ki khoj ; पृथ्वी की खोज किसने की और कब की ; prithvi ka nirman kisne kiya ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!